Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
दोनो के बदन पर मात्र 4-4 अंगुल के अंडरवेर ही बचे थे…जो उनके विशेष पार्ट को भी बमुश्किल छुपाने में असमर्थ हो रहे थे…

वो उसके आमों को अपनी मुत्ठियों में भरकर, उसके होठों से रस निचोड़ने लगा…

फिर उसने , रुखसाना को सोफे पर बिठाकर, खुद उसके नीचे उसकी टाँगों के बीच घुटने टेक कर बैठ गया…

उसकी छोटी सी पेंटी को एक तरफ करके उसने अपनी जीभ से जैसे ही उसकी चूत के मोटे-मोटे होठों पर फिराया…

रुखाना आअहह….करते हुए अपनी कमर को हवा में उठाए उसके मुँह में अपनी चूत को घुसने में लग गयी…

वो उसके सर के बालों में अपनी उंगलियाँ फँसा कर उन्हें मुट्ठी में भरते हुए बोली – 

आआहह…..आ..स..लामम्म्म…खाज़ाऊओ…ईससीए..उउउफफफ्फ़….आअम्म्मिईिइ…..हइईए….ईसस्शह…. करती हुई…वो अपनी कमर हवा में लटकाए ही इधर से उधर मटकाने लगी…

नौजवान ने उसके क्लिट को अपने दाँतों में दबा कर अपनी दो उंगलियाँ उसकी चूत में डालकर ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा…

रुखसाना ने शायद ही इतना भयंकर अटॅक अपनी चूत पर झेला हो पहले…

उत्तेजना में उसकी गले की नसें तक फूलकर कर उसके फक्क गोरे रंग में किसी नीली ट्यूब जैसी दिखने लगी…

कुछ ही देर में हाए-हाए करते हुए वो झड़ने पर मजबूर हो गयी…

और उसने अपनी दोनो टाँगों को उठाकर नौजवान के गले में लपेटकर उसके मुँह को अपनी चूत के मुँह पर बुरी तरह से कस लिया और फल्फला कर झड़ने लगी….

जब उसका झड़ना पूरी तरह से बंद हुआ तब जाकर उसने उसे मुक्ति दी…और धीरे -2 अपनी चौड़ी चकली गान्ड सोफे पर लॅंड कराई…

उसके हटते ही, नौजवान ने लंबी साँस ली, जो वो उसे इतनी देर से लेना ही भूल गया था, या यूँ कहें कि बेचारा ले नही पाया था…

उसका मुँह उसके चूतरस से भीग गया था, जिसे देखकर रुखसाना मुस्करा उठी, और झपट कर किसी भूखी बिल्ली की तरह उसके होठों पर टूट पड़ी, 

उसके बाद उसने नौजवान को सोफे पर खींच लिया, खुद नीचे बैठ कर उसके अंडरवेर को निकाल दिया और उसके गरम सख़्त रोड जैसे लंड को अपनी मुट्ठी में कस कर बोली….

कमाल का मज़ा देते हो मियाँ, सच में ऐसा मज़ा पहले कभी नही मिला मुझे…

फिर उसके लंड को आगे पीछे करते हुए उसकी आँखों में देखते हुए बोली – अब मेरी बारी है, इसे मज़ा देने की,

ये कहकर उसने पहले उसके लंड को चूमा, और फिर उसके सुपाडे को चाटकर अपने मुँह में भर लिया…

अब तड़पने की बारी उस नौजवान की थी.. रुखसाना उसके लंड को पूरी लंबाई तक लेकर चूस रही थी, 

साथ साथ वो उसकी गोलियों को भी सहला देती, जिससे उसके मज़े की वजह से उसका बुरा हाल बहाल था…

उसने रुखसाना के आमों को अपने हाथों में लेकर ज़ोर्से मसल दिया, और साथ ही अपनी कमर को उठाकर अपना लंड पूरी ताक़त से उसके मुँह में पेलने लगा…

रुखसाना को अपनी साँस अटकती सी महसूस हुई, तो उसने अपने हाथ उसके पेट पर जमाए, और उसका लंड अपने मुँह से बाहर निकल कर शिकायती नज़रों से उसे घूर्ने लगी…

उसका लंड फटने की सीमा तक फूल चुका था, अब उससे एक सेकेंड का इंतेज़ार भी असहनीय हो रहा था, सो उसने रुखसाना की बगलों में हाथ डालकर उसे सोफे पर पटक दिया..

और खुद उसकी टाँगों को उपर करके चूत के मुँह पर लंड टीकाया और एक भरपूर धक्का जड़ दिया…

एक ही झटके में उसका पूरा 8” से भी तगड़ा लंड उसकी चूत में समा गया…

रुखसाना के मुँह से चीख उबल पड़ी…लेकिन….

वो भी बहुत गर्म औरत थी, वो इस सुलेमानी झटके को भी झेल गयी…

फिर जब चुदाई का दौर शुरू हुआ तो वो चलता ही रहा, नौजवान ने उसकी सारी गर्मी निकाल दी, 

अंत में जब उसने उसके पिछले गोल पोस्ट में गोल किया तब तो रुखसाना के फरिस्ते ही कून्च कर गये…

वो किसी तरह से उसके मूसल को अपनी गान्ड में झेल तो गयी, लेकिन उसके बाद उसकी गान्ड और चूत फुदक-2 करने लगे.

आज रुखसाना को तीनों छेदों में लंड के इस्तेमाल का पता चल गया था…

कोई 1 बजे से ही रुखसाना उसको चलने के लिए बोलने लगी, उन्होने फ़्रीज़ से निकाल कर एक-एक कोल्ड ड्रिंक पिया और वहाँ से निकले.

नौजवान ने अपनी रिस्ट वाच पर नज़र डाली और पिछले गेट को खोला.
-  - 
Reply

12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
गेट खोल कर जैसे ही उन्होने बाहर की ओर कदम बढ़ाया कि सामने दो लोगों को खड़ा देख कर उनके होश उड़ गये….!!

वे दोनो कोई और नही वही दोनो थे जिन्होने रुखसाना और उसके बच्चे पर उस दिन अटॅक किया था, उसके बेटे को किडनॅप करने के लिहाज से. 

उन्हें देखते ही रुखसाना चोंक कर बोली - तुम लोग यहाँ..? और डर के मारे पलटकर वो उस नौजवान से लिपट गयी.

नौजवान उसके कंधों से पकड़ कर अपने से अलग करते हुए बोला - घबराओ नही रुखसाना बेगम, मे देखता हूँ और उन दोनो से मुखातिब हुआ – 

तुम लोग यहाँ भी पहुँच गये..? आख़िर चाहते क्या हो..?

उनमें से एक बोला – वही जो तुमने लिया है इस हुश्न परी से..!

रुखसाना - क्या..? क्या मतलब है तुम्हारा..? क्या लिया है इन्होने मुझसे..?

दूसरा बंदा उसके कधे पर हाथ रखकर उसे सहलाते हुए बोला – 

तेरा ये खूबसूरत बदन रानी..! आहह…कसम से क्या मस्त जवानी है तेरी, 

अब ये मत कहना कि तुम दोनो यहाँ 3 घंटे से कोई रामलीला का शो चल रहा था, उसे देख रहे थे..!!

रुखसाना उस नौजवान की ओर देखने लगी, उसके शरीर में कंपकपि दौड़ने लगी थी, 

वो नौजवान अपने खुसक हो चुके होठों पर जीभ से गीला करने की नाकाम कोशिश करते हुए आँखें फाडे बस उनकी ओर देखे जा रहा था.

रुखसाना - तुम कुछ बोलो ना आ.आ.असलम..! 

नौजवान - म.म.मईए.. क्या बोलूं..? मेरी तो कुछ समझ में नही आ..आ रहा..? फिर वो कुछ हिम्मत जुटा कर उन दोनो की ओर मुखातिब हुआ – 

आए.. देखो तुम लोग ये ठीक नही कर रहे, हम यहाँ ऐसा-वैसा कुछ नही कर रहे थे, ऐसे ही घूमने चले आए बस. 

और फिर हम कुछ भी करें, उससे तुम लोगों को कोई सरोकार नही होना चाहिए समझे..! अब निकलो यहाँ से और हमें भी जाने दो लेट हो रहे है..!

पहला बंदा - ओये..डेढ़ सियाने… हम लोगो के साथ ज़्यादा सियानपट्टी नही, समझा क्या…., साले तूने उस दिन भी हमारा काम खराब कर दिया था, लेकिन आज नही, 

चल पीछे हट और उसने उस नौजवान के सीने पर अपना हाथ रखकर उसको धक्का दिया, जिससे वो नौजवान थोड़ा सा पीछे को लडखडाया, फिर सम्भल कर आगे आकर उसके सामने तन के खड़ा हो गया.

नौजवान - तुम लोग ऐसे नही मानने वाले ये कहकर उसने उस बंदे का गिरेबान पकड़ लिया, तब तक साथ वाले ने अपनी गन निकाल ली, और उसकी कनपटी पर रखकर बोला- 

लगता है तू सीधी तरह से नही मानेगा, हम नही चाहते थे कि यहाँ कोई खून खाराव हो पर अब लगता है सीधी उंगली से घी निकलने वाला नही है.

गन पॉइंट पर वो उसे पीछे धकेल्ता हुआ सोफे तक लाया और धक्का देकर उसे सोफे पर गिरा दिया, नौजवान के साथ-2 रुखसाना भी थर-2 काँप रही थी.

वो गन वाला बोला - अब चुपचाप बैठ कर हमारा खेल देख, ज़यादा चूं चपड की तो भेजा उड़ा दूँगा समझे..! 

और अपने साथी से बोला ओये भाई चल शुरू कर खाली-पीली टाइम वेस्ट नही करने का अपने को.

वो दूसरा रुखसाना के साथ ज़बरदस्ती करने लगा, और कुछ ही देर में उसके सारे कपड़े फिर से फर्श पर पड़े थे. 

वो नौजवान अपने घुटनों मे सर देकर चुप चाप सोफे पर बैठा रहा..

रुखसाना चीखती चिल्लाती रही, उस नौजवान को मदद के लिए बुलाती रही, 

नौजवान ने एक बार फिर हिम्मत जुटाई, उसने उठने की एक और कोशिश की तो उस गन वाले ने उसके सर के पीछे हॅंडल का बार करके उसे बेहोश कर दिया, 

नौजवान बेहोश होकर सोफे पर लंबा हो गया….

उसके बाद उन दोनो ने रुखसाना को पूरी तरह नंगा कर दिया…और उसके बदन से खेलने लगे…

ना चाहते हुए, वो भी उन लोगों का साथ देने लगी…

उन्होने उसे घोड़ी बना दिया, और उनमें से एक बंदे ने पीछे से उसकी चूत में लंड डाल दिया और चोदने लगा…

दूसरा अपना लंड हाथ में लिए उसके मुँह के आगे खड़ा हो गया, और अपना खूँटे जैसा लंड ज़बरदस्ती उसके मुँह में ठूंस दिया…

अब वो उसे आगे और पीछे दोनो तरफ से चोदने लगे…
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
कुछ देर बाद उन दोनो की पोज़िशन चेंज हो गयी, और जो पहले मुँह चोद रहा था, अब वो उसकी चूत मार रहा था, और दूसरा मुँह को..

एक राउंड की धमाकेदार चुदाई के बाद उन्होने थोड़ा रेस्ट किया, 

फिर उनमें से एक बंदे ने सोफे पर लेट कर रुखसाना को अपने उपर ले लिया और नीचे से उसकी चूत में लंड डाल दिया…

दूसरे ने उपर से उसकी गान्ड को थूक से गीला किया, और अपना सुलेमानी लंड उसकी गान्ड में पेल दिया……



एक बार को रुखसाना बुरी तरह बिलबिला गयी, लेकिन बेचारी कर भी क्या सकती थी…

उसका तो बुरा हाल हो चुका था…, वो दोनो उसके दोनो छेदों में ढकपेल लंड चला रहे थे…

कुछ देर की तकलीफ़ के बाद रुखसाना को इस तरह की चुदाई में एक अजीब सा ही मज़ा आ रहा था, जिसे वो इन दोनो को नही बोल सकती थी, 

जब दोनो के लंड आपस में एक दूसरे में ठोकर मारते, तो उन तीनों को ही असीम आनंद की अनुभूति होने लगती…

उन दोनो ने उसकी दोनो छेदों में लंड डालकर जबरदस्त चुदाई की, अंत में दोनो ने उसके आगे-पीछे के छेदों को अपने वीर्य से भर दिया…

उसके बाद उसकी शारीरिक शक्ति जबाब दे गयी और वो वहीं फर्श पर नंगी ही पड़ी रह गयी.

वो दोनो उसको वहीं ठंडे फर्श पर पड़ा छोड़ कर अपने-2 कपड़े पहन कर वहाँ से निकल गये.. 

वो कुछ देर यौंही पड़ी सुबक्ती रही, फिर कुछ देर बाद जब उसके होश कुछ वापस लौटे, 

दिनभर की चुदाई की वजह से उसका पूरा बदन पके फोड़े की तरह दुख रहा था, फिर भी वो उठी और किसी तरह अपने कपड़े पहने,

फिर उसने उस नौजवान के कंधे पकड़ कर उसे हिलाया.. 

असलम.. असलम मियाँ..उठो.. मुझे मेरे घर छोड़ दो..

वो नौजवान आँखे मलते हुए उठा, और चारों ओर देखने लगा, फिर बोला- वो लोग चले गये..? 

सॉरी रुखसाना मे आपकी मदद नही कर सका, उन सालों ने मुझे भी बेहोश कर दिया..!

रुखसाना मरी सी आवाज़ में बोली - कोई बात नही, मे समझ सकती हूँ, अब जल्दी से उठो और मुझे मेरे घर छोड़ दो.. पता नही अब क्या होगा ?, 

एजाज़ स्कूल से आ गया होगा, और मुझे घर ना पाकर क्या सोच रहा होगा..?

वो नौजवान खड़ा हुआ और बोला - अब इस वक़्त अपने घर जाकर क्या करोगी रुखसाना बेगम..? 

रुखसाना – ये क्या कह रहे हो तुम ? मेरे शौहर भी घर पहुँचने वाले होंगे.. मुझे वहाँ ना पाकर ना जाने क्या – 2 सोचने लगेंगे…? 

चलो ! जल्दी करो, अब और ज़्यादा देर करना मुनासिब नही होगा…

नौजवान ने बड़ी रुखाई से कहा – तो क्यों ना तुम्हारे शौहर को भी यहीं बुला लिया जाए..!

रुखसाना उसके बदले हुए तेवर देखकर एकदम चोन्क्ते हुए बोली - क्य्ाआअ..??? क्या कहा तुमने…? 

वो भौंचक्की सी उस नौजवान की सूरत देखती ही रह गयी……जो अब खड़ा खड़ा उसके सामने मुस्करा रहा था…!!!
रात को जब अब्दुल सत्तार गनी उर्फ गनी भाई अपने घर आया तो उसका बेटा एजाज़ घर में अकेला था, उसका बॉडीगार्ड बाहर अहाते में मुस्तेदि से तैनात था.

बेटे ने जब अपने अब्बू को देखा तो वो रोते हुए दौड़ता हुआ आया और उसके पैरों से लिपट गया.. - अब्बू..! अम्मी कहाँ है..?

गनी को अपने बेटे के मुँह से ये बात सुनकर एक जोरदार झटका लगा - क्या..? वो यहाँ नही है..? तो कहाँ है, तुम्हें नही पता वो कहाँ गयी..?

एजाज़ - सुबक्ते हुए.. नहीं, मे जबसे स्कूल से आया हूँ, मुझे वो यहाँ नही मिली. 

और देखो ना अब्बू, अब तो रात भी हो गयी, अभी तक नही आई वो… कहाँ चली गयी..? उउहह..उउहह..वो और ज़ोर-2 से रोने लगा.

गनी ने वहीं ज़मीन पर बैठ कर अपने बच्चे को अपने सीने से लिपटा लिया और उसकी पीठ पर हाथ फेर कर उसे चुप करते हुए सोच में डूब गया. 

उसके दिमाग़ में अंजनी आशंकाओं का बवंडर सा उठने लगा. आख़िर रुखसाना गयी तो गयी कहाँ..? कहीं वो उस दिन वाले गुंडे तो नही…? 

उसने अपने गुर्गों से भी इस विषय में पुच्छना उचित नही समझा, कहीं बात ग़लत रूप ना लेले..? उसे अपनी नेता वाली छवि की भी चिंता थी.

हो सकता है अपने किसी रिस्तेदार के यहाँ, या किसी सहेली के घर चली गयी हो, उसके मन ने झुटि तसल्ली देने की कोशिश की, लेकिन फिर खुद ही उसे खारिज भी कर दिया..

नही-नही..!! रुखसाना इतनी भी ग़ैरज़िम्मेदाराना हरकत नही कर सकती कि अपने बेटे को भी बिना बताए कहीं चली जाए..? 

तो.. !! तो फिर आख़िर गयी कहाँ..? क्या मुझे पोलीस का सहारा लेना चाहिए..? 

हां ये सही रहेगा ! और वो इसमें भी राजनीतिक फ़ायदा ढूँढने के बारे में सोचने लगा.

अभी वो पोलीस को फोन करने के बारे में सोच ही रहा था कि उसका फोन सामने से घनघना उठा. 

बेल की आवाज़ सुनते ही वो एकदम से उच्छल पड़ा, मानो किसी गरम तबे पर गान्ड रखकर ग़लती से बैठ गया हो..? 

उसे इस बात की तो कोई आशंका ही नही थी.

उसने लपक कर फोन उठाया और बोला- ह.ह.हेलो कौन ..?

सत्तार मियाँ..! कैसे हो..? अपनी बीबी का इंतजार कर रहे हो..? दूसरी ओर से कहा गया.

गनी - क्क्कोन बोल रहा है..? और तुम्हें कैसे पता कि मेरी बीबी घर पर नही है..?

नौजवान रुखसाना के होठों पर अपने उल्टे हाथ की उंगली फेरते हुए बोला - क्योंकि वो इस समय मेरे पास है..! 

गनी - क्या..? ?? क्यों ?? तुम्हारे पास कैसे है वो..? कॉन हो तुम, और कहाँ से बोल रहे हो..?

अरे बाप रे…! इतने सारे सवाल एक साथ.. एक-एक करके पुछो सत्तार मिया.. उसने रुखसाना के गदराए हुए बदन पर हाथ फेरते हुए कहा, जो इस समय उसके पास ही सोफे पर बैठी थी, 

ये दीगर बात थी, कि इस समय उसके हाथ बँधे हुए थे…

उस नौजवान ने आगे कहा - मेरी याददस्त थोड़ी कमजोर है सत्तार मियाँ, भूल गया तो एक भी बात का जबाब नही दे पाउन्गा, फिर तुम्हें तुम्हारी बीवी का पता कैसे मिलेगा ?.

गनी - मेरी बीवी तुम्हारे पास कैसे है पहले ये बताओ..? 

नौजवान ने उसके आमों को ज़ोर्से मसल्ते हुए कहा - वो मुझसे चुदवाने आई है, अब तुम तो उसको चोदते नही हो, 

बाहर की रंडियों के साथ मुँह मारते फिरते हो, तो बेचारी करे तो क्या करे, मेरे दमदार लंड से चुद के मस्त हो गयी है…बात करना चाहोगे उससे..?

गनी - क्या बकवास कर रहे हो तुम..? होश में तो हो ? जानते तुम किससे बात कर रहे हो..?

नौजवान - बिल्कुल होश में हूँ, और ये भी जानता हूँ की किससे बात कर रहा हूँ..? अच्छा लो अपनी बेगम से बात करो..! 

कुछ देर के बाद रुखसाना की आवाज़ सुनाई दी, वो रोते-बिलखते हुए खुद को उससे बचाने की बात करने लगी, 

जब गनी ने उससे पुछा कि वो वहाँ कैसे पहुँची, तो उसने बात को गोल करके ज़बरदस्ती खुद के किडनप होने का बहाना बना दिया.

फिर गनी ने पुछा कि वो इस समय कहाँ पर है, इससे पहले की वो कुछ बताती, नौजवान ने फोन उसके हाथ से छीन लिया, 

और फिर उसने गनी को जो धमकाया, पट्ठे की सिट्टी-पिटी गुम हो गयी आख़िर में उसने पुछा.

गनी - अब तुम क्या चाहते हो..?

नौजवान - देख भाई, तेरी बीवी की चुदाई की मस्त सीडी बनाई है मैने, तू देखना चाहे तो मे भेज सकता हूँ, 

और अगर तू नही चाहता कि ये सीडी सार्वजनिक हो, और तेरी बीवी भी तुझे सही सलामत मिल जाए तो 50 लाख का इंतेज़ाम करके रखना कल शाम तक, वरना तू इतना तो समझदार होगा.. कि क्या हो सकता है ? 

मे तुझे अब कल फोन करूँगा, और हां पोलीस-वॉलिस के चक्कर में भूल के भी मत पड़ना. 
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
उधर जब उस नौजवान ने फोन कट किया तो रुखसाना ने रुआंसे स्वर में उससे पुछा - अब तो बता दो कि तुमने ऐसा क्यों किया..? हमने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है..?

नौजवान ने उसके रसीले होठों को अपने अंगूठे से रगड़ते हुए कहा - बता दूँगा मेरी जान..! सबर कर ! सब कुछ बता दूँगा..! 

अभी वो ये बातें कर ही रहे थे कि तभी दरवाजा खटखटाने की आवाज़ सुनाई दी. 

उसने आगे बढ़ कर दरवाजा खोल दिया, सामने वही दोनो खड़े थे, जो अब उस नौजवान के गले मिल रहे थे.

अंदर आकर उन्होने कुछ पॅकेट जो वो बाहर से लेकर आए थे, उन्हें सेंटर टेबल पर रख दिया. और सोफे पर बैठ गये जहाँ वो दोनो पहले से ही बैठे थे.

उनकी बातचीत में अभी तक उन्होने एक दूसरे का नाम नही लिया था, बस संकेतिक शब्दों से ही काम चला रहे थे.

फिर उनमें से एक आदमी एक पॅकेट लेकर स्टोर रूम की ओर चला गया, 
वहाँ जाकर उसने उस क़ैद किए हुए आतंकवादी जो अब एकदम ठीक हो चुका था, उसे खोला, और उसको खाना दिया. 

उधर उस नौजवान ने भी खाना निकाला, रुखसाना को दिया और खुद भी खाया. 

वो थोड़ा नखरे कर रही थी, लेकिन फिर मान गयी, क्योंकि भूखे रहना किसी भी सूरतेहाल में उसके लिए फ़ायदा नही होता.

दूसरे दिन दोपहर के बाद उस नौजवान ने गनी को फोन किया, जब उसने बताया कि वो तैयार है पैसे देने को बोलो कहाँ और कब आना है, 

तो उसने जगह का नाम और समय बता दिया और साथ ही साथ हिदायत भी दी कि अगर कोई चालाकी की तो बीवी तो हाथ से जाएगी ही, 

वो भी इतना बदनाम हो जाएगा कि कहीं मुँह छुपाने के काबिल नही रहेगा.

शाम साडे 6 बजे, जब सूर्यास्त हो रहा था, वो नौजवान और एक बंदे ने उस क़ैदी के हाथ-पैर बाँधे और मुँह पर एक टेप चिपका कर रुखसाना की बिना नज़र में आए उसे गाड़ी की डिग्गी में डाल दिया, 

दूसरे बंदे को रुखसाना पर नज़र रखने को छोड़ कर वो दोनो उसे लेकर निकल गये.

शाम 7 बजे एक काले रंग की स्कॉर्पियो भारोल स्टेशन के पास वाले उजाड़ और टूटे-फुट रोड पर आकर रुकी, अभी उसमें से कोई बाहर नही आया था, 

उसमें बैठे गनी को फोन आया और उसको पास के ही बंद पड़े मिल के अंदर गाड़ी लेजाने को कहा, 

स्कॉर्पियो फॅक्टरी के टूटे-फूटे गेट के अंदर चली गयी.

फोन पर लगातार इन्स्ट्रक्षन मिल रहे थे, देखते-2 स्कॉर्पियो फॅक्टरी के पीछे की ओर बने लोडिंग कॉंपाउंड में पहुँच गयी और खड़ी हो गयी. 

उसमें से गनी भाई एक सूटकेस लेकर उतरा, उसका ड्राइवर गाड़ी में ही रुका रहा, 
तभी फोन पर फिर से दहाड़ सुनाई दी कि ड्राइवर को गाड़ी लेकर वापिस भेजो..!

ये सुनकर गनी हड़बड़ा गया, और बोला- फिर मे वापस कैसे जाउन्गा..? 

आवाज़ आई- फोन करके बाद में बुला लेना, अभी उसको यहाँ से दूर भेजो.

गनी ने ड्राइवर को जाके कुछ बोला, एक मिनट के बाद ही स्कॉर्पियो वहाँ से चली गयी और उस एरिया से दूर हो गयी. 

गनी को इन्स्ट्रक्षन दी कि वो अंदर जाकर वेट करे.

दो मिनट के बाद उसी जगह पर एक सूडान कार आकर रुकी और उसमें से वो नौजवान उतरा, दूसरा बंदा कहाँ गया हमें भी पता नही चला. 

उस नौजवान ने गाड़ी की डिग्गी खोली और उस क़ैदी के पैरों की रस्सी खोल कर उसे बाहर निकाला और उसकी बाजू पकड़के घसीटते हुए अंदर ले गया.

गनी इस समय एक हॉल जैसे अहाते में खड़ा था, अंधेरा घिरने लगा था, फिर भी इतनी रोशनी थी कि सब कुछ नंगी आँखों से दिखाई दे रहा था.

गनी को अपने पीछे कुछ आहट सुनाई दी तो वो पलटा, और जैसे ही उसकी नज़र उस आतंकवादी पर पड़ी.. वो उच्छल ही पड़ा..…तूमम्म..!!

उस क़ैदी आतंकवादी के पीछे खड़ा वो नौजवाना बोला- क्यों सत्तार मियाँ .. झटका लगा ना..?

गनी की नज़र पहली बार उस नौजवान पर पड़ी, वो हकलाते हुए बोला - कौन हो तुम…और ये कॉन है..? मेरी बीवी कहाँ है..?

नौजवान - क्यों इसको नही पहचानते..?

गनी - नही मे नही जानता कि ये कॉन है..?

नौजवान - तो इसे देखकर इतना उच्छल क्यों पड़े थे..?

गनी – म.म्मईएनी सोचा था, मेरी बीवी यहाँ होगी… लेकिन उसकी जगह इसको देखा तो वो..चौंक गया बस.. और कुछ नही.

नौजवान - अच्छाअ ! लेकिन ये तो कहता है कि ये तुम्हें अच्छी तरह से जानता है..! और तुम बोल रहे हो, कि इसको नही जानते…इसका मतलब ये झूठ बोल रहा है..? लेकिन क्यों..?

गनी - अब मे क्या जानू, ये क्यों झूठ बोल रहा है..?

नौजवान – फिर तो भी झूठ होगा, कि तुम्हारी रुखसाना बेगम ****** है..?

नौजवान के मुँह से ये शब्द सुनते ही, गनी का मुँह खुला का खुला रह गया.. वो उसे किसी अजूबे की तरह देख रहा था…

नौजवान - जबाब नही दिया तुमने प्यारे..? 

फिर तो शायद ये भी झूठ होगा कि ******************************* का सरगना ज़फ़्फरुल्ला ख़ान तुम्हारा साला है..? 

और तुमने ही इस बंदे और इसके तीन साथियों को ना केवल पनाह दी, बल्कि इन्हें अपने साथ, *** शहर तक लेकर गये थे, अपने पोलिटिकल कद का सहारा लेकर.

गनी बिल्कुल हक्का-बक्का सा खड़ा रह गया, फिर अचानक उसने अपनी लंबी सी कमीज़ के नीचे से रेवोल्वेर निकाल कर उस नौजवान पर तान दी.

रेवोल्वेर तान कर वो दहाडा - काफ़िर की औलाद, तू मेरे बारे में सब कुछ जान चुका है, अब तेरा जिंदा रहना मेरे लिए सही नही होगा…, 

अपनी जान से अज़ीज़ बीवी को तो में बाद में भी ढूँढ लूँगा, लेकिन तेरा जिंदा रहना अब मेरे लिए ठीक नही है, ये कहते हुए उसकी उंगली ट्रिग्गर पर कसने लगी.

पित्त्तत्त…एक हल्की सी आवाज़ हुई और गनी की रेवोल्वेर ज़मीन पर जा गिरी, वो अपने घायल हाथ को पकड़ कर वहाँ से भागने के लिए एक तरफ को लपका ही था,

कि एक बार फिर से पित्त्तत्त… की आवाज़ हुई और एक गोली उसकी जाँघ में घुस गयी, वो ज़मीन पर बैठ कर दर्द से तड़पने लगा.

दरअसल हुआ यूँ कि गनी जैसे ही ट्रिग्गर दवाने वाला था, कि वो दूसरा बंदा जो इन पर नज़र रखे हुए था उसने साइलेनसर युक्त रेवोल्वेर से उसके हाथ पर गोली चला दी. 

नतीजा अब सत्तार मियाँ उनकी गिरफ़्त में थे.

वो नौजवान जो कोई और नही एनएसएसई एजेंट अरुण था, गनी को अपने कब्ज़े में लेने के लिए उसकी ओर बढ़ा, 

मौके का लाभ उठाते हुए वो क़ैदी आतंकवादी वहाँ से खिसकने की फिराक़ में चुप-चाप पीछे वाले गेट की ओर खिसकने लगा, 

तभी एक गोली और चली और सीधी उसकी खोपड़ी में सुराख बना गयी, वो वही ढेर हो गया, सेकेंड के सौवे हिस्से में ही उसकी आत्मा एश्वरपूरी की शैर पर जा चुकी थी.

गनी की मस्क कस्के उन्दोनो ने गाड़ी की डिग्गी में डाला और 20 मिनट के अंदर वो फार्म हाउस में थे. 

अब मियाँ बीवी दोनो आमने-सामने थे, फ़र्क इतना था, कि बीवी आज़ाद थी और मियाँ जी बँधे पड़े थे.

रास्ते में आते-2 उन्होने पोलीस को इनफॉर्म करके बता दिया कि चौथा आतंकवादी कहाँ पड़ा है, 

जब पोलीस द्वारा बताने वाले का नाम पुचछा गया तो जबाब मिला, कि आम खाओ, पेड़ गिनने के चक्कर में मत पडो.

वैसे भी पोलीस को इस मामले में अपनी ज़्यादा नाक ना घुसेड़ने की खास हिदायत दी गयी थी, 

पोलीस ने उसकी बॉडी बताए गये स्थान से प्राप्त कर ली थी………….
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
उधर ******* में ज़फ़्फरुल्ला ख़ान को न्यूज़ के माध्यम से जब ये पता चला कि उसका ये मिसन फैल हो चुका है, 

तभी से वो गनी और रुखसाना पर भड़का हुआ था, जो कि भारत में उसके इस मिसन के कमॅंडर के तौर पर नियुक्त किए गये थे.

ऐसा नही था कि गनी और रुखसाना ने ये जानने की कोशिश नही की थी, कि उनके इस मिसन की माँ चोदने वाला कॉन है, 

पर जब पूरे डिविषन की पोलीस मिल कर सर खपाने के बाद भी उसमें से झांट का बाल नही खोज पाई थी, तो उनके लिए तो ये दूर की कौड़ी ही साबित होनी थी.

लेकिन अब गनी भाई और रुखसाना को कोई कन्फ्यूषन नही था कि उनके उस मिसन की किसने माँ चोदि है, 

फिर भी उनको अभी तक ये नही पता चला था, कि इन लोगों का भारत सरकार की किस संस्था से संबंध हैं. 

वो ये तो अच्छी तरह से समझ चुके थे कि ये लोग कोई मामूली लोग नही हैं. 

और न्यूज़ के मुतविक वो ये जान ही चुके थे, कि जिस एक बंदे ने गोलियों की बौछार के बीच घुसकर उनके 4-4 ट्रेंड और ख़ूँख़ार आतकियों को अंजाम तक पहुँचा दिया, वो तो मामूली हो ही नही सकते. 

बावजूद इसके की रुखसाना ने इस नौजवान से शारीरिक संबंध बनाए हैं और वो लोग उसकी वजह से ही फँस गये हैं, 

फिर भी वो रुखसाना को कुछ नही कह पाया क्योंकि उसका भाई एक दुर्दांत आतंकी संगठन का सरगना था, जो गनी जैसे ना जाने कितने गुर्गों को अपनी जेब में रखता है. 

वो तो हिन्दुस्तान में अपना एक नेटवर्क बनाने की गर्ज से अपनी बेहन का निकाह गनी से करने को तैयार हुआ था, क्योंकि यहाँ गनी का रूतवा भी कोई गेर्ममूली नही था.

इधर फार्म हाउस पर इन लोगों ने अब रुखसाना को भी बाँध दिया था, क्योंकि थी तो साली आतंकवादी ही ना, और वो भी एक ख़तरनाक आतंकी की बहन, कहीं मौका पा कर भाग खड़ी हुई तो खमखाँ मेहनत करनी पड़ेगी.

अरुण के दो साथी जिसमें से एक एजेंट 726 नाम विक्रम राठौड़, और दूसरा एजेंट 782 नाम रणवीर सिंग तोमर, 

दोनो ही उससे सीनियर थे, जो कि उसकी डिमॅंड पर उसकी हेल्प के लिए भेजे गये थे. 

चूँकि मिसन अरुण का था सो कमॅंड उसी की चलनी थी. 

वो दोनो शौहर बीवी अभी भी हॉल में ही बँधे पड़े थे, 

रणवीर कुछ ज़रूरत के सामान के लिए शहर चला गया था. 

विक्रम और अरुण बस एक दूसरे से अपने घर परिवार की बातें कर रहे थे कि तभी गनी की जेब में पड़ा उसका स्पेशल सेल फोन जो वो ओवरसीस कॉल के लिए यूज़ करता था वाइब्रट होने लगा, 

गनी फोन के बाइब्रेशन से चोंक गया और अपनी जेब की तरफ देखने लगा.

अरुण ने सेल फोन की आवाज़ तो नही सुनी लेकिन उसकी लाइट उसके कपड़े में से चमकने लगी और उसने फ़ौरन उसकी जेब से उसे निकाल लिया, 

जब उसने मोबाइल की स्क्रीन पर फ्लश हो रहे नंबर को देखा तो फ़ौरन ताड़ गया कि ये कॉल ******* से है.

उसने कॉल पिक की और उसके मुँह से जो आवाज़ निकली उसे सुनकर गनी और रुखसाना समेत विक्रम भी चोंक पड़ा.

अरुण के मुँह से हूबहू गनी की आवाज़ निकल रही थी वो उसकी आवाज़ में ही बोला- 
हेलो भाई.. . में इंडिया से गनी भाई बोल रहा हूँ … सलाम वलेकुम.

उधर से क्या बोला गया किसी ने नही सुना क्योंकि वो उनसे थोड़ा दूर जाकर बात कर रहा था.

थोड़ी देर के बाद वो वापस उनके पास आया और बोला- मुबारक हो सत्तार मिया, तुम्हारे साले मियाँ इंडिया आ रहे हैं कल, अपने दुश्मनों का ख़ात्मा करने और वो ठहाके मार कर हसने लगा.

विक्रम ने उसकी ओर सवालियाँ नज़रों से देखा तो वो बोला- हाँ यार !! देखा उपरवाला हम पर कितना मेरबान है, शिकार खुद चल कर शिकारी के पास आ रहा है.. हाहाहा…!!

फिर उसने सारी बात डीटेल में बताई कि कैसे उसने उसको बताया कि अपना मिसन फैल करने वाले मेरे (गनी) शिकंजे में आ चुके हैं, और अभी भी मेरे सामने बँधे पड़े हैं, 

ये सब रॉ की कार गुज़ारी थी, अब में उनको इंटेरगेट करके, सारी जानकारी लेकर ठिकाने लगा दूँगा…

तो वो आग बाबूला होकर खुद ही बोला कि तुम उनको हाथ भी मत लगाना मे खुद वहाँ आकर उनको मौत दूँगा…हाहहहाआ….!

चूँकि गनी के मुँह पर टेप लगा था, उसकी आँखें ये सुन कर निराशा से बंद हो गयी, 
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
चूँकि गनी के मुँह पर टेप लगा था, उसकी आँखें ये सुन कर निराशा से बंद हो गयी, 

लेकिन रुखसाना बिफर पड़ी, गुर्राती हुई गाली गलौज पर उतर आई और उल्टा सीधा बकने लगी, बुरी तरह चीखने चिल्लाने लगी. 

मे (अरुण) उसके गालों को सहलाते हुए बोला..

क्यों मेरी जान अब क्यों फडफडा रही है, हम हिंदुस्तानियों का खून बहाने में बड़ा मज़ा आता है ना तुम लोगों को. 

जब अपने खून की बारी आई तो पीड़ा हो रही है क्यों. 

लेकिन तू चिंता मत कर, तुझे हम कुछ नही कहेंगे, तू तो हमारा हसीन मोहरा है.

रुखसाना - क्या मतलब है तुम्हारा..? किस तरह का मोहरा,,? 

मे - देखती जा मेरी छम्मक्छल्लो… इतनी उतावली क्यों हो रही है रानी.. सबर कर, सब पता चल जाएगा वक़्त आने पर.

रणवीर आ चुका था सामान लेकर, हमने खाना खाया और रुखसाना को पुछा तो वो नखरे करने लगी, 

मैने कहा - माँ चुदाने दे साली को, नही खा रही तो ना सही अब इसपर ज़्यादा तरस खाने की ज़रूरत नही है.

फिर हमने गनी की और अच्छी तरह से मुश्क कस दी, और उसे उसी स्टोर रूम में बंद कर दिया जहाँ उस आतंकवादी को रखा था. 

विक्रम रुखसाना को लेकर एक दूसरे रूम में चला गया जहाँ एक बेड भी पड़ा हुआ था. 

मैने उसको बोल दिया था कि अब इसके साथ सेक्स मत करना जब तक ये अपने मुँह से ना कहे.

कुछ देर बाद वो उसको उसी कमरे में बंद कर आया अच्छी तरह से हाथ पैर बाँध कर,

उसका मुँह बंद करना भी ज़रूरी था सो एक पतला सा कपड़ा मुँह पर भी बाँध दिया जिससे साँस लेने में आसानी रहे.

उन दोनो को वहीं छोड़ कर में अपने घर चला आया, क्योंकि आस-पड़ोस वालों को भी शक्ल दिखाना ज़रूरी था, 

दूसरा, शहर में क्या गति विधियाँ चल रही हैं, वो भी पता लगाना ज़रूरी था. 

घर आकर फ्रेश हुआ, टीवी ऑन करके थोड़ा न्यूज़ रेफ्रेश की और फिर सो गया.

दिन भर की भागम-भाग से थकान भी थी, जल्दी नींद आ गयी.

सुबह जल्दी उठकर नित्य क्रिया करके, योगा- प्राणायाम किया, एनएसए को अबतक का अपडेट ईमेल के थ्रू दिया और सुबह की चाइ लेकर फार्म हाउस पहुँच गया. 

गनी का सेल फोन मेरे ही पास था, उसी पर ज़फ़्फेरुल्ला का कभी भी कॉल आ सकता था.

चाइ पीकर हम लोग आज के दिन में जो - जो काम करने थे उसका प्लान करने लगे. 

हमारा अनुमान था कि ज़फ़्फेरुल्ला डाइरेक्ट पाकिस्तान से इंडिया की फ्लाइट ले नही सकता, प्रोबबली वो पहले दुबई जाएगा और वहाँ से किसी दूसरे नाम से पासपोर्ट बनवाया होगा उसीपर इंडिया आएगा, 

अब इंटरनॅशनल फ्लाइट हमारे शहर तो आती नही हैं, तो वो पहले दुबई से मुंबई की फ्लाइट लेगा, फिर यहाँ की डोमेस्टिक फ्लाइट्स से आना चाहिए. 

अब समय वग़ैरह तो उसके फोन आने पर ही पता लगेगा सो उसके फोन का इंतजार करने के अलावा और कोई चारा नही था.

हमें बातों बातों मे 10 बज गये, कि तभी उसके फोन की रिंग बजने लगी.

मैने कॉल पिक की और गनी की आवाज़ में बोला- सलाम वेलेकम भाई ! क्या प्रोग्राम है..?

ज़फर - मे और असरफ़ दुबई पहुँच गये हैं, यहाँ से मुंबई की फ्लाइट है एक घंटे में 1:30 तक मुंबई फिर वहाँ से 2:30 बजे की फ्लाइट लेके 3:30 तक वहाँ पहुँचेंगे, तुम एर पोर्ट आ जाना हमें लेने.

मे - भाई मे तो इन शिकारों को छोड़कर कहीं नही जा सकता, मे अपने खास आदमियों को लेने भेज दूँगा, वो हिफ़ाज़त से आपको मेरे पास तक ले आएँगे..

ज़फ़रुल्ला थोड़ा गुस्से के स्वर में बोला… क्या एडा हो गया है तू, मे किसी और पर कैसे भरोसा कर सकता हूँ..? तुम्हें ही आना होगा.

मे – समझा करो भाई ! मे कोई रिस्क नही लेना चाहता, ऐसा करूँगा मे अपना ये सेल फोन उसको दे दूँगा, यहाँ से चन्द मिनटों का ही तो फासला है, आप उसको कॉल करके चेक कर लेना..

ज़फर - चल ठीक है ये आइडिया भी ठीक है…, फिर उसको खुदा हाफ़िज़ बोल कर कॉल कट कर दिया. 

हमने डिसाइड किया कि हम दो लोग उसको लेने जाएँगे, एक आदमी यहीं रहेगा, सब कुछ समय से हुआ तो 4 बजे तक ज़फ़रुल्ला और उसका साथी असरफ़ हमारी गिरफ़्त में होंगे और एक आतंकवादी संघटन एक तरह से ख़तम समझो.

पूरी प्लॅनिंग और रिपोर्ट एनएसए को भेज दी, उनका कन्फर्मेशन भी आ गया.

दोपहर का लंच लेके हमने वहीं पर थोड़ा आराम करने की सोची, मे थोड़ा सा उन दोनो मियाँ बीवी को चेक करना चाहता था, 

सो पहले गनी के रूम को खोल कर उसको देखा, उसकी हालत ख़स्ता थी, मुँह से पट्टी हटा कर पानी पिलाया और थोड़ा बहुत खाने को दिया.

उसको निपटा के, रुखसाना के पास गया तो उसकी हालत और ज़्यादा खराब मिली, रो रो कर आँखें सूज गयी थी, आँखों के कोरों से पानी बह रहा था, 

मुँह की पट्टी खोली तो वो बुरी तरह से सुबक्ती हुई बोली-

हमने कुछ पल तो साथ में बिताए थे ना ! कम-अज-कम उनको ही थोड़ा याद करके रहम कर लेते, 

कल से ना पेट में एक दाना गया है, ना एक घूँट पानी, इतने जालिम तो ना बनो..,!

मे - मैने तो तुम्हें खाने के लिए पुछा था, तुमने ही तो मना कर दिया था, अब इसमें मेरी क्या ग़लती है..? बोलो पहले खाओगी या पिओगी..?

रुखसाना - पहले मुझे पानी पिला दो, और थोड़ा टाय्लेट मे ले जाकर फ्रेश करवा दो फिर कुछ खाने को हो तो दे देना.

मैने उसे चेतावनी देते हुए कहा - कोई चालाकी मत करना, वरना मुझे तुम्हें शूट करने में एक मिनट भी नही लगेगा.

रुखसाना - मे जानती हूँ, अब यहाँ से तुम्हारी मर्ज़ी के बिना निकल नही सकती.

मैने उसे पानी पिलाया, वो 2-3 ग्लास पानी पी गयी, और फिर हाथ पैर खोलकर बाथरूम तक ले गया, आधे घंटे में वो फ्रेश होकर निकली.

फिर उसे खाना खिलाया, इसी में ढाई बज गया, उसको फिर से क़ैद करके, तय हुआ कि विक्रम को यहीं रुकना है, 

मे और रणवीर दोनो गाड़ी लेकर एर पोर्ट की तरफ निकल लिए.
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:13 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
कुच्छ देर में मुंबई की फ्लाइट लॅंड हुई, चूँकि ज़फ़्फरुल्ला के पूरे डीटेल्स हमारे पास थे सो जैसे ही वो एग्ज़िट से निकलता हुआ दिखाई दिया, 

मैने फ़ौरन गनी के सेल फोन से उसको कॉल किया और उसके सामने पहुँच गये, 
उसने अपना फोन कान पर लगाया हुआ था, हमने अपनी पहचान बताई तो वो हमें पहचान गया.

रास्ता ज़्यादा लंबा नही था, 15-20 मिनट में हम फार्म हाउस में उन दोनो को लेकर पहुँच गये.

हमने उसे सोफे पर बियायतने को कहा तो वो उसी पर बैठते हुए बोला- गनी भाई कहाँ है..?

मे - अभी बुलाते हैं.. विक्रम और रणवीर को इशारा कर दिया, तो वो दोनो उनके सिर के पीछे इस तरह से खड़े हो गये, मानो वो गनी भाई के चमचे हों.

मे स्टोर रूम में गया और गनी के पैर खोल दिए, फिर उसको पकड़ कर घसीटते हुए बाहर लाया..!

जैसे ही उन दोनो की नज़र गनी के उपर पड़ी, वो सोफे से ऐसे उछले, मानो सालों की गान्ड में किसी बिच्छू ने डंक मार दिया हो..……………

ज़फ़्फ़र ने गनी को इस हालत में पाए जाने की कतई उम्मीद नही की होगी, सो वो उसे देखते ही बुरी तरह चोन्क्ते हुए बोला – 

कॉन हो तुम लोग..? और गनी भाई जान को इस तरह क्यों बाँध रखा है..?

मैने उसके ठीक सामने खड़े होकर उसकी आँखों में झाँकते हुए कहा- 

हम इस महान देश के अदना से सिपाही हैं, और रही बात इस देश के गद्दार को इस तरह बाँधने की…

तो तुझ जैसे चूहे को उसके बिल से निकालने के लिए रोटी का टुकड़ा पिजरे में रखना पड़ता है ज़फ़्फरुल्ला ख़ान,

ज़फर – ओह ! तो तू ही वो इंसान है, जिसने हमारे प्लान की धज्जियाँ उड़ाई हैं..

लेकिन तू ये भूल गया, कि जिस आदमी ने तेरे मुल्क में इस कदर तावही मचा रखी हो उसे तू चूहा समझ रहा है हरम्जादे..? 

लगता है अभी तू वाकिफ़ नही है मुझसे, ज़फ़्फरुल्ला ख़ान नाम है मेरा.

वो तो मे पहले ही बोल चुका हूँ तेरा नाम ! तू मुझे बताने की जहमत मत कर – मैने उसे और खिजाते हुए कहा, 

वैसे हमारे मुल्क में चूहों के ऐसे ही नाम रखे जाते हैं. तभी तो तू अपने बिल में बैठकर हमारे कपड़े कूतरता रहता है..

ज़फर- अभी तुम लोगों का वास्ता मुझ जैसे शेर से नही पड़ा.. हरामी के पिल.ले…..तड़क..तड़क..

वो अपना डाइलॉग पूरा बोल भी नही पाया था, कि दोनो के सर पर पीछे से रेवोल्वेर के हॅंडल की भारी भरकम चोट ने उन्हें फिर से सोफे पर ढेर होने पर मजबूर कर दिया. 

रेवोल्वेर के दस्तों की चोट इतनी पवरफुल और सटीक जगह पर पड़ी, कि असलम तो पड़ते ही ढेर हो गया, और अपनी चेतना खो बैठा.

लेकिन ज़फ़्फरुल्ला बड़ा जीवट किस्म का इंसान था…वो उस चोट झेल गया, और साथ ही फुर्ती से घूमकर विक्रम के हाथ से रिवॉलव छीन ली. 

ना केवल गन उसके हाथ से छीनी, वल्कि उसे अपने निशाने पर लेकर गुर्राया…

चल वे चूहे सामने आ, ऐसे खिलौनों से शेर का शिकार नही कर पाओगे तुम लोग…

क्षण भर के लिए ही सही, पासा उसके हाथ में आ गया था… लेकिन चूँकि उसका ध्यान विक्रम पर ही था…

विक्रम मेरी तरफ देखने लगा, मैने इशारे से उसको सामने आने को कहा…

वो जैसे – 2 मेरी तरफ बढ़ रहा था, साथ ही साथ ज़फ़्फ़र हम दोनो पर नज़र बनाए हुए उसे निशाने पर लेकर उसके साथ ही घूम रहा था…

वो जैसे ही मेरे 90 डिग्री पर आया, और उसका ध्यान रणवीर की तरफ गया, मेरी एक टाँग हरकत कर गयी…

पैर की किक सीधी उसके रेवोल्वेर पर पड़ी, नतीजा ! रेवोल्वेर उसके हाथ से छूट कर उपर हवा में उठती चली गयी…

इससे पहले कि वो ज़मीन पर गिरती, विक्रम ने हवा में जंप लगाकर उसे कॅच कर लिया..और उसे ज़फ़्फ़र की कनपटी पर फिर से दे मारा…

इस बार ज़फ़्फ़र अपनी चेतना खोने से नही बचा सका, अब वो दोनो ही हमारे सामने बेहोश पड़े हुए थे…, 

फिर उन दोनो को भी बाँध कर डाल दिया गया, उसके बाद उनको होश में लाया गया, और फिर दौर शुरू हुआ उनको टॉर्क्चर करने का, 

उन तीनो को दो दिन तक हम लोग टॉर्क्चर करते रहे, बड़ा ढीठ था साला जाफ़रुल्ला, 
जब उसके हाथ और पैरों के कई अंग काट डाले, तब जा कर उसने बोलना शुरू किया.

देशभर में उसके कितने नेटवर्क काम कर रहे हैं, कॉन-कॉन कहाँ कहाँ इन्वॉल्व है उसके साथ, 

हमारे देश के खिलाफ उसका क्या-2 मिसन था, और कॉन-कॉन से संगठन थे पाकिस्तान में जो भारत के खिलाफ काम कर रहे है, सारी इन्फर्मेशन उससे निकाल ली.

***************************************************

गनी और रुखसाना को पोलीस के हवाले कर दिया गया, ये सारा काम बिना हमारे सामने आए होम मिनिस्ट्री की स्पेशल सेल के नाम पर हुआ था.

गनी के बच्चे को बाल सुधार घर भेज दिया गया, और उसकी सारी चल-अचल संपत्ति को जप्त कर सरकारी खजाने में जमा कर दिया गया.
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:14 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
उसे मोहरा बना कर इंटरनॅशनल लेवेल पर पाक के नापाक इरादों को नंगा करने के लिए इस्तेमाल करना था.

इस तरह से एक बहुत बड़ा आतंकवादी संघटन दुनिया से मिटा दिया गया था, साथ ही ना जाने कितनी जानें जाने से बच गयी.

मेरा ये एनएसएसआइ के अंडर कवर एजेंट के तौर पर पहला अफीशियल मिसन था, जो कामयाब रहा, 

जिसकी पीएम ने अपने सामने बिठा कर भूरी-भूरी प्रशंसा की और कुछ विशेष अधिकार भी दिए जो भविश्य में काम आने वाले थे.

पीएम आगे बोले..! बेटे ऐसे ही देश की सेवा करते रहो, तुम्हारे जैसे देश के सच्चे सिपाहियों की कमी है इस देश में. 

हम अब रहें या ना रहें, हो सकता है कि अब ज़्यादा दिन इस देश की सेवा कर नही पाएँगे क्योंकि हमें तो 5 साल के लिए ही चुना गया है, 

अगले 6 महीनों में चुनाव हैं, हमें लग रहा है कि आने वाली सरकार में हमारा कोई रोल नही रहने वाला.

लेकिन हमें खुशी इस बात की रहेगी, कि तुम्हारे जैसे सपूत इस देश में मौजूद रहेंगे..! सो विश यू ऑल दा बेस्ट आंड टेक केर फॉर युवरसेल्फ टू. 

हो सकता है अब हमारी मुलाकात पीएम के पद पर रहते हुए ना हो.

रणवीर और विक्रम को स्पेशल ड्यूटी पर मेरा साथ देने के लिए भेजा था, जो उन्होने बखूबी निभाया था.

इसके लिए उन दोनो को भी पुरशकृत किया गया….!

देखते -2 मेरी शादी का वक़्त नज़दीक आ पहुँचा, अगले हफ्ते मेरी और ट्रिशा की शादी थी, 

वो यूपी पूर्वांचल के एक छोटे से शहर में एसपी नियुक्त हो चुकी थी.

हम दोनो ने एक हफ्ते की लीव ले ली. दोनो तरफ के मुख्य-2 रिस्तेदारो को मैने अपने पास ही बुला लिया, 

उनमें मेरे कॉलेज फ्रेंड्स भी थे, एक गेस्ट हाउस और शादी के लिए पार्टी प्लॉट बुक कर दिया.

बड़े सादे तरीक़े से हम दोनो शादी के बंधन में बँध गये. दोनो ही ओर खुशी का माहौल था. 

मेरी माँ भी किसी तरह से शादी में शामिल हुई और अपने अंतिम वर-बधू को आशीर्वाद दिया.

शादी के बाद ज़्यादातर लोग दूसरे दिन ही विदा हो गये, ट्रिशा के माता-पिता अभी ठहरे हुए थे, जो उसके साथ ही जाने वाले थे.

आज हमारी सुहागरात थी, ट्रिशा कुछ ज़्यादा ही एग्ज़ाइटेड थी इस क्षण को लेकर, ना जाने कितने सालों से इस रात का उसने इंतजार किया था. 

अपनी सुहाग सेज को उसने खुद अपने तरीक़े से सजाया था.

आज फूलों से सजे एक मास्टर बेड पर हम सिर्फ़ दोनो ही थे, जो आज एका-कार होने के लिए वर्षों से प्रतीक्षा कर रहे थे, 

ख़ासकर ट्रिश जो आज मेरी अर्धांगिनी बनी, सिकुड़ी सिमिटी सी लाल सुर्ख जोड़े में पलंग पर बैठी थी थोड़ा घूँघट निकाल कर अपने प्रियतम के इंतेज़ार में, कि कब वो आए और उसका घूँघट खोले.

मैने कमरे में प्रवेश किया और उसको अंदर से बोल्ट करके धीरे-2 कदमों से चल कर बेड पर आकर बैठ गया.

ट्रिशा के मेहदी भरे हाथों को अपने कठोर हाथों में लेकर मैने कहा- ट्रिशा.. ! अब ये घूँघट किसके लिए है..? इसे उतारो जान ! मे अपने चाँद के दर्शन करना चाहता हूँ.

उसने ना में गर्दन हिला कर इशारा किया और वो ज़्यादा सिमट कर बैठ गयी.

मैने थोड़ा सा उसे सताने के उद्देश्य से कहा- तुम तो पहले दिन से ही मेरी बात की अवहेलना करने लगी, भाई ये नाचीज़ अब आपका पति है, आइपीएस का अरदली नही, 

ये कहकर मैने अपने हाथ उसके घुटनों पर रख दिए, तो उसने अपने घुटने और अंदर को समेट लिए.

मे उठकर खड़ा हो गया और बोला- ठीक है कोई बात नही, वैसे भी एक आइपीएस और इंजिनियर का कोई मुकवला नही है. मे चलता हूँ टेक केर, ये कहकर मे वहाँ से जाने लगा.

उसने मेरा हाथ थाम लिया और बोली- और कितना सताओगे प्राणनाथ..? एक नव विवाहित लड़की के अरमानों की तो कद्र करो, जो काम आपको करने चाहिए वो तो आपको ही करने होंगे ना..!

मे फिर से उसके बगल में बैठ गया और उसके घूँघट को अपने हाथों में लेकर उलट दिया.

जैसे कोई चाँद निकल आया हो उस कमरे में, ट्रिशा सचमुच किसी चाँद से कम नही लग रही थी, नज़रें पलंग की चादर को देख रही थी, होंठ थर थरा रहे थे उसके.

मैने अपनी शेरवानी की जेब से एक नेकक्लेशस निकाला और उसे ट्रिशा के गले में पहना दिया, और बोला- ये आपकी मुँह दिखाई का तोहफा है, अगर पसंद हो तो कबूल कर लीजिए.

मुझे आपका हर तोहफा कबूल है स्वामी..! -वो नज़रें नीची किए हुए ही बोली.

फिर भी एक बार देख तो लो जान ! कैसा है..? मैने कहा तो उसने उसे अपने हाथ में लेके देखा और बोली- सच में बहुत खूबसूरत है..

मैने उसका चाँद सा मुखड़ा अपने हाथों में लेकर कहा - लेकिन तुमसे ज़्यादा खूबसूरत नही, 

सच कहूँ तो आज में अपने आपको बहुत शौभागयशाली महसूस कर रहा हूँ कि तुम मेरी पत्नी हो. 

वादा करो कि हमारा पेशा, हमारे फ़र्ज़ कभी हम दोनो के बीच नही आएँगे.

ट्रिशा- वादा मेरे स्वामी, मे अपने काम, अपने फ़र्ज़ को हम दोनो के बीच नही आने दूँगी . लेकिन फ़र्ज़ से कभी गद्दारी नही कर पाउन्गि उस बात का ख्याल आपको रखना होगा.

मे - बेशक ! मे अपनी पत्नी के उत्तरदयुक्तों को भली- भाँति समझता हूँ. 

और ये सुनिश्चित करूँगा कि मेरी पत्नी की मेरी वजह से कभी नज़र नीची ना हो.

अब मैने उसके मेहदी भरे हाथों को फिर से अपने हाथों में लिया जिन पर मेरे नाम की मेहदी थी और उनको चूम लिया, उसके बाद उसके माथे को गालों को गर्दन को चूमने लगा. 

वो आँखें बंद किए मादक उमंगों में खोती जा रही थी.

जब मैने उसके होठों को हल्के से अपने हाथ के अंगूठे से सहलाया… आह..कितने मुलायम, पतले सुर्ख होंठ.. 

मन अपने आप खींचा चला गया और मेरे तपते होंठ उसके लिपीसटिक लगे सुर्ख पतले रस्सीले होठों पर टिक गये और उनपर मैने बस एक हल्का सा किस कर दिया.

उसका रोया-2 काँप गया मेरे होठों के स्पर्श मात्र से ही, और शरमा कर अपना मुँह दोनो हाथों से ढांप लिया.

मैने उसके दोनो हाथ अपने हाथों से पकड़ कर उसके शर्मो-हया में डूबे चेहरे से हटाए और उसके कान में फुसफुसा कर कहा.. क्या हुआ जान.. चेहरा क्यों छुपा रही हो मुझसे..?

वो- शर्म आ रही है मुझे आपसे..!

मे - अब मुझसे कैसी शर्म मेरी जान.. अब तो हम एक होने जा रहे हैं, ऐसे ही शरमाती रहोगी तो ये हसीन रात जो वर्षों के बाद आई है, 

जिसको तुमने ना जाने कितनी बार ख्वाबों ख़यालों में देखा होगा वो यौंही बीत जाएगी.

वो - उउन्नहु… मुझे कुछ नही पता..? आपको जो करना है करिए..!

मे - ये ठीक बात नही है, ये रात तो हम दोनो की है ना..! तो फिर हम दोनो को ही मिलकर मनानी होगी..! 

चलो ये गहने और ये भारी-भरकम कपड़े अलग करो, ये आज की रात हमारे सबसे बड़े दुश्मन हैं, इतना कहकर मे उसके गहने एक-2 करके उतारने लगा. 

अब उसके माथे का टीका और नाक की नथ ही शेष थे जो मैने जान बूझकर नही उतारे.

फिर उसकी साड़ी को भी उसके बदन से अलग कर दिया, ब्लाउस और पेटिकोट में वो स्वर्ग से उतरी किसी अप्सरा जैसी लग रही थी, 

मैने उसको धीरे से पलंग पर लिटा दिया और उसके अतुल्यनीय रूप को अपनी आँखों से पीने लगा. 

उसके काले घने बालों के बीच हल्की लालिमा लिए उसका गोरा चिटा गोल चेहरा मानो बादलों के बीच चाँद निकल आया हो, 
-  - 
Reply
12-19-2018, 02:14 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
माथे पर छोटी सी बिंदिया, कमान जैसी उसकी भवें (आइ ब्रो) हल्के काजल से भरी उसकी हिरनी जैसी चंचल आँखें मानो कुछ कहना चाहती हों, 

मैने अपने तपते होंठो से उसकी बंद आँखों की पलकों को चूम लिया.

सुराई दार गर्दन, जिसके नीचे पतली सी एक रेखा नीचे को जाती हुई, जो आगे जाते-2 चौड़ाई में बदल रही थी. 

सुर्ख कपड़े के ब्लाउस में क़ैद उसके सुडौल वक्ष जो अभी 24” के भी नही हुए थे. 

ट्रैनिंग में किए गये अथक मेहनत की वजह से एकदम ठोस टेनिस की बॉल की तरह गोल-गोल संतरे जैसे उसके उरोज.

उसके नीचे उसका एक दम पतला सा सपाट पेट, जिसके मध्य में एक चबन्नी के साइज़ की नाभि, जो कभी-2 हिलने लगती थी. 

कमर इतनी पतली हो गयी थी उसकी कि दोनो हाथों के बीच में समा जाए.

वो अपनी दोनो टाँगें जोड़े हुए लेटी थी, पेटिकोट में धकि उसकी गोल लेकिन सख़्त जांघे, थोड़ी मोटाई लिए, जांघों के बीच जहाँ उसके पेटिकोट का कपड़ा थोड़ा चारों तरफ से सिकुड गया था, 

ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो किसी नदी में तेज बहाव के कारण भवर पड़ गये हों.

उसके रूप सौन्दर्य में खोया हुआ मे उसके पैरों तक चला गया, और उसके महाबर से रंगी मुलायम पैरों की उंगलियों को मुँह में लेकर चूसने लगा.

ट्रिशा ने चोंक कर अपनी गर्दन उठाई.. और झट से अपना पैर खींचते हुए बोली..

नाथ ! ये क्या अनर्थ कर रहे है आप..? मेरे पैरों को तो आपको छुना भी नही चाहिए और आपने तो..मुँह.. क्यों पाप चढ़ा रहे हैं मुझ पर.

मैने उसका चाँद सा मुखड़ा अपने हाथों में लेकर कहा – क्या तुम सच में आइपीएस ऑफीसर हो..?

मेरी बात सुनकर वो बोली - क्या मतलब..? इसका इस बात से क्या लेना देना..?

मैने कह - तुम्हारे ये पैर शरीर से अलग हैं क्या..? नही ना.. तो जब मुझे तुम्हारे शरीर का जो अंग अच्छा लगेगा उसको में मन मर्ज़ी प्यार कर सकता हूँ, फिर पैरों को क्यों नही.

वो तुनकते हुए बोली – वो सब मुझे कुछ नही पता, माँ कहती है, पत्नी को हमेशा पति के चरणों में रहना चाहिए. 

ग़लती से भी पति, पत्नी के पैर छु भी ले तो वो पाप की भागीदार होती है.

मे - अरे यार तुम तो उपदेश देने लगी, चुप करो ये बाबा आदम के जमाने के दकियानूसी उपदेश और मुझे प्यार करने दो तुम्हें.

वो मेरी बात सुन कर चुप हो गयी…

अब मे उसको पैरों से चूमता हुआ धीरे-2 उपर को बढ़ने लगा, जहाँ मेरे होंठ लगते ही ट्रिशा का वही अंग कंपकंपाने लगता.

चूमते-2 मे उसके पेट पर आ गया और जब मैने उसकी नाभि के उपर चूमा, तो वो खिल-खिला कर उठ कर बैठ गयी.. और बोली..

अरुण प्लीज़ यहाँ नही…हहहे.. नही..नही.. प्लीज़.. हहहे…हहुउ.. मुझे गुदगुदी होती है, 

मैने और जान बूझकर उसके पेट को सहला दिया, गुदगुदी के मारे उसके आँसू निकल आए..! अब कुछ ज़्यादा ना हो जाए इसलिए मे उपर को बढ़ने लगा.

मैने उसके गोल सुडौल वक्षों को ब्लाउस के उपर से ही चूमता हुआ उसकी घाटी की दरार पर से गर्दन पर पहुँच गया. 

वो अबतक हल्की-2 सिसकियाँ लेने लगी थी, आँखें बंद हो रही थी उसकी, अंत में मैने उसके होठों को चूमा और देर तक चूस्ता रहा, उसको भी बोला तो वो भी मेरी तरह कोशिश करती रही और फिर हम लंबी स्मूच में डूब गये.

मैने उसके ब्लाउस के बटन खोलने शुरू कर दिए, और उसको उतार कर पलंग के नीचे फेंक दिया, ब्रा में कसे उसके उन्नत सुडौल वक्ष इलाहाबादी अमरूद के साइज़ के बड़े आकर्षक लग रहे थे,

जब मैने उनको अपनी मुत्ठियों में कस्के मसला तो ट्रिशा सिसक पड़ी…

आहह… सस्सिईइ… जोरे से नहियीई…प्लस्ससस्स… आहह…दर्द होता है..उईई.. माआ… ऊहह….जानणन्न्… मारीइ..

अब मेरा एक हाथ उसकी चुनमुनिया पर पहुँच चुका था जो उसको प्यार से सहला रहा था.. 

मैने आपने सारे कपड़े निकाल फेंके सिवाय अंडरवेर के, मुझे रुखसाना वाला अपना एनकाउंटर याद आया और ट्रिशा की ब्रा खोल कर बिस्तर पर लेट गया.

मे- जान तुम मेरे उपर बैठ जाओ, तो वो मेरे पेट पर बैठ गयी, मैने कहा तोड़ा और नीचे तो वो समझ गयी, 

तब तक मैने अपने मूसल महाराज को अंडरवेर में हाथ डालकर उपर को करके अपने पेट से लगा लिया.

अब वो मोटी ककड़ी जैसा अंडरवेर में मेरी नाभि की ओर मुँह करके अंडरवेर को फ़ाडे दे रहा था. ट्रिशा अपनी परी की अनखूली फांकों को उसके उपर रख कर बैठ गयी.

मैने उसको अपने उपेर झुका लिया और उसकी कमर को दोनो तरफ से पकड़ कर आगे-पीछे करने लगा, जब उसको तरीक़ा समझ में आ गया,

अब वो खुद से ही अपनी कमर चलाने लगी और अपनी अन्छुइ मुनिया को मेरे लंड के उपेर घिसने लगी, उसके अमरूद मेरी हथेलियों में थे.

हम दोनो मज़े में डूबते चले गये, मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था, जब वो पीछे को कमर ले जाती मेरा सुपाडा खुल जाता और अंडरवेअर के कपड़े के रगड़ से सुरसूराहट और बढ़ जाती.

कमर हिलाते-2 ट्रिशा ने अपना मुँह उपर को उठाया और एक लंबी सी सिसकी भरी कराह मुँह से निकाल कर लंबी-2 साँसें लेने लगी. 

उसकी पेंटी कामरस से एक दम तर हो गयी थी, मेरा भी कुछ ऐसा ही हाल था, अगर वो एक दो रगड़े और कस कर लगा देती तो शायद मेरा पानी भी निकल जाता.
-  - 
Reply

12-19-2018, 02:14 AM,
RE: Antarvasna kahani ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगा...
ट्रिशा मेरे उपर लेटी हुई थी उसके कड़क हो चुके कंचे जैसे निप्पल मेरे सीने में मीठी-2 चुभन दे रहे थे, मैने ट्रिशा के गले पर किस करके कहा.

मे - जान मज़ा आया…? तो उसने मेरे कंधे में मुँह छिपा कर हुउंम.. करके हामी भरी.

बेबी थोड़ा मेरे साब बहादुर की सेवा करोगी..? तो वो समझ नही पाई और आश्चर्य से मेरी ओर देखा..?

मैने अपने मूसल को रगड़ते हुए कहा, इसको थोड़ा किसी-वीसी दो प्यार करो जिससे ये तुम्हारी परी को जीवन भर अच्छे से प्यार करता रहे.

वो शरमा गयी और ना में मुन्डी हिलाने लगी..!

मे - क्या बेबी, मेरे लिए इतना भी नही कर सकती..?

तो उसने झिझकते हुए मेरे अंडरवेर को उतार दिया और मेरे 8” लंबे और सोट जैसे मोटे लंड को अपने मुट्ठी में लेकर सहलाने लगी, 

उसके हाथों में पहुँच कर साहिब बहादुर और अकड़ गये, और एक दम रोड की तरह कड़क हो गये.

वो आगे पीछे करके उसके सुपाडे को खोलने और बंद करके देखने लगी. 

मैने कहा क्या देख रही हो जान..? तो वो बोली- आपका ये सिपाही तो बहुत तगड़ा है, मेरी उस छोटी सी परी में कैसे जाएगा..?

कोशिश करने से तो भगवान भी मिल जाते हैं, तुम भी कोशिश करो और इसको अपने मुँह में लेके इसको लूब्रिकेट कर दो.

उसने मेरे सुपाडे को खोल कर अपनी उंगली उसके छेद पर घुमाई, मेरी सिसकारी निकल गयी और एक बूँद अमृत की उसके मुँह पर आ गयी,

ट्रिशा उसको अपनी उंगली के पोर पर रख कर देखने लगी, मैने कहा इसको टेस्ट करके देखो बहुत टेस्टी होता है ये.

वो बोली-छि ये भी कोई टेस्ट करने की चीज़ है, तो मैने थोड़ा नाराज़गी वाले स्वर में कहा.

तुम्हें मेरी किसी बात का विश्वास क्यों नही होता, जाओ अब तुम्हें जो ठीक लगे वो करो..

तो उसने अन्मने भाव से उसको अपनी जीभ की नोक पर ऐसे रखा मानो वो कोई बॉम्ब हो और टच करते ही फट ना जाए.

जीभ पर रख कर कुछ देर उसका टेस्ट समझने की कोशिश करती रही तो मैने पुछा कैसा लगा.

वो बोली - अच्छा है, थोड़ा सा तेज है लेकिन मिठास के साथ, तो मैने कहा फिर चूस्लो इसे, और ज़्यादा मिठास मिलेगी.

फिर उसने अपनी सारी झिझक छोड़ कर मेरे सुपाडे को अपने लाल-2 होठों में क़ैद कर लिया और चूसने लगी, 

बीच-2 में अपनी जीभ की नोक से मेरे छेद को कुरेद देती. मेरा मज़े के मारे लंड फटा जा रहा था. वैसे भी इतनी देर से अकडा हुआ था.

मैने कहा- आअहह मेरी जान.. थोड़ा और अंदर ले ना,, ससिईई.. तेज़ी से मुँह चला .. आहह.. आयईयी.. सीईइ.. और फिर मेरा नल खुल गया..

उसको जैसे ही ये आभास हुआ कि मेरा वीर्य छूट गया है, उसने अपना मुँह हटा लिया.. हटते-2 भी एक दो पिचकारी तो उसके मुँह में ही छूट गयी और फिर होली के पिचकरे की तरह से उसके मुँह को अपने ताज़े मक्खन से रंग दिया. 

वो तुरंत वॉश रूम की ओर भागी और अपना मुँह सॉफ किया. वापस आकर मेरे बगल में लेट गयी.

और क्या-2 कराओगे मुझसे.. वो बोली, 

तो मैने कहा- तुम्हें ये सब अच्छा नही लगा..?

वो बोली- नही..नही..! ऐसी बात नही है, मे तो बस ऐसे ही पुच्छ रही थी.

कुछ देर हम एक दूसरे की बाहों मे लिपटे ऐसे ही पड़े रहे, मेरे हाथ उसकी पीठ को सहलाते हुए उसके कूल्हे पर चले गये, 

उसकी मुलायम गोल-मटोल गान्ड को सहलाते-2 उसकी दरार में उंगली घुमाने लगा, तो उसने मुझे और ज़ोर से कस लिया.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Gandi Kahani सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री 45 5,177 11-23-2020, 02:10 PM
Last Post:
Exclamation Incest परिवार में हवस और कामना की कामशक्ति 145 27,840 11-23-2020, 01:51 PM
Last Post:
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ 154 80,182 11-20-2020, 01:08 PM
Last Post:
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी 4 66,784 11-20-2020, 04:00 AM
Last Post:
Thumbs Up Gandi Kahani (इंसान या भूखे भेड़िए ) 232 33,385 11-17-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Lockdown में सामने वाली की चुदाई 3 9,761 11-17-2020, 11:55 AM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान 114 114,921 11-11-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Antervasna मुझे लगी लगन लंड की 99 78,321 11-05-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Mastaram Stories हवस के गुलाम 169 152,093 11-03-2020, 01:27 PM
Last Post:
  Rishton mai Chudai - परिवार 12 54,899 11-02-2020, 04:58 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


newsexstory कॉम हिंदी सेक्स कहानियाँ e0 ए 4 अब e0 ए 4 bf के e0 ए 4 b0 e0 ए 4 9a e0 a5 8b e0 ए 4 ए 6 e0 ए 4 हो e0भरी हुई बहु के चुंचे चूस के चुदाई की – [भाग 2]vidhawa bahu ki pele sasurxxx.vadeo.sek.karnaiehindibhabhikochodnaxxxkalyugkiनागडे सेकस भारति पोन विडियो फोटोWww.hindisexstory.sexbabsनादान लडकी को लालच देकर चोदाचुत को झडो विजीयोnai Dulhan chudachudi Surat/printthread.php?tid=3053&page=2Hindi girl theatre mein kiya ja kar rahe xxxbfvarshnisexphotosगुद कि चुत हो तो लौडा लडाने मे मजा आता हैravina tandn nangi imej 65Hansika motwani saxbaba.netतारक मेहता Xxxलिखित कहानिBansal n choda saalu ko car sikhane k bahaneचाची की चुतचुदाई बच्चेदानी तक भतीजे का लंड हिंदी सेक्स स्टोरीज सौ कहानीयाँभतीजी नशे में धुत होकर सो रहे चाचा ने चड्डी उतार कर च**** कीdhatt besharam kamuk baateJoos ki xxx phtohum me mutna sex videoFudai ka jhato ki safai aur chudai stoaryहिप्स निकले पैँटी फोटूचुत चिची कि फोटु ओर कहानीWww.tara sutaria yovan xnxxx vidoe pron.commoviespapa.xy22019auntynudeXxxmoyeexxxbigimagecom.मम्मी ला झवलीxxxjaclin apni chut me ungli karte huey photo joorse jatka wala sex clipBhai ne bol kar liyaporn videosali ko dosto ne chodety dekha sex stori hindiआनटी कि सेकसी रोमटिक सटोरीऊरमिला भाभी कि जमकर मजेसे चोदा/modelzone/Forum-indian-sex-stories?page=36&datecut=9999&prefix=0&sortby=starter&order=ascTv acatares xxx nude sexBaba.net Actress jeya seal ass nude photo in sex baba.comsexstorydikshajanbhujke land dikhayasex photo bollywood Saraalikhanxxxxdost ke ghar jaake uski mummy ke sath sexy double BF filmxxxmomholisexSex baaba net Kajol devgan full HD nangi photo2019 newmakhmali puchi KathaApani Aunty ne apne sage bhatija se saree me chudbai videoshraddha kapoor hot nude pics sexbabawww xxx sexy babanet deepika ppukulo vellu hd pornxnxxtv bhabhi nahatisexsex story gaaw me jakar ristedari me chudaiwww xxx video palang wali bhabih jo pani botal shat lekar soti haixxxpickhethuma.kureshi.fck.photosसगे बेटे से मा के नाजायज रिस्ता new sex storyसेक्सी रंडी मम्मी की बुर और बेटी सली रैंड परिवारी चुड़ै हिंदी कहानीjangal me daku ka land sexy Kahani sexbaba netशमना कासिम की bilkul nangi तस्वीरTamada Nisha gaand mein sex Kiya sex videosex pussy pani mut finger saree aanty sex vidiotapsi panu nued photo xnxx videoहिंनदी नानवेज नमकीन सेकसी पीचरseal torhai ki khaniचडडी चोली मे एकटरनी का फोटोभाभी जी को कैसे सेकसी बढाऐमुझे दीदी मत बोल मेरा नाम से बोल में तेरी चुद्दकड़ बीबी हूँbhai ki patni bni mangalsutraann line sex bdosसब छोटीबहन नींद चूत मारी भाई xxxsexकहानीsexy video Hindi Jisme maal niklega chokh Kajol Hoye fuddi aur lund pura Gila hoआह्ह्ह उफ़्फ़ग चोदोsauteli maa bete ki x** sexy video story wali sunao story wali videoSexbabahindisexstories.in