Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
03-15-2019, 03:00 PM,
#1
Information  Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
हाई फ्रेंड्स मैं भी इक कहानी इस फोरम मे पोस्ट कर रहा हूँ दोस्तो मैं कोई राईटर नही हूँ मैं तो बस कॉपी पेस्ट कर रहा हूँ
कहानी अच्छी है या बुरी इसका क्रेडिट इस कहानी के लेखक को देना 

घरेलू चुदाई समारोह -1

पात्र परिचय

सुनील- कोमल का पति,

कोमल- सुनील की पत्नी, उम्र 34 साल, वहशी सेक्स पसंद,

सजल- सुनील और कोमल का बेटा,

कर्नल मान- कालेज प्रिंसिपल,

प्रेम- अज़नवी,

मनीषा- कोमल की पड़ोसन,

प्रमोद- सजल का दोस्त,

“मैं सजल को शुभ-रात्रि कहकर आती हूँ…” कोमल ने एक बेहद ही झीना सा गाउन पहनते हुए अपने पति से कहा। उस कपड़े में उसके विशाल, गठीले मम्मे छुप नहीं पा रहे थे। उसकी चूत को आराम से देखा जा सकता था।

सुनील बिस्तर पर टेक लगाकर लेट गया। वो अपनी सुंदर बीवी को चोदने को बेचैन था। उसका अलमस्त लण्ड उसकी खूबसूरत बीवी की चुदाई के लिये ऊपर की ओर तैनात था।

सुनील ने कहा- “वो कोई बच्चा नहीं है, कोमल, वो बांका जवान है और अभी कालेज से एक साल की पढ़ाई करके आया है। उसे इस तरह के दुलार की ज़रूरत नहीं है…”

कोमल बिना कुछ बोले दरवाज़ा खोलकर बाहर चली गई। वो बहस करने के मूड में नहीं थी। उसने सजल के कमरे का दरवाज़ा धीरे से खोलकर पूछा- “क्या तुम अभी तक जाग रहे हो…”

कपड़ों की आवाज़ के बाद उसके लड़के ने बोला- “हाँ मम्मी, आओ अंदर…”

“क्या तुमने ठीक से खाना खाया…” कोमल ने सजल के बिस्तर पर बैठते हुए पूछा। सजल ने लिहाफ से अपना निचला हिस्सा ढका हुआ था पर उसका ऊपरी हिस्सा नंगा था।

“तुम तो जानती हो मम्मी, तुम्हारे हाथ का खाना मुझे कितना पसंद है…” उस सुंदर गठीले जवान ने उत्तर दिया। उसकी आंखें बरबस ही कोमल के गाउन पर ठहर गयीं जिसमें से कि उसकी गोलाइयों को देखा तो नहीं पर महसूस ज़रूर किया जा सकता था।

कोमल ने उसके चौड़े सीने पर हाथ सहलाते हुए कहा- “क्या मसल्स हैं, लगता है कि खूब व्यायाम करते हो…”
“हाँ मम्मी, पर इतना कुछ करने के बाद जब मैं बिस्तर पर लेटता हूँ तो बस सीधे सो जाता हूँ…”

“यह भी तुम्हारे लिये बड़ा लम्बा दिन था, अब तुम सो ही जाओ। मैं चाहती हूँ कि तुम सुबह मेरे लिये तरो-ताज़ा उठो, तुम सिर्फ़ दो ही दिन के लिये तो आये हो…”

“पर अभी मैं गर्मी की दो महीनों की छुट्टी में फ़िर आऊँगा…” सजल ने अपनी सांस रोकते हुए कहा, उसे अपनी मम्मी के गर्म उरोज अपनी छाती पर महसूस हो रहे थे। उस झीने गाउन से कुछ भी रुक नहीं रहा था।

“मैं तुम्हें घर में आया हुआ देखकर बहुत खुश हूँ…” कोमल ने अपने लड़के को और जोर से भींचकर कहा। इससे उसके अपने शरीर में भी एक गर्मी सी दौड़ गई। यह उस गर्मी से फ़र्क थी जो उसे पहले महसूस होती थी। इसमें मातृत्व नहीं था। उसके मम्मे सख्त हो गए और उसकी चूत में एक खुदबुदी सी हुई। वह जब सजल से अलग हुई तो थोड़ी पस्त सी थी।

“मैं तुम्हें सुबह मिलूँगी…” उसने कांपते हुए स्वर में कहा और बिस्तर से उठ खड़ी हुई। उसने सजल का खड़ा हुआ लण्ड उसके लिहाफ़ में तम्बू बनाते हुए देखा। उसने फ़ौरन समझ लिया कि जब वह आई थी तब सजल मुट्ठ मार रहा था।

“शुभरात्रि मम्मी…” सजल ने प्यार से कहा।

कोमल को ऐसा महसूस हुआ जैसे वो कुछ ज्यादा ही मुश्कुराया था। उसे कभी-कभी यह लगता था कि उसका लड़का उतना सीधा नहीं था जितना कि वो उसे समझती थी। सजल उससे हमेशा अपनी बात मनवा लिया करता था। कोमल जब अपने कमरे में पहुँची तब भी अपने मन से वह उन भावनाओं को नहीं दूर कर पाई। इससे उसे डर और रोमांच दोनों हुए। उसे पहले भी कभी-कभी सजल के लिए ऐसी भावनाएं आयीं थीं पर आज जितनी तेज़ नहीं। उसे ग्लानि होने लगी, पर कुछ-कुछ रोमांच भी।

.

“अपने बच्चे को अच्छे से सुला दिया…” सुनील ने व्यंग्य भरे शब्दों में पूछा। उसने अपना तना हुआ लण्ड अपने हाथ में लिया हुआ था और उसे धीरे-धीरे सहलाते हुए व्हिस्की पी रहा था।

“ज्यादा मत बोलो…” कोमल ने कुछ ज्यादा ही गुस्से से जवाब दिया। उसने सुनील का बड़ा लण्ड देखा तो उसके मन में चुदाई की तीव्र इच्छा हुई, पहले से कहीं ज्यादा ही तीव्र। पर वह अपनी कामुकता को दिखाना नहीं चाहती थी। कोमल ने भी एक ग्लास में तगड़ा डबल पैग बनाया और नीट ही पीने लगी। उसे नशे में चुदाई का ज़्यादा आनंद आता था।

“ठीक है, लड़ो मत…” सुनील बोला- “मेरे ख्याल से आज मैं तुम्हें सेवा का मौका देता हूँ। क्या तुम मेरे लण्ड को चूसने से शुरूआत करना पसंद करोगी…”

“बड़े होशियार बन रहे हो…” कोमल भुनभुनाई। पर वो भी मन ही मन उस कड़कड़ाते हुए लण्ड का रसास्वादन करना चाह रही थी। उसका गाउन एक ही झटके में ज़मीन पर जा गिरा और वो धीमे से बिस्तर की ओर कदम बढ़ाने लगी। इससे उसके पति को उसकी सुनहरी नंगी काया का पूरा नज़ारा हो रहा था। सुनील का पूर्व-प्रतिष्ठित लण्ड कोमल की जघन्य काया को देखकर और तन्ना गया।

उसकी मनोरम काया पर उसके काले निप्पल जबर्दस्त एफ़ेक्ट पैदा कर रहे थे। सुनील की नज़र फ़िर अपनी पत्नी के निचले भाग पर जा टिकी, जहाँ चिकना और सुनहरी स्वर्ग का द्वार चमचमा रहा था।

“तुम 34 साल की होने के बावज़ूद भी बहुत हसीन हो…” सुनील ने मज़ाक किया। कोमल की जांघें परफ़ेक्ट थीं, न पतली न मोटी।

“तारीफ़ के लिए शुक्रिया…” कोमल थोड़े गुस्से से बोली। उसने एक गोल चक्कर घूमा जिससे सुनील को उसके पृष्ठ भाग का भी नज़ारा हो गया। उसका यही हिस्सा सुनील को सवार्धिक प्रिय था, उसे देखते ही वो पागल हो जाता था।

“इधर आओ जानेमन…” वो लड़खड़ाती हुई आवाज़ में बोला। जब कोमल बिस्तर पर पहुंची तो सुनील ने उसे अपने ऊपर खींच लिया। वह काफ़ी उत्तेजित था। कोमल को भी यही पसंद था।

“हाँ, आज रात मुझे कुचल दो, जानेजाँ…” वो अपने जिश्म को सुनील के शरीर से दबवाते हुए बोली। और जब सुनील ने उसके निप्पल काटे तो वो सनसना गई। उसे सुनील से एक ही शिकायत थी, वो बहुत प्यार से पेश आता था, जबकी कोमल को जोर ज्यादा भाता था। उसे घनघोर चुदाई पसंद थी।

“और जोर से काटो…” वो बोली। जब सुनील ने उसके चूतड़ पकड़कर दबाए तो वो बोली- “मेरी चूचियों को और जोर से चूसो…” कोमल आनंद से पागल हो गई थी।

पर उसके पति ने उसे वहशी तरीके से प्यार करना बंद किया और उसका सर अपने लण्ड को चूसने के लिये नीचे किया- “मेरा लण्ड चूसो…” वो बोला।

“अभी नहीं सुनील, मेरे मम्मों को थोड़ा और चूसो, उन्हें और काटो। तुम जब ऐसा करते हो तो मुझे बहुत मज़ा आता है…”

“मैं और इंतज़ार नहीं कर सकता। मैं बहुत उत्तेजित हूँ, मेरा लण्ड चूसो…” सुनील ने सिर्फ़ अपने आनंद का ख्याल करते हुए कहा।

“नहीं…” कोमल चीखी- “हम हमेशा ऐसा ही करते हैं। तुम इस मामले में बहुत खराब हो। तुम जानते हो कि मुझे क्या भाता है, फ़िर भी तुम सिर्फ़ वही करते हो जिसमें तुम्हें खुशी मिलती है। मुझे अपनी खुशी के लिये तुम्हारी मिन्नतें करनी पड़ती हैं…”

“देखो जानेमन, हम इस बारे में कई बार बहस कर चुके हैं। मुझे जबर्दस्ती अच्छी नहीं लगती, कभी-कभी जैसे कि आज, मैं बहुत उत्तेजित हो गया था और मैंने तुम्हें पकड़ लिया। अब क्या तुम बेवकूफ़ी बंद करोगी और बचपना छोड़कर मेरा लण्ड चूसोगी…”

“नहीं, मैं मूड में नहीं हूँ…” कोमल गुस्से से बोली और बिस्तर की चौखट पर बैठ गई।

“तुम किसे मूर्ख बना रही हो प्रिय… मैं जानता हूँ तुम हमेशा चुदाई के लिए तैयार रहती हो। और तुम भी ये जानती हो…” सुनील ने उसे वापस खींचते हुए कहा।
“तुम बहुत बद्तमीज़ हो…”

सुनील ने उसे वापस अपने लण्ड पर जोर देकर झुका दिया। इस जबर्दस्ती से कोमल फ़िर से रोमाँचित हो उठी। सुनील गुर्राया- “बकवास बंद करो और मेरा लण्ड चूसो…”

“ओह…” कोमल की चूत में एक गर्मी सी फ़ैल गई। उसने लण्ड चूसने से मना कर दिया। वो सुनील से और जोर की चाह रखती थी।

“हरामज़ादी, मैंने कहा मेरा लण्ड चूस…” सुनील चिल्लाया और वो कोमल के मुँह में अपना लण्ड भरने की कोशिश करने लगा।

कोमल के दिमाग में एक बात आई। इस समय उसका पति वासना से पागल था, उसने सुनील से उसका लण्ड चूसने से पहले एक वादा लेने की ठानी।

“ठीक है, पर अगर तुम वादा करो कि सजल को अगले साल यहीं रखकर पढ़ाओगे…”

“क्या… इस समय इस बात का क्या मतलब है…”

“क्योंकी तुम सिर्फ़ इसी समय मेरी सुनते हो। मुझे उसका वह कालेज बिलकुल पसंद नहीं है। उसे हमारे साथ यहीं रहना चाहिए…”

“हम यह सब बातें पहले भी कर चुके हैं। उस कालेज में उसकी ज़िन्दगी बन जायेगी…” सुनील गुस्से और उन्माद से बोला- “उसे वहीं पढ़ने दो…”

“नहीं, उसे यहीं रखो…” कोमल ने सुनील के दमदार लण्ड के सुपाड़े का एक चुम्मा लेते हुए कहा।

“ठीक है…”

“उंह, ठीक है। आह…” सुनील के मुँह से चीख सी निकली जब कोमल ने उसका मोटा लण्ड एक ही बार में अपने गर्म मुँह में ले लिया।

अब जब बहस की कोई गुंजाइश नहीं रही, कोमल अपने मनपसंद काम ‘लण्ड चुसाई’ में तन मन से व्यस्त हो गई।

“अपनी जीभ भी चलाओ, जान…”
“मेरे मुँह को चोदो सुनील…” उसे लौड़े का अंदर-बाहर का घर्षण बहुत प्रिय था। उसके मनपसंद आसन में सुनील उसके मुँह को चोदता था जब वह उसके आगे झुकी रहती थी।

“वाह मेरी लौड़ाचूस, और जोर से चूस…” सुनील अपने मोटे लण्ड को अपनी बीवी के सुंदर मुँह में भरा हुआ देखकर ज्यादा देर तक ठहरने वाला नहीं था। वह उसके हसीन मुँह में ही झड़ना चाहता था।
कोमल ने अपना मुँह सुनील के लण्ड से हटा लिया।

“तुमने ऐसा क्यों किया…” सुनील कंपकंपाते हुए बोला। उसने कोमल का सर फ़िर से अपने लण्ड पर लगाना चाहा।

“अभी मत झड़ना सुनील। तुम बहुत जल्दी झड़ जाते हो। मैं प्यासी ही रह जाती हूँ। इस बार तुम मुझे झड़ाए बिना नहीं झड़ोगे…” कोमल बोली- “तुम मेरी चूत चूसो, मैं तुम्हारा लण्ड चूसती हूँ…”

सुनील ने कोमल के चूतड़ अपनी ओर खींचे, और जोरदार तरीके से कोमल की चुसाई करने लगा। जब उसने अपने दांतों से चूत के दाने को काटा तो कोमल आनंद से चिहुंक पड़ी।

“तुम हर बार ऐसा क्यों नहीं करते… जब तुम काटते हो तो कितना मज़ा आता है। हाँ मेरी चूत को ऐसे ही चूसो…”

“तुम मेरा लण्ड अच्छे से चूसो और मैं वही करूंगा जो तुम चाहोगी…” सुनील के चेहरे पर कोमल की चूत का रस चिपका हुआ था। उसे जबरन थोड़ा रस पीना पड़ा। उसे इस रस का स्वाद अच्छा भी लगा।

“हाँ, मेरी जान। आज हम रात भर एक दूसरे का रस पियेंगे…” कोमल खुशी से चीखी। उसने अपने पति के टट्टों पर अपनी ज़ुबान फ़ेरी। उसने पक्का किया हुआ था कि सुनील से चूत चुसवाकर ही रहेगी। उसके बाद वो उसे चोदने देगी जब तक कि दोनों थक न जाएं। पर कोमल ने चूसना शुरू नहीं किया।

वो सोच रही थी की सजल का लण्ड कैसा दिखता होगा। क्या उसका लण्ड भी सुनील जितना बड़ा होगा… सुनील का लण्ड नौ इंच लम्बा था और बहुत मोटा। उसने अपने हाथ में मौजूद हथियार को देखा और सोचा काश… यह सजल का होता।

जब सुनील ने उसकी चूत को जोर से चूसना शुरू किया तो उसे महसूस हुआ जैसे वो फ़ट जायेगी। अपने बेटे के ख्याल ने यह निश्चित कर दिया कि इस बार वो लम्बी झड़ेगी- “ओह सुनील, मैं झड़ रही हूँ, मुझे खूब चोदा करो, मुझे इसकी सख्त ज़रूरत रहती है। मुझे तुम्हारे मुँह और लण्ड की हमेशा प्यास रहती है। इतनी जितना तुम मुझे नहीं देते…”

सुनील जानता था कि कोमल उसे तब तक नहीं चूसेगी जब तक वो उसकी इच्छा पूरी नहीं कर देता। उसकी उंगलियों ने कोमल की गाण्ड को फ़ैलाया और उंगली हल्के से उस बादामी छेद पर छुआई।

“एक बार और…” कोमल ने मिन्नत की। उसने सुनील का लण्ड इतनी जोर से दबाया कि उसकी चीख निकल गई। वो तो उसी समय उस स्वादिष्ट माँसपिंड को खा जाती अगर उसे उसकी ज़रूरत अपने किसी दूसरे छेद में नहीं होती। वो शानदार उंचाई पर पहुंच कर झड़ गई।

“अब तुम्हें मुझे इंतज़ार कराने का फ़ल भुगतना होगा…” सुनील बोला जब वो शान्त हुई। उसने कोमल को उठाकर चौपाया बनाया और अपना पूरा लण्ड एक ही बार में उसकी लपलपाती हुई चूत में पेल दिया।

“हाय…” कोमल के मुँह से आनंद भरी सीत्कार निकल गई और वो उस धक्के से आगे जा गिरी।

“हे भगवान तुम बहुत गर्म हो…” सुनील हाँफ़ते हुए बोला। कोमल की भट्ठी उसके लण्ड को एक धौंकनी की तरह भस्म किये दे रही थी- “ले मेरा लौड़ा और बता कैसा लगता है, चुदासी औरत…”
“मुझे पूरा चाहिये, पूरा…” कोमल ने ज़वाब दिया।

अगर उसका पति यह समझता था कि वो जीत जायेगा तो वो गलत था। वो जितना भी दे सकता था कोमल उससे ज्यादा लेने के औकात रखती थी। वो जितना जोर लगाता कोमल को उतना ही ज्यादा मज़ा आता। वो उससे जितनी बुरी तरह से बोलता, उतनी ही उसकी वासना में वृद्धि होती। उसने अपनी प्यासी चूत से सुनील का मोटा लण्ड जकड़ लिया और उम्मीद करने लगी की वह इसी वहशियाने तरीके से उसे चोदता रहेगा। सुनील को भी अपनी पत्नी को इस तरह से चोदने में मज़ा आ रहा था, इसलिये उसने अपना स्खलन रोक रखा था। उसने कोमल की चमकती कमर का नंगा नाच देखा और उसके पुट्ठे जोर से भींच डाले।

जब उसके दिमाग में सजल का ख्याल आया तो कोमल ने कुछ और सोचने की कोशिश की। पर वह अपने बेटे को अपने दिमाग से निकालने में सफ़ल नहीं हुई। सजल की नंगी छाती की चमक उसके दिमाग में रह-रहकर कौंधने लगी। हालांकि उसने सजल का लण्ड सालों से नहीं देखा था पर अब उसे वह अपनी आंखों के आगे देख रही थी।

“हाँ, और अंदर…” उसने आह भरी। फ़िर उसने महसूस किया कि ये उसने सुनील नहीं बल्कि सजल से कहा था। उसने सोचा था कि यह सजल का मोटा लण्ड था जो उसे चोद रहा था। उसके ख्वाब में सजल का लण्ड दस इंच लम्बा और बहुत मोटा था।

सुनील के स्वाभिमान को कोमल की कही हुई कुछ बातों से बहुत चोट पहुंची थी- “तो मैं हमेशा तुम्हें झाड़े बिना ही झड़ जाता हूँ…” वो तमतमा कर बोला। “तुम्हें यह दिखाने के लिये कि तुम कितनी गलत हो, मैं तुम्हें एक बार से ज्यादा बार खुश करके ही झड़ूंगा…”

“हाँ, ये हुई न बात…” कोमल बोली- “तुम्हारे हाथ मेरे मम्मों को किस तरह निचोड़ रहे हैं। हाँ सुनील मुझे जोर से चोदो…” कोमल झड़ गई- “चोदो मेरी चूत को…” वो चिल्लाई। उसे पता था कि अगर सजल जागता होगा तो वो सुन लेगा। इससे उसे और अधिक गर्मी आई और उसकी चूत के स्पंदन और तेज़ हो गए।

“और…” वो चीखी। उसे सुनील के हाथ अपनी छाती पर आग की तरह महसूस हो रहे थे- “और, मैं फ़िर झड़ रही हूँ मुझमें यह पूरा लण्ड पेल दो जानेमन…”

आज सुनील को अपने अभी तक न झड़ने पर यकीन नहीं हो रहा था। कोमल की बेहद गर्म और टाइट चूत उसके लौड़े को कसकर जकड़े हुए थी पर वह अभी तक झड़ा नहीं था।

“अब…” वो बोला जब उसकी पत्नी ने झड़ना बंद किया। वो कोमल की सुलगती चूत से अपना लण्ड निकलना तो नहीं चाहता था पर वो एक दूसरे तरीके से झड़ना चाह रहा था। वो झड़ते समय कोमल का चेहरा देखना चाहता था और उसके हसीन चेहरे पर ही अपने प्यार का प्रसाद चढ़ाना चाहता था।

“अब तुम मुझे ऊपर आकर चोदो…” कोमल बोली तो उसके पति ने उसे कमर के बल बिस्तर पर पलट दिया। हालांकि वो अभी-अभी ही स्खलित हुई थी पर यह भी जानती थी की दो चार धक्के और पड़ने पर वो एक बार फ़िर नदी पार कर लेगी।

पर सुनील उसके पेट पर आ बैठा- “अब मैं तुम्हें और नहीं चोद रहा, मैं तुम्हारे मुँह में आना चाहता हूँ…” और वह अपने लण्ड का हस्तमैथुन करने लगा।

“नहीं सुनील, ऐसा मत करो। मुझे थोड़ा और चोदो…” उसे यह बिलकुल पसंद नहीं आ रहा था कि सुनील अकेले ही झड़ना चाह रहा था।

“अपनी चूत से खेल लो अगर तुम्हें और झड़ना है…” सुनील उसकी भावनाओं को नज़र-अंदाज़ करते हुए बोला।

हालांकि उसकी चूत अभी और प्यासी थी पर समय की ज़रूरत समझते हुए कोमल ने इसका ही आनंद उठाने का निश्चय किया। “ऊह…” उसने गहरी सांस लेते हुए अपनी चूत में अपनी दो उंगलियां घुसेड़ दीं।

“ये ले…” सुनील चिल्लाया और अपना गर्मागर्म रस की पिचकारी कोमल के चेहरे पर मारने लगा। कोमल ने उस फ़ुहार को अपनी तरफ़ आते हुए देखा। पहले उसके माथे, फ़िर नाक पर और अंत में वह स्वादिष्ट रस उसके मुँह में आ गिरा।

“थोड़ा और…” उसने चटखारे लेते हुए कहा। जब बाकी का रस उसकी छातियों पर गिरा तो उसने एक हाथ से उसे उठाकर चाटा और वहीं अपनी छातियों पर मल दिया और दूसरे से अपनी चूत से खिलवाड़ जारी रखा। वह एक बार फ़िर सुख की कगार पर थी।

“मुझे अपने रस से सरोबार कर दो, मेरे मुँह में आओ, मेरे मम्मों पर आओ। आओ… मैं आ रही हूँ, अपने टट्टों को मेरे ऊपर खाली कर दो। मेरे पूरे शरीर को नहला दो…” जितना वो चाट सकी उसने चाट लिया बाकी उसने अपने जिश्म पर मल लिया। कोमल इसी हालत में और घंटों रह सकती थी। उसे अपने पति का भारी शरीर अपने ऊपर बहुत अच्छा लगता था।

पर सुनील उसके ऊपर से हटते हुए बोला- “तुम उठकर क्यों नहीं नहाकर अपने को साफ़ कर लेतीं…”

“नहीं, बस तुम मुझे लिहाफ़ ओढ़ाकर ऐसे ही छोड़ दो। मुझमें अब कुछ भी करने की ताकत नहीं है…” उसने बहाना बनाया। वो इसी तरह रहना चाहती थी। उसने अपने चमकते स्तनों को देखा और सोचा कि उसे कैसा लगता अगर यह वीर्य-रस सजल का होता…

.

कहानी ज़ारी है… …
-  - 
Reply

03-15-2019, 03:00 PM,
#2
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
“मुझे नहीं लगता कि तुम्हारा अकेले गाड़ी लेकर घर जाना ठीक है…” सुनील अपना सामान बाँधते हुए बोला।

कोमल उसे कुछ शर्टस देती हुई बोली- “अगर तुम काम के लिये पूरे देश में हवाई-सफ़र कर सकते हो तो मैं क्या सजल को स्कूल छोड़ने 200 कि॰मी॰ गाड़ी नहीं चला सकती…”

“अगर मैं आज फ़ोन न उठाता तो मुझे जाना न पड़ता। बास कुछ सुनने को राज़ी ही नहीं था कि मुझे सजल को उसके स्कूल छोड़ने जाना है…”

“तुम चिन्ता मत करो, सुनील। मेरे साथ सजल होगा और उसे छोड़कर मैं बिना रुके सीधे घर ही आऊँगी। मैं किसी अजनबी से बात नहीं करूंगी और न ही उनसे कोई मिठाई ही लूंगी…” कोमल हँसते हुए बोली।

सुनील ने अपना सूटकेस बंद किया और अपना ब्रीफकेस उठाया- “नहीं तो मैं सजल को अपने साथ एअरपोर्ट ले जाता हूँ, वहीं से मैं उसे स्कूल के लिये बस में बिठा दूंगा…”

“बेकार की बात मत करो। न सिर्फ़ यह मंहगा पड़ेगा बल्कि सजल को भी इससे दिक्कत ही होगी। मेरा उसे छोड़ने जाना ही सबसे अच्छा उपाय है…” कोमल ने कहा।

“नहीं तो, तुम सजल को छोड़कर किसी होटल में रात के लिये रुक जाना और सुबह वापस आ जाना…” सुनील जानता था कि रात के डिनर के बाद कोमल शराब के एक-दो पैग पीये बिना नहीं रह सकती और वो नहीं चाहता था कि ड्रिंक करके कोमल हाईवे पर कार चलाये। पहले भी कोमल कई बार सुनील की चेतावनी के बावजूद नशे की हालत में कार ड्राइव किए बिना नहीं मानती थी और एक-दो बार हल्का एक्सीडेंट भी कर चुकी थी। इस समय अगर सुनील ये मुद्दा उठाता तो उसे पता था कोमल कलेश करेगी। इसलिए उसने कोमल को अप्रत्यक्ष रूप से होटल में ठहरने की सलाह दी।

कोमल को यह बात ठीक लगी- “ठीक है, मैं भी रात के लिये कुछ सामान ले लेती हूँ। तुम्हारी टैक्सी आ गई है। तुम निकलो…”

“ध्यान रखना कोमल… मैं तुमसे गुरुवार को मिलूंगा…”

कोमल बाहर जाने के ख्याल से बेहद खुश थी, चाहे एक रात के लिये ही सही। और उसे सजल के साथ भी कुछ समय ज्यादा मिलेगा। इस बार वो उससे ठीक से मिल ही न पाई थी।

“सजल…” उसने अपने बेटे को आवाज़ दी- “अब नहाना बंद करो और तैयार हो जाओ… और ध्यान रहे कि तुम अपनी सारी ज़रूरत की चीज़ें लेना मत भूलना…”

जब वो सजल का इंतज़ार कर रही थी तब उसने अपना बैग भी तैयार कर लिया। पहले उसने एक ही रात के लिये सामान लिया था, फ़िर मन बदलकर कुछ और चीज़ें भी रख लीं। वो कुछ दिन घर से दूर रहना चाहती थी। वह उस होटल में एक की जगह दो दिन रुक जायेगी। वहाँ एक तरणताल था, और वो दो-तीन सेक्सी उपन्यास पढ़ने के लिये ले लेगी। उसने अपनी बिकिनी भी ले ली। जब तक उसका सामान पैक हुआ उसने एक अतिरिक्त दिन रुकने का मन बना लिया था।

“मम्मी, क्या मैं आपका हेयर ड्रायर इश्तेमाल कर सकता हूँ…” सजल ने पूछा।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#3
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल ने जब पलटकर देखा तो सजल सिर्फ़ तौलिया पहने हुए खड़ा था। उसने सोचा अगर सजल का तौलिया खुल गया तो क्या होगा…

“वो ड्रेसर में है…” उसने कांपती हुई आवाज़ में कहा। उसने सजल को ड्रायर लेकर कमरे से जाते हुए देखा। उसकी आंखें उसके बलिष्ठ शरीर का आकलन कर रही थीं।

“तुम्हें इस तरह सोचना बंद करना होगा, कोमल…” उसने स्वयं से कहा। वो अपने पुत्र की चाह से ग्रसित थी। उसने अपने होटल में रुकने के असली कारणों के बारे में सोचा। क्या वो सजल के साथ अकेली रहना चाहती थी… उसने सजल का इंतज़ार करते हुए सोचा कि वह सजल को कहेगी कि वो भी सीधे स्कूल जाने की बजाय रात को उसके साथ ही होटल में रुक जाए। फ़िर क्या होगा…

कोमल को सजल के साथ कार चलाने में बहुत आनंद आया। उन्होंने काफी बातें कीं जो शायद बहुत दिनों से नहीं की थीं। उसने सजल से उसके दोस्तों के बारे में जाना कि वो सब कालेज में क्या करते थे। वह उसके साथ बहुत हँसी और अपने आपको उसके और करीब होता हुआ पाया।

जब कालेज पास आने लगा तो उसने सजल से पूछा- “अगर तुम चाहो तो मेरे साथ होटल में रुक कर सुबह जा सकते हो। मैं तुम्हें पहली क्लास के पहले पहुंचा दूंगी…”

“शायद आप यह भूल रही हैं कि मुझे आज रात 8:00 बजे के पहले होस्टल में हाज़िरी देनी है…” सजल बोला।

“हाँ, यह तो मैं भूल ही गई थी। क्या बेकार का कानून है। मैं तुम्हारे इतने पास रहकर भी होटल में रहूंगी…”

“हाँ, पर मुझे उनका पालन करना होता है…” सजल ने जवाब दिया।

“मैं उम्मीद कर रही हूँ कि तुम्हें मैं अगले साल अपने ही शहर के कालेज में दाखिला दिलवा पाऊँगी…” कोमल ने सजल की जांघों पर हाथ रखते हुए कहा।

“पापा कभी नहीं मानेंगे। मैं घर पर ही रहकर पढ़ना चाहता हूँ पर उन्होंने जिद पकड़ी हुई है… शायद तुम जो कह रही हो, हो न पायेगा…”

“वो तुम मुझपर छोड़ दो…” उसने सजल की जांघ को दबाते हुए कहा। “कुछ दूर पर ही उसका लण्ड भी है…” उसने सोचा।

“कोमल जी…” जैसे ही वो कालेज में दाखिल हुई कर्नल मान ने उसे पुकारा। वो उस ऊँचे लम्बे आदमी के मुखातिब हुई। “मुझे खुशी है कि आप सजल को समय रहते ले आईं। उसका व्यवहार बहुत ही अच्छा है। वो बहुत अच्छा मिलिटरी अफ़सर बनेगा…”
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#4
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल ने मुश्कुराकर मान को देखा। वो उसे बहुत पसंद नहीं करती थी। वह उसके हिसाब से कुछ ज्यादा ही कड़क था। अगर वो इस अकड़ को छोड़ सके और जीवन का आनंद लेने को तैयार हो तो वो जरूर एक शक्तिशाली चुदक्कड़ बन सकता था।

“धन्यवाद, कर्नल मान। मैं और मेरे पति सजल पर गर्व करते हैं…”

“अपना ध्यान रखना प्रिय, मैं कल जाने के पहले तुम्हें फ़ोन करूंगी। या मैं एक और रात रुक जाऊँगी। अगर मैं रुकी तो मैं तुम्हें कल दोपहर लेने आऊँगी। हम कोई पिक्चर देखेंगे और रात का भोजन साथ करेंगे…” कोमल ने प्यार से कहा।
“मैं आपसे जल्दी ही मिलने की उम्मीद रखता हूँ…” कर्नल ने कहा।

“धन्यवाद, कर्नल…” वो मन ही मन मुश्कुराई क्योंकी उसने कर्नल की आंखों में वासना की भूख महसूस की।

कोमल के होटल का कमरा काफी बड़ा और आरामदेह था। उसने सामान खोला और थोड़ी देर लेट गई। उसने पेपर देखा और एक अच्छा रेस्तरां ढूँढ़ निकाला। खाना खाकर वो होटल वापस आ गई। पर कमरे में जाने की बजाय वो तरणताल की ओर बढ़ गई। कुछ अतिथि तैरने का आनंद उठा रहे थे। उसने वहीं बैठकर लोगों को तैरते हुए देखने का निश्चय किया।

“हेलो…” उसकी ही उम्र के एक बेहद आकर्षक आदमी ने तरणताल के अंदर से उसे संबोधित किया- “क्या आप तैरेंगी नहीं…”

“नहीं, धन्यवाद, मैं कल तक इंतज़ार करूंगी, अभी बहुत ठंडक है…”

वह अजनबी ताल के किनारे निकलकर आ बैठा। कोमल को वह पसंद आ गया। वो काफी कद्दावर था और सीने पर घने बाल थे। उसका लण्ड भी उसके कच्छे से उदीप्त हो रहा था। “क्या आप होटल में ही रुकी हैं…” उसने पूछा।

“हाँ, और आप…” कोमल आगे की सम्भावनाओं पर विचार कर रही थी। उसने कभी सुनील के साथ धोखा नहीं किया था। पर अब वो घर से दूर अकेली थी, वो किसी के साथ भी चुदाई का सुख ले सकती थी, किसी को पता नहीं लगने वाला था।

“मैं कल तक यहीं हूँ, मेरा नाम प्रेम है। माफ़ करिये मेरा हाथ गीला है…” उसने कोमल की तरफ़ अपना हाथ बढ़ाते हुए कहा।

“मैं कोमल हूँ। क्या आप शहर में व्यवसाय हेतु आए हैं…” उसे अपनी आवाज़ में एक कम्पन महसूस हुआ। उसने रेस्तरां में शराब पी थी उसके कारण वो काफी चुदासी हो उठी थी।

प्रेम ने उसे बताया कि वो एक सेल्समैन था और अपने कार्य के लिये यहाँ आया था। उन्होंने कुछ देर बातें की और एक दूसरे के अच्छे दोस्त बन गए। कोमल ने प्रेम को अपने मन की आंखों से उसे निर्वस्त्र करता हुआ महसूस किया। कुछ ही देर में उसकी प्यासी चूत दनादन पानी छोड़ने लगी।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#5
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
प्रेम ने कहा कि उसके कमरे में शराब की एक बोतल रखी है जो वह उसके साथ बांटना चाहता है।

कोमल ने हामी भरी और वो अंदर चले गये। जितनी शराब उसने पी थी उसके बाद उसे और शराब की ज़रूरत नहीं थी। पहले से ही हल्के नशे के कारण वो ऊँची हील के सैंडलों में थोड़ी सी लड़खड़ा रही थी, पर वो यह जानती थी कि प्रेम का यह सुझाव उसे अपने कमरे में बुलाने का एक बहाना था। उसने अभी यह निश्चित नहीं किया था कि वो प्रेम से चुदवायेगी या नहीं, पर वो उसका साथ खोना नहीं चाहती थी। जब प्रेम ने उसके गिलास में वोडका डाली और पास आकर बिस्तर पर बैठा तो उसकी नज़र प्रेम के कच्छे से झाँकते लण्ड पर पड़ गई। प्रेम भी उसके वस्त्रों के अगले भाग से झाँक रहा था। उसके कपड़ों का निचला हिस्सा घुटनों तक चढ़ गया था। प्रेम समझ नहीं पा रहा था कि वो आंखों से किस अंग का सेवन करे - विशाल मम्मों का या चिकनी जांघों का।

“मैं भी शादीशुदा हूँ, कोमल। मैं अधिकतर अपनी पत्नी के साथ दगा नहीं करता, पर तुम इतनी सुंदर हो कि मैं…” वो कहते हुए रुक गया।

कोमल को भी आश्चर्य हुआ जब उसने अपने आपको यह कहते हुए सुना- “क्या तुम यह कहना चाहते हो कि तुम मेरे साथ हमबिस्तर होना चाहते हो…” शायद यह उस शराब का ही असर था जो उसने इतनी बड़ी बात इतनी आसानी से कह दी थी।

“हाँ…” प्रेम फुसफुसाकर बोला।

“तो आगे बढ़ो न…” वो भी वापस फुसफुसाई।

जब प्रेम की बलिष्ठ बाहों ने उसे घेरा तो उसे लगा कि वो बेहोश हो जायेगी। अपने पति से विश्वासघात करने के रोमांच ने उसकी ग्लानि को दबा दिया था। जब प्रेम ने उसके शरीर को बिस्तर पे बिछाया तो वो उससे चिपक गई। प्रेम ने एक प्रगाढ़ चुम्बन की शुरूआत की।

“मेरी गर्दन को चूमो और काटो…” कोमल बोली- “हाँ… हाँ प्रेम ऐसे ही, और जोर से…”

जब प्रेम ने उसके वस्त्रों के पीछे लगे ज़िप को खोलने की चेष्टा की तो कोमल बोली- “जल्दी मुझे नंगा करो प्रेम… मैं तुमसे अपने मम्मों को कटवाना चाहती हूँ… उन्हें भी उसी तरह काटो जैसे तुमने मेरी गर्दन को काटा था…”

प्रेम ने रिकार्ड समय में उसकी यह हसरत पूरी कर दी। कोमल ने अपने शरीर को बिस्तर पर ठीक से व्यविस्थत किया। “वाह, क्या शानदार गोलाइयां हैं…” प्रेम ने उसकी नंगी चूचियों को देखकर कहा।

“बातें मत करो, मेरी चूचियों को चबाओ…” कोमल ने प्रेम का चेहरा अपने स्तनों की ओर खींचते हुए कहा। हालांकि उसे तारीफ़ अच्छी लगी थी पर उसका संयम चुक सा गया था।

प्रेम ने वही किया। कोमल की चूचियां पहाड़ सी खड़ी थीं।

“काटो, मुझे यह बहुत अच्छा लगता है… चूसो, काटो… तुम मुझे तकलीफ़ नहीं दे रहे हो। तुम जितनी जोर से चाहो चूस और काट सकते हो…”

“रुको कोमल, तुमने मुझे उन्हें जी भरकर देखने ही नहीं दिया…” अपना मुँह हटाते हुए प्रेम ने कहा और उन हसीन पहाड़ियों का अवलोकन करने लगा।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#6
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
“मैं तुम्हें बाद में जी भरकर दिखा दूंगी। अभी तुम उन्हें चूसो बस…” कोमल ने उसे वापस अपनी ओर खींचा।

“यह कितने कड़क हैं…” उसने उनको अपनी मुट्ठी में लेकर मसलते हुए कहा।

“जोर से…” कोमल फुसफुसाई।

“तुम्हें आदमी की जोर-जबर्दस्ती पसंद है… है न…” उसने उन मम्मों को जोर-जोर से भींचना और मसलना शुरू कर दिया।

“हाँ प्रेम, मेरे साथ इसी तरह पेश आओ, जैसे कि मेरा पति नहीं करता…” उसे यह कहने में कोई संकोच नहीं हुआ। आखिर वो प्रेम से दोबारा तो कभी मिलने से रही।

“तुम्हें देखकर कोई यह नहीं मान सकता कि इतनी उच्च-स्तरीय दिखने वाली औरत ऐसी चुदक्कड़ होगी…”

“यह सच है प्रेम, इतने सालों में मैं अपने पति को उस तरह से चोदने के लिये नहीं मना पाई जैसा कि मुझे पसंद है… तुम तो उसी तरह करोगे जैसा कि मुझे पसंद है… है न प्रेम… मैं तुम्हारे लिये कुछ भी करूंगी… तुम्हारा लण्ड चूसूंगी और उसका रस भी पियूंगी…”

प्रेम वापस कोमल के मम्मे चूसने लगा। कोमल ने उसकी चड्ढी उतार दी। वो उसका लण्ड चूसना चाहती थी। प्रेम का लण्ड मुक्त हो गया।

“मुझे खुशी है कि यह काफ़ी बड़ा है…” वो शायद सुनील के लण्ड से बड़ा और थोड़ा मोटा भी था- “मुझे अपनी चूत में मोटे और बड़े लण्ड ही पसंद हैं…”

“इसे पूरा उतार दो और फ़िर देखो की यह तुम्हारे अंदर कैसा लगेगा…” प्रेम ने कोमल के रहे-सहे वस्त्र उतारते हुए कहा। कोमल अब पूरी तरह नंगी थी। सिर्फ उसके पैरों में ऊँची एंड़ी के सैंडल बंधे हुए थे। प्रेम ने जब कोमल की चमचमाती चिकनी चूत देखी तो उससे रहा नहीं गया और उसने अपना मुँह कोमल की चूत में घुसेड़ दिया। वो उस अमृत का पान करना चाहता था।

“नहीं प्रेम, मैं तुमसे अपनी चूत अभी नहीं चटवाना चाहती। पहले मैं तुम्हारा लण्ड चूसना चाहती हूँ। पहले मेरे मुँह को वैसे ही चोदो जैसे तुम मेरी चूत को चोदोगे…”

प्रेम ने एक सैकंड की भी देर किये बिना अपना लण्ड कोमल के हसीन चेहरे के आगे झुला दिया- “मेरे लण्ड को अपने मुँह में डालो…” उसने कहा।

“ऊँहहहफ़…” जब प्रेम ने सारा लण्ड उसके मुँह में पेल दिया तो कोमल का मुँह भर गया। लण्ड का मुँह उसके गले तक पहुंच रहा था। प्रेम ने धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरू किया। कोमल के गाल फ़ूलने-पिचकने लगे। प्रेम ने जब अपने नीचे हो रहे दृश्य को देखा तो उसका तन्नाया हुआ लण्ड और सख्त हो गया। उसे लगा कि वो झड़ने वाला है।

“हाँ बेबी, पी जाओ…” उसने अपना रस कोमल के फ़ूले हुए मुँह में छोड़ते हुए कहा।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#7
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल को इस बात से कोई परेशानी नहीं हुई कि प्रेम इतनी जल्दी स्वाहा हो गया। वो तो अमृतपान में व्यस्त थी। और उसे विश्वास था कि वो प्रेम को जल्द ही फ़िर से सम्भोग के लिये तैयार कर लेगी- “पिला दो मुझे अपना रस…” जब प्रेम के रस की पिचकारी ने पहला विश्राम लिया तो कोमल अपना मुँह खोलकर बोली। कोमल को लण्ड चूसना इतना अच्छा लग रहा था कि वो उसे छोड़ने को राजी नहीं थी। उसने जब तक उसे पूरी तरह सुखा नहीं दिया, छोड़ा नहीं।

प्रेम थक कर बिस्तर पर लेट गया- “अभी मैं और नहीं कर सकता, मैनें बहुत औरतें देखीं, पर तुम सी…”

कोमल मुश्कुराई और उसके ऊपर आ लेटी। “रंडी…” वो बोली- “अगर तुम मुझे रंडी कहोगे तो मैं बुरा नहीं मानूंगी। बल्कि शायद मुझे अच्छा ही लगे। मैं चाहती थी कि आज तुम मुझे एक रंडी की तरह ही चोदो। आज मैं वैसे ही चुदी जैसे सालों से चाहती थी। मेरे पति एक बहुत अच्छे आदमी हैं, इसलिये कभी इस तरह पेश नहीं आते…”

“मै समझ सकता हूँ जो तुम कहना चाहती हो। मेरी पत्नी भी सैक्स के प्रति बहुत सीधी है। तुम्हें विश्वास नहीं होगा मैने आज तक उसके मुँह में अपना लण्ड नहीं डाला है…”

“तो आज की रात हम एक दूसरे की सहायता करेंगे…” कोमल ने प्रेम को चूमते हुए कहा- “और ऐसा क्या है जो तुम तो चाहते हो पर वो नहीं करने देती… तुम चाहो तो मेरे मम्मों की भी चुदाई कर सकते हो। वाह देखो, यह फ़िर से मेरे लिये खड़ा होने लगा है…” कोमल ने अपनी विशाल गोलाइयों को उसपर झुकाते हुए अपने हाथों से उन्हें दबाया- “तुम चाहो तो मेरे मम्मों को चोद सकते हो…”

“मेरी पत्नी तो मुझे कभी ऐसा न करने दे…” प्रेम ने अपने लण्ड को कोमल की चूचियों के बीच में चलाना शुरू कर दिया।

“चोदो मेरे मम्मों को…” न जाने क्यों वो इस आदमी के साथ वो सब करना चाहती थी जो उसकी पत्नी उसे नहीं करने देती थी। है भगवान, यह कितना गर्म लग रहा है यहाँ पर। सुनील ने कभी ऐसा नहीं किया था और वो यह सब न जाने कब से करने को बेताब थी। सुनील को हमेशा यह डर रहता था कि कोमल को कहीं इससे तकलीफ़ न हो। काश… उसे पता होता। इसी कारण से और भी कुछ था जो सुनील ने कभी नहीं किया था।

“क्या तुमने कभी अपनी बीवी की गाण्ड मारी है…” कोमल ने अपने मम्मों को प्रेम के लण्ड पर और जोर से दबाते हुए पूछा।

“अगर मैं उससे पूछूंगा भी तो वो मर जायेगी। क्या तुम यह कहना चाहती हो कि तुम मुझसे अपनी गाण्ड भी मरवाना चाहती हो…”

इसके जवाब में कोमल ने अपने शरीर को इस तरह मोड़ा की उसका पिछवाड़ा प्रेम के मुँह की तरफ़ हो गया। “मेरी गाण्ड मारो, अपने इस मूसल से मेरी गाण्ड की धज्जियां उड़ा दो…” कोमल ने जवाब दिया।

प्रेम कोमल के पीछे गया और उसने कोमल के पिछवाड़े को पकड़कर उसके इंतज़ार करते हुए छेद पर एक नज़र डाली। वो इस दृश्य का भरपूर आनंद उठाना चाहता था।

“जल्दी करो… मुझे इस बात की बिलकुल परवाह नहीं कि मुझे दर्द होगा…” कोमल ने मिन्नत की। उसने अपने हाथ पीछे करते हुये अपने कद्दू से पुट्ठों को फ़ैलाया जिससे कि उसकी गाण्ड का छेद प्रेम के लिये और खुल गया। अब कोई शक नहीं था कि वह मूसल सा लौड़ा किस रास्ते को पावन करेगा।

प्रेम का लौड़ा अपने मदन रस से गीला था, उसे किसी और चिकनाहट की आवश्यकता नहीं थी। उसने अपने लण्ड का सुपाड़ा गाण्ड के मुहाने पर रखा और धुंआंधार धक्का मारा।

“अरे मरी रे… इसमें तो बहुत दर्द होता है…” जैसे ही प्रेम के सुपाड़े ने गाण्ड को छेदा तो कोमल चीख उठी। उसके शरीर में एक तीव्र वेदना उठी। एक मिनट के लिये तो उसकी सांस ही बंद हो गई, और गाण्ड… उसके दर्द की तो कोई इंतहा ही नहीं थी।

जब वो थोड़ा सम्भली तो बोली- “ओके प्रेम अब पूरा पेल दो अपना लण्ड मेरी गाण्ड में…”

“क्या इसमें बहुत दर्द होता है…” प्रेम ने पूछा। उसने नीचे देखा पर समझ नहीं पाया कि उसका पूरा लण्ड इतनी संकरी गली में कैसे घुस पाया था।

“और नहीं तो क्या, जान निकल जाती है…” कोमल अभी भी तकलीफ़ में थी- “पर मुझे परवाह नहीं, तुम जितनी जल्दी इसकी चुदाई शुरू करो उतना ही अच्छा है। मैं जल्द ही आदी हो जाऊँगी…” उसने अपनी गाण्ड को पीछे धक्का दिया जिससे कि लण्ड थोड़ा और अंदर जाये।

क्रमशः.............
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#8
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
प्रेम ने धीरे से आगे की ओर धक्का दिया। उसे अभी भी यह चिंता थी कि कहीं कोमल को चोट न पहुंचे। उसका लण्ड इतनी जोर से फ़ंसा हुआ था जितना आज तक कभी नहीं हुआ था। हालांकि उसे इस बात की फ़िक्र थी कि कोमल की गाण्ड को कोई नुकसान न हो पर अब उसे यह भी ख्याल आ रहा था कि ऐसा न हो कि इस आक्रमण में उसका लण्ड ही शहीद हो जाए। उसका जैसे-जैसे लण्ड अंदर समा रहा था उसे अपनी रक्त-धमनियों पर दबाव बढ़ता हुआ महसूस हो रहा था।

“मुझे ऐसा लग रहा है जैसे तुम मुझे दो टुकड़ों में चीर रहे हो…” कोमल ने अपना मुँह तकिये में गड़ाकर गहरी सांस लेते हुए कहा। आखिर यह पहला लण्ड था जिसने उसकी मखमली गाण्ड को चीरा था- “पर तुम ऐसे ही लगे रहो प्रेम, जब तक कि तुम्हारा लण्ड जड़ तक नहीं समा जाता…”

प्रेम ने ऐसा ही किया। उसने देर न करते हुए एक जोरदार शानदार धक्का मारा और अपने लौड़े को कोमल की गाण्ड में जड़ तक पेल दिया। फ़िर वो कुछ देर सांस लेने के लिए ठहरा। गाण्ड की माँसपेशियों का दबाव और स्पंदन वो महसूस कर पा रहा था। एक पल तो उसे लगा कि वो तभी वहीं झड़ जायेगा।

“फ़िर से डालो, प्रेम…” कोमल ने विनती की।

जब प्रेम थोड़ा सम्भला तो उसने अपना लण्ड बाहर खींचा और फ़िर दुगने जोश से वापस ठोंक मारा। कोमल की स्वीकृती पाकर उसने ऐसा ही एक बार और किया, फ़िर और… फ़िर और…

“यही तरीका है। इसमें तकलीफ़ जरूर होती है, पर अब थोड़ी कम है। मुझे यह बेहद पसंद आ रहा है। मुझे पता था कि मुझे गाण्ड-पेलाई पसंद आयेगी…”

कोमल को उसके गंतव्य तक शीघ्र पहुंचाने के लिये प्रेम ने अपना हाथ बढ़ाकर कोमल की चूत को ढूँढ़ा और अपनी एक उंगली उस बहती हुई नदी के उद्गम में डाल दी।
-  - 
Reply
03-15-2019, 03:01 PM,
#9
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल के लिये अब यह बता पाना कि क्या पीड़ा थी और क्या आनंद मुश्किल हो चला था। उसकी चूत और गाण्ड दोनों में चल रहे आनंद को वो बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी। दोनों यही संकेत दे रहे थे कि अब बांध ढहने को है।

“प्रेम और जोर से… तेज़ और तेज़… मार लो मेरी गाण्ड, अपने रस से मेरी गाण्ड भर दो…”

प्रेम भी यही सुनना चाहता था- “ए बेबी तुम तो मेरा लण्ड ही छील डालोगी…” वो चिल्लाया। कोमल की गाण्ड ने उसके लण्ड पर जकड़ बढ़ा दी थी। इस कारण वह ठीक तरह से झड़ भी नहीं पा रहा था। इसी कारण उसे अपना लण्ड खाली करने में काफी देर लगी।

कोमल और भी बहुत देर तक मैदान में टिकी रहती पर प्रेम अब थक चुका था। यह देखकर कोमल तकिये पर सहारा लेकर लेट गई। वो सोच रही थी कि आज उसने सच में एक आदमी से अपनी गाण्ड मरवा ही ली थी। आज उसने दो काम ज़िंदगी में पहली बार किये थे। अपने पति से दगा और गाण्ड मराई।

दूसरे दिन कोमल सजल को लेने उसके कालेज गई। उसकी चूत कल की चुदाई को अभी भुला नहीं पाई थी और अभी तक रुक-रुक कर अपनी खुशी ज़ाहिर कर रही थी। प्रेम ने जब उसके घर का पता और फ़ोन नंबर माँगा तो उसने उसे मना कर दिया था। एक अजनबी के साथ एक ही रात काफ़ी थी। उसे वह रात सुनील के साथ बेइमानी करने के कारण हमेशा याद रहनी थी। इतना ही काफ़ी था।
कोमल खुश थी क्योंकी उसने सुबह ही कर्नल मान से बात की थी और सजल को अपने साथ होटल में रात बिताने की आज्ञा ले ली थी- “मेरी गाड़ी खराब है और उसे ठीक करने में पूरा दिन लग जायेगा। मैं शाम को वापस घर के लिये नहीं निकलना चाहती। मैं बहुत आभारी रहूंगी अगर आप अपने नियम में ढील देकर सजल को मेरे साथ रहने की आज्ञा दे दें। मैं वादा करती हूँ मैं किसी और के माता-पापा को इसके बारे में नहीं बताऊँगी…” कोमल ने बड़ी सफ़ाई के साथ झूठ बोला था।
अपने पूरी मिठास और आकर्षण का इश्तेमाल करते हुए वो बड़ी मुश्किल से उस अड़ियल कर्नल को मना पई थी। उसे महसूश हुआ कि शायद कर्नल भी आकर उसे होटल में चोदना चाहता है। इससे कोमल को बहुत प्रसन्नता हुई। शायद इसी बात से कर्नल की स्वीकृती मिल गई थी। उसने मन में विचार किया कि एक दिन वो इस हट्टे-कट्टे कर्नल को भी चुदाई के लिए फुसलायेगी। वो यह भी सोच रही थी कि क्या अपने बेटे के साथ होटल के एक ही कमरे में अकेले रात बितना ठीक होगा। उसने अपने मन को मनाया कि ज़रूरी तो नहीं कि कुछ हो ही।
हालांकि वो अपने आपको समझा रही थी पर उसे पूरा विश्वास नहीं था। कुछ दिनों से वह सजल को मात्र एक माँ की दृष्टि से नहीं देख रही थी बल्कि… सजल से चुदवाने के ख्याल से ही उसकी चूत ने पानी के फ़ुहारें छोड़नी शुरू कर दिये। इस भावना के आगे वो अपने आपको कमजोर पा रही थी।
“आप सच कह रही हैं कि कर्नल मान ने रात बाहर रहने की आज्ञा दी है…” सजल ने पूछा।
“अब तुम इस बारे में चिंता नहीं करो। मुझे तुम्हें सुबह जल्दी यहाँ पहुंचाना है। इसलिये अभी जल्दी करो…”
“हम कहाँ जा रहे हैं…” सजल ने पूछा।
“यहाँ एक अच्छी पिक्चर चल रही है, उसे देखकर किसी बढ़िया से रेस्त्रां में खाना खाएंगें और फ़िर होटल चलेंगे। क्या तुमने अपने तैरने के वस्त्र साथ लिये हैं…”
जब सजल ने हामी भरी तो कोमल खुश हो गई- “हम बहुत दिन से एक साथ तैरे नहीं हैं। तुमने मुझे डाइव करना सिखाने का वादा किया था…”
“मुझे तो बिल्कुल ऐसा लग रहा है जैसे मैं किसी जवान लड़की के साथ डेट पर जा रहा हूँ…”
“ठीक है तो हम इसे डेट ही कहेंगे। कुछ ही दिनों में तुम लड़कियों के साथ घूमना-फ़िरना शुरू कर दोगे। इससे मुझे तो बड़ी जलन होगी…”
“मुझे उम्मीद है कि वो भी तुम्हारी जैसी ही सेक्सी होंगी…” सजल ने मुश्कुराकर कहा। वो कोमल को बिकिनी में देखने के लिये उत्सुक था। जब वह पिछली बार कोमल के साथ तैरने गया था तो कोमल को देखकर उसका लण्ड खड़ा हो गया था। उसे काफ़ी देर तक पानी में रहना पड़ा था जब तक कि उसका लण्ड वापस अपने वास्तविक स्वरूप में नहीं लौटा था।
“क्या तुम समझते हो कि मैं सेक्सी हूँ…” कोमल को अपने शरीर में एक स्फ़ूर्ति सी महसूस हुई।
“और नहीं तो क्या… तुम क्या समझती हो, जब तुम मुझे छोड़ने आती हो तो क्यों सारे लड़के तुम्हें हेलो करने आते हैं…”
-  - 
Reply

03-15-2019, 03:01 PM,
#10
RE: Antarvasna kahani घरेलू चुदाई समारोह
कोमल की चूत गर्मा गई। पर उसने अपना ध्यान दूसरी ओर कर लिया। पिक्चर बड़ी मज़ाकिया थी। वो अपने बेटे के साथ खूब हँसी। रात के भोजन में कोमल ने अपनी वाइन सजल के साथ बांटी। हालांकि रेस्त्रां के मालिक ने इस पर एतराज़ किया था पर यह जानकर कि वो मम्मी-बेटे हैं मान गया था। जब वो होटल पहुंचे तो कोमल के दिल की धड़कन बढ़ने लगी। अगर आज रात को कुछ होगा तो शयद उससे कुछ भला ही होगा।
“मैं अपने तैरने के वस्त्र बाथरूम से बदल कर आता हूँ… लेकिन आज मैं आपको डाइव करना नहीं सिखाऊँगा क्योंकी आपने काफी ड्रिंक की हुई है…” सजल ने कहा।
“मैं तुम्हारी मम्मी हूँ, तुम मेरे सामने भी बदल सकते हो… चलो यहीं बदलो… देखो मैं भी तुम्हारे सामने ही बदल रही हूँ…” और बिना सजल के जवाब का इंतजार किये कोमल ने अपने कपड़े और सैंडल उतारने शुरू कर दिये। उसने अपनी ब्रा और चड्ढी उतारने में हल्की सी देर लगाई जिससे कि सजल को कुछ उत्सुकता हो।
“देखो कितना आसान है… मैं तुम्हारी मम्मी हूँ और तुम मेरे बेटे, हमें एक दूसरे को नंगा देखने में शर्म कैसी…”
“कुछ भी नहीं…” सजल के मुँह से मुश्किल से आवाज़ निकली। पर अगर यह इतना आसान था तो उसका लण्ड खड़ा क्यों हो रहा था…
“जल्दी करो सजल, तरणताल थोड़ी ही देर में बंद हो जायेगा…” कोमल अपनी बिकिनी निकालने में मशगूल हो गई। उसकी पीठ सजल की ओर थी, पर वह सजल के नंगे जिश्म को देखने के लिये मुड़ने को तत्क्षण तैयार थी। कोमल ने अपनी बिकिनी पहनी ही थी कि सजल ने अपनी चड्ढी उतार दी। वह तेज़ी के साथ अपनी तैरने की चड्ढी पहनने के लिये झपटा। पर वो कोमल के सामने थोड़ा धीमा पड़ गया। कोमल तब तक पलट चुकी थी और उसने सजल का मोटा बड़ा लण्ड भी देख लिया था।

“तुम काफ़ी बड़े हो गये हो, प्रिय…” उस खुशनसीब माँ ने अपने बेटे के हथियार पर एक भरपूर नज़र डाली। उसने जो देखा उससे उसका मन अति आनंदित हो गया। सजल का लण्ड सुनील से बड़ा और मोटा था, रहा होगा कोई दस इंच लम्बा और अच्छा खासा मोटा। सजल के टट्टे भी भारी थे और घनी झाँटों में छुपे हुए थे। कोमल के मुँह में पानी आ गया।
पर उसने संयम बरता और कहा- “बेहतर होगा कि तुम अपनी चड्ढी पहनकर तैरने चलो…” यह कहकर उसने दूसरी ऊँची एंड़ी की चप्पलों में पैर डाले और दरवाज़े की ओर बढ़ गई। सजल को नंगा देखकर कोमल की दबी हुई भावनाएं दोबारा करवटें लेने लगी थीं। उसे शक था कि आज की रात वो अनचुदी नहीं रहेगी।
सजल भी अपने आपको संतुलित करने की कोशिश कर रहा था। पर उसके मन में भी एक सागर उमड़ रहा था।
थोड़ी देर तैरने के बाद कोमल बोली- “अब बहुत ठंडक हो गई है, चलो अंदर चलते हैं…”
कमरे में पहुंचकर दोनों काफ़ी तनाव में थे। सजल ने पहले कमरे में बिछे दोनों बिस्तरों की ओर देखा, और फ़िर अपनी मम्मी की ओर। कोमल समझ गई कि वो क्या सोच रहा था। अब सच्चाई को छुपाया नहीं जा सकता था। पर उसे एक ही डर था कि अगर सजल उससे नफ़रत करने लगा तो वो क्या करेगी… कहीं वो खुद ही अपने आपसे नफ़रत न करने लगे।
इन सारे शकों के बावज़ूद अपने बेटे को चोदने का ख्याल हावी था। कोमल ने अपनी बिकिनी की डोर खोलते हुए कहा- “हमें सोने के पहले नहा लेना चाहिये…” और इसी के साथ उसकी बिकिनी की ब्रा ज़मीन पर जा गिरी। सजल अपनी पैंट उतारने में अभी भी हिचकिचा रहा था।
“तुम यह कच्छा पहनकर तो ठीक से नहा नहीं सकते…” कोमल ने अपनी चड्ढी उतारते हुए कहा।
वो लड़का अपनी मम्मी के शानदार जिश्म को देखकर ठगा सा रह गया। उसकी मम्मी उसके सामने सिर्फ ऊँची एंड़ी की चप्पलें पहने बिल्कुल नंगी खड़ी थी। सजल ने कहा- “तुम जाकर पहले नहा लो मम्मी, मैं तुम्हारे बाद नहा लूंगा…”
“नहीं, हम दोनों साथ ही नहाएंगे…” यह कहते हुए कोमल अपने विशाल मम्मे झुलाती हुई सजल की ओर बढ़ी। वो काफ़ी उत्तेजित थी।
“मम्मी क्या तुम समझती हो कि ये ठीक होगा…”
“अवश्य, अब तुम अपनी पैंट उतारो, या मैं उतारूं…”
“नहीं, मैं उतार लूंगा…”
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 20 141,388 1 hour ago
Last Post: Burchatu
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 668 4,134,804 Yesterday, 07:12 PM
Last Post: Prity123
Star Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ desiaks 129 7,649 Yesterday, 12:49 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 270 529,138 04-13-2021, 01:40 PM
Last Post: chirag fanat
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 469 346,970 04-12-2021, 02:22 PM
Last Post: ankitkothare
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 83 397,358 04-11-2021, 08:36 PM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 240 299,171 04-10-2021, 01:29 AM
Last Post: LAS
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 128 252,034 04-09-2021, 09:44 PM
Last Post: deeppreeti
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस desiaks 51 233,108 04-07-2021, 09:58 PM
Last Post: niksharon
Thumbs Up Desi Porn Stories नेहा और उसका शैतान दिमाग desiaks 87 194,560 04-07-2021, 09:55 PM
Last Post: niksharon



Users browsing this thread: 2 Guest(s)

Online porn video at mobile phone


xxxsariwali gagra coli siltorमाँ की gaand मार्कर tatti nikali antervasna हिंदी कहानीrashmi ke jalwe in aasherm part 25/Thread-raj-sharma-stories-%E0%A4%9A%E0%A5%82%E0%A4%A4%E0%A5%8B-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B2%E0%A4%BE?page=19xxx hindi nagi photo diksha shout heeronimeri I biwi ke karname 47संकरी बुर मे मोटा मूसलसेकसी कहानी मै जिया खूब चोदवाती हूँबिदबा कि चुत पर लागाय घर मे घूसकर कि चूदाई porn हिंदी अवाजwww. चूपचाप चूत के video hind xnx hD .comsonakshi sinha ass image from sex.baba.comporn sex dhood pila Randi aaas४० साल की मम्मी ने अपने छोटे बेटे के साथ नंगे होक छुडवाया उसके बफ विडियो हिंदी मेंnivetha pethuraj hot boops in shemelessZorro Zabardasti pi xxx videoऊषा की चुदाई कहानीvidhwa Aurat mithilanchal ke bur kaun-kaun kar diya Chhod ke bf video Dehatiबुर xxxxलालjuraa bna कर sasu की चुदाई antrvasna सेक्स बाबाआंजली भारती सेकसी 2019mery bhans peramka sex kahanimartxxxcomमा योर बेटा काbf videoxxx हिनदी मैxxvodeo hot shoda shodhi new काकि ची गांड व पुचि झवली xxx कथाpashap.ka.chaide.hota.chudi.band.xxx.hindi.maxxxsaxi video muslamani chachi or bachasouth actor bhabhi saharki xnxxtvrajsharmastories xossipसलवार खोलकर पेशाब टटी करने की सेक्सी कहानियांmachliwali ko choda sex storiesSadi nikalte hua bur pelta hai xxxbfमरोडते बंद सगी बहन xnxxXxxदुध फूला हुआ दुध लंड दुधMai meri family r mera gaon part 5xxxx had dehati new laila majanu kapenti chati kaki ne malish kar chodrain chudiमराठी सेकस कथा दादु और लडका Hot chudae kahanyamomdifudiभाभी ची गाण्ड मारलीsexbaba. jalimअथिया शेट्टी हीरोहीन की नगी फोटो चुत और गाऩड की फोटो फोटो HDmakan malkin ki gand mari sexurdu storiesSexiy ayintiyo ka number caheyexxx kd smea astn se dudh nikalna hd vedoचुद सेक्सबाबBahbi or davar ki storyसेकसी 326623doctar na andar lajaka choda saxi vdieo hdपच पच झटपट चुदाई का कहानीएक लडकी पे गुंडोँ ने समूहिक Xxx Videoशादीशुदा बहन का बुर का रस चुकता हुआ सेक्सी कहानी बुर का बुर छोड़ते हुए सेक्सी कहानी मस्तराम कीससुर की जालिम चुदाई4 vela zavle tar pregnant rahte kaNude Athya seti sex baba picechuto ka Samundar - चूतो का समुंदरpure khandan me garam zism yum incest storysexbaba chodai story sadi suda didi55 की आंधी फिर भी चुदासीsexbaba porn imagesvf 408 chut aurat sexietna pelo chut bhar jaye birya seChachi ko nhalaya x khaniyasPORN KOI DEKH RAHA HAI HINDI NEW KHANI ADLA BADLE GROUP SEX MASTRAMझाँटदार चुत कि सेक्सि बिडियोwwwxxxxnidiसेक्स स्टोरीज िन हिंदी रन्डी की तरह चूड़ी पेसाब गालिया बदलाwww.jacqueline Fernandez ki pusy funcking image sex baba. com