Hindi Sex Stories By raj sharma
07-18-2017, 12:34 PM,
#91
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
“स्टोर रूम है ये यार मोंटी चल यहाँ से.”

“क्या पता कुछ काम का समान हो रुक तो गुल्लू.”

मेरी तो साँस ही अटक गयी. मुकेश भी तुरंत रुक गया. मगर वो ऐसी पोज़िशन में रुका था जबकि उसका लिंग सिर्फ़ सूपदे को छ्चोड़ का बाहर था. हम दोनो ही जड़ हो चुके थे. मुकेश ने धीरे से खुद को नीचे किया और उसका मोटा लिंग मेरे अंदर फिसलता चला गया. ये बिल्कुल स्लो मोशन में हुआ. उसके ज़रा ज़रा सरकते हुवे लिंग को मैने अपने छेद की दीवारों पर बहुत अच्छे से महसूस किया. जब वो पूरा अंदर आ गया तो ना चाहते हुवे भी हल्की सी आहह मेरे मूह से निकल गयी. “आहह.”

“तूने ये आवाज़ सुनी क्या मोंटी?”

“हान्ं यार सुनी तो, चल भाग यहाँ से ज़रूर यहा भूत है.”

और वो दोनो दरवाजा बंद करके भाग गये. अब शायद उपर कोई नही था.

“निकाल लो अब बाहर और मुझे जाने दो. मनीष मुझे ढूंड रहा है.”

“नही अभी नही अभी तो बहुत मारनी है.” और वो फिर से शुरू हो गया.

“बाद में मार लेना मैं कही भागी नही जा रही हूँ प्लीज़ अभी मुझे जाने दो.” मैं गिड़गिडाई.”

“बाद में तू नही देगी मुझे पता है. पीनू के साथ तूने जो किया क्या मुझे नही पता. तू रोज रोज नही देती अपनी. तेरा मूड होता है कभी कभी ये मैं जान चुका हूँ हिहीही. आज ही जी भर के मारूँगा तेरी मैं.”

और जालिम ने तूफान मचा दिया मेरे पीचवाड़े में. इतनी रफ़्तार से मारने लगा वो मेरी मासूम गांद को कि फ़च फ़च की आवाज़ होने लगी. कोई भी बाहर होता अब तो सुन सकता था.

“उउउहह बस भी करो आहह” और मैं फिर से झाड़ गयी.

“बस अब मेरी बारी है” और उसने रफ़्तार की चरम को छू लिया और फिर अचानक ऐसी पिचकारी छ्चोड़ी उसने कि मेरी गांद की दीवारे गरम गरम पानी में नहा गयी. ये गर्माहट मुझे बहुत गहरे तक महसूस हुई.

“आआहह बस रुक भी जाओ.” मैने कराहते हुवे कहा. मेरी योनि एक बार फिर पानी छ्चोड़ चुकी थी. अजीब बात थी गांद में तो मज़ा आ ही रहा था मगर मेरी चूत भी मस्ती में पानी बहा रही थी. यही बात शायद अनल सेक्स को ख़ास बनाती है. मैने मन ही मन सोचा.

उसने हान्फ्ते हुवे अपने लिंग को बाहर खींच लिया. मैं तुरंत लड़खड़ते कदमो से खड़ी हुई और तुरंत कपड़े पहनने लगी. जब मैने ब्लाउस, पॅंटी और पेटिकोट पहन लिया तो उसने मुझे बाहों में भर लिया और मेरे होंटो को अपने सुवर जैसे होंटो में जाकड़ कर चूसने लगा.उस से अलग हो कर मैने अपने कपड़े पहने और जल्दी से बाहर आ गयी. दोस्तो उस दिन मैं बाल बाल बची दोस्तो आपको ये कहानी कैसी लगी ज़रूर बताना आपका दोस्त राज शर्मा

समाप्त
-  - 
Reply

07-18-2017, 12:34 PM,
#92
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
सपना और ज्योति 

बात उस वक्त की है जब मैं बारहवीं क्लास में पढ़ रहा था। मेरी उम्र थी सत्रह साल। क्लास में मुझे सभी चिकना कह कर चिढ़ाते थे। इसका कारण था मेरा मासूम चेहरा। मेरा रंग बहुत गोरा था और दिखने में भी बहुत खुबसूरत था। लास की सभी लडकीयाँ मुझसे दोस्ती करने के लिए बेक़रार रहती थी। लेकिन मेरा स्वभाव बिलकुल अलग था। मैं बहुत शर्मीला था और इन बातों से दूर ही रहता था।
हम लोग जिस कालोनी में रहते थे उस कालोनी में हमारे दो पडोसी परिवार से हमारे परिवार की बहुत अच्छी पहचान थी। आपसी सम्बन्ध भी बहुत अच्छे थे। एक घर था सपना आंटी का और दूसरा ज्योति आंटी का। दोनों के पति मेरे पिताजी के ऑफिस में ही काम करते थे। सपना और ज्योति आंटी दोनों बला की खुबसूरत थी। दोनों की उम्र लगभग पच्चीस साल की थी। वे दोनों मेरा बहुत ख्याल रखती थी।
एक बार सपना आंटी के पति ऑफिस के काम से तीन दिन के लिए इंदौर गए। मुझे सपना आंटी के घर रात को सोने के लिए कहा गया क्यूंकि वो अब अकेली थी। मैं रात को उनके घर सोने के लिए चला गया।
कुछ देर तक हम दोनों पढ़ाई की बातें करते रहे फिर सपना ने कहा " चलो अब सोने चलते हैं। बहुत नींद आ रही है।" उनके बेडरूम में बड़ा पलंग बिछा हुआ था। हम दोनों उसी पलंग पर लेट गए। रात को सोते वक्त मुझे अचानक ऐसा लगा जैसे मेरे पास कोई है। मैं जाग गया । मैंने देखा सपना मेरे बहुत करीब सो रही है। कमरे में नाईट लेम्प जल रहा था। उसकी रौशनी में मैंने देखा सपना ने गहरे बैंगनी रंग की नाईटी पहनी है. उनका एक हाथ मेरे हाथ पर था । मैंने ज्यादा ध्यान नहीं दिया और फिर से सो गया ।
कुछ ही देर के बाद अचानक सपना के दोनों हाथ मेरे बनियान के अन्दर फिसलने लगे। मेरे बदन में एक सरसराहट दौड़ने लगी। मैंने सोचा वो नींद में ऐसा कर रही है। धीरे धीरे सपना के हाथ मेरे चेहरे पर पहुँच गए। मैं थोडा दूर हटने लगा तो सपना ने मेरे हाथ को कसकर पकड़ लिया और अपनी आँखें खोलते हुए बोली " तुम घबराओ मत। बस मेरे पास ही रहो।" मैं उठकर बैठ गया। सपना भी बैठ गई। मैंने देखा उसके नाईटी का गला पूरा खुला हुआ था और उसके स्तनों के ऊपर का बहुत बड़ा भाग साफ़ नज़र आ रहा था । सपना ने अपनी बाहें फैला दी और मेरे गले में डाल दी। वो अपना चेहरा मेरे चेहरे के एकदम करीब ले आई और मेरे गालों को चूमते हुए बोली " इतना डर क्यूँ मुझसे ? " उनके चूमने से मेरा बदन कांपने लगा। सपना ने अब मुझे अपनी बाहों में भर लिया और लेट गई। मेरी सारी ताकत ना जाने कहाँ चली गई और मैं अपने आप को उनसे छुड़ा नहीं सका। सपना ने मुझे कसकर अपने सीने से लगा रखा था। मैं उसकी गर्म छाती का दबाव साफ़ साफ़ महसूस कर रहा था।
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:35 PM,
#93
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
सपना ने एक बार फिर मेरे गालों पर एक बहुत गर्म और बहुत ही गीला चुम्बन जड़ दिया और बोली " क्या तुम इतना शर्मा रहे हो यार ! आज बड़ी मुश्किल से हमें मौका मिला है । तुम्हें पता है मेरी तुम पर कब से नजर है ? अब ये शर्मना वर्माना छोडो और ..." अब सपना ने मेरे बनियान को खोल दिया और अपनी नाईटी भी उतार दी। मैं उनके स्तनों को देखता रह गया। एकदम गोरा चमकता हुआ रंग और उतनी ही चिकनी चमड़ी। सपना ने गहरे लाल रंग की ब्रा पहनी थी । उस ब्रा से उसके उभार ऐसे लग रहे थे कि मेरा भी सब्र जवाब दे गया । सपना ने अब मेरे नंगे सीने पर अपने होंठ रख दिए और एक चुम्बन जड़ दिया । मेरे जिस्म में ऐसी बिजली दौड़ी कि मैं बेकाबू हो गया और सपना से चिपट गया. सपना को यही तो चाहिए था. वो बेतहाशा मुझे चूमने लगी. मैंने भी हिम्मत जुताई और सपना के गालों को चूम लिया. मेरा सारा बदन एक बार फिर सिहर गया. अब सपना ने मेरे होंठों को अपने होंठों से सी दिया. मैं मदहोश हो चुका था. मुझे अब बिलकुल होश ही ना रहा. हम दोनों ही अब एक दूसरे को चूम रहे थे. लगभग दो घंटों तक हमने यह खेल खेला और फिर थक कर सो गए. सवेरे जब मेरी आँख खुली तो मैंने देखा कि सपना मुझे लिपट कर ही सो रही है.
मैं अपने घर लौट आया. सारा दिन मैं हवाओं में उड़ता रहा. अब मुझे आज की रात का इंतज़ार था. रात भी आ गई. मैं आज फिर सपना के घर सोने के लिए गया. सपना ने मुस्कुराकर मुझे अन्दर आने के लिए कहा. वो मुझे सद्दा अपने बेडरूम में लेकर गई. फिर मुझे कहा " मैं थोडा फ्रेश होकर आती हूँ. बाज़ार गई थी इसलिए थक गई हूँ." मैं पलंग पर बैठ गया. कुछ ही देर में बाथरूम का दरवाजा खुअल और सपना बाहर निकली. सपना ने केवल ब्रा और पैंटी पहन रखी थी. लाल रंग की ट्यूबुलर ब्रा और वैसी ही पैंटी पहने वो काम की देवी रति लग रही थी. मैं बिना पलक झपकाए उसे देखता ही रहा. वो मेरे पास आई और मुझे तुरंत अपने कपडे उतरने को कहा. मैं सम्मोहित हो चुका था. बिना एक पल गंवाए मैंने केवल अंडर वेअर रखते हुए सारे कपडे उतार दिए. सपना का जिस्म संगमरमर का लग रहा था. मैं उसके सामने खड़ा हो गया. वो मेरे करीब आई मैंने उसके काँधे को धीरे से चूमा. उसने एक बहुत धीमी आह भरी. फिर मैंने उसके ब्रा के ठीक ऊपर के सीने को चूम लिया. उसने एक और आह भरी. अब मैंने उसके गालों को चूमना शुरू किया. वो फिसलकर मेरी बाहों में आ गई. अब उसने भी मुझे चूमना शुरू कर दिया. कुछ ही देर में हम दोनों के जिस्म वहां वहां से गीले हो गए थे जहाँ जहाँ हमने एक दूजे को चूमा था. अब सपना ने मेरे होंठों को एक गरम सांस के साथ चूम लिया. मैं रह नहीं पाया और मैंने भी उसके होठों को चूम लिया. अब सपना में अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल दी और मेरे मुंह की सारी नमी जैसे चूस गई. उसने मुझे भी ऐसा ही करने को कहा. जब मैंने अपनी जीभ उसके मुंह में डाली तो अचानक ही मेरा सारा शरीर थरथराने लगा. उसके मुंह में जैसे चासनी घुली थी. मैंने काफी देर तक उसके मुंह से उस चासनी को पिया. अब हम दोनों एक दूसरे की जीभ को आपस में सटाकर चूमने लगे. मेरी हालत लगातार ख़राब हो रही थी. सारा बदन काँप रहा था लेकिन सपना मुझे संभाले हुए थी. मैं अब काफी घबरा रहा था. अचानक सपना ने तकिये के नीचे से एक पैकेट निकाला. उसमे से उसने कोई चीज निकली और मेरी उन्देर्वेअर को खोलकर मेरे लिंग पर उसे कसकर चढ़ा दिया. फिर उसने अपने सारे कपडे उतार दिए. अब तो मैं उसके पुरे नंगे जिस्म को देखकर पुती तरह से पागल हो गया. सपना बिस्तर पर लेट गई. उसने अपनी दोनों टाँगे फैलाई और मुझे अपने ऊपर लिटा लिया. अब मेरा लिंग उसकी दोनों टांगों के बीच जा चुका था. उसने अपने हाथ से मेरे लिंग को अपनी टांगों के बीच के एक छिद्र में घुसा दिया. मुझे अचानक ऐसा लगने लगा मेरा लिंग अन्दर ऐसे घूम रहा है जैसे मेरी ऊँगली गाढ़ी मलाई की कटोरी में घूम रही है. सपना की आँखें बंद थी और चेहरे पर मुस्कान. वो मुझे लगातार अपनी तरफ दबाये जा रही थी. मैं भी लगातार दबे जा रहा था. धीरे धीरे मेरा लिंग उस छिद्र में बहुत दूर तक घुस गया. सपना ने मुझे अब लगातार गालों पर ; गर्दन पर , सीने पर चूमना शुरू किया. मेरे लिंग की गति भी अब बढ़ने लगी. तभी हम दोनों के शरीर एकदम से काँपे और हम दोनों के होंठ आपस में सिल गए. कुछ इस तरह सिले कि कोई नहीं कह सकता कि कहाँ जगह है. इसी तरह मेरा लिंग भी सपना के जननांग में आखिर हद तक पहुँच चुका था. सपना ने और मैंने आखिरी बार एक जोर से अपने आप को एक दूसरे कि तरफ धक्का दिया और मेरे लिंग में से बहुत जोर से कुछ निकलकर बहाने लगा. उधर मेरे और सपना के मुंह से भी लगातार मीठी चासनी एक दूसरे के मुंह में जा रही थी. हमारे दोनों के मुंह पूरी तरह से भीग चुके थे. होंठों से लगातार लार निकल रही थी. अब हम दोनों पूरी तरह से शांत हो चुके थे. हम लगाब्गाह दस मिनट तक बिलकुल हिल ना सके. मेरा लिंग उसी तरह सपना के जननांग में घुसा रहा. फिर हम अलग हुए. सपना ने कहा " आज पहली बार मुझे इस तरह से संतोष मिल है. अब हमारे पास एक दिन और है. कल फिर करेंगे. तुम ढेर सारा दूध पीकर आना. बहुत ताकत लगनी पड़ेगी. अब तुम बहुज्त थक चुके हो. चलो सो जाते हैं." हम दोनों प्री तरह से निर्वस्त्र एक दूजे से सट कर लिपटे हुए सारी रात एक दूसरे कि बाहों में और एक दूसरे के होठों को आपस में मिलाये हुए सो गए. हर तरह से ये एक यादगार मिलन था और सौ प्रतिशत सम्पूर्ण संभोग था.
अगली रात को भी सपना ने मुझे अपने साथ संभोग किया. लगभग सारी रात उसने मुझे नहीं सोने दिया. वो बार बार यह कहती रही कि इस तरह का अगला मौका बहुत मुश्किल से मिलेगा. मैं थक कर चूर हो गया. अगले दिन मैं अपनी कॉलेज भी नहीं जा सका. मेरा सारा शरीर टूट रहा था.
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:35 PM,
#94
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
अब जब भी सपना मेरे सामने आती तो हम दोनों उन तीन दिनों को याद कर मुस्कारा उठते. एक लम्बे समय तक हमें उस तरह का कोई मौका नहीं मिल पाया. हम दोनों बहुत तरस रहे थे लेकिन इसी तरह दो से अधिक महीने बीत गए. लेकिन सब्र का फल मीठा होता है. अब फिर मौका मिल गया था. मेरे एक नजदीक के रिश्ते के चाचा का रोड एक्सिडेंट में देहांत हो गया. पिताजी और मां को तीन-चार दिन के लिए हमारे गाँव जाना पद गया. सपना और ज्योति आंटी दोनों ने ही मां को भरोसा दिलाया कि वे मेरा चची तरह से ख्याल रखेगी. मैं और सपना मन ही मन बहुत खुश हो रहे थे कि एक बार फिर हमें साथ साथ रहने का मौका मिल जाएगा. मैं तो मन ही मन में योजनायें भी बनाने लग गया था.
जिस दिन मां और पिताजी गाँव चले गए उस दिन सपना ने ज्योति से कहा कि आज वो मेरे यहाँ सो जायेगी. ज्योति मां गई. सपना रात को करीब ग्यारह बजे मेरे घर पहुँच गई. क्यूनी उसके पति घर पर ही थे इसलिए वो साड़ी पहनकर आई थी और साथ में रात को पहने जाने वाले कोई और कपडे लेकर नहीं आई. मैं उन्हें देखते ही खिल गया. सपना ने भी आते ही मुझे अपने गले से लगा लिए और मेरे हाथ अपने हाथों में लेकर मेरे एकदम खड़ी हो गई. हम दोनों कुछ देर तक युहीं मुस्कुराते रहे. फिर हम दोनों ने एक दूजे अपनी बाहों में ले लिया. एक एक कर हमने एक दूसरे के सभी कपडे उतार दिए. सपना एक कंडोम छुपाकर अपने साथ लेकर आई थी. हम दोनों अब एक बार फिर संभोग में व्यस्त थे. सपना और मैं पूरा मजा ले रहे थे. सपना ने अधिक मजा आये इसके लिए कमरे की लाईट जली ही रहने दी. ज्योति देर रात को शायद पानी पीने के लिए उठी. उसने हमरे कमरे की लेत जलती देखि और घडी में रात के दो बजे का समय देखा तो वो ऐसे ही देखने के लिए हमारे कमरे की तरफ आ गई. हम तीनो के घर एक ही कंपाउंड में थे इसलिए बहुत ही करेब करीब थे. ज्योति ने हमारे कमरे की विंडो का दरवाजा धेरे से धकेल कर खोल लिया और अनार झाँका. ज्योति ने देखा की सपना नग्नावस्था म एलेती हुई है और मैं नग्नावस्था में उस पर लेटा हुआ हूँ. हम दोनों के लेटने और हिलने डुलने के तरीकों से उसने सब कुछ समझ लिया और वापस अपने घर की तरफ लौट गई. हमें कुछ पता नहीं चल सका. सवेरे करीब साढे तीन बजे तक हम दोनों संभोग में पूरी तरह से लिप्त थे. फिर सो गए.
जब मैं कॉलेज से दोपहर में घर लौटा तो ज्योति आंटी अपनी बालकनी में खड़ी थी. उसने मुझे आवाज देकर बुलाया और हालचाल पूछा. फिर उसने कहा " कल देर रात तक तुम्हारे कमरे की लाईट जल रही थी. पढ़ाई कर रहे थे क्या?" मैंने उनकी बात ही को आगे बढाते हुए कहा दिया " हाँ, मैं पढ़ रहा था." ज्योति ने फिर कहा " सपना भी तो वहीँ सोने के लिए आई थी ना. क्या वो भी जाग रही थी या तुम अकेले ही पढ़ रहे थे.?" अब मैं थोडा घबराया. फिर बात को सँभालते हुए बोला " सपना आंटी भी मेरी मदद कर रही थी." अब ज्योति के चेहरे पर एक तीखी मुस्कान आ गई. उसने कहा " अच्छा. वो तुम्हारी मदद कर रही थी! ये कैसा होम वर्क था जिसमे तुम और वो दोनों एक दूसरे के साथ बिना कपड़ों पर लेटे हुए थे? मुझे बनाने की जरुरत नहीं है. मैंने सब कुछ देख लिया है. अब आने दो भाभीजी को. सब कुछ बता दूंगी." मैं पसीने पसीने हो गया. मेरे चेहरे से हवाइयां उड़ने लगी. ज्योति ने मुझे अपने पास बुलाया और बोली " थोड़ी देर बाद आकर मुझसे मिलो." मैं अब पूरी तरह से डर गया.
दोपहर को करीब पांच बजे मैं डरते डरते ज्योति से मिलने गया. ज्योति मेरा ही इंतज़ार कर रही थी. मैं डरते डरते उनके सामने बैठ गया. कुछ देर तक वो मुझे डराती रही और डांटती रही. मैं चुपचाप उनकी सभी बातें सुनता रहा. आखिर में उसने कहा " तुम्हे एक शर्त पर माफ़ी मिल सकती है." मैंने ज्योति से कहा कि मुझे हर शर्त मंजूर है लेकिन मेरे घर में यह बात पता नहीं चलनी चाहिये. ज्योति ने मुझे अपने पास बुलाया और कहा " तुमने जो भी सपना के साथ किया है ना. वो सब कुछ मेरे साथ भी करना पडेगा " मैं एकदम सन्न रह गया. ये तो कुंए से निकलकर खाई में गिरनेवाली बात थी. लेकिन मन ही मन तो मुझे बहुत अच्छी लगी थी. मैंने डरते डरते कहा " हाँ. मैं तैयार हूँ लेकिन आप प्लीज मेरे घर में कुछ मत बताना." ज्योति अब खड़ी हो गई और मेरे एकदम पास आकर बोली " अब तुम्हें डरने की कोई जरुरत नहीं है." ज्योति ने धीरे से मेरे गालों पर एक छोटा सा चुम्बन दिया और बोली " अब तुम सपना के साथ साथ मेरे भी हो. जाओ अब घूम आओ. बाद में मिलते हैं " मैं जहाँ एक तरफ बहुत खुश था वहीँ दूसरी तरफ अब डरने भी लगा था कि इन सब के चक्कर में कहीं मेरे सारे राज़ ना खुल जाए.
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:35 PM,
#95
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
देर शाम को सपना ने मुझे खाने के लिए आवाज दी. मैंने सपना और उनके पति के साथ खाना खाया. सपना के पति ने कहा " तुम्हे कोई तकलीफ तो नहीं है ना. सपना तुम्हारा बराबर ध्यान रख रही होगी." मैंने ना में सर हिलाते हुए कहा कि सपना आंटी मेरा बहुत अच्छे से ख़याल रख रही है. मैं जब घर लौटने लगा तो ज्योति भी अपने घर के बाहर ही खड़ी थी. वो मुझे देखकर मुस्कुराई. मैंने शरमाकर अपना चेहरा झुका लिया. जब मैं अपने कमरे में चला गया तो खिड़की से देखा कि सपना और ज्योति दोनों आपस में कुछ बातें कर रहे हैं . दोनों के चेहरे पर कुछ तनाव है. मुझे थोडा डर लगा. दोनों के बीच बातचीत चलती रही फिर अचानक दोनों मुस्काराकर बात करने लगी और ऐसा लगा जैसे सारा तनाव और गुस्सा ख़त्म हो गया है. मैंने राहत की सांस ली. मैंने देखा कि सपना अपने घर में चली गई है. ज्योति मेरे घर की तरफ आई. मैं दरवाजे पर ही आ गया. ज्योति ने मुस्काराकर मुझे देखा और बोली " मेरी सपना से बात हो गई है. आज वो नहीं आएगी बल्कि मैं तुम्हारे साथ सोने के लिए आऊंगी. तुम तैयार रहना." मैं बहुत खुश हो गया और बोला " हाँ. अच्छी बात है."
रात के करीब ग्यारह बजे थे. ज्योति आ गई. हम दोनों मेरे बेडरूम में आ गए. ज्योति मेरे साथ ही सोफे की बड़ी कुर्सी पर बैठ गई. हम दोनों एक ही कुर्सी पर पर होने से एक दूसरे से बिलकुल चिपक कर बैठे थे. ज्योति का चेहरा मेरे बिलकुल सामने था. अमिन उसकी तुलना सपना से करने लगा. दोनों का रंग बहुत गोरा था. सपना चेहरे से कुछ शांत नजर आती थी जबकि ज्योति का चेहरा थोडा चंचल है. दोनों के गाल एकदम गोरे चिकने हैं. ज्योति के होंठ ज्यादा रसीले हैं. सपना के स्तन ज्यादा उभरे हुए हैं. ज्योति का बदन थोडा ज्यादा गठीला है जबकि ज्योति की कमर के नीचे की गोलाइयां ज्यादा अच्छी है. कुल मिलाकर दोनों एक दूसरे से कम नहीं है. दोनों ही बहुत कामुक और गरम है. दोनों की भूख बहुत ज्यादा है.
अब ज्योति ने मेरा हाथ पकड़ा और मेरे अधिक सट गई. उसकी गरम साँसे अब मेरी गरदन से टकराने लगी थी. मैंने हिम्मत दिखाई और उसके गालों का एक हल्का चुम्बन ले लिया. ज्योति ने भी ऐसा ही जवाब दिया. हम दोनों फिर लगातार गालों को चूमने लगे. अब ज्योति ने खुद के कपडे उतार दिए. उसने काल एरंग की बा और उसी रंग की पैंटी पहन रखी थी. मैं उसके जिस्म को निहारने लगा. उसके कमर के नीचे का हिस्सा अंडाकार था और किसी मूर्ति जैसी बनावट थी. मैं उन गोलाइयों को चूमने लगा. ज्योति ने मेरा सर अपनी कमर की गोलाइयों के पास ले जाने दिया और दोनों हाथों से दबा दिया. मैं ज्योति के गोरे बदन को यहाँ वहां चूमने लगा. ज्योति को बहुत मजा आने लगा था. मैंने उसकी कमर ; कमर के नीचे की गोलाइयां ; उसकी पीठ ; बाहें ; गरदन और गाल सब चूमे. फिर मैंने ब्रा के अलावा उसके सीने के सभी खुले हिसे को चूमना शुरू किया. ज्योति की आहें निकलने लगी थी और वो मेरे जिस्म से टकराकर फिसलने लगी थी. उसके अपने दोनों हाथ से मेरे कपडे खोलने शुरू ही किये थे की हमारा दरवाजा किसी ने खटखटाया. मैं काँप गया और सहम गया. मारे घबराहट क एपसीया छुटने लगा. क्या पिताजी और मां तो नहीं लौट आये दो दिन पहले ही. फिर सोच कि इतनी जल्दी वो आ ही नहीं सकते. आज बड़े सवेरे तो वे पहुंचे होंगे. ज्योति ने कहा " डरो मत. मैं बाथरूम में छुप जाती हूँ तुम देखो जाकर कौन आया है." ज्योति बाथरूम में चली गई.
मैंने आकर दरवाजा खोला. सामने सपना खड़ी थी. अब तो मैं बुरी तरह से घबरा गया. सपना ने मुझे पीछे धकेलते हुए कहा " इस तरह क्यूँ खड़े हो. चलो मुझे अन्दर आने दो. आज थोडा लेट हो गई. कल सवेरे वो जल्दी जानेवाले हैं ना इसलिए उनके कपडे तैयार कर रही थी. पता नहीं हमें रात को सोते वक्त कितनी देर हो जाए. वो तैयार होकर सवेरे खुद ही सीधे चले जायेंगे. तुम कल कॉलेज मत जाना. हम सवेरे भी साथ रहेंगे. अब सारी रात हमारी और सवेरा भी हमारा. खूब मजा आयेगा. चलो चलो भीतर चलो." वो मुझे लगभग धक्का देते हुए अन्दर आ गई. मेरा पसीना सूखने का नाम ही नहीं ले रहा था. हम दोनों बेडरूम में आ गए. पलंग पर मैंने देखा कि ज्योति के कपडे युहीं बिखरे हुए पड़े हैं. अब तो मेरा डर और भी बढ़ गया. तो क्या ज्योति केवल उन्ही दो कपड़ों में बाथरूम में चली गई है. अब क्या होगा. सपना को सब पता चल जाएगा. सपना ने ज्योति के बिखरे कपड़ों को हाथ में लेटे हुए कहा " ये साडी तो ज्योति की है. ये यहाँ कैसे आई?" मैं कुछ नहीं बोल पा रहा था. सपना ने बाथरूम की जलती हुई लाईट देखी और बोली " ज्योति शायद उसमे हैं. लेकिन वो यहाँ कैसे?" तुम क्या गूंगे हो गए हो?" सपना ने मेरी तरफ देखा और धीरे से बोली " उसे अन्दर ही रहने दो. आओ हम मिल जाते हैं."
क्रमशः....
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:37 PM,
#96
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
गतान्क से आगे................... 
सपना ने मेरे कपडे उतारने शुरू कर दिए. मैं जब केवल अंडर वेअर में रह गया तो उसने भी ब्रा और पैंटी को छोड़कर अपने बाकि कपडे उतार दिए. अब उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया और मुझे चूमने लगी. मैंने सोचा कुछ देर के बाद मैं सपना को सब बता दूंगा. फिर जो होगा वो देखा जाएगा क्यूंकि मैं अब फंस तो गया हूँ. बचने का कोई रात्सा है ही नहीं. तो बेहतर है सब कुछ बता देना ही. मैं और ज्योति दोनों पलंग पर लेट गए. मुझे ज्योति का साथ भी बहुत अच्छा लग आहा था. मैं बार बार उसके कमर के नीचे के हिस्से पर अपने हाथ फिरा रहा था. अब मैंने भी ज्योति को चूमना शुरू कर दिया. अचानक ज्योति ने मेरे होंठों पर चुम्बनों की बौछार कर दी. मैं पागल हो गया. उसका चुम्बन इतना गीला होगा मैंने कल्पना भी नहीं की थी. मैं बार बार उसे कसकर पकड़ता और वो मुझे उतने ही जोश और गर्मी से चूमती जाती.
हम दोनों इसी चूमाचाटी में खोये हुए थे की अचानक बाथरूम का दरवाजा खुल गया. मैं घबराकर इधर उधर देखने लगा. सपना बाहर निकालकर आ गई. वो ब्रा और पैंटी में ही थी. ज्योति ने मेरी तरफ देखा और बोली " तो तुम्हें अब इतना झूठ बोलना आ गया है. " सपना हमारे पलंग पर आकर बैठ गई और ज्योति से बोली " इसमें इसका कोई कुसूर नहीं है ज्योति; हम दोनों के कारण ही इसकी यह हालत हुई है. हम दोनों इसे कब से देखकर ललचा रहे थे. एक एक के हाथ तो ये आ गया था आज पहली बार हम दोनों को एक साथ ये मिला है. " मैं अब सब समझ गया कि हकीकत क्या है. इसका मतलब यह है कि ये दोनों ही मुझे पसंद करती है और मेरे साथ ये सब करना चाहती थी. ये बात इन दोनों को आपस में पता भी थी. ज्योति ने सपना का हाथ पकड़ा और बोली " अब तुम भी साथ आ जाओ." इतना कहकर ज्योति ने मुझे अपने से अलग किया और ज्योति को अपने साथ लिटा लिया. सपना ज्योति के पास सट कर लेट गई. अब दो बेहद खुबसूरत जिस्म मेरे सामने थे. दोनों के हर अंग में रस कूट कूट कर भरा हुआ था. दोनों ही ये सारा रस मुझे पिलाने को बेताब थी. अब ये मुझे देखना था कि मैं कितना रस पी पाता हूँ.

सपना ने मुझसे कहा " हमारे प्यारे चिक्कू; आओ." मैं सपना के ऊपर लेट गया. ज्योति ने करवट बदल ली और मेरे और सपना की तरफ मुंह कर लिया. उसने मेरा मुंह सपना के करीब लाकर उसके गालों से छुआ दिया. मैंने सपना को चूमा. सपना ने वापस मुझे चूमा. फिर ज्योति ने मुझे चूमा और मैंने ज्योति को. फिर सपना ने मेरे होंठ कम लिए. अब ज्योति ने अपने होंठ मेरे होंठों से मिला दिए. मुझ पर एक अलग तरह का नशा चढ़ने लगा. मैं सपनो की दुनिया में जा रहा था ऐसा मुझे लगा. सपना ने अब ज्योति को गालों पर चूमा. ये मेरे लिए बिलकुल नया अनिभव था. दो औरतों को आपस में इस तरह चूमता हुआ देखना. मेरे शरीर में एक सरसराहट सी फ़ैल गई. मुझे बहुत अच्छा लगा. मैंने उन दोनों को एक बार फिर यह करने के लिए कहा. उन दोनों ने एक बार फिर एक दूसरे के गाल चूमे. मुझे अचानक एक ख़याल दिल में आया. मैंने सपना के चेहरे को ज्योति के चेहरे के एकदम करीब ला दिया. वे दोनों मुझे देखने लगी. मैंने अब सपना के होठों की तरफ ज्योति के होंठ बढाए और अपने दोनों हाथों से दबाते हुए उन दोनों के होठों को आपस में मिला दिया. उन दोनों ही के मुंह से एक साथ एक आह निकली और उनका जिस्म हिल उठा. मेरे भीतर भी एक कर्रेंट दौड़ गया. उन दोनों के इस चुम्बन को देखकर मुझे इतना मजा आया कि मैं यहाँ शब्दों में नहीं लिख सकता.ऐसे लगा जैसे हर तरफ एक खुशबू फ़ैल गई और फूल ही फूल बरस रहे हैं. एक औरत के होंठ मनुष्यों के अंगों में सबसे कोमल भाग होता है. जब दो ऐसे कोमल भाग आपस में इस तरह मिल जाते हैं तो कैसा लगता होगा. ये मैंने आज देख लिया. अब मुझे इसे अनुभव करने की इच्छा होने लगी. मैंने उन दोनों के चेहरों को पास ही रहने दिया और अपने होंठ भी उन दोनों के होंठों के करीब ले गया. वे दोनों मेरी इच्छा समझ गई. उन दोनों ने भी अपने अपने होंठ मेरे होंठों की तरफ बाधा दिए. हम तीनों की गरम गरम सांसें एक दूसरे से टकराकर एक मदहोशी का आलम पैदा कर रही थी. अगले ही पल हम तीनों के होंठ आपस में मिल गए और पूरी तरह सिल गए. हम तीनों के जिस्म में जो बिजली दौड़ी उसने हम तीनों को ही तड़पाकर रख दिया. हम तीनों लगभग पांच मिनट तक इस नमी और बिजली की लहरों का मजा लेटे रहे. फिर हम अलग अलग हो गए.
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:38 PM,
#97
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
सपना ने ज्योति को इशारा किया और ज्योति ने तकिये के नीचे से कंडोम निकल लिया. अब सपना और ज्योति ने मेरे और फिर मुझसे उन दोनों के कपडे खुलवा दिए. हम तीनों अब पूरी तरह से बिना कपड़ों के थे. ज्योति और सपना ने मिलकर कंडोम मेरे लिंग पर चढ़ा दिया. सपना बोली " पहले ज्योति की बारी है. मैं तो कल कर चुकी." ज्योति ने अपनी टांगो को फैलाया और मैं उसकी तरफ बढ़ गया. अब मैं अपने लिंग वाले हिस्से को ज्योति की टांगों के बीच फंसा चुका था. कुछ देर में मेरा लिंग ज्योति के जननांग में घुस चुका था. वो भी उसी तरह से आह की आवाजें करने लगी जैसा सपना ने किया था. सपना हम दोनों को बड़े मजे से देखे जा रही थी. मैंने ज्योति के साथ लगभग आधे घंटे तक संभोग किया. फिर मेरे लिंग में से गाढ़ा रस निकलना शुरू हो गया और ज्योति का शरीर कांपने लगा. हमारे होंठ आपस में मुरी तरह से सिल गए. कुछ देर हम युहीं लेटे रहे फिर अलग हो गए.
करीब आधे घंटे के बाद एक बार फिर हम तीनो आपस में लिपट गए. एक बार फिर हम तीनों एक दूसरे को चूम रहे थे और जगह जगह पर पूरी जीभ से चाट रहे थे. हम तीनों के ही जिस्म ऐसे भीग गए थे मानो हम नहाकर आये हों. अब एक बार फिर सपना ने मेरे लिंग पर एक और कंडोम लगाया. अब हम तीनों पीठ के बल नहीं लेटे थे बल्कि टेढ़े लेटे हुए थे करवट बदलकर. मैं और सपना एक दूसरे की बाहों में थे और हम दोनों एक दूजे को चूम रहे थे. ज्योति मेरी पीठ के पीछे मुझे पकड़कर लेती हुई थी और मेरी पीठ और गरदन को चूम रही थी. मैं उन दोनों के बीच इस तरह से था जैसे कोई मसाला दो ब्रेडों के बीच आ गया हो और सैंडविच बन गया हो. अब मेरा लिंग सपन के जननांग में भीतर तक जा चुका था. काफी देर तक मैं सपना की हर तरह की इच्छा पूरी करता रहा. अब मैंने अपना लिंग सपना के जननांग से बाहर निकाला और अपनी करवट बदल ली. अब मैं ज्योति की तरफ मूड गया. अब मैं और ज्योति एक दूसरे को चूम रहे थे और सपना मेरी पीठ और गरदन को. अब ज्योति के जननांग के बहुत अन्दर तक मेरा लिंग घुस चुका था.ज्योति के जननांग के भीतर मेरा लिंग काफी देर तक घूमता रहा.
इसी तरह से मैं अपनी दिशाएँ बदलता गया और उन दोनों के जननांगो में अपना लिंग पूरी मजबूती से घुसाता और निकालता रहा. यह सब सवेरे लगभग पांच बजे तक चलता रहा. मैंने करीब पांच पांच बार उन दोनों के जननांगों को बुरी तरह से भीतर तक अपने लिंग को घुसाकर लाल लाल कर दिया था. अब सपना और ज्योति दोनों पूरी तरह से ताकत चूर हो चुकी थी. ताकत मेरी भी ख़त्म हो गई थी लेकिन मन अभी तक नहीं भरा था. मैंने एक बार फिर उन दोनों के ऊपर लेटकर उन्हें खूब चूमा और उन्होंने भी मुझे खूब मजे ले लेकर चूमा. आखिर में एक बार फिर हम तीनों के एक साथ अपने अपने होंठों को एक साथ चूसा. फिर हम तीनों को नींद आ गई. सवेरे करीब सात बजे ज्योति और सपना की आँख खुल गई जबकि मैं अभी तक सोया हुआ था कारण सबसे ज्यादा शक्ति मेरी ही ख़त्म हुई थी. उन दोनों ने मुझे जगाया. मैं सवेरे के उजाले में उन दोनों को नग्नावस्था में देख कर फुला ना समाया. उन दोनों का जिस्म दिन की रौशनी में बहुत जबरदस्त ढंग से चमक रहा था. वे दोनों अपने अपने घर चली गई. मैं सारे दिन बीती रात को याद करता रहा और यह सोचता रहा ना जाने अब मैं फिर से सैंडविच कब बनूँगा. दोस्तों फिर मिलेंगे एक और नई कहानी के साथ तब तक के लिए विदा आपका दोस्त राज शर्मा
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:38 PM,
#98
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
ये कैसी ट्यूशन है सर !!!

मैं एक हायर सेकण्डरी स्कुल में इंग्लिश पढाता हूँ. मेरी उम्र चालीस साल है. अपनी हेल्थ का पूरा ध्यान रखता हूँ इसलिए मैं अभी भी तीस - बत्तीस साल से बड़ा नहीं दिखाई देता. मेरी पत्नी भी नौकरी करती है. वो एक फैक्ट्री में मेनेजर है और सवेरे बहुत जल्दी चली जाती है. मैं अपनी स्कुल की छात्राओं में विशेष रूप से काफी लोकप्रिय हूँ.. लगभग हर छात्रा दिन भर मुझसे कुछ ना कुछ पूछने के बहाने स्टाफ रूम में या कहीं भी मिलने आती रहती हैं. मैं भी उन्हें हर तरह से मदद करता हूँ और इसी बहाने उन्हें काफी करीब से देख भी लेता हूँ. कुछ लडकीयाँ तो बहुत ही खुबसूरत हैं. कुछ लडकीयों का शारीरिक विकास बहुत अच्छा हुआ है. ऐसी लगभग पांच छः लड़कियाँ है. ऐसी ही एक लडकी है - साधना. साधना को देखकर कोई नहीं कह सकता कि वो बारहवीं में हैं. वो सत्रह साल की होने के बावजूद बीस बाईस साल की लगती है. उसके सीने का विकास किसी विवाहिता स्त्री से कम नहीं हुआ है. मैं अक्सर उसके उभारों को बहुत ललचाई नजरों से देखता हूँ. जब भी वो मुझसे मिलने आती है मैं यह कोशिश करता हूँ की स्कूल की युनिफोर्म की सफ़ेद कुर्ती का कोई बट्टन खुला हो और मुझे कुछ देखने को मिल जाय. साधना भी कई बार यह कोशिश करती कि किसी तरह वो मेरे नजदीक खड़ी रहे और मुझे वो छू ले. मैं भी यही कोशिश करता रहता हूँ.
हाफ ईअरली परीक्षाएं नज़दीक थी. लडकीयाँ लगातार कुछ ना कुछ पूछने के लिए आने लगी थी. कुछ लड्केयाँ घर पर भी आने लगी. एक दिन साधना सवेरे मेरे घर आई. मैं घर के बाहर बगीचे में एक कुर्सी पर बैठा था. मैंने टी शर्ट और हाफ पैंट पहन रखा था. साधना ने ढीला कुरता और जींस पहन राखी थी. साधना आकर मेरे सामने बैठ गई. मैं उसे समझाने लगा. साधना के कुरते के सरे बटन खुले थे. मैंने ध्यान से देखा. उसने कुरते के अन्दर कुछ नहीं पहन रखा था और उसकी उभरे हुए स्तन इधर उधर हिल रहे थे. कभी कभी वो कुछ ऐसी स्थिति में आ जाते कि मुझे साफ़ दिखाई दे जाते. मैं पूरा आनंद ले रहा था. साधना को भी इस बात का अहसास हो गया. वो थोडा और झुक गई. अब उसके कुरते का खुला हुआ हिस्सा पूरी तरह मेरे सामने था. मैं उसके उभार देखकर हैरान रह गया. मैंने मन ही मन सोचा इसकी कप साइज़ जरुर सी प्लस होगी. जब भी वो हिलते मेरा दिल अजीब तरह की तरंगों से भर जाता. जब साधना रवाना हुई तो उसने एक शरारत भरी नजर मुझ पर डाली और बोली " सर, जितना अच्छा आपको लगा उतना ही अच्छा मुझे भी लगा. मैं कल फिर आऊंगी." मैं मन ही मन कल के लिए योजना बनाने लगा.
अगले दिन साधना सवेरे आ गई. मेरी पत्नी जा चुकी थी. साधना ने स्लीव लेस टी शर्ट पहन राखी थी जिसका गला बहुत नीचे तक खुला था. उसके उभार आज बहुत ही साफ़ दिखाई दे रहे थे. नीचे उसने घुटनों तक का जींस पहन रखी थी. उसकी गठीली टांगें भी गजब ढा रही थी. हम दोनों कमरे में अकेले ही थे. उसने कुछ सवाल पूछे मैंने उसे समझा दिया. साधना अपनी नोट बुक में कुछ लिखने लगी. जैसे ही वो झुकी उसके उभार और भी खुलकर दिखने लगे. मैं भी उसे देखने लगा और वो भी नजरें चुरा चुराकर मेरी तरफ देखने लगी. अचानक हम दोनों की नजरें मिल गई. हम दोनों एक बार तो झेंपे लेकिन अगले ही पल साधना फिर मुझे टकटकी नजरों से देखने लगी. मैंने उसे कहा " तुम ऐसे कपडे क्यूँ पहनकर आई?" साधना बोली " मुझे अच्छा लगता है और आपको भी तो अच्छा लगता है ना!" इतना कहकर वो मुस्कुराने लगी. वो अपनी जगह से उठी और मेरे करीब आकर खड़ी हो गई. उसने मेरी तरफ देखा और बोली " सर; " मैंने उसे जैसे ही दूर रहने का इशारा किया उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और अपने स्तनों पर रख दिया और जोर से दबा दिया. मुझे तो अच्छा लगा ही लेकिन उसके मुंह से एक आह निकल गई. मुझसे अब रहा नहीं गया और मैंने उसे अपनी बाहों में भर लिया. साधना ने भी मुझे कसकर पकड़ लिया. अब मैंने उसके दोनों गालों को अपने हाथों से पकड़ा और उसके गालों को चूम लिया. उसके मुंह से एक और आह निकल गई. उसने मेरी टी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए. मैंने तुरंत अपनी टी शर्ट उतारी और उसके टी शर्ट को भी खोल दिया. मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और अपने बेडरूम में ले आया. मैंने उसे बिस्तर पर लिटाया और उसके स्तनों को धड़कता देखने लगा. वे मुझे पागल कर रहे थे. तभी साधना ने मेरी हाफ पैंट को खींच कर खोल दिया और इसके बाद उसने अपनी जींस भी खोल दी. मैंने जब उसकी जांघें और नंगी टांगें देखि तो मेरे होश उड़ गए. उसने अपने दोनों हाथ मेरी तरफ फैला दिए. मैं तुरंत उस पर लेट गया. अब हमारा दोनों का नग्न जिस्म आपस में मिल गया था और साँसें तेज तेज चलने लगी. मैं साधना को गालों और गले के नीचे चूमने लगा. साधना भी मुझे उसी तरह चूमने लगी. मैंने जैसा सोचा था साधना उससे कहीं ज्यादा गरम निकली.
-  - 
Reply
07-18-2017, 12:38 PM,
#99
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
लगभग एक घंटे तक उसने मुझे नहीं छोड़ा. आखिर में कॉलेज का वक्त नजदीक आता देखा मैंने उसे अपने से बड़ी मुश्किल से अलग किया. सारे दिन कॉलेज में हम दोनों नजरें बचाकर एक दूजे को देखते रहे और मुस्कुराते रहे.
लेकिन यह घटना मेरे चारों ओर एक ऐसा चक्रव्यूह बना देगी मैंने नहीं सोचा था. साधना अगले दिन फिर आई. आज भी हम दोनों बीते हुए कल की तरह फिर करीब आधा घंटा साथ लेटे. वो इस तरह से लगातार चार दिन तक आती रही. एक दिन जब वो आई और हम दोनों बिस्तर में थे तो उसने अचानक ही अपनी पैंटी खोल दी और मेरी अंडर वेअर भी खींच कर खोल दी. उसने फिर अपने पर्स से एक कंडोम निकाला और मुझे दे दिया. मैंने अब यह मौका गंवाना ठीक नहीं समझा. हम दोनों पूरी तरह से निर्वस्त्र एक दूसरे से चिपट गए. मैं साधना पर लेट गया. मैंने साधना के साथ उस दिन पहली बार संभोग किया. साधना के मुंह से पहली बार बहुत जोर से आहें निकली लेकिन फिर बाद में वो मुझ पर हावी हो गई. साधना अब मुझ पर लेती हुई थी और साडी हलचलें वो ही कर रही थी. पुरे एक घंटे के बाद भी वो नहीं थकी और मुझसे पूरा मजा लेती रही.
दो दिन साधना कॉलेज नहीं आई. मैं थोडा डरा. ऐसा लगा कि इस बात का किसी को पता तो नहीं चल गया है. लेकिन वो अगले दिन लौट आई तो मैंने रहत की सांस ली. अगले दिन कुछ लड़के लडकीयाँ मेरे घर पढने आये हुए थे. तभी साधना भी आ गई. उसके साथ और दो लडकीयाँ मैरी और हरप्रीत थी. उनको भी मैंने सभी के साथ पढ़ना शुरू किया. लगभग एक घंटे के बाद एक एक कर सभी रवाना होने लगे. लेकिन साधना उन दोनों के साथ यह कहकर रुक गई की उन्हें और कुछ भी पूछना है. सब के जाने के बाद मैंने उन तीनो के सवालों को समझाना शुरू कर दिया. मैं पानी पीने के लिए जब रसोई में गया तो साधना मेरे पीछे आ गई. उसने पीछे से मुझे बाहों में भर लिया और बोली " सर, आज भी मैं तैयार हूँ." मैंने चौंकते हुए कहा " पागल मत बनो. एक तो दो दो लडकीयों को साथ लेकर आई हो और ऊपर से कह रही हो तैयार हो?" साधना अब मेरे सामने आ गई. अब मैंने उसे बाहों में भर लिया और उसके गालों को चूमने लगा. वो बोली " मेर्री और हरप्रीत को भी मैंने सब बताया है. वे भी हमारे साथ रहेगी." मैं सकते में आ गया. ये क्या मुसीबत पैदा हो गई. मेरे चेहरे पर तनाव छा गया. साधना ने बेफिक्री से कहा " आप बिलकुल मत घबराइये सर. कुछ भी नहीं होगा." साधना मेर्री और हरप्रीत को लेकर मेरे बेडरूम में आ गई. साधना ने मैरी के टी शर्ट को खोला और मुझे उसकी ब्रा दिखाते हुए बोली " सर ये भी आपसे ....." मैंने देखा मैरी का रंग साधना से भी ज्यादा गोरा है. उसके स्तन जरुरु साधना जितने विकसित नहीं हुए थे लेकिन उसका आकार छोटा होने के बावजूद सेक्सी लग रहे थे. उसकी सफ़ेद रंग की ब्रा में से उसके स्तनों को देखते ही मैं मुस्कुराया. सह्दना ने मेरी के स्तनों को छुआ. मेरी तड़प उठी. अब साधना ने हरप्रीत की कमीज उतार दी. हरप्रीत के स्तन साधना से थोड़े ही छोटे थे लेकिन उसके गुलाबी रंग ने मुझे दीवाना बना दिया था. उन तीनों ने अब अपने आप को केवल ब्रा और पैंटी तक ही रख लिया था. साधना आगे आई तो मैंने भी अपने सरे कपडे उतारे केवल अंडर वेअर रखा. साधना ने मुझे जैसे ही अपने से लिपटाया मेरी और हरप्रीत के जिस्मो में एक अलग तरह की हरकत होने लगी. साधना और मैंने जब एक दूसरे के होठों को चूमा तो मेरी ने हरप्रीत को कसकर पकड़ लिया. मैंने हरप्रीत का हाथ पकड़ा और अपनी तरफ बुला लिया. साधना ने मैरी को अपनी तरफ बुलाया. अब मेरे सामने साधना थी, बायीं ओर मैरी तथा दायीं ओर हरप्रीत. इन मैंने अपने दोनों हाथो को फैलाया और मैरी तथा हरप्रीत को साधना के साथ अपने से लिपटा लिया. एक साथ तीन तीन कच्ची कलियाँ मेरी बाहों में थी. मैंने साधना के बाद हरप्रीत और मैरी को भी चूमना शुरू किया. उन दोनों ने भी मुझे चूमा. एक वक्त ऐसा भी आया जब हम सभी एक दूसरे को चूम रहे थे. तभी साधना ने फोर वे किस करने के लिए कहा. हम सभी के होंठ एक दूसरे से सट गए और फिर हम सभी एक साथ रस पान किया. मैंने एक एक कर तीनों की पैंटीज पर हाथ रखा तो तीनो की गीली हो चुकी थी. अब सभी अपनी अपनी चरम सीमा पर थी. साधना ने एक बार फिर मुझे कंडोम थमा दिया. मैंने साधना के जननांग में अपना कंडोम लगा हुआ लिंग धकेल दिया. आज हम दोनों को ही जबरदस्त आनंद आ रहा था. साधना को बहुत ही गुदगुदी हो रही थी. मैरी और हरप्रीत एक दूसरे से सट कर बैठी हुई हम दोनों को संभोग करता देख रही थी. लेकिन वे दोनों हिम्मत नहीं जुटा पाई..लगभग एक घंटे के बाद तीनों लौट गई .
-  - 
Reply

07-18-2017, 12:38 PM,
RE: Hindi Sex Stories By raj sharma
परीक्षाएं शुरू हो गई थी. मेरा उन तीनो से मिलाना नहीं हो पा रहा था, मैं मैरी और हरप्रीत से संभोग की राह देख रहा था. दस दिन के बाद परीक्षाएं ख़त्म हुई. साधना अगले ही दिन दोपहर में उन दोनों के साथ मेरे घर आ गई. साधना ने आते ही कहा कि आज ये दोनों भी तैयार होकर आई है. हम चारों बेडरूम में आ गए. मैंने उन तीनो के कपडे उतार दिए. फिर तीनों ने मिलकर मेरे सारे कपडे उतार दिए. साधना ने मेरे लिंग पर कंडोम लगा दिया. फिर साधना सबसे पहले गद्दे पर लेट गई. मैं उस पर लेट गया और उसकी टांगों को को मैंने अपने हाथों की मदद से फैला दिया और अपना गुप्तांग उसके जननांग में एक झटके से ठूंस दिया. साधना की एक जोर से चीख निकल गई. लेकिन वो मुझसे चिपटी रही. मैंने उसके जननांग को अपने गुप्तांग से लगभग एक घंटे तक अन्दर बाहर कर के खूब रगडा और पूरा पूरा मजा लिया. साधना तो पूरी तरह से मदहोश होकर मजा लेटो रही और आहें भर भर कर अपनी दोनों सहेलियों को भी उत्साहित करती रही. लेकिन मैरी और हरप्रीत हिम्मत नहीं जुटा पाई. साधना संतुष्ट होकर और मेरे होंठों पर एक गहरा चुम्बन देकर उन दोनों को लेकर चली गई. एक बार फिर मैं मैरी और हरप्रीत से संभोग नहीं कर सका.
दो दिन के बाद एक बार फिर साधना मैरी और हरप्रीत के साथ आई. आज मैरी ने अपने कपडे उतारे और पलंग पर लेटते हुए कहा " सर आज मैं तैयार हूँ." मैं खुश हो गया. मैंने तुरंत साधना से कंडोम लिया और मैरी से लिपट गया. मैरी ने मरे घबराहट के मुझे जोर से पकड़ लिया. मैंने उसके जननांग के दरवाजे को अपने लिंग से खोल दिया. उसकी आह और चीख एक साथ निकली.लेकिन अगले दो मिनट के बाद वो पूरी तरह से सामने होकर मुझसे अपनी प्यास बुझवा रही थी. हरप्रीत बहुत गौर से यह सब देख रही थी क्यूंकि अगला नंबर उसका था. उसके साधना को पकड़ रखा था और बार बार उससे चिपट रही थी. जब मैरी ने और आगे करवाने में अपनी मजबूरी जताई तो मैंने उसे छोड़ दिया. अब मैंने हरप्रीत को ले लिया. हरप्रीत थोड़ी मजबूत निकली. मैरी केवल दस मिनट के बाद ही अपनी हार मान चुकी थी जबकि हरप्रीत ने पूरे आधे घंटे तक अपने जननांग को मेरे लिंग से खूब रगड़वाया और भरपूर मजा लिया. आखिर में साधना ने भी मुझे पकड़ा. अब मेरी हालत थोड़ी पतली हो रही थी. लेकिन साधना की जिद के आगे मैं मजबूर था. साधना आज तीसरी बार मेरे साथ थी,. मैंने रुकते ठहरते साधना के जननांग को पूरे पौने घंटे तक रगड़ कर और अन्दर बाहर करकर पूरी तरह से लाल कर दिया.
जब तीनों रवाना होने लगी तो साधना ने फोर वे किस करने को कहा. हम सभी ने इस किस को जबरदस्त मजे से किया.
अब जब भी समय और मौका मिलाता है ये तीनो एक साथ ही मुझसे इस ट्यूशन के लिए आ जाती है और घंटों तक रुककर अपनी और मेरी सारी प्यास बुझा जाती है. आप भी ऐसी ट्यूशन करिए खूब मजा आयेगा दोस्तों फिर मिलेंगे एक और नई कहानी के साथ तब तक के लिए विदा आपका दोस्त राज शर्मा
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई 29 309,276 37 minutes ago
Last Post:
Lightbulb Mastaram Kahani कत्ल की पहेली 98 6,877 10-18-2020, 06:48 PM
Last Post:
Star Desi Sex Kahani वारिस (थ्रिलर) 63 4,949 10-18-2020, 01:19 PM
Last Post:
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी 264 875,734 10-15-2020, 01:24 PM
Last Post:
Tongue Hindi Antarvasna - आशा (सामाजिक उपन्यास) 48 14,849 10-12-2020, 01:33 PM
Last Post:
Shocked Incest Kahani Incest बाप नम्बरी बेटी दस नम्बरी 72 50,250 10-12-2020, 01:02 PM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani माँ का आशिक 179 158,226 10-08-2020, 02:21 PM
Last Post:
  Mastaram Stories ओह माय फ़किंग गॉड 47 36,900 10-08-2020, 12:52 PM
Last Post:
Lightbulb Indian Sex Kahani डार्क नाइट 64 13,679 10-08-2020, 12:35 PM
Last Post:
Lightbulb Kamukta Kahani अनौखा इंतकाम 12 56,024 10-07-2020, 02:21 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 9 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


antarvasna ananya pandey actorseksxxxbhabhiपापा के लड का जूसxxxxbahe picsभाबीई की चौदाई videoxxx seks mst hanmun dasibfxxx viseo खुल्लम-खुल्ला और जबरदस्ती वाली जिस पर खून निकल जाता हैNeha kakkar nude ass hol sexbaba photosTV.ACTRESS.SABATA.TAWERI.NAGA.SEX.POTHOचालू भाभी सेक्सी मराठी कथा kahani baris me bhigane ke bad shabnam bhabhi ne chudvaihavili saxbaba antarvasnaकाका ने रात्री मालिश केली व संभोग केलाफोटोके साथ मा चुदाइ कि कहानीपाकीसतानी रँडीयो की चुत लंड वाली सकसि विडयोस दिखायेಲಂಗछोटी लडकी जो 15साल कि हो उसकी योनी दिखयेsotuha akatrs anusk sahty xxxbf boob 2019 photuजकलीन चडडी मे फोटोबुर का और लार का फोटो देखाएMumbai land chusa ke girane wala BFchhupkr chudai ki hindi kahanoyanसिलफासेठीकीऐडलसेकसीविडियोबुर की चुदाइ मेँ लंड कितना अंदर जाता है और चुची का कया महतवnind me bubs dabaye hindi sex storyएक दुसरे के ऊपर सोए पती पतनीसेकसीDesi aunty tatti karati nude imageJo ladkiyan Legi pehen ke bf banate Hue unke BF xxxviboक्सक्सक्स सस्य वैदयदेसी माँ की दहकते बदन की गरमा गरम बुर छोडन की गाथा हिंदी मेंlodo thulo xexx.tvyuwtiya hips photosalavar pahene vakt sex didiरानी मुखरजी की बड़ी हाट की बुर की चोदाई की फोटोsouth acters sexbabakamsinbahu sexstoryshrenu parikh nude pics sex babaनँगी गँदी चटा चुची वाली कुछ अलग तरीके वाला तस्वीरे/Thread-muslim-sex-%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A5%80%E0%A4%AE-%E0%A4%9C%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%A6-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B0%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A5%80%E0%A4%A8-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%81?pid=46946mummy ne apni panty de sunghneWww sonarika bhadoriya xxxxx bulu comMarathi bhabhi ki Rula Rula kar kitchen Mein Khade Khade chudai videoफुदी तिती सैकसी विडीयोgandi gali de kar train me apni chut chudbai mast hokar sex storywww rajsharma हिंदी सेक्स उपन्यासोंrangela bhabe ke chut ke video dekhabeकाजलआग्ररवालनासेकसिकपडाउतरेलाफोटाsax desi chadi utarri fuk vidoसीम की चूत क।रस चखी औkannada actress sexy fake sexybabaThamanna nedu nange flicking pictures six baba page 81. Comfalaq naaz ki nangi photoswww.hindisexstory.sexbabbawww.sax.sistar.doctar.nikarbra.videosTight jinsh gathili body mai gay zim traner kai sath xxxxnxx 2 indian 2.9 mb videosदेसी लौंडिया लौंडा की च**** दिखाओnew.hinde.sax.baba.kahniMuslim chuddakar pariwar incest sex story in Hindiaunty ne sex k liye tarsayabahan ke pal posker jawan kiya or use chut chudana sikhaya kahani.www.sexbaba.net/Thread-hin...परिवार में सलवार खोलकर पेशाब पिलाने की सेक्सी कहानियांमा योर बेटा काbf videoxxx हिनदी मैkeerthi suesh kee ngi photoबीबी की मोटे काले लण्ड से चुदने की तमन्ना पूरी कीhindiactresssexbabachudakkadsaas.rajsharma.comyaar tera hubby ahh uii chodowww.sex.sistr.bhothrdr.comवहिनीसोबत सेक्सी बोलन कथापढाई के नाम पर मचाया रंडी जोड़ने का खेलimgfy net katrina kaif porn photo view jpeg images