Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
04-05-2019, 01:27 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
राहुल- आज तेरी आँखें क्यों बंद हो गयी बिहारी......देख गौर से इसे..... ये तेरी ही बेटी हैं ना......देख कैसे मज़े से एक साथ 5 आदमियों को संभाले हुई हैं.....और सबको खुस कर रही हैं.....तू यही सोच रहा होगा कि ये वीडियो मेरे पास कहाँ से आई....चल आज तेरे सारे सवालों का जवाब मैं दे देता हूँ......फिर राहुल उस क्लिप को बंद करता हैं और एक और फाइल वो ओपन करता हैं जिसे पढ़कर बिहारी के होश उड़ जाते हैं....



उस में एक ब्रेकिंग न्यूज़ था.....और सॉफ सॉफ लिखा था कि लारा (नेम चेंज) नाम की लड़की प्रॉस्टियुयेशन के धंधे में इन्वॉल्व थी जिसको पोलीस ने अरेस्ट कर लिया हैं....इसके साथ और भी तीन लड़कियाँ थी.....जो ये जिस्म का धंधा करती थी....



राहुल- चल तेरी जानकारी के लिए बता दूं कि तेरी बेटी का नाम शोभा हैं....और वो ऑस्ट्रेलिया में रहकर एमबीए कर रही हैं जहाँ लोग उसे लारा के नाम से जानते हैं........मगर तू यहीं सोच रहा होगा कि ये सब मैं कैसे जानता हूँ....अरे भाई पोलीस वाला हूँ अपने दोस्त और दुश्मनों की पूरी डीटेल रखता हूँ..... तेरी बेटी की उमर करीब 20 साल..खूबसूरत और जवान.....पढ़ने के लिए वो तो गयी थी ऑस्ट्रेलिया में मगर वहाँ जाकर वो एक रंडी के धंधे में इन्वॉल्व हो गयी....अभी कुछ दिन पहले वहाँ एक होटेल में छापा पड़ा था.....जिसमें तेरी बेटी भी धंधे में अरेस्ट हुई थी......ये उसी की न्यूज़ हैं.....दो तीन दिन वहाँ जैल में रही फिर से वो छूट गयी.....मगर क्या करें ये जिस्म की आग होती ही ऐसी हैं इतनी आसान से कहाँ पीछा छोड़ने वाली....और उपर से नयी नयी जवानी का नशा.....मन तो बहकेगा ही.....फिर एक दिन एक एजेंट उसके पास गया और एक रात के उसे 500 डॉलर दिए....यू कह सकता हैं हमारे इंडियन रुपीज़ के हिसाब से करीब 25 हज़ार......



बस तेरी बेटी को मज़े और पैसे दोनो मिले और उसने झट से हां कर दी.....फिर उसको एक गंगबॅंग सूयीट ले जाया गया...जो वीडियो अभी अभी मैने तुझे दिखाया ये वही था....और उसने पूरी रात उन सब को पूरा मज़ा दिया...सच में तेरी बेटी भी बहुत बड़ी रंडी निकली.....देख बिहारी जो दूसरों के लिए गड्ढा खोदता हैं एक दिन वो खुद ही उसी गढ्ढे में गिरता हैं.... खैर ऑस्ट्रेयिला में तो ये सब आम बात हैं मगर सोच क्या वो अपने देश में कोई अच्छे घराने का लड़का उसका कभी हाथ थामेगा.....कभी नहीं.....



आज तू खुद देख बिहारी.....उपर वाले के लाठी में आवाज़ नहीं होती...यहाँ पर तू दूसरों की बहू बेटी के इज़्ज़त के साथ खेलता रहा और वहाँ देख तेरी बेटी खुद रंडी का धंधा कर रही हैं.....मेरे ख्याल से आज भगवान ने तुझे सही सज़ा दे दी हैं..... और फिर राहुल वो वीडियो पूरा प्ले कर देता हैं...बिहारी अपना मूह दूसरी तरफ फेर लेता हैं......



राहुल- अब क्या हुआ...पसंद नहीं आया क्या तुझे...देख आज अपनी ही बेटी को दूसरों से चुदवाते हुए.....मादरचोद अब तेरा लंड नहीं खड़ा हुआ क्या ये सब देखकर और राहुल ज़ोर की एक लात बिहारी के लंड पर जड़ देता हैं.....बिहारी की इस समय वो हालत थी कि वो उपर वाले से अपनी मौत की दुआ कर रहा था...मगर शायद मौत भी इतनी आसानी से नहीं मिलती.....



आज राधिका की कहीं हुई सारी बातें बिहारी को एक एक कर याद आ रही थी....और आज उसकी आँखों में आँसू थे मगर शायद अब बहुत देर हो चुकी थी....आज एक औरत की बद-दुआ लग गयी थी...जो बात राधिका ने कहीं थी आज वो सब बिहारी के मन में किसी बॉम्ब के तरह फट रही थी.....आज उसे भी एहसास हो रहा था कि एक बाप और बेटी के रिश्ते की क्या अहमियत होती हैं....मगर सिवाय पस्चाताप के अब कुछ हासिल नहीं होने वाला था.....



बिहारी- मुझे जान से मार दो राहुल...मैं अब जीना नहीं चाहता.....आज मैं अपना सारा जुर्म कबूल करता हूँ....भगवान के लिए मुझे मौत दे दो....और बिहारी वहीं ज़ोर ज़ोर से फुट फुट कर रो पड़ता हैं......



राहुल- क्यों अब एहसास हुआ कि एक बाप और बेटी में क्या रिश्ता होता हैं.......तू क्या दुनिया का कोई भी बाप अपनी बेटी को इस हाल में नहीं देख सकता...मगर तुमने तो मेरी राधिका को गंदा ही नहीं बल्कि उसके दिल में वो घाव दिया जिसके वजह से ना बिरजू जी सका और ना ही राधिका कभी जीने की सोच सकती थी.....तुमने उसे आत्महत्या करने पर मज़बूर कर दिया.....और तेरी इस ग़लती को मैं कभी माफ़ नहीं कर सकता.......एक बात जान ले बिहारी कोई स्वर्ग नरक नहीं होता...इंसान को उसके करमों का फल यहीं पर मिलता हैं और तेरी करनी का भी फल तुझे यहीं पर मिलेगा.....जैसी करनी वैसी भरनी.
-  - 
Reply

04-05-2019, 01:27 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
इस वक़्त वो तीनों दर्द से तड़प रहे थे और ईश्वर से यही दुआ कर रहे थे कि उन्हें अपनी सारी तकलीफ़ों से जल्द से जल्द मुक्ति मिल जाए...मगर राहुल ने तो कुछ और ही सोच रखा था....



राहुल- मरना तो तुम तीनों को हर हाल में होगा.......और मैने सोच भी लिया हैं कि तुम तीनों को कैसी मौत देनी हैं.....



बिहारी- मार डालो हमे राहुल...आब दर्द और नहीं सहा जाता.....बिहारी के इस तरह फरियाद से राहुल के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती हैं.....



राहुल- बस बिहारी थोड़ा सा और दर्द बर्दास्त कर ले फिर तुझे मैं मुक्ति दे दूँगा.....जानता हैं ....मैने तुम सब के लिए कैसी मौत सोची रखी हैं.....उस मौत का नाम हैं मीठी मौत........



बिहारी , विजय और जग्गा तीनों हैरत से राहुल को देखते हैं मगर उनके समझ में कुछ नहीं आता कि ये मीठी मौत क्या होती हैं......



राहुल- तुम सब यही सोच रहे होगे कि ये मीठी मौत क्या होती हैं.....अभी थोड़ी देर मे तुम सब को पता चल जाएगा......फिर राहुल ख़ान को इशारा करता हैं और ख़ान झट से दो तीन पोलिसेवाले को लेकर उस वॅन के पास जाता है और उसमें से तीन ड्रम ले कर आता हैं......और वहीं पर वो तीनों ड्रम रख देता हैं...बिहारी जग्गा और विजय आँख फाडे उन ड्रमस को देख रहें थे......पर उन्हें कुछ समझ में नहीं आ रहा था...आख़िर क्या हैं उस ड्रम में....डर से उन सब की गान्ड फटी हुई थी......और हो भी क्यों ना अपनी मौत को सामने देखकर किसी की भी यही दशा होती जैसे आज उन तीनों की उस वक़्त हुई थी....



राहुल- फिर एक ड्रम के पास जाता हैं और वो उस ड्रम का ढक्कन खोलता हैं.....फिर उस ड्रम से कुछ लिक्विड वो अपने हाथों में लेता हैं और बिहारी के पास जाता हैं.... और उसके मूह के ठीक सामने रख देता हैं.....



राहुल- ध्यान से देख इसे......अब तक तू तो जान ही गया होगा कि इस वक़्त मेरे हाथों में क्या हैं......जब बिहारी उस लिक्विड को देखता हैं फिर भी उसके कुछ पल्ले नहीं पड़ता कि राहुल उस लिक्विड का क्या करना चाहता हैं....



बिहारी- ये तो चासनी हैं...(चासनी शक्कर घोल कर पानी जो बाय्ल करके बनाया जाता हैं)...



राहुल- खूब पहचाना तुमने......तू तो अच्छे से जानता होगा कि इसे मीठा बनाने के काम में लाया जाता हैं.....सोच अगर मैं इस पानी से तुम तीनों को नहला दूं तब यहाँ पर तुम लोगों की क्या दशा होगी इसका अंदाज़ा तुम सब नहीं लगा सकते....वैसे भी ये हिल एरिया हैं और यहाँ पर लाल चींटे (आंट) पाए जाते हैं....और सोच एक चीटा अगर काट ले तो वो पूरे शरीर से माँस तक निकाल देता हैं और उसके दर्द का अंदाज़ा तुझे पता होगा.....तो अगर एक साथ हज़ारों चीटियाँ तुम पर चढ़ेंगी तो क्या हाल होगा तुम सब का......एक दो घंटे के अंदर तुम्हारी हड्डी तक नज़र आ जाएँगी.....



राहुल की ऐसी बतो को सुनकर तीनों के होश उड़ जाते हैं....और डर से उन तीनों की आँखों से आँसू निकल पड़ते हैं.....तभी वो तीनों अपनी मौत की दुहाई माँगते हैं मगर राहुल का दिल थोड़ा भी नहीं पासीजता....थोड़ी देर बाद उन्हें एक लकड़ी के ताबूत में रखा जाता हैं मगर उसका कॅप नहीं लगाया जाता...फिर बारी बारी से वो तीनों ड्रम उन तीनों पर चासनी गिराया जाता हैं.......तीनों इस वक़्त चासनी में पूरी तरह नहा गये थे.....और गला फाड़ कर चीख रहें थे......उन्हें भी मालूम था कि आने वाला पल कितना भयानक होने वाला हैं....मगर हाथ में हथकड़ी और पैरों में गोली लगने से वो चाह कर भी कुछ नहीं कर सकते थे....बस अपने आप को पल पल मरता हुआ देख सकते थे.....और शायद इसी भयानक मौत तो और कोई हो भी नहीं सकती थी.....
-  - 
Reply
04-05-2019, 01:28 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
राहुल- थोड़ी देर बस फिर जितना जी करे चीखना.....और वैसे भी तुझे दूसरों की चीखें सुनना बहुत पसंद हैं ना...आज खुद चीखना... देखना कितना मज़ा आता हैं...और एक बात यहाँ कोई नहीं आने वाला तुम्हें बचाने .....बस इतना ही कहूँगा कि भगवान तुम तीनों की आत्मा को शांति दे....फिर राहुल वहाँ से झट से निकल जाता हैं ....आज वो फिर से रो पड़ा था.......आज फिर से वो राधिका के लिए उसका दिल तड़प उठा था....बड़ी मुश्किल से वो अपने आप को संभाले हुए था....मगर उसकी आँखों से आँसू नहीं थम रहें थे......करीब 15 मिनिट के बाद एक एक कर हज़ारों की तादाद में लाल चीटे आते दिखाई देते हैं और अपने शिकार की तरफ बढ़ते हैं......घंटों तक वो सब चीखते रहते हैं और करीब 2 घंटे बाद उनकी चीखे बंद हो जाती हैं....और हमेशा हमेशा के लिए वो तीनों खामोश हो जाते हैं.....राहुल और ख़ान तुरंत अपनी गाड़ी से वहाँ से निकल पड़ते हैं.....



आज राहुल का बदला पूरा हो गया था .....एक तरफ तो उसके दिल में सकून था वहीं राधिका की कमी उसे पल पल बेचैन कर रही थी......



बिहारी के मौत के बाद थोड़ा हंगामा हुआ था मगर डीजीपी ने उनकी सारी करतूतो को मीडीया के सामने रखा और ये भी कह दिया कि बिहारी ने पोलीस पर फाइयर किया था....जिसके वजह से पोलीस को भी उसके उपर फाइयर करना पड़ा और उसी मुठभेड़ में वो मारा गया....और साथ ही उसके दोनो साथी भी....और इस मामले को पूरी तरह से दबा दिया गया.......




एक हफ्ते बाद...................................



राधिका को गुज़रे पूरे 10 दिन बीत चुके थे......मगर आज भी राहुल के अंदर कोई बदलाव नहीं आया था.....वो बस दिन रात रोता रहता और गुम्सुम सा बैठा रहता.....ना जाने वो क्या क्या बातें रात दिन सोचता रहता.....इधेर निशा भी राहुल को लेकर बहुत परेशान थी......उसे भी कुछ समझ नही आ रहा था कि वो राहुल को कैसे संभाले......तभी निशा के मम्मी पापा उसके घर आते हैं......इस वक़्त भी राहुल वहीं अपने कमरे में खामोश बैठा हुआ था.....



सीता उसके पास जाती हैं और उसके कंधे पर अपना हाथ रख देती हैं... राहुल एक नज़र सीता पर डालता हैं फिर अपने आँखों से बहते हुए आँसू पोछता हैं और जाकर अपना मूह धोता हैं.....फिर वो वहीं उनके पास आकर बैठ जाता हैं...



सीता- कब तक बेटा तुम ऐसे ही अपने आँखों से आँसू बहाओगे......क्या अब राधिका कभी वापस लौट कर आएगी.....नहीं ना....हां मानती हूँ कि तुम्हें उसका गहरा दुख पहुँचा हैं मगर कब तक ऐसे चलता रहेगा....ज़रा आपने आप को देखो तुमने क्या हालत बना रखी है....थोड़ा हिम्मत रखो... एक दिन सब ठीक हो जाएगा.....



राहुल- कहिए आंटी जी कैसे आना हुआ.....मुझे कोई काम था क्या.....



सीता- हां आज काम से ही मैं तुम्हारे पास आई हूँ....तुमसे एक बात कहनी थी....



राहुल- कहिए आंटी क्या बात हैं.....



सीता- मैं जानती हूँ कि मेरी बेटी तुम्हें जी जान से चाहती हैं....और शायद अब वो तुम्हारे बिन जी नहीं पाएगी....इस लिए मैं ये चाहती हूँ कि तुम मेरी बेटी का हाथ थाम लो....शायद इसी बहाने तुम्हारी भी ज़िंदगी फिर से संवर जाएगी......बेटा मुझे ना मत कहना...मैं बहुत अरमान लेकर तुम्हारे पास आई हूँ..... ये समझ लो कि एक मा अपनी बेटी की ज़िंदगी की तुमसे भीख माँग रही हैं.....अब मेरी बेटी की ज़िंदगी तुम्हारे हाथों में हैं.......मैं तुम्हारे आगे हाथ जोड़ती हूँ..



राहुल- क्या कहूँ आंटी.....पता नहीं मेरे नसीब में क्या लिखा हैं....जिसको मैने जी जान से चाहा आज वो ही मुझसे रूठ कर हुमेशा के लिए मुझसे दूर चला गया......मैने बचपन से सिर्फ़ खोया हैं......आज मुझ में ताक़त नहीं बची हैं कि मैं और कोई सदमा बर्दास्त कर सकूँ....मुझे मेरे हाल पर छोड़ दीजिए मैं जैसा हूँ ठीक हूँ....



सीता- बेटा जो तकदीर में लिखा हैं उसे तो बदला नहीं जा सकता...मगर आज अगर तुम निशा को ठुकरा दोगे तो शायद निशा भी ऐसा ही कुछ कर बैठेगी जो कल राधिका ने किया था.....और निशा को अगर कुछ हो गया तो मैं जी नहीं पाउन्गि उसके बगैर.....



राहुल- आंटी जी मैं समझ सकता हूँ मगर इस वक़्त मैं इस स्थिती में नहीं हूँ कि अब मैं कोई भी इस वक़्त फ़ैसला ले सकूँ...आप मुझसे बड़ी हैं और आपको जो सही लगे..... ये फ़ैसला मैं अब आप पर छोड़ता हूँ....जो आपका फ़ैसला होगा मुझे सब मंज़ूर होगा......



सीता - ठीक हैं बेटा मैं पंडित जी से तेरे शादी की बात करती हूँ....और कोई अच्छा सा मुहुरात निकालकर तुम दोनो की शादी का दिन पक्का कर दूँगी......



राहुल- ठीक हैं आंटी.....मुझे मंज़ूर हैं जैसा आपको ठीक लगे.....फिर सीता और मिस्टर अग्रवाल वहाँ से खुशी खुशी अपने घर की ओर निकल पड़ते हैं....और उधेर निशा बड़ी बेसब्री से अपने मम्मी पापा का इंतेज़ार कर रही थी.....उसका एक एक पल ऐसा लग रहा था मानो कोई एक एक सदी हो......
-  - 
Reply
04-05-2019, 01:28 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
राहुल झट से अपने पर्स खोलता हैं और बड़े प्यार से राधिका के तस्वीर पर अपना हाथ फेरता हैं और उसके फोटो को चूम लेता हैं.....क्यों किया तुमने ऐसा.....यही चाहती थी ना तुम कि मेरी शादी निशा से हो...देखो आज मैने इस रिस्ते के लिए हां कर दी हैं.....अब तो तुम खुश होगी..... लेकिन ये मत समझना कि तुम मुझसे दूर चली गयी हो तो मैं तुम्हें भूल जाउन्गा......ऐसा कभी नहीं होगा.....तुम हमेशा इस दिल में रहोगी मेरी जान बनकर....तुम्हारी जगह कोई नहीं ले सकता.......... निशा भी नहीं.



वक़्त अपनी रफ़्तार से बीत रहा था....राहुल भी अब संभलने लगा था मगर अभी उसे एक और झटका लगना बाकी था....वो था कृष्णा के रूप में....जब ख़ान उसके घर आता हैं और उसे ये बताता हैं कि कृष्णा ने जैल में शूसाइड कर लिया हैं....उसने अपने हाथ की नस काट ली थी....तब राहुल के आँखों से फिर एक बार आँसू छलक पड़ते हैं.....वो फ़ौरन पोलीस स्टेशन जाता हैं और वहाँ पर उसे कृष्णा की डेड बॉडी मिलती हैं......थोड़ी देर बाद उसकी लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया जाता हैं......



कृष्णा ने एक शूसाइड नोट भी लिखा था....उसमें उसने राधिका की मौत का अपने आप को दोषी मानते हुए उसने ऐसा कदम उठाया था....और एक वजह ये भी थी कि वो अब राधिका के बिना जीना नहीं चाहता था....शायद इस वजह से भी.......



अब तूफान पूरी तरह से थम चुका था....मगर आज इस तूफान ने अपने साथ साथ सब कुछ बहा कर ले गया था...आज इस हवस की आग में ना जाने कितनों की ज़िंदगी पर इसका असर पड़ा था....राधिका के साथ साथ कितनों को अपनी ज़िंदगी गँवानी पड़ी....इधेर कजरी को 5 साल की सज़ा मिली और उधेर मोनिका को जालसाज़ी के जुर्म से 2 साल की सज़ा सुनाई गयी.....आज मोनिका की भी ज़िंदगी बर्बाद हो चुकी थी......



राधिका के गुजरने के बाद राहुल के अंदर एक और बदलाव आया था वो था कि वो अब बेरहम बन चुका था...ऐसा जो भी रेप केसस के मामले आते वो उन अपराधी को इतनी मार मारता जब तक वो बेहोश नहीं हो जाते....शायद हर लड़की में उसे राधिका की बेबसी नज़र आती और हर अपराधी में बिहारी जैसे कमिने शक्श नज़र आते....



एक महीने बाद राहुल की शादी तय होती हैं निशा के साथ.....निशा को तो मानो उसकी दुनिया मिल गयी थी....वो आज बहुत खुस थी...मगर उसके दिल में आज भी राधिका की कमी हर पल एक दर्द बनकर किसी सुई की तरह चुभती थी.....अब वो घड़ी भी आ चुकी थी जब बारात उसके घर पर आने वाली थी.....और उसके दिल में खुशी के साथ साथ थोड़ी घबराहट भी थी...थोड़ी देर बाद बारात भी आती हैं और शादी के मंगल फेरे भी होते हैं....उस शादी में बड़ी बड़ी हस्ती भी आए हुए थे.....और फिर सुबेह निशा अपने मा बाप को छोड़ कर अपने ज़िंदगी की नयी सफ़र पर निकल पड़ती हैं.....राहुल के साथ उसके नये घर पर.....अपने ससुराल....



शाम को राहुल अपनी शादी की पार्टी देता हैं और रात 10 बजे तक सारे मेहमान एक एक कर वापस लौट जाते हैं....राहुल की शादी में काफ़ी लोग आए हुए थे...थोड़ी देर बाद सारे मेहमान अपने घर चले जाते हैं और रह जाते हैं तो बस केवल राहुल और निशा.....इस वक़्त कमरे में सुहाग सेज पर निशा चुप चाप खामोश बैठी हुई थी....उसका दिल ज़ोरों से धड़क रहा था.....सर पर लंबा घूँघट डाले हुए और लाल जोड़े साड़ी में लिपटी....अपने पति राहुल के आने का बेसब्री से इंतेज़ार कर रही थी....वो अच्छे से जानती थी कि आज की रात क्या होने वाला हैं... शायद इसी वजह से उसके चेहरे पर शरम की लालिमा सॉफ छलक रही थी......



सिर से लाकर पाँव तक वो गहनों से लदी थी....और अपने धड़कते दिल से राहुल का बेसब्री से इंतेज़ार कर रही थी.....पल पल उसे ऐसा लग रहा था कि कब राहुल अंदर आएगा और उसे अपनी बाहों में ले लेगा.....थोड़े देर बाद उसके इंतेज़ार की घड़ियाँ ख़तम होती हैं और राहुल सफेद सलवार कुर्ते में अपने कमरे में दाखिल होता हैं....जब उसकी नज़र निशा पर पड़ती हैं तब राहुल के चेहरे पर मुस्कान तैर जाती हैं.....धीरे धीरे वो निशा के पास आता हैं ....जैसे जैसे उसके कदम निशा की ओर बढ़ते हैं वैसे वैसे निशा की दिल की धड़कनें भी तेज़ होने लगती हैं.....



राहुल वहीं फूलों से सजे बिस्तेर पर आता हैं और निशा के बगल में आकर बैठ जाता हैं..... उसके हाथों में निशा की डायरी थी....वो बड़े गौर से उस डायरी को देख रहा था.....वहीं निशा घूँघट के अंदर चुप चाप अपनी नज़रें नीची करके खामोश बैठी हुई थी....उसे तो कुछ समझ नहीं आ रहा था कि बात कहाँ से शुरू करें.....तभी राहुल बोल पड़ता हैं...



राहुल- मैने तुम्हारी पूरी डायरी पढ़ी हैं निशा....मैं जानता हूँ कि तुम मुझसे कितना प्यार करती हो....मगर आज भी राधिका के लिए मेरे दिल में उतना ही प्यार हैं जितना पहले था....और मैं शायद तुम्हें अपनी राधिका की जगह कभी नहीं दे सकता....तुम मेरी बातो का बुरा मत मानना....पर मुझे अभी थोड़ा समय और लगेगा....अगर मेरी बात तुम्हें बुरी लगी हो तो मैं तुमसे माफी माँगता हूँ.....और राहुल निशा के सामने अपने दोनो हाथ जोड़ लेता हैं......और वो फ़ौरन बिस्तेर से हट कर वहीं खड़ा हो जाता हैं.....अगर तुम्हारा मन नही हैं तो मैं तुम्हारी मर्ज़ी के बिना तुम्हें हाथ नहीं लगाउन्गा......



निशा भी तुरंत अपने बिस्तेर से उठती हैं और झट से राहुल की पीठ पर अपना सीने रख देती हैं....और अपने दोनो हाथों से राहुल के सीने को जाकड़ लेती हैं....



निशा- नहीं राहुल.....आज के बाद मैं पूरी तरह तुम्हारी हूँ...तुम्हारा मुझपर पूरा अधिकार है.....मेरे जिस्म, मेरी आत्मा सब पर तुम्हारा हक़ हैं.....बस इतना ही कहूँगी राहुल कि आज मुझे मेरी पत्नी होने का दर्ज़ा मुझे दे दो....मुझे तंन मन से अपना बना लो....



राहुल भी झट से पीछे मुड़ता हैं और निशा को झट से अपनी बाहों में कसकर जाकड़ लेता हैं......फिर वो निशा के चेहरे से घूँघट हटाता हैं.....निशा इस वक़्त बेहद खूबसूरत लग रही थी.....मगर उसकी आँखों में आँसू थे...राहुल अपने हाथ आगे बढ़ाकर धीरे से उसके आँखों से बहते आँसू पोछता हैं और फिर उसके अपनी गोद में उठा लेता हैं ......निशा भी अपनी बाहें राहुल के कंधे पर डाल देती हैं.....और राहुल धीरे से मुस्कुरा देता हैं.....और फिर उसे बिस्तेर पर सुला देता हैं.....



इस वक़्त निशा का दिल ज़ोरों से धड़क रहा था.....राहुल भी अपने जूते निकाल लेता हैं और वो बिस्तेर पर आकर निशा के पास बैठ जाता हैं.....राहुल बड़े ध्यान से निशा की खूबसूरती को देख रहा था....



निशा- ऐसे क्या देख रहे हो राहुल...मुझे शरम आ रही हैं...



राहुल- देख रहा हूँ कि तुम सच में बहुत खूबसूरत हो....जी कर रहा हैं कि बस तुमें ऐसे ही देखता रहूं.....



निशा- तो देखो राहुल...मैं अब तुम्हारी हूँ....तुम्हारा मुझपर अब पूरा हक़ हैं....फिर राहुल झुक कर धीरे से निशा के लबों को चूम लेता हैं....निशा भी शरम से अपनी आँखे बंद कर लेती हैं....राहुल बड़े हौले हौले निशा से लबों को चूम रहा था .......फिर वो वहीं निशा को बैठने को कहता हैं और निशा के पीछे जाकर अपने होन्ट निशा की नंगी गर्देन पर रखकर वहीं चूम लेता हैं.....निशा को जैसे एक करेंट सा लगता हैं और उसके मूह से एक तेज़्ज़ सिसकारी निकल पड़ती हैं......आ...........एयेए....आआआआआआआअहह....



राहुल फिर धीरे धीरे अपने हाथों को हरकत करता हैं और सबसे पहले वो उसके माँग पर लगा गहना उतारता हैं फिर उसकी नाक में लगी नथ......और फिर कानों में झुम्की और बस गले में मगल्सुत्र को छोड़ कर एक एक कर उसके जिस्म के सारे गहने वो निकाल देता हैं......निशा की साँसें बहुत तेज़ चल रही थी......जिससे उसके दोनो बूब्स उपर नीचे हो रहे थे.....राहुल बड़े गौर से निशा के सीने को देख रहा था.......फिर से वो निशा के पीछे जाता हैं और उसके ब्लाउज की डोर को अपने दाँतों में फँसाकर धीरे धीरे उसे खींचने लगता हैं......एक बार फिर से निशा तड़प उठती हैं......फिर राहुल उसकी साड़ी का पल्लू उसके सीने से हटा देता हैं और बड़े ध्यान से उसके दोनो दूधो को देखता हैं....



सच तो ये था कि वो निशा के जिस्म को देखकर अपने होश खो बैठा था..... फिर वो अपना हाथ आगे बढ़ाकर उसके गालों पर ले जाता हैं और अपनी उंगली से उसके गालों पर एक दम धीरे धीरे फिराता हैं.....और साथ ही साथ अपने होंटो को उसकी गर्देन पर रख चूमने लगता हैं.....निशा की आँखें पूरी तरह लाल हो चुकी थी....फिर धीरे धीरे राहुल अपना हाथ नीचे ले जाता हैं और निशा के एक बूब्स पर रख देता हैं और बड़े प्यार से उसे दबाने लगता हैं.....निशा के लिए ये पहला अनुभव था.....राहुल के ऐसा करने से उसकी चूत गीली होने लगती हैं और लज़्जत में उसकी आँखें बंद हो जाती हैं......



राहुल फिर धीरे धीरे अपने हाथों पर दबाव डालता हैं और अपना दूसरा हाथ भी आगे बढ़ाकर वो निशा के दूसरे बूब्स पर रख देता हैं और धीरे धीरे दबाने लगता हैं.....निशा बस अपने हाथ राहुल की बाहों में डाले हुई अपनी आँखें बंद किए हुई थी.... उसकी चूत इस कदर पानी छोड़ रही थी जैसे उसे ऐसा लग रहा था कि उसकी पैंटी पूरी गीली हो चुकी हैं..... फिर राहुल अपना एक हाथ नीचे ले जाता हैं और उसके नेवेल पर रख कर वहाँ भी हाथ फिराता हैं...और फिर धीरे से वो उसकी चूत की तरफ बढ़ने लगता हैं......निशा को भी ये सब अच्छा लग रहा था और वो राहुल का कोई भी विरोध नहीं कर रही थी.....
-  - 
Reply
04-05-2019, 01:28 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
फिर वो अपनी उंगली उसकी साड़ी में फाँसता हैं और धीरे धीरे उसके निकालने लगता हैं...थोड़ी देर बाद निशा के जिस्म से साड़ी जुदा हो जाती हैं...इस वक़्त वो पेटिकोट और ब्लाउज में राहुल के सामने थी.....फिर राहुल अपने दोनो हाथ आगे लेजा कर उसके ब्लाउज के एक एक बटन को खोलता हैं और उसे भी अलग कर देता हैं....फिर वो उसके जिस्म से पेटिकोट भी जुदा कर देता हैं.....निशा इस वक़्त सिर्फ़ काले ब्रा और पैंटी में राहुल के सामने थी....शरम से उसकी आँखें बंद थी.....फिर राहुल एक एक कर अपने सारे कपड़े निकालता हैं और कुछ देर में वो भी बस एक अंडरवेर में निशा के सामने होता हैं....आज निशा पहली बार उसे इस हालत में देख रही थी....



राहुल तेज़ी से अपने हाथों की हरकत कर रहा था और उसके बदन के हर हिस्सों पर अपना हाथ फिरा रहा था.....फिर वो अपना हाथ आगे बढ़ाकर निशा की ब्रा का हुक खोल देता हैं.....कमरे में हल्की नीली रोशनी थी..जिससे महॉल और भी रंगीन लग रहा था......फिर वो अपने हाथ बढ़ाकर निशा की ब्रा को उसके जिस्म से अलग कर देता हैं...निशा झट से अपने दोनो हाथों को अपने मूह पर रख लेती हैं......ये देखकर राहुल मुस्कुरा देता हैं....



राहुल- निशा मैं तो अब तुम्हारा पति हूँ फिर मुझसे कैसी शरम......चल उतार दो अपने ये आखरी कपड़े भी....मैं तुम्हें बिन कपड़ों के देखना चाहता हूँ....



निशा- नहीं राहुल मुझसे ये नहीं होगा....आप ही उतार दीजिए इन्हें......



राहुल फिर अपना हाथ आगे लेजा कर निशा की पैंटी भी झट से उसके बदन से अलग कर देता हैं ...थोड़ी देर बाद निशा की काली पैंटी भी बिस्तेर पर पड़ी रहती हैं....इस वक़्त निशा राहुल के सामने पूरी नंगी हालत में थी ...उसके बदन पर एक कपड़ा नहीं था...था तो बस मन्गल्सुत्र....



राहुल फिर वहीं निशा को बिस्तेर पर सुलाता हैं और फिर से उसके लिप्स पर अपने होन्ट रख देता हैं और बड़े प्यार से चूसने लगता हैं.....और अपने दोनो हाथों से निशा के दोनो बूब्स को मसल्ने लगता हैं.....निशा के मूह से लगतार सिसकारी निकल रही थी.....राहुल लगातार उसके दोनो निपल्स को अपनी दोनो उंगलियों से मसल रहा था.....और उधेर निशा की चूत बहुत बुरी तरह पानी छोड़ रही थी.....फिर राहुल अपना अंडरवेर भी निकाल देता हैं और उसका लंड निशा के सामने आ जाता हैं.....जब निशा की नज़र राहुल के लंड पर पड़ती हैं तब वो शरमा कर अपनी नज़रें झुका लेती हैं..... ये देखकर राहुल मुस्कुरा पड़ता हैं....



राहुल- मेरा हथ्यार कैसा हैं निशा....



निशा कुछ बोल नहीं पाती और उसका चेहरा शरम से लाल पड़ जाता हैं.....



राहुल- जवाब दो ना तुम्हें पसंद आया कि नहीं....



निशा- मुझे नहीं मालूम.... मुझे शरम आती हैं.....



फिर राहुल अपने होन्ट निशा की गर्देन पर रख देता हैं और उसके पूरे बदन पर अपना जीभ फिराता हैं .....एक बार फिर से निशा तड़प उठती है.....फिर वो अपने जीभ को निशा के दो छोटे छोटे निपल्स पर रख देता हैं और उसे बड़े हौले हौले चूसने लगता हैं.....निशा भी अब खुल कर मज़ा ले रही थी......फिर वो नीचे की ओर बढ़ता हैं और अपनी जीभ सरकाते हुए हौले हौले उसके चूत के पास ले जाता हैं और अपना जीभ निशा की चूत पर रखकर उसे चूम लेता हैं....निशा इस बार चीख पड़ती हैं.......



फिर राहुल अपने जीभ को वहीं निशा की चूत पर धीरे धीरे फिराने लगता हैं और धीरे धीरे उसे चाटना शुरू करता हैं...अपने दोनो हाथों को वो निशा की चूत के पास ले जाता हैं और उसकी दोनो फांकों को अलग करता हैं और उसके छेद में अपनी जीभ डाल कर अपनी जीभ को हरकत देता हैं.....ऐसे ही दो तीन बार करने से निशा का सब्र टूट जाता हैं और वो चीखते हुए झड़ने लगती हैं.....आआआआआ.............हह.................आअहह.....और वहीं धम्म से बिस्तेर पर लेट जाती हैं......उसका दिल ज़ोरों से धड़क रहा था.......और वो बहुत मुश्किल से अपनी सांसो को कंट्रोल कर रही थी..



इस वक़्त निशा की आँखें बंद थी...राहुल बड़े गौर से उसके चेहरे को देख रहा था.....फिर वो उठता हैं और अपने होंटो को फिर से निशा के होंटो पर रखकर चूसने लगता हैं....निशा फिर से गरम होने लगती हैं.....राहुल उसे अपने लंड को मूह में लेने को कहता हैं और निशा मुस्कुरकर धीरे से नीचे झुक जाती हैं और धीरे धीरे अपने मूह को पूरा खोल देती हैं......फिर वो धीरे धीरे राहुल के लंड की टोपी को अपने मूह में लेकर चूसने लगती हैं....राहुल की मज़े से आँखें बंद हो जाती हैं....थोड़ी देर तक वो ऐसे ही राहुल का लंड चूसति हैं और अपनी जीभ पूरे उसके लंड पर फिराती हैं.....राहुल के मूह से लगातार सिसकारी निकल रही थी....



थोड़ी देर बाद राहुल एक शीशी में तेल लाता हैं और थोड़ा सा अपने लंड पर लगाता हैं...और थोड़ा सा तेल निशा की चूत पर भी मल देता हैं....फिर वो निशा को बिस्तेर पर पीठ के बल सुलाता हैं और धीरे से उसके उपर चढ़ जाता हैं.....इस वक़्त निशा की चूत पूरी तरह से गीली थी और राहुल का लंड उसकी चूत से पूरा सटा हुआ था.....फिर वो अपना लंड निशा की चूत पर रखता हैं और धीरे धीरे अपने लंड पर दबाव डालना शुरू करता हैं.....



राहुल- निशा तुम्हारा पहली बार हैं तो तुम्हें दर्द होगा...तुम प्लीज़ ये दर्द मेरी खातिर बर्दास्त कर लेना....बाद में तुम्हें फिर अच्छा लगेगा.....



निशा- तुम्हारी खातिर मुझे सब मंज़ूर हैं राहुल...फिर ये दर्द क्या चीज़ हैं.....आज मुझे लड़की से हमेशा के लिए औरत बना दो राहुल......तुम मेरी फिकर मत करना .....



राहुल फिर धीरे से अपना लंड निशा की चूत पर रखता हैं और धीरे धीरे दबाव डालना शुरू करता हैं...निशा का दिल ज़ोरों से धड़क रहा था....वो भी राहुल का पूरा समर्थन करती हैं....राहुल अपना लंड पहले धीरे से अंदर की ओर पुश करता हैं फिर वो बाहर निकाल कर तेज़ी से तुरंत अंदर डाल देता हैं......उसका लंड करीब 3 इंच तक अंदर चला जाता हैं....निशा की ज़ोर से चीख निकल पड़ती हैं..आआआआआ............हह....



राहुल फिर से थोड़ा सा अपना लंड बाहर निकालता हैं और इस बार बिना रुके वो दबाव बढ़ाने लगता हैं....लंड तेज़ी से अंदर की ओर घुसता चला जाता हैं... इधेर निशा की वर्जिनिटी को तोड़ते हुए उसका लंड पूरा अंदर गहराई में घुस जाता हैं..... निशा इस वक़्त दर्द से चीख रही थी और उसकी आँखों में आँसू थे....मगर वो राहुल को एक भी बार रोकने की कोशिश नहीं कर रही थी....थोड़ी देर बाद राहुल उसके होंटो को चूस्ता हैं और अपना लंड वहीं रहने देता हैं....कुछ देर बाद निशा पहले से थोड़ा अच्छा फील करती हैं और फिर राहुल एक बार पूरा अपना लंड बाहर निकालता हैं और उतनी ही तेज़ी से अंदर की ओर डाल देता हैं...इस बार राहुल का पूरा लंड निशा की चूत में समा जाता हैं.....
-  - 
Reply
04-05-2019, 01:28 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
निशा सिर्फ़ दर्द से तड़प रही थी और लगातार चीख रही थी.....राहुल उसकी परवाह किए बगैर अपना लंड तेज़ी से आगे पीछे करना शुरू कर देता हैं और थोड़ी देर बाद निशा का भी दर्द कम होने लगता हैं...इस वक़्त राहुल का लंड खून से सना हुआ था...और कुछ खून की बूँदें बिस्तेर पर भी गिरी थी....वो अपनी रफ़्तार कम नहीं करता हैं एक हाथ से वो निशा के बूब्स को मसलता हैं और अपने होंटो से उसके होंटो को चूस्ता हैं..... आब निशा की भी आहें तेज़्ज़ हो रही थी...करीब 15 मिनिट बाद राहुल अपने चरम पर पहुँच जाता हैं और अपना सारा कम निशा की चूत में निकाल देता हैं....निशा भी चीखते हुए दुबारा झाड़ जाती हैं........इस वक़्त दोनो बिस्तेर पर एक दूसरे की बाहों में नंगे पड़े हुए थे......



थोड़ी देर बाद राहुल फिर से निशा को सुलाता हैं और फिर से उसकी चूत में अपना लंड डालकर उसकी फिर से चुदाई करता हैं....उस रात राहुल ने तीन बार निशा की चूत मारी थी और एक बार निशा की गान्ड में भी अपना लंड डाला था.....पहली बार निशा का अनल सेक्स से उसे बहुत तकलीफ़ हुई लेकिन बाद में उसे भी मज़ा आने लगा......



सुबेह जब निशा की आँख खुलती हैं तो वो इस वक़्त राहुल की बाहों में नंगी पड़ी थी...झट से वो चादर लेती हैं और अपने नंगे बदन पर डाल लेती हैं.....राहुल की भी आँखें खुल जाती हैं और वो फिर से निशा को अपनी बाहों में ले लेता हैं और उसके बूब्स और निपल्स को अपनी उंगलियों से मसल्ने लगता हैं.....निशा फिर से गरम होने लगती हैं और फिर एक राउंड उनके बीच चुदाई का खेल शुरू हो जाता हैं.....


......................................................



वक़्त बीतता गया और धीरे धीरे राहुल राधिका का गम भूलने लगा.....निशा उसका पूरा ख्याल रखती....और उसे कभी भी अकेला नहीं छोड़ती....धीरे धीरे राहुल भी अपने कामों में व्यस्त होता गया.....इधेर निशा भी अपने घर के कामों में व्यस्त रहने लगी....मगर उनकी सेक्स लाइफ मस्त रहती...निशा कभी भी राहुल को मना नहीं करती और जैसा राहुल उसके साथ सेक्स करना चाहता वो उसका पूरा समर्थन करती....मगर हर सुबेह जब राहुल की नींद खुलती वो सबसे पहले राधिको को ही याद करता.....आज भी राधिका उसके जेहन में बसी हुई थी....धीरे धीरे राहुल भी अब निशा को चाहने लगा था.....



वक़्त बीतता गया और निशा और राहुल की शादी को पूरे दो साल बीत गये....और राधिका को भी गुज़रे दो साल हो चुके थे.....उनके घर पर भी एक छोटा सा मेहमान आ गया था.....निशा ने एक बेटी को जनम दिया था.....वो अभी फिलहाल एक साल की थी.....बिल्कुल प्यारी सी मासूम ....हर सुबेह राहुल उसे अपनी गोद में खिलाता और ढेर सारा प्यार उसपर लुटाता....आज पूरे दो साल बीत जाने पर भी राहुल आज भी राधिका को भूल नहीं पाया था.....वो सबसे पहले आज भी राधिका की तस्वीर देखकर ही उठता था और अपने पर्स में रखा राधिका की फोटो को वो सबसे पहले चूमता था.....अब राहुल भी निशा को बहुत चाहने लगा था.......



एक सुबेह जब राहुल की नींद खुली तब उसे सबसे पहले यही ध्यान आया कि आज राधिका का बर्तडे था....इस वक़्त उसकी बेबी वहीं बगल में सो रही थी...और निशा अपने घर के काम में व्यस्त थी...वो बड़े प्यार से अपने बेटी के सिर पर अपना हाथ फेर रहा था.....फिर वो पर्स निकालता हैं और उस पर्स में राधिका की फोटो थी वो उसे चूम लेता हैं.....और फिर अपनी आँखें बंद कर कुछ सोचने लगता हैं.....



"राहुल अपनी पोलीस की वर्दी में घर के अंदर आता हैं और डोर बेल बजाता हैं.....थोड़ी देर बाद दरवाज़ा खुलता हैं..... सामने राधिका खड़ी हुई हाथों में गुलाब का फूल लिए उसे देख कर मुस्कुरा रही थी......वो भी बड़े प्यार से उसे देखने लगता हैं .....इस वक़्त वो सफेद सूट में खड़ी थी और लाल चुनरी उसने ओढ़ रखी थी....आज भी वो पहले की तरह खूबसूरत लग रही थी.....राहुल झट से उसके पास आता हैं और उसके लबों पर अपने लब रखकर उसके लबों को चूम लेता हैं....राधिका भी मुस्कुरा कर अपनी आँखें बंद कर लेती हैं......और अपना एक हाथ आगे लेजा कर वो राहुल के सिर पर बड़े प्यार से अपना हाथ फेरती हैं....राहुल एक नज़र राधिका की आँखों में देखता हैं फिर वो अपनी जेब से वहीं हीरे की अंगूठी निकालता हैं और बड़े प्यार से राधिका के हाथों में वो अंगूठी पहना देता हैं....राधिका जवाब में बस मुस्कुरा देती हैं और इतना ही कहती हैं .......तुम नहीं सुधेरोगे........देखो आज तुम्हारी बेबी एक साल की हो गयी हैं...वो तुम पर गयी हैं....आख़िर वो भी मेरी बेटी हैं.......बस राहुल उसका ध्यान रखना और उसकी अच्छी परवरिश करना....उसे हर बुराई से बचाना....और मेरे जैसे उसे मज़बूर ना बनने देना......क्यों कि मैं नहीं चाहती कि अब किसी और राधिका का दुबारा जनम हो..... बस इतना ही कहूँगी राहुल की मुझे कभी भूल ना जाना....आइ लव यू राहुल.....मैं आज भी तुम्हें उतना ही प्यार करती हूँ जितना पहले करती थी....फिर राधिका राहुल का माथा चूम लेती हैं और फिर वो तुरंत कमरे के बाहर निकल जाती हैं और बिना मुड़े वो दूर बहुत दूर चली जाती हैं राहुल चुप चाप वहीं खामोश सा खड़ा होकर राधिका को ऐसे जाते हुए देखता हैं .......थोड़ी देर बाद राधिका उसकी नज़रो से ओझल हो जाती हैं.......राहुल झट से अपनी आँखें खोल लेता हैं.....आज भी उसकी आँखों में आँसू आ गये थे.....ये सब ख्वाब थे जो कभी पूरे नहीं हो सकते थे मगर आज भी वो राधिका की याद को अपने दिल में सँजोकर रखा हुआ था..... राहुल- मैं वादा करता हूँ जान मैं अपनी बेटी की परवरिश में कोई कमी नहीं आने दूँगा...और उसे तुम जैसा बहादुर और स्ट्रॉंग बनाउन्गा.....आज भले ही तुम इस दुनिया में नहीं हो तो क्या हुआ मगर आज भी मेरे दिल में तुम ज़िंदा हो मेरी रगों में लहू बनकर. ...मैं तुम्हें कैसे भूल सकता हूँ जान.......आज भले ही तुम मुझसे बहुत दूर चली गयी हो मगर मैं जब तक जीउँगा तुम्हें कभी नहीं दिल से भुला पाउन्गा.....आइ लव यू जान....... आइ मिस यू टू...................................................................." यही ज़िंदगी का दस्तूर हैं.....कुछ पाना हैं तो कुछ खोना हैं......ये सब तो आता जाता रहता हैं मगर कुछ ऐसी यादें होती हैं जो इंसान चाह कर भी उसे कभी नहीं भुला सकता......और कभी कभी वो उन्ही यादों के सहारे वो अपनी ज़िंदगी काट लेता हैं....... यही तो हैं ज़िंदगी......बस इसी का नाम हैं ज़िंदगी........हां शायद यहीं तो हैं ज़िंदगी........या वक़्त के हाथो मज़बूर......................................................"
-  - 
Reply
04-05-2019, 01:28 PM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
दोस्तो ये कहानी यही समाप्त होती है फिर मिलते रहेंगे नई नई कहानियों के साथ आपका दोस्त
-  - 
Reply
04-24-2019, 05:05 AM,
RE: Antarvasna Sex kahani वक़्त के हाथों मजबूर
Great story but tragedic end
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ 155 382,575 01-14-2021, 12:36 PM
Last Post:
Star Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से 79 67,432 01-07-2021, 01:28 PM
Last Post:
Star XXX Kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 93 50,283 01-02-2021, 01:38 PM
Last Post:
Lightbulb Mastaram Stories पिशाच की वापसी 15 17,261 12-31-2020, 12:50 PM
Last Post:
Star hot Sex Kahani वर्दी वाला गुण्डा 80 29,932 12-31-2020, 12:31 PM
Last Post:
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस 49 84,817 12-30-2020, 05:16 PM
Last Post:
Star Porn Kahani हसीन गुनाह की लज्जत 26 104,658 12-25-2020, 03:02 PM
Last Post:
Star Free Sex Kahani लंड के कारनामे - फॅमिली सागा 166 238,987 12-24-2020, 12:18 AM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Sex Stories याराना 80 85,121 12-16-2020, 01:31 PM
Last Post:
Star Bhai Bahan XXX भाई की जवानी 61 182,024 12-09-2020, 12:41 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


गोऱ्या मांड्या आंटी च्याcalti basme sote samay cudai jarjastiसेकसी महिला नंगी बिना ब्रा पेनटी कपडो मे फोटु इमेज चुत भोसी चुदवाने की कहानिया saxxy cudai muvieacciममि बरोबर सिक्स मराठी हिडिओ XXX nude XXX photos bosssexbabaअम्मी चुत बेटे खेत चोद Pucyy kising reap sinec move काँख सुँघा चोदते चाचीहोली sex baba.netSamdhin ko daru pilake gand mara hindi kahanipenti chati kaki ne malish kar chodrain chudihindiactresssexbabaNenu amma chellai part 1sex storybaba kala land chusaबहन बेटी कीबुर चुत चुची की घर में खोली दुकानjabarjateexxx momwww.tamanna fucked story sex baba.comनागडे सेकसि भाबि फोटोholi sex karo jaMaa ne petticoat khol ke bete ko bola ki dekh le bete Apna janam sthan hindi big sexy khaniबहिणीचे दूध सेक्सी कथामै मेरा परिवार पेज 462 हिंदी सेक्स स्टोरीBolkar thokne wala hindi xxxसपना की चुत चैदीपटिआला मई मरि बुर ३गप वीडियोसअनूष्का शर्मा चुदाई .चुदाई स्टोरीxnxxxbifxxwww sexbaba net Thread aishwarya rai nude showing her boobs pussychutme land nhi ghusnevale xxx videoHavas khor chachi fuckingलडकी अपनि बुर कियो चकराती हॅharami sahukar sex babaचार आदमियो ने मिलकर रंडी चाची की चुदाई की पहली बार गांड में लंड घुसवा रही हूँमाँ ne apne बेटी की चुदाई karbai apne nukar से गंवारनगी बुर मे लड घुसता दिखयेJawan aurat pysa si kam karati hi sexy xxxमाँ कोठे पर ग्रुप में चुड़ती कहानीSexy parivar chudai stories maa bahn bua sexbabaलाडू सेक्सबाबाrinabahu in sexbaba. commery bhans peramka sex kahaniMarathi sexy babhi var devar romotik video hdsute larki burki code filimकुवारी चूत का टाँका कुत्ते ने तोडा netiya. menan. hd. huta. siase phtoMrunal thakur sexbaba wallpaper. Inसपने किरानी का Xnxकाकू काका सेक्स करताना बघितलेdesi 51sex video selfie comxxx 12 sal ki ladkeyu ke chudaixnxxxKitna aapXxxnPati ke sath video sexamyra dastur sex photo hot ngiभाभि की चुत मारी जेठ ने दरद से चिलाईBhabhi ki chudai petikot kholkar Hindi sex storyMajboor jnani di fuddi maarisex hendhe vedao bhabhe devar xxxनयी हिंदी चुत में फसायी सब्ज़ी की सेक्स स्टोरीजX 89 Indian sex virodh commumunn dutta nude photos hd babaMullaji ka land chusa kahanima mujhe nanga nahlane tatti krane me koi saram nhi krtiPasina Chutajay Asi Hot Sex Kahanixxxxx hd video Indian रंडी रिश्वत लेकर सेक्स करवाती है सेक्सी सूर्य से करवा दी चोरी सेxxxxxmyiewww sexbaba net Thread kamapisachi bollywood actresses nude naked picssex.baba.kahne.enरिशते चुची चुसीboor me jabardasti land gusabe walabahan sex story in sexbaba.comsex palwans lund underwear hindi filmmugdha chapeker lipkiss in xnxx videoलडकि पटाने का आयडीयाfuwa kesathxxx..com videobur chiudaiचौड़ी गांड़ वाली मस्त माल की चोदाई video hdHindi sex story begane shadi meफिलिम बियफ 8बुर हिनदीकोन लङकि अबि नहि अपनी बुर नहि चोदयी हे उसकि फोटोMalish karne waliwww.xxxmeniyul farari sex videokhala ko choda threadmaa ki moti gand maa beta sex kahani in hindi rajsharmamummy ne muth marte pkda yum story in hindidevrani ka jism sex babaरंडियों का कुत्ते बने भाई और बहिन होत खनि हिंदी मसाडी चडी बाडी खौलने वाली सेस विडीओभोसडा आणि गाण्ड झवलीbade tankae ladake sex vjdeo hdGohe chawla xxxphotsIndan aanty ke chut chatne ke xnxx hd videosmeri biwi aur behan part lV ,V ,Vl antervasnaMami aur bhanja ki chudai Kachi utaar ke nangi Karke film blue filmचुत का घमंड लंड ने थोङाsaasumaa damadjee xxx nxxnx fac video