Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
08-31-2018, 04:25 PM,
#1
Star  Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
फ्रेंड्स ये कहानी अशोक की लिखी हुई है जो दूसरे फोरम पर चल रही है मैं इसे आपके लिए इस फोरम पर पोस्ट कर रहा हूँ

इस कहानी का क्रेडिट लेखक अशोक को जाता है

1 ********** इसका नाम है अजय, देखने मे स्मार्ट, बिल्कुल बॉलीवुड एक्टर वरुण धवन जैसा... अजय 25 साल का नवयुवक है जो गुडगाँव की एक मल्टिनैशनल कंपनी मे काम करता है, सैलरी है 40000 ,माँ -बाप तो गाँव में रहते है उसके बड़े भाई और भाभी के साथ, जिन्हे ये हर महीने मिलने चला जाता है...वहाँ काफ़ी ज़मीने और खेत है इनके जिन्हे बड़ा भाई और उसके पिता संभालते है, उन्हे अजय के पैसों की ज़रूरत नही पड़ती, और इसलिए अजय अपनी कमाई के सारे पैसे खुद पर ही लुटाता है ... दिल्ली के विकासपुरी में एक बिल्डर फ्लोर किराए पर लेकर रह रहा था अजय, 3 बेडरूम का काफ़ी बड़ा फ्लेट था वो..अडोस पड़ोस के लोग भी काफ़ी मिलनसार थे, और मकान मालिक नीचे के फ्लोर पर रहता था..लगभग एक साल हो चुका था अजय को वहां रहते हुए. वो जहाँ रहता था, वो पूरी गली एक से बढ़कर एक भाभियों और उनकी जवान बेटियों से भरी पड़ी थी... और इस एक साल में उसने आस पास की हर लड़की और भाभी को अच्छी तरह से जाँचा - परखा था.. यानी, अपनी आँखो से..किसी के साथ ज़्यादा बोलकर वो अपनी इमेज खराब नही करना चाहता था..लेकिन था वो बड़ा ही घुन्ना टाइप का बंदा.. रोज रात को उनके बारे में सोच-सोचकर वो जोरदार मूठ ज़रूर मारता था.....ग़जब का स्टेमीना था उसका..सुबह ऑफीस जाने से पहले और रात को सोने से पहले वो मूठ मारता था....ये उसका लगभग रोज का नीयम था. नहाते हुए वो आँखे बंद करके भाभियों और उनकी बेटियों के बारे मे सोचता और मूठ मारता...अपने ख़यालो मे बस यही सोचता रहता की वो अगर मिल जाए तो कैसे मारेगा उसकी..क्या - क्या करेगा.. उसने आज तक अपनी लाइफ में किसी के साथ भी सैक्स नहीं किया था और सबसे ज़्यादा वो सोचता था अपने पड़ोस मे रहने वाली रजनी आंटी के बारे मे..जो लगभग 45 साल की थी..पर लगती थी सिर्फ़ 35 की ...हल्का भरा हुआ सा शरीर बिल्कुल जूही चावला जैसा.. उनके 3 बच्चे थे, एक बड़ा लड़का, जिसकी शादी पिछले साल ही हुई थी, वो अपनी बीबी के साथ मुंबई में रहता था..और 2 लड़कियाँ जो अभी कॉलेज में पड रही थी, दोनो पूना में पढ़ती थी ..घर पर सिर्फ़ वो अपने पति के साथ रहती थी..इसलिए अक्सर वो अजय के साथ घंटों छत पर गप्पे मारती रहती..और अजय का ध्यान तो बस उसके बड़े-2 मुम्मों पर ही रहता था.. रजनी को अजय काफ़ी पसंद था...वो उसके लिए अक्सर घर का बना खाना भिजवाती रहती थी...और हमेशा उसे शादी करने की भी सलाह देती रहती थी.. पर वो शायद नही जानता था की इन सब बातों के पीछे रजनी भाभी की क्या मंशा है.. एक दिन संडे मॉर्निंग अजय के दरवाजे पर दस्तक हुई , उसने टाइम देखा तो सिर्फ़ 8 बजे थे, आज तो उसने 10 बजे तक सोने का प्लान बनाया था.. उसने झल्लाते हुए दरवाजा खोला तो सामने रजनी भाभी खड़ी थी.. इतनी सुबह उन्हे देखकर वो हैरान रह गया. रजनी : "सॉरी अजय, बट तुम्हे मेरे साथ अभी रेलवे स्टेशन चलना पड़ेगा....मेरी दोनों बेटियां आ रही हैं पूना से, मैने कैब बुक करवाई थी और वो अभी तक नही पहुंची ...और उनकी ट्रेन के आने का टाइम हो रहा है...'' अजय उन्हे किसी बात के लिए मना नही कर सकता था, इसलिए जल्दी से तैयार होकर वो उनके साथ चल दिया..कुछ ही देर में वो स्टेशन पहुँच गए । रजनी भाभी अंदर चली गयी और वो बाहर कार में बैठकर उनका वेट करने लगा.. कुछ ही देर मे उसे रजनी आंटी और उनकी दोनो लड़कियाँ आती हुई दिखाई दी... और उन्हे देखकर अजय की आँखे फटी की फटी रह गयी.. ये लड़कियाँ एक साल में ही कैसे इतनी जवान सी हो गयी हैं.. दोनो की उम्र में 3 साल का फ़र्क था.. बड़ी वाली का नाम था प्राची, स्लिम ट्रिम सी, स्कर्ट और स्लीवलेस टॉप पहना हुआ था उसने , और काफी सेक्सी लग रही थी वो और छोटी का नाम था पूजा, . जीन्स के उपर टी शर्ट पहनी हुई थी..और उसका चेहरा बड़ा ही क्यूट सा था प्राची एम बी ए के फाइनल ईयर में थी और पूजा बी बी ए के फाइनल ईयर में






दोनो लगभग भागती हुई कार की तरफ आई, जिसकी वजह से अजय ने उन दोनो के उछलते हुए मुम्मे देखकर एक दूसरे से कंपेयर करना भी शुरू कर दिया.. प्राची भले ही बड़ी थी, पर उसकी ब्रेस्ट पूजा के मुक़ाबले छोटी थी..पर थी पूरी तनी हुई सी..बिल्कुल दीपिका पादुकोंन जैसी.. दोनो दौड़ती हुई सी कार के पास पहुँची और प्राची जल्दी से आगे वाली सीट पर आकर बैठ गयी..और चिल्लाई : "मैं जीत गयी....याहूऊऊऊऊऊ...'' उसके चेहरे की खुशी देखकर अजय भी बिना हँसे रह नही पाया.. आज अजय उन दोनो को लगभग एक साल के बाद देख रहा था, इन दोनो को उसने रजनी भाभी के बेटे की शादी में देखा था, एक साल पहले, और वो नया-2 ही आया था उनके पड़ोस में , फिर भी उसको इन्वाइट किया था भाभी ने.. तब में और अब में काफ़ी फ़र्क आ चुका था इन दोनो के शरीर में ...ये पुणे की हवा ही शायद कुछ नशीली सी है..जो लड़कियों को इतनी जल्दी जवान कर देती है. खैर, सभी को लेकर अजय घर पहुँचा, रास्ते भर दोनो बहनें अपने-2 कॉलेज की बातें उन्हे सुनाती रही.. और तभी अजय को पता चला की प्राची की तो पड़ाई ख़त्म हो चुकी है और अब वो जॉब करेगी..पूजा भी आगे की पढ़ाई यानी एम बी ए अब दिल्ली में रहकर ही करना चाहती है.. यानी अब उन्हे रोज-2 देखने का मौका होगा अजय के पास.. कुछ ही दिनों में प्राची की जॉब गुडगाँव में एक अच्छी कंपनी में लग गयी..और अजय के ऑफीस के बिल्कुल पास ही था उसका ऑफीस भी.. और पूजा का एडमिशन भी गुडगाँव के एक अच्छे इंस्टिट्यूट में हो गया... इसलिए अब अजय को एक और ड्यूटी मिल गयी, उन दोनो को एक साथ लेकर जाने की...और शाम को प्राची को वापिस लाने की भी...पूजा तो दोपहर तक वापिस आ ही जाती थी अपने आप.. और इन दिनों में अजय ने अच्छी तरह से आँखे सेंक-2 कर उन दोनो बहनों की कच्ची जवानी को देखा-परखा .. एक दिन अजय को रजनी भाभी ने अपने घर बुलाया वो वहाँ पहुँचा तो देखा की रजनी भाभी और उनके पति सोफे पर बैठे है अजय जैसे ही उनके साथ बैठा, रजनी भाभी ने उसके उपर बंब फोड़ दिया "देखो अजय ...मैं घुमा फिरा कर बात नही करती...मैं चाहती हू की हमारी बेटी प्राची की शादी तुमसे कर दे...अगर तुम्हे कोई प्राब्लम ना हो तो आज ही हम दोनों तुम्हारे माँ बाप से बात कर लेते हैं...'' अजय के तो होश उड़ गये...उसने ये एक्सपेक्ट ही नही किया था ... मतलब प्राची के बारे में उसने मन में सोचा तो बहुत कुछ था, पर शादी का आइडिया दिमाग़ में नही आया था कभी... वैसे उसमे कोई कमी नही थी...जवान थी, खूबसूरत थी...और वो लोग भी पंजाबी ही थे अजय की तरह...पर उसने इतनी जल्दी शादी करने की सोची नही थी...
-  - 
Reply

08-31-2018, 04:25 PM,
#2
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
पर अभी शादी नही की तो कब करेगा...आज तक वो सिर्फ़ दूर से ही ललचा कर लड़कियों और भाभियों को देखता रहता था...और उसने नोट भी किया था की अकेले छड़े लड़के होने की वजह से कई बार गली की भाभियाँ और लड़कियाँ उससे बात करने से भी कतराती थी...

रजनी : "देखो अजय...तुम मुझे शुरू से ही पसंद थे...बस अपनी बेटी के वापिस आने का वेट कर रही थी...अब वो जॉब कर रही है, सेट्ल हो गयी है...और सबसे बड़ी बात वो भी तुम्हे पसंद करती है, मैने उससे पूछ कर ही तुमसे बात की है...वो हमारी लाडली बेटी है, इतने साल पुणे में रहने के बाद कहीं दूर भेजने का मन नही है, यहीं पड़ोस में रहेगी तो मेरा भी मन लगा रहेगा और तुम्हारे साथ रहकर वो अपनी जॉब भी कंटिन्यू रख सकती है...''

एक ही साँस में उसने अपनी पूरी योजना अजय के सामने रख दी...वैसे देखा जाए तो बात सही भी थी...

अजय के सामने मना करने का कोई कारण नही था....उसने शरमाते हुए हाँ कर दी..

प्राची भी किचन में खड़ी सब देख और सुन रही थी, ये सुनकर उसका चेहरा भी लाल सुर्ख हो उठा 

और कुछ ही दिनों में अजय ने अपने माँ बाप और भाई भाभी को वहाँ बुलाकर रजनी भाभी की फेमिली और प्राची से मिलवाया..कोई कमी तो थी नही किसी में भी, इसलिए सब कुछ जल्द ही तय हो गया...और 3 महीने के अंदर ही उन दोनो की शादी भी हो गयी...

ये सब अजय के लिए एक सपने जैसा था..

पर आज था उसकी जिंदगी का वो दिन, जब वो किसी लड़की को पहली बार चोदेगा ...

यानी उसकी सुहागरात..

अजय जब अपने कमरे मे दाखिल हुआ तो फिल्मी सीन की तरह प्राची बेड पर घूँघट निकाले बैठी थी...पूरा कमरा फूलों से सज़ा हुआ था...सुहाग की सेज सजी हुई थी...

उसने दरवाजा बंद किया और उसके पास जाकर बैठ गया..

कितना अजीब लग रहा था उसको, इतने दिनों से दोनो एकदुसरे से मिल भी रहे थे, एक साथ ऑफीस आ-जा भी रहे थे, पर अभी दोनो काफ़ी नर्वस से लग रहे थे..

अजय ने हिम्मत करते हुए उसका घूँघट उठा दिया...खूबसूरती की मूरत लग रही थी वो...और उसकी आँखे झुकी हुई थी..



अजय ने उसकी ठोडी पर उंगली रखी और उसके चेहरे को उपर किया...और आगे बढ़कर उसके लबों को चूम लिया..

प्राची अपने आप में सिमट कर रह गयी..और उसके मुँह से गहरी-2 साँसे निकलने लगी..

अजय ने उसे लिटाकर उसके लबों को और चूसना चाहा, तभी प्राची ने उसे रोक दिया.

प्राची : "देखो अजय...एकदम से ये सब शुरू मत करो...गिव मी सम टाइम ....''

अजय समझ गया की वो शायद घबरा रही है....दिल तो उसका भी काफ़ी तेज धड़क रहा था..ऐसी मस्त बीबी जो मिल गयी थी उसको..

अजय : "ओह...आई एम सॉरी .... मुझे भी एकदम से ये सब नही करना चाहिए... चलो पहले चेंज करते हैं फिर कुछ बातें कर लेते हैं ...''

प्राची का चेहरा खिल उठा, अजय को अपनी बात मानता देखकर ..और वो उठकर बाथरूम में चली गयी चेंज करने..

अजय ने तब तक अपनी शेरवानी उतार कर कुर्ता पायजामा पहन लिया और बेड पर लेट गया..प्राची भी एक सेक्सी सी रेड कलर की नाइट ड्रेस पहन कर बाहर आ गयी...और अजय की बगल में आकर लेट गयी...उसकी बाहों में ..

प्राची के नर्म शरीर को अपने से समेटकर अजय का मन फिर से बहकने लगा..पर फिर भी थोड़ी बहुत बातें करने की फॉरमॅलिटी तो करनी ही थी...इसलिए कुछ अच्छी बातें जैसे, मैं तेरा ध्यान रखूँगा, कोई प्राब्लम हो तो मुझे बताना, जो लेना हो ले लिया करना, अजय करता रहा .....और वो चुपचाप उसकी बातें सुनती रही...

और अंत में वो बोली : "मुझे तुम जैसा समझदार पति मिला, मुझे इस बात की खुशी है...बस हमेशा मुझे प्यार करते रहना...जैसा की हर एक पत्नी चाहती है...और हमेशा मेरे ही बन कर रहना...समझे..''

लास्ट का वर्ड समझे उसने थोड़ा डराने वाले अंदाज में बोला था...

अजय : "इसका क्या मतलब है...तुम मुझे धमकी दे रही हो...''

प्राची (मुस्कुराते हुए) : "अब इसे धमकी समझो या कुछ और, पर मेरी ये बात हमेशा याद रखना, मेरे अलावा किसी और की तरफ देखना आज से बंद...तुम मेरे हो और सिर्फ़ मेरे बनकर रहोगे...''

उसने अपना अधिकार जताते हुए कहा.. 


अजय ने मन मे सोचा की मैं तो पहले भी अपनी हद में रहा करता था...और वैसे भी ये वक़्त ही ऐसा था की वो हाँ करने के सिवा कुछ और कर भी नही सकता था...

अजय : "जैसा तुम कहो...बस मुझे भी तुम हमेशा खुश रखना...''

उसने आँख मारते हुए प्राची से कहा..

प्राची : "अच्छा जी...अब देखो...मेरे शोना को मैं कैसे खुश करती हू...''

और इतना कहने के बाद वो उसके होंठों पर टूट पड़ी...ऐसा लग रहा था की वो पागल सी हो चुकी है...अपनी ब्रेस्ट को उसकी छाती पर रगड़ते हुए वो उसके बालों में उंगलियाँ फेराती हुई अजय के होठों को बुरी तरह से चूस रही थी...वैसे तो उन दोनो ने शादी से पहले भी ऑफीस से आते हुए एक-दो बार किस की थी..पर आज तो प्राची पर जैसे कोई भूतनी चड गयी थी...


अजय ने अपने हाथों से उसकी गांड को सहलाना शुरू कर दिया...और तब उसे पता चला की वो तो अपनी पेंटी भी उतार आई है...अजय ने अपनी उंगलियाँ उसकी गांड की दरार में उतार दी..

''आआआआअहहssssssssssssssssssssssssssssss .......... उम्म्म्मममममम...''

उसकी सुलगती हुई सी आवाज़ ने अजय के अरमानो को और भड़का डाला...और उसने प्राची को बेड पर पटक कर अपना मुँह सीधा उसके मुम्मों पर रख दिया और नाइट सूट के उपर से ही उसकी ब्रेस्ट पर लगे बटन को मुँह में लेकर चूसने लगा..

''ऊऊऊऊऊऊओह अजय ................ माई डार्लिंग .................. उम्म्म्मममममममम......''

और उसने खुद ही धीरे-2 अपनी कुरती की चैन को खोलकर अपनी नंगी ब्रेस्ट अजय के मुँह में ठूस दी..

ये पहला मौका था अजय के लिए...उसने जी भरकर उन प्यारी सी ब्रेस्ट को देखा और फिर धीरे-2 अपनी जीभ से उन्हे चाटने लगा...

उसकी जीभ जैसे चुभ सी रही थी प्राची को....उसने ज़बरदस्ती अपना एक मुम्मा उसके मुँह में ठूसा और ज़ोर से चिल्लाई .. : "बाईट करो अजय ...............खा जाओ इनको ...............''

अजय तो ऐसी गर्म वाइफ पाकर खुद को धन्य सा समझने लगा...उसने तो सोचा भी नही था की ऐसी चुप-चाप सी रहने वाली लड़की बेड पर इतनी गर्म दिखेगी...

अजय ने धीरे-2 उसकी नाइट ड्रेस उतार कर साइड में फेंक दी...अब वो बिस्तर पर पूरी नंगी पड़ी थी...



उसके नंगे जिस्म की खूबसूरती देखकर अजय का लंड बागी सा हो गया..उसने सोच लिया की आज तो कम से कम 3 बार वो उसकी चुदाई करेगा...अजय ने भी अपने कपड़े उतारे और कुछ ही देर मे वो भी नंगा खड़ा था...
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:25 PM,
#3
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
2


प्राची ने अजय के लंड की तरफ देखा और शरमाते हुए अपनी नज़रें झुका ली...वो काफी बड़ा था 

अजय उसके पास पहुँचा और अपने लंड को उसके हाथ में पकड़ा दिया...वो उसे उपर नीचे करने लगी..फिर अजय ने उसके सिर पर दबाव डालकर उसे नीचे जाने के लिए कहा...प्राची ने उसके लंड को हिलाना बंद कर दिया और धीरे से बोली : "अजय...प्लीज़....ये मत करवाओ मुझसे...मैने मूवीस में भी देखा है...मुझे वो देखकर ही घिंन सी आती थी...करना तो दूर की बात है...प्लीज़ समझा करो...''

बेचारे अजय के दिल की तमन्ना टूट कर रह गयी....उसने तो सोचा हुआ था की शादी के बाद रोज रात को अपना लंड चुस्वाएगा...सुबह उसकी बीबी उसके लंड को चूसकर उसे उठाएगी...और उन पाँच दिनों में वो उसके लंड को चूस्कर ही झाड़ दिया करेगी...पर वो सब सपने एक झटके में टूट से गये...

उसने मन में सोचा, चलो कोई बात नही, शायद बाद में उसे ये सब अच्छा लगने लगे..

और उसकी इच्छा ये भी हुआ करती थी की वो भी दिन रात अपनी बीबी की चूत चूसेगा...पर अब उसे ये भी डर लगने लगा की कहीं उसके लिए भी वो मना ना कर दे..फिर भी डरते-2 उसने पूछा : "क्या मैं सक्क कर सकता हू तुम्हे...यहाँ पर...'' अजय ने उसकी चूत पर हाथ रखते हुए पूछा 

अजय की बात सुनकर प्राची एक बार फिर से शरमा गयी...और धीरे से बोली : "मुझे नही पता....वो तुम देख लो...''

यानी वो तैयार थी...कितनी ग़लत बात है ...ये लड़कियां कितनी चालू होती हैं, सिर्फ अपने मजे की बात इन्हे समझ में आती है ,उसका तो वो चूस नही रही थी,अपनी चुसवाने के लिए तैयार थी... लेकिन उसने इस समय इस बात का इश्यू बनाने की नही सोची और उसकी टांगे चौड़ी करके उनके बीच लेट गया..

अब उसकी आँखो के सामने थी प्राची की कुँवारी और सफाचत चूत ..



और धीरे से उसने अपनी जीभ को उसकी भाप छोड़ती चूत से टच करवाया..

''आआआआआआआआहह ................... म्*म्म्मममममममममम ...... अजय ............''

और वो अपनी टांगो को पकडे उसे अपनी चूत में डुबकी लगाते हुए देखने लगी 


अजय ने अपने होंठ खोलकर उसकी चूत को पूरा अपने कब्ज़े में ले लिया और उसके साथ फ्रेंच किस्स करने लगा..इतना मज़ा मिल रहा था उसे, बड़ी भीनी-2 सी महक आ रही थी उसकी चूत से...अजय ने अपनी जीभ को जितना हो सकता था बाहर निकाला और उसकी चूत की परतें खोलकर जीभ को अंदर धकेल दिया..

प्राची के लिए ये पहला मौका था जब कोई चीज़ उसके अंदर जा रही थी...वो सिसक उठी...और अपनी टांगे उसने अजय की गर्दन में लपेट कर उसे बुरी तरह से जकड़ लिया...जैसे रेसलिंग चल रही हो दोनों के बीच...

अजय ने अपना मुँह बाहर निकाला और बोला : "कैसा लग रहा है....''

प्राची ने बेड की चादर को पकड़ा और चिल्लाई ''आआआआआआअहह अजय .................. उम्म्म्ममममममममममम .... बहुत अच्छा ....और करो..........''

अजय फिर से उसकी चूत की खुदाई करने में जुट गया..

और कुछ ही देर में उसने अपने मुँह से उसकी चूत को पूरा सींच दिया...अब वो अगले कदम के लिए तैयार थी..

अजय थोड़ा उपर उठा और घुटनो के बल बैठ गया...और उसकी चूत पर अपना लंड रगड़ा ..और धीरे-2 उसके छेद में फंसाया और हल्का धक्का मारकर अंदर दाखिल हो गया 


''आआआआअहह धीरे करो प्लीज......''

उसकी इतनी कहने की देर थी की अजय ने एक जोरदार झटका मारा...और उसका लंड प्राची की चूत की सील तोड़ता हुआ अंदर दाखिल हो गया..

''आआआआआआययययययययययीीईईईईईईईईईईईई ......... मररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर गयी .............. अहह ...''

वो दर्द से बिलख उठी...

अजय थोड़ा सा रुक गया...प्राची को सच में काफ़ी दर्द हो रहा था...उसकी आँख से आँसू निकल रहे थे..

भले ही अजय का ये पहला मौका था, पर इंटरनेट और फ्रेंड्स ने अच्छी तरह समझा दिया था की कैसे क्या करना है 

अजय ने उसे चुप कराया...उसके गालों को चूमा...और फिर थोड़ी देर बाद फिर से हिलाने लगा अपना लंड ...

अब वो चिल्ला तो नही रही थी...पर उसका शरीर अभी भी अकड़ा सा हुआ था...

इस बार अजय उसके ऊपर पूरा लेटकर अपने लंड से उसे हुमच -2 कर चोद रहा था 



और फिर अजय ने धीरे-2 धक्को की स्पीड बड़ा दी...और अंत में जोरदार झटके मारता हुआ वो उसके अंदर ही झड़ गया..

उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया..

पर वो ये देखकर हैरान रह गया की उसके लंड पर प्राची की चूत का खून नही लगा था...

उसने प्राची की तरफ देखा, वो भी हैरान हो रही थी...और डर भी रही थी की कहीं अजय उसपर कोई शक तो नही कर रहा ..

अजय भी उसके रुंआसे चेहरे को देखकर समझ गया की वो क्या सोच रही है...

अजय : "इट्स ओके प्राची ....ब्लड निकलना ही सबूत नही होता वर्जिनिटी का, और ज़रूरी नही होता फर्स्ट टाइम पर ये निकलता ही है.....आजकल तो अंदर की झिल्ली खेल कूद में या जॉगिंग करने से भी फट जाती है....आई ट्रस्ट यू ...''

अपने पति की समझदारी भरी बात सुनकर प्राची थोड़ा नॉर्मल हुई...और दोनो एक दूसरे से लिपट कर सो गए...

उसके बाद अजय ने दोबारा कोशिश नही की, क्योंकि पहली चुदाई से अभी तक उसकी चूत सूजी हुई थी...

दोनो ऐसे ही नंगे एक दूसरे से लिपट कर सो गये..

कुछ ही दिनों में उसके घर वाले गाँव चले गये...और वो और प्राची अपनी मैरिड लाइफ में खो गये..

अजय को ज़्यादा छुट्टी नही मिली थी शादी पर, इसलिए वो दोनों कही हनीमून पर नही जा सके...पर उन्होने सोच लिया था की 2 महीने बाद वो ज़रूर घूमने जाएँगे..

अजय की सास यानी रजनी भाभी, जिसे अजय ने अभी तक मम्मी कहना शुरू नही किया था, वो उनके लिए रात का खाना बना कर रखती थी, क्योंकि ऑफीस से आने के बाद प्राची में इतनी हिम्मत नही रहती थी की वो कुछ बना सके...

और वैसे भी उसे कुछ ज़्यादा खाना बनाना नही आता था..अजय ने शुरू -2 में तो काफ़ी मना किया पर वो ज़बरदस्ती उनके लिए खाना बना देती थी..और हमेशा यही कहती थी की अब वो भी उनके घर का ही एक हिस्सा है..

ऐसे ही एक दिन जब ऑफीस से आने में ,ट्रैफिक की वजह से दोनों को लेट हो गया तो वो उनके घर 10 बजे के आस पास पहुँचे...सभी सो चुके थे, सिर्फ़ रजनी भाभी जाग रही थी..उन दोनों को खाना खिलाने के लिए..और अजय ने उन्हे पहली बार गाउन में देखा..

उन्होने पिंक कलर का गाउन पहना हुआ था, जो काफ़ी महीन सा था...और किचन की रोशनी में वो उनके शरीर को अंदर तक देख पा रहा था..वैसे तो आजकल लगभग रोज ही वो प्राची की लेता था..पर फिर भी उसे वही दिन याद आ गये जब शादी से पहले वो रजनी भाभी के इसी रसीले शरीर का दीवाना था...

उसके लंड ने अंगड़ाई लेनी शुरू कर दी..और प्राची से नज़रें चुरा-चुराकर वो उसकी माँ को निहारने लगा..उसके अंदर वही ठरकी इंसान जाग उठा जो ऐसे माल को देखकर मन में ख्याली पुलाव बनाना शुरू कर देता है 
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#4
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
खाना खाने के बाद वो जब अपने बेडरूम में गये तो अजय ने उसे नंगा करके बुरी तरह से चोदा ...और वो जबरदस्त चुदाई अपनी सेक्सी सास को सोचकर की थी उसने...

और फिर उसने मन मे सोच लिया की अब उसके दिल की इच्छा पूरी करने का वक़्त आ गया है...और अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए उसके दिमाग़ में प्लान बनने शुरू हो गये.

अगले दिन प्राची के ऑफीस में ऑडिट था, इसलिए उसको जल्दी निकलना था और घर भी लालेट ही आना था...जब तक अजय सोकर उठा, वो जाने के लिए निकल ही रही थी..उसने अजय को किस्स किया और जल्दी-2 ऑफीस के लिए निकल गयी..

प्राची के जाने के बाद अजय फिर से सो गया..प्राची की वजह से वो हमेशा ऑफीस टाइम से ही पहुँच जाता था..इसलिए उसने सोचा की आज थोड़ा और सो लिया जाए और आराम से ऑफीस के लिए निकला जाए..ऐसे कभी-कभार लेट जाने मे कोई प्राब्लम नही होती..

करीब 9 बजे के आस पास उसकी नींद दोबारा खुली, बाहर का दरवाजा अभी तक अंदर से बंद नही किया था उसने, इसलिए उसके खुलने की आवाज़ सुनकर वो जाग गया..और कुछ ही देर मे प्राची की माँ अंदर आई...अजय भी आँखे मलता हुआ लेटा रहा..

रजनी : "अरे अजय, तुम अभी तक सो रहे हो...मैने तो बाहर तुम्हारी गाड़ी खड़ी देखी,इसलिए सोचा की चलकर देख लू की अभी तक ऑफिस क्यों नहीं गए ...और तुम तो अभी तक उठे भी नही हो...ऑफीस नही जाना क्या..''

अजय : "बस ऐसे ही...सोचा आज थोड़ा लेट निकलूंगा...''

रजनी ने आस पास बिखरे कपड़े देखे और बोली : "कमरे का हाल तो देखो क्या बना रखा है तुम लोगो ने...''

और वो झुककर कपड़े समेटने लगी..और कपड़े उठाते हुए रजनी को ये एहसास हुआ की उसने क्या ग़लती कर दी...क्योंकि नीचे पड़े कपड़ों में पहले तो उसकी बेटी के कपड़े यानी नाइट गाउन और ब्रा पेंटी आए..और फिर अजय के कपड़े आए जिनमे उसकी टी शर्ट और पायजामा और फिर बनियान और जोक्की भी था...

उन्हे उठाते हुए उसे काफ़ी शरम आ रही थी...अब तक वो ये बात भी जान चुकी थी की अजय इस समय पूरा नंगा होकर सो रहा है...

और अजय ने जब अपना अंडरवीयर उठाते हुए उन्हे देखा तो उसके लंड का रॉकेट सीधा उपर की तरफ मुँह करके खड़ा हो गया...क्योंकि उसी अंडरवीयर से रात को उसने प्राची की चूत सॉफ की थी चुदाई के बाद...और उसपर अभी तक अजय के वीर्य का गीलापन और चिपचिपापन था..

और झुकने की वजह से रजनी के सूट का गला भी नीचे ढलक आया था और उनकी भरी हुई छातियाँ ऐसे लटक गयी जैसे डाल पर पके हुए पपीते लटक जाते हैं और चिल्लाते हैं की आओ और हमे तोड़ लो अब..

पर वो अभी तो उन्हे तोड़ मरोड़ नही सकता था ना..इसलिए हसरत भरी नज़रों से उन्हे देखता रहा बस..

उसने देखा की रजनी के चेहरे पर एक अजीब सी मुस्कुराहट आ चुकी है..

अजय : "क्या हुआ...आप ऐसे मुस्कुरा क्यो रहे हो...''

रजनी : "नही...बस ऐसे ही...कुछ याद आ गया..''

अजय : "बताइए ना, ऐसा क्या याद आ गया ''

रजनी का चेहरा लाल हो उठा...और वो धीरे से बोली : "बस वो....मुझे भी अपनी शादी के बाद का टाइम याद आ गया....हम भी ऐसे ही ....छोड़ ना अजय, मुझे शर्म आ रही है...''

और इतना कहकर वो उन कपड़ो को लेकर बाथरूम में चली गयी और उन्हे मशीन में डाल दिया..

अजय ने भी सोच लिया की आज ही वो मौका है जब वो उस हुस्न परी के करीब आ सकता है...उसने तुरंत पास पड़ी चादर लूँगी की तरह लपेटी और ऐसे ही उठकर बाथरूम की तरफ चल दिया..

वो मशीन में कपड़े डालकर उसे चला रही थी ताकि उसकी बेटी के आने तक वो सब धुल जाएँ...

उसे रजनी की उभरी हुई गांड इतनी दिलकश लग रही थी की उससे रहा नही गया और वो आगे बड़ा और उनकी उभरी हुई गांड से सटकर खड़ा हो गया और एकदम से बोला : "ओहो....आपने तो मेरा अंडरवीयर भी बीच में डाल दिया, मुझे अभी के लिए तो वही पहनना था ना...''

और ऐसा करते-2 उसने आगे की तरफ झुककर वो अंडरवीयर मशीन में से निकालना चाहा..मशीन और अजय के बीच खड़ी रजनी पिस्स कर रह गयी..

और अपने पीछे खड़े दामाद के लंड का एहसास भी शायद उसे हो चुका था,इसलिए हड़बड़ाते हुए वो बोली : "अरे ...वो अब पहनने लायक नही है...रहने दो उसको...कोई दूसरा पहन लो अभी के लिए...''

और इतना कहकर वो मछली की तरह फिसलकर निकल आई बाहर..

अजय भी बाहर आ गया...उसने देखा की रजनी अपने घर जा रही है

अजय : "अरे,रुकिये तो,मुझे पहले पूरी बात तो बता कर जाइए...''

वो रुक गयी और बोली : "कौन सी बात ??''

''वही, शादी के बाद वाली....''

रजनी : "धत्त , बेशरम....''

और खिलखिलाती हुई सी वो अपने घर की तरफ भाग गयी..

और जाते हुए बोली : "जल्दी नहा कर वहीँ आ जाओ...मैं नाश्ता बना रही हूँ ..''

अजय ने जब अपनी भागती हुई सास की गांड देखी तो उसका मन किया के वहीं के वहीं मूठ मार ले...पर अब उसके मूठ मारने के दिन जा चुके थे, और अपने माल को वो ऐसे वेस्ट नहीं करना चाहता था...उसके पास प्राची जैसा गर्म माल जो था...इसलिए उसने वो माल रात के लिए बचा कर रख लिया..


और जल्दी-2 नहा धोकर ऑफीस के कपड़े पहन कर तैयार हुआ और अपने ससुराल में जा पहुँचा..दरवाजा खुला ही हुआ था,वो सीधा अंदर आ गया..

रजनी किचन में थी और अजय के लिए नाश्ता बना रही थी...

दूर से ही उसे वही उभरी हुई गांड दिखाई दे गयी और वो फिर से सम्मोहित सा होकर उसी तरफ चल दिया..

ड्रॉयिंग रूम से किचन की तरफ़ जाते हुए अचानक उसकी नज़र साइड में बने बेडरूम की तरफ गयी और उसका मुँह खुला का खुला रह गया...

उसकी साली पूजा अभी - 2 नहाकर निकली थी और उसके भरे हुए बदन पर सिर्फ़ एक टावल ही था...वो बेड के उपर झुकी हुई थी और अपने टॉप को प्रेस कर रही थी...ऐसा करते हुए उसकी मोटी-2 जांघे बिल्कुल उपर तक दिख रही थी...

अब एक तरफ उसकी रसीली सास थी, जो किचन में नाश्ता बना रही थी..और दूसरी तरफ उसकी जवान साली का लगभग नंगा जिस्म..उसके बारे में तो उसने आजतक कुछ सोचा भी नही था...

वो प्राची से भी ज़्यादा गोरी थी...और भरी हुई भी...

वो सीधा उसके बेडरूम में घुस गया..

और पूजा को शायद किसी के अंदर आने का एहसास हो गया था, पहले तो उसने सोचा की शायद उसकी माँ ही होगी, क्योंकि इस वक़्त उन दोनो के अलावा घर पर कोई और था ही नही..
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#5
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
अजय सीधा जाकर उसके पीछे खड़ा हो गया...और उसने अपने लंड वाला हिस्सा सीधा उसके गीले टावल से टच करा दिया..पहले उसकी माँ की गांड और अब उसकी बेटी की, एक ही दिन में अजय ने दोनों के गुदाजपन का मजा ले लिया था 

वो झटके से पलटी और अजय को वहाँ खड़ा देखकर वो बोखला सी गयी...और अपने शरीर को पीछे करती हुई चिल्लाई : "जीजूऊऊऊउsssssssssssssss आआपपssssssssssssssss ....''

और पीछे तो पलंग था,जिस वजह से वो पीछे तो हो नही पाई बल्कि उसका बेलेंस और गड़बड़ा गया और वो पीछे की तरफ गिरने लगी, और किसी हीरो की तरह अजय ने उसकी कमर में हाथ डालकर उसे नीचे गिरने से बचा लिया...पर अपने टावल की गाँठ को खुलने से पूजा नही बचा सकी..और एक ही झटके मे उसके बदन से टावल का परदा नीचे ढलकता चला गया और पूजा उपर से नंगी होकर अजय की बाहों में झूल गयी...नीचे तो उसने पेंटी पहन रखी थी, पर ऊपर के गोरे -2 पर्वत देखकर अजय की आँखे गोल होकर रह गयी 

ऐसा सीन देखकर एक पल के लिए तो अजय की साँसे रुक सी गयी....अपनी जवान साली के नंगे जिस्म को ऐसे अपनी बाहों में महसूस करेगा ये तो उसने सोचा भी नही था...

वो भले ही अपने होश खो बैठा था, पर पूजा अपने होश में थी,और गुस्से में भी, उसने अजय को धक्का दिया और जल्दी से अपनी टी शर्ट उठा कर पहन ली...अजय तो दूर खड़ा हुआ उस खूबसूरती की मूरत के मुम्मे देखता रह गया...इतने रसीले और अनछुए से मुम्मे थे उसके की मन कर रहा था की उन्हे निचोड़ डाले...

पूजा का चेहरा गुस्से से तमतमा रहा था...उसने नीचे तो पेंटी पहनी हुई थी पहले से, इसलिए अजय उसकी चूत नही देख पाया...पर उसके बदन से अपनी आँखे हटाने का नाम नही ले रहा था वो..

पूजा ने जल्दी से अपनी जीन्स भी पहन ली...

पूजा :"जीजू, मुझे आपसे ये उम्मीद नही थी....आप इस तरह से मेरे कमरे में आकर ...''

वो रुंआसी सी हो गयी...

अजय : "अरे, मैने ये सब जान बूझकर नही किया....मैं तो बस अभी आया था और तुम्हे ऐसे कपड़े प्रेस करते देखकर सोचा की पीछे से आकर तुम्हे डरा दू ...और उसके बाद तो तुम एकदम से घबरा गयी...और ये टॉवल क्या मैने खोला था जो ऐसे बोल रही हो...ये तो बस एक्सिडेंट्ली खुल गया...''

पूजा : "पर आपने सब देख भी तो लिया ना...''

अजय : "तो क्या हुआ...तुम मेरी साली हो ना, और साली तो आधी घरवाली होती है....''

पूजा : "आप बहुत गंदे हो जीजू....जाइए मुझे आपसे कोई बात नही करनी ...''

तभी पीछे से रजनी की आवाज़ आई : "अरे क्या हो गया, अपने जीजू से किस बात पर नाराज़ हो रही है तू...''

अपनी माँ को वहाँ देखकर वो कुछ कहने ही वाली थी की अजय पहले ही बोल पड़ा : "हाँ, हाँ बोलो अब...बताओ मैने क्या किया....''

पूजा का चेहरा देखने लायक था...वो कुछ कहना चाहती थी पर कुछ निकल ही नही रहा था उसके मुँह से...फिर भी वो बोली : "देखो ना माँ ,मेरे रूम में बिना नॉक करे घुस आए जीजू....''

रजनी ने इस बात पर उसे ही डांट दिया : "तो क्या हुआ, ये भी हमारे घर का सदस्य है अब...तेरे जीजू है ये...ऐसे नही बोलते, चलो सॉरी बोलो इन्हे...''

अजय : "अरे नही , इसको क्यो डांट रहे हो...जीजा साली के बीच तो ये सब चलता ही रहता है...''

रजनी : "हाँ , इसमे गुस्सा करने वाली क्या बात है, मेरे जीजू तो पता नही क्या-2 कर लेते थे मेरे साथ...''

एक बार फिर से अजय की शरारत भरी नज़रें रजनी को घूरने लगी, और रजनी का चेहरा फिर से लाल हो उठा...पूजा बुदबुदाती हुई वहाँ से बाहर निकल गयी.

अजय धीरे-2 चलता हुआ रजनी के पास आया और बोला : "आपने तो बड़े किस्से छुपा रखे हैं अपनी जवानी के दिनों के...मुझे भी तो कुछ बताइए...''

रजनी शरमाते हुए बाहर भागी : "बेशरम हो एक नंबर के तुम तो....''

उसके जाने के बाद अजय ने वो गीला टावल उठाया और उसमे से पूजा के जिस्म की खुश्बू सूंघता हुआ बोला : "बेशरम नही , ठरकी हूँ मैं ....ठरकी ...''

और फिर वो बाहर चल दिया..उसे अपनी रूठी हुई साली को भी तो मनाना था..
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#6
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
3


अजय बाहर निकल आया और सोफे पर बैठी पूजा के पास आकर बैठ गया, रजनी उनके लिए नाश्ता बनाने फिर से किचन मे चली गयी.

अजय : "अरे बाबा, अब इतना भी क्या नाराज़ होना अपने जीजा से...ये लो, मैं माफी माँगता हूँ तुमसे, कान पकड़कर ..अब ठीक है...''

पूजा ने उसकी तरफ देखा और अजय के भोले से चेहरे को देखकर उसकी भी हँसी निकल गयी...और ये भी भूल गयी की अभी कुछ देर पहले यही भोले चेहरे वाला उसे टॉपलेस देख रहा था..

पूजा : "बट आपको प्रोमिस करना होगा की आप आगे से कभी भी ऐसा नही करेंगे..''

अजय : "प्रॉमिस...अगर तुम खुद भी ऐसे टॉपलेस होकर मेरे सामने आ गयी तो मैं अपनी आँखे बंद कर लूँगा...''

पूजा (अपनी आँखे नचाते हुए) : "ओये होये, बड़े शरीफ हो ना, इतना तो मुझे भी मालूम है, अगर मैं ऐसे खुद ही आपके सामने आ गयी ना, तो टूट पड़ोगे मेरे उपर आप...''

अजय : "तो ट्राइ कर लो ....आकर दिखाओ ऐसे ही एक बार फिर से ...देखते हैं की मुझसे सब्र होता है या नही...''

पूजा का चेहरा देखने लायक था, बेचारी अपनी ही बात में खुद ही फँस गयी थी..

पूजा : "देखो जीजू, आप फिर से शुरू हो गये....''

अजय (फिर से कान पकड़कर) : "ओके बाबा ....अब नही....तुम चाहो तो मुझे इसके लिए कोई सज़ा दे दो...''

उसकी ये बात सुनकर पूजा का चेहरा एकदम से खिल उठा..और वो तपाक से बोली : "शॉपिंग..''

अजय : "हाँ हाँ क्यों नही ..चलो अभी चलते हैं ..''

पूजा : "और आपका ऑफीस ..."

अजय ने बड़े स्टाइल से अपना फोन निकाला और एक नंबर लगाकर बोला : "सुनो दीपक, मैं आज ऑफीस नही आ सकूँगा...मुझे अपनी साली को शॉपिंग करवाने ले जाना है...बॉस को बोल देना..बाइ''

उसकी ये बात सुनकर पूजा इतनी इंप्रेस हुई की एकदम से उछलकर वो अजय के गले से जा लगी..और अजय ने भी उसकी कमर मे हाथ डालकर उसकी छाती के नरम हिस्से को अपनी चेस्ट से लगा कर ज़ोर से भींच दिया..पूजा के मुँह से एक आह्ह्ह निकल गयी..

तभी पीछे से रजनी की आवाज़ आई : "तो हो गयी सुलह जीजा-साली में ...हम्म्म ...''

दोनो बेचारे ऐसे अलग हुए जैसे दोनो की चोरी पकड़ी गयी हो...

और रजनी मंद-2 मुस्कुराते हुए उनके लिए नाश्ता लगाकर चली गयी.अजय यही सोचता रह गया की उसकी सास ने कोई इश्यू क्यों नही बनाया इस बात का..

खैर, उसके बाद सभी ने मिलकर नाश्ता किया और पूजा ने कहा की वो अजय के साथ शॉपिंग जा रही है,रजनी ने भी कुछ नही कहा और कुछ ही देर में अजय और पूजा उसकी गाड़ी मे बैठकर एक बड़े से माल की तरफ चल दिए.

पूजा ने रेड कलर की टी शर्ट पहनी थी और नीचे जीन्स, और टी शर्ट शार्ट में थी, इसलिए उसकी नाभि वाला हिस्सा बड़े ही सेक्सी तरीके से उजागर हो रहा था 

आज अजय पूजा को अच्छी तरह से इंप्रेस करना चाहता था, इसलिए उसने पूजा को कुछ भी लेने की छूट दे दी.


वैसे तो वो अपनी बीबी प्राची को भी खुलकर शॉपिंग करवाता था पर आज बात कुछ और थी...अपनी शॉपिंग के बदले वो पूजा और अपने बीच की उस दूरी को मिटाना चाहता था जिसे पूजा अच्छा नही मानती थी.

वो दोनों करीब 3 घंटे तक शॉपिंग करते रहे , और पूजा ने अपनी पसंद का काफी सामान भी लिया 

वो एक बड़े से शोरुम से निकल ही रहे थे की अचानक पूजा ने चौंकते हुए कहा : "ओह्हो ये सोनी की बच्ची को यहीं पर आना था...''

अजय ने भी उस तरफ देखा जहाँ पूजा की नज़रें थी, तो उसकी आँखे फटी की फटी रह गयी...एक लंबी और सेक्सी सी लड़की एक चूज़े जैसे लड़के के साथ घूम रही थी, दोनो ने एक दूसरे की बाहों मे बाहें डाली घूई थी..लड़का तो झंडू सा था पर वो लड़की पटाखा थी एकदम...रंग बिल्कुल सांवला सा था पर उसके हर डिपार्टमेंट में काफ़ी माल भरा हुआ था, छातियाँ लगभग 36 की थी...एकदम टाइट..और उसपर उसने जो टॉप पहना हुआ था वो भी सिर्फ पतली डोरी पर ही टिका हुआ था ...और नीचे उसने एक लॉन्ग स्कर्ट पहनी हुई थी जिसके साइड में कट था जिसमे से उसकी गुदाज और मांसल टांग पूरी नंगी थी... और नीचे लॉन्ग बूट..... उसकी जांघों की मांसपेशिया चलने से अलग ही चमक रही थी...और पीछे की तरफ निकली हुई उसकी गांड भी काफी बड़ी थी और उसकी आँखे बड़ी ही सेक्सी थी ...बॉडी पर काफी टैटू भी बनवा रखे थे उसने जिसकी वजह से वो बहुत सेक्सी लग रही थी , ऐसा लग रहा था की जैसे कोई मॉडेल रेम्प वॉक से निकलकर सीधा वहाँ आ गयी है..ब्लैक ब्यूटी लग रही थी वो...

अजय को ऐसे बिना पलकें झपकाए उस तरफ देखते हुए पाकर पूजा ने उसे आवाज़ दी : "जीजू.....ओ जीजू .... कहाँ खो गये...सच में आप मर्दों को तो बस कोई लड़की दिखनी चाहिए....लार निकलने लग जाती है बस...''

अजय ने झेंपटे हुए अपनी नज़रें पूजा की तरफ कर ली..

पूजा : "वो मेरी क्लासमेट है...सोनी ...और वो उसका बाय्फ्रेंड है...शायद...''

अजय : "शायद ..??''

पूजा : "हाँ , शायद, क्योंकि मैने भी आज पहली बार ही इस लड़के को देखा है....सोनी ने बताया था की कॉलेज के बाहर का है उसका ये बाय्फ्रेंड...''

अजय : "तो चलो ना...मिलते हैं इनसे...आख़िर तुम्हारी क्लासमेट है ...''

ऐसी सेक्सी लड़की से मिलने के लिए कौन नही तड़पेगा ... 

पूजा ने उसकी बाजू पकड़ कर उसे रोक दिया और फुसफुसाई : "अर्रे नही जीजू .....अभी नही मिल सकती मैं ....''

अजय : "क्यों ??..''

पूजा (झिझकते हुए) : "वो ...दरअसल ....कल सोनी ने मुझे बोला था की उसका बाय्फ्रेंड आ रहा है और मैने भी उसको झूट बोला हुआ था की मेरा भी एक बाय्फ्रेंड है जो कॉलेज के बाहर का है...तो उसने सजेस्ट किया था की आज हम सभी मूवी चलते हैं...मैने तो बहाना बना कर मना कर दिया...पर आपके साथ अचानक शॉपिंग का प्रोग्राम बना तो मुझे इसके बारे में याद ही नही रहा...और ये पागल यहीं पर मिल गयी....चलो ना जीजू कहीं और चलते हैं..''

अजय : "ज़रा सी है नही तू और इन चक्करों में पड़ी है , तेरी दीदी को बोल दिया ना तो अच्छी तरह से खबर लेगी वो...''

पूजा : "वो तो घर की बात है जीजू, अभी तो चलो, मुझे इसके सामने एम्बेरस नही होना अभी...''
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#7
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
अजय बेचारा मन मारकर रह गया, और अपनी साली की बात मानकर पलटकर माल से बाहर की तरफ चल दिया.वैसे भी वो एक ही दिन में दोबारा उसे नाराज नहीं करना चाहता था 


और तभी उन्हे पीछे से आवाज़ सुनाई दी

''अरे , पूजा....तू यहाँ .....''

पूजा ने अपनी आँखे भींच ली और बुदबुदाई ''मर गयी....''

और फिर हंसते हुए एकदम से पलटी और सोनी को देखकर चौंकने का नाटक करती हुई बोली : "सोनी ....तू यहाँ ....ओह्ह माय गॉड ....आई कांट बिलीव इट ....''

और वो भागती हुई गयी और उससे लिपट गयी..

सोनी की नज़रें अजय को घूर रही थी...और उसके साथ उसका उल्लू जैसा बी एफ बेचारा कुछ समझने की कोशिश कर रहा था..

सोनी : "यू लॉयर , तूने तो मना करा था, फिर कैसे आ गयी...''

पूजा : "अरे नही, ऐसा कुछ नही है...दरअसल ...चल छोड़, वो बाद में बताउंगी , इनसे मिल, ये है मेरे.....''

उसकी बात को काटकर अचानक अजय बीच में बोल पड़ा : "हाय , आई एम अजय, पूजा का बाय्फ्रेंड...''

सोनी की आँखे गोल सी होकर रह गयी, इतना स्मार्ट लड़का और वो भी इस मोटी सी दिखने वाली पूजा का बाय्फ्रेंड...और उसने झुककर पूजा के कान में कहा : "ओह्ह माय गॉड पूजी, ही इज़ सो हॉट....''

पूजा बेचारी हैरान परेशान सी अजय को घूर रही थी....उसने तो इस बारे में सोचा भी नही था की सोनी को ये भी बोल सकती है वो...पर अजय ऐसा करेगा उसने सोचा भी नही था...वो अपनी आँखे गोल करके उससे इशारों में पूछ रही थी की ऐसा क्यो किया तुमने..

अजय ने उसकी कमर में हाथ डालकर उसे अपनी तरफ खींचा और उसके कान में कहा : "मुझे जीजा बताकर कुछ नही मिलता, अपना बाय्फ्रेंड बोलकर कुछ इंप्रेशन जमाओ अपनी फ्रेंड के उपर...''

पूजा की आँखों में भी चमक आ गयी....वैसे भी आजकल इंप्रेशन का ही जमाना है...हर कोई एक दूसरे से उपर ही दिखना चाहता है, फिर वो चाहे ब्रांड हो या बाय्फ्रेंड...

और अजय किसी भी एंगल से शादी शुदा तो लगता ही नही था...और स्मार्ट तो वो था ही...ऐसा बाय्फ्रेंड देखकर तो किसी भी लड़की को अपनी फ्रेंड से जलन हो जाएगी..

पूजा ने भी उसका साथ देते हुए कहा : "बस ये अभी फ्री हुआ है, वरना तुमसे पहले ही मिल चुके होते..''

सोनी तो अपनी आँखे फाड़-फाड़कर अजय को घूरे जा रही थी...वो भी बोली : "हाँ...कुछ टाइमपास तो होता मेरा भी, मूवी भी बेकार सी थी...और उपर से इसने भी बोर करके रख दिया...''

सोनी ने बुरा सा मुँह बनाते हुए अपने घोंचू बाय्फ्रेंड की तरफ इशारा किया..वो बेचारा मुँह नीचे करके रह गया.

अजय समझ गया की सिर्फ पैसों के चक्कर में सोनी ने इसे अपना बी एफ बनाया हुआ है 

पूजा शायद ज़्यादा देर उनके साथ रुकना नही चाहती थी...वो बोली : "ओके सोनी , हम चलते हैं...मुझे घर भी जल्दी पहुँचना है ....बाय ...कल कॉलेज में मिलते हैं...''

इतना कहकर पूजा ने अजय की बाजू को अपनी बगल में लपेटा और निकल गयी...अजय ने भी मौके का फायदा उठाते हुए अपनी कोहनी को उसके मुम्मे के अंदर घुसा दिया...

पूजा : "जीजू, संभल जाओ...हाथ पकड़ा है,इसका मतलब ये नही की तुम मेरा ग़लत फायदा उठाओ...''

अजय ने झुककर उसके कान पर किस्स कर दिया और बोला : "मैं तो अपनी तरफ से सही फायदा उठा रहा हु, तुम्हे गलत लगे तो मैं क्या करूँ , वैसे वो अभी तक हमें ही देख रही है...कुछ तो रियल लगना चाहिए ना...''

जवाब में पूजा ने एक बार फिर से चिढ़ते हुए अजय के कंधे पर हल्के से चपत लगा दी..और दूर खड़ी सोनी समझ रही थी की कितना प्यार है इन दोनों में ...कल पता करूँगी इससे की कैसे पटाया इतना स्मार्ट लड़का ...

रात को प्राची करीब 9 बजे घर पहुंची , तब तक अजय उनके घर पर ही बैठकर उसका इन्तजार कर रहा था, पूजा ने बड़े चाव से अपने लाये हुए कपडे अपनी माँ को दिखाए और बाद में प्राची को भी , प्राची को भी अच्छा लगा की अजय ने उसकी बहन को आज शॉपिंग करवाई , पर उन दोनों के बीच आज सुबह से क्या-२ हुआ ये उसे किसी ने नहीं बताया 

रात को अपने घर में पहुंचकर अजय ने प्राची को बेड पर पटक दिया ,प्राची वैसे तो काफी थकी हुई थी, पर फिर भी चुदाई के लिए वो भी मना नहीं कर सकी 

अजय पर तो आज की रात पागलपन सा सवार था, उसे प्राची में कभी तो पूजा दिखाई दे रही थी और कभी उनकी माँ रजनी और कभी वो ब्लैक ब्यूटी सोनी , और उसकी इस खतरनाक चुदाई से प्राची को बहुत आनंद मिल रहा था, 


प्राची : "ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अजय , आज क्या खाकर आये हो..... ऐसे तो कभी नहीं चोदा मुझे पहले ...... ''

अजय ने मन में सोचा ' खाकर नहीं मेरी जान, देखकर आया हूं , तेरी बहन के मुम्मे '

अजय ने ऐसे चोदा उसे की उसकी सारी थकान उतर गयी 

और वो दोनों नंगे ही एक दूसरे की बाँहों में सो गए 

अगले दिन संडे था , और एक हफ्ते पहले से ही प्राची और उसके घर वालों ने पिकनिक का प्रोग्राम बनाया हुआ था , जिसके बारे में सोचते हुए अजय को कब नींद आ गयी उसे भी पता नहीं चला 

रात को अगर चुदाई करके सोया जाए तो काफ़ी अच्छी नींद आती है, यही हुआ प्राची और अजय के साथ भी, वैसे भी संडे था, इसलिए अलार्म भी नही बजा उस दिन..करीब 9:30 बजे डोर बेल बजी और नंगी सो रही प्राची ने झुंझलाते हुए बाहर का दरवाजा खोला.

उसने अपनी नाईट ड्रेस डाल ली, जिसे डालना और ना डालना एक बराबर था 


अजय सोने का नाटक करता रहा, वरना उसे उठना पड़ता दरवाजा खोलने के लिए.वो भी सोचने लगा की इतनी सुबह -2 कौन आ गया.

और कुछ ही देर मे प्राची और पूजा बातें करती हुई अंदर आ गयी..अजय ने सिर्फ़ अपना बॉक्सर पहना हुआ था और वो तकिये को अपनी टांगो के बीच दबा कर सो रहा था.

पूजा : "दीदी, आप लोगो को पता तो था की आज पिक्निक पर जाना है फिर भी अब तक सो रहे हैं...मुझे पता था यही हो रहा होगा यहाँ, इसलिए मैं खुद उठाने के लिए चली आई...''

प्राची भी अपनी आँखे मलती हुई वापिस आकर बिस्तर पर लेट गयी..

प्राची : "यार पूजा, तंग मत कर ना ....कल पूरा दिन इतना काम किया और रात को भी सोते -2 एक बज गया..''

पूजा की आँखो मे शरारत उभर आई, वो बोली : "ऐसा क्या करते रहे आप लोग रात के 1 बजे तक...डिन्नर करके तो आप 11 बजे ही आ गये थे..''

प्राची भी शरमा गयी की ये क्या निकल गया उसके मुँह से, वो बोली : "शट अप पूजा, क्या बोल रही है तू...''

पूजा : "मेरे कहने का मतलब है की जब आप इतना ही थक गये थे तो अपना वाला प्रोग्राम करना ज़रूरी था क्या...''

प्राची : "बच्चू , जब तेरी शादी होगी ना, तब पूछूंगी तुझसे...ये शुरू के दिन होते ही इतने मस्त है...इन दिनों में तो जिस दिन ना करो , उस दिन अजीब लगता है...''

पूजा : "अच्छा दीदी...वाउ....अब मुझे क्या पता ये सब...ये तो शादी के बाद ही पता चलेगा ना..''

अपना मायूस सा चेहरा बना कर वो बड़े ही भोलेपन से बोली

उन दोनो को तो यही लग रहा था की अजय गहरी नींद में सोया हुआ है..पर वो कमीना उनकी हर बात को सुनकर मज़े ले रहा था.

और पूजा की बात सुनकर उसने मन मे कहा 'मेरी जान, तू कहे तो शादी से पहले ही तुझे पता करवा देता हूँ की चुदाई कितनी मजेदार होती है...'

पर वो उनकी बातें सुनकर यही सोच रहा था की शायद उसे आज कुछ मजेदार बातें सुनने को मिल जाएँ इन बहनों की...

कुछ देर की चुप्पी के बाद पूजा बोली : "दीदी.....वैसे एक बात पुछू आपसे...बुरा तो नही मानेंगी ना...''

प्राची : "पूछ ...''

पूजा : "दीदी....वो ...आप क्या रोज ये, उम्म्म मेरा मतलब सेक्स....करती हो...''

अजय का लंड तड़प उठा अपनी साली के मुँह से सेक्स वर्ड सुनकर..

प्राची ने अपनी आँखे खोल दी और उठकर बैठ गयी : "तू क्यों पूछ रही है ये सब...तुझसे मतलब...''

पूजा :"बस दीदी, अपनी नॉलेज के लिए...अभी आपने कहा ना की जिस दिन ना करो तो अजीब लगता है...मुझे बस पता करना था की आपका भी रोज मन करता है या सिर्फ़ जीजाजी ही ऐसे हैं ..''

प्राची ने आँखे तरेर कर पूछा : "तेरे जीजाजी ऐसे है,ये तू कैसे जानती है...''

पूजा : "बस ऐसे ही गेस किया...वैसे देखने में इतने स्मार्ट है..और थोड़े बहुत ठरकी भी लगते हैं मुझे तो ये...इनकी बातों से अंदाज़ा लगाया मैने...''
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#8
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
4


अब तो प्राची के एंटिना खड़े हो गये...और सोए हुए अजय की भी गांड फटने को हो गयी...वो सोचने लगा की कहीं ये पागल की बच्ची कल वाली बात ना बता दे प्राची को.. प्राची : "कौनसी ऐसी बातें कर दी अजय ने तेरे साथ...ज़रा मुझे भी तो बता....'' शायद प्राची को लग रहा था की कल शॉपिंग पर लेजाकर अजय ने कुछ बदतमीजी करी है पूजा के साथ पूजा : "वो बस ऐसे ही दीदी.....कल शॉपिंग पर गये थे ना...तो मैने नोट किया था...वो मेरी सहेली है ना सोनी, वो मिली थी , उसे तो ऐसे देख रहे थे जैसे आँखो ही आँखो से उसे खा जाएँगे...'' प्राची : "तू सोनी का तो नाम ही ना लिया कर मेरे सामने, उसके कपड़े पहनने का ढंग मुझे बिल्कुल पसंद नही है, ये बात मैने भी तुझे बोली थी तुझे एक बार ..उसे तो हर कोई खा जाने वाली नज़रों से देखता है...अजय का इसमे क्या कसूर...'' प्राची ने समझदार बीबी की तरह अपने पति का बचाव किया. पूजा : ''नही दीदी, इन मर्दों पर इतना भी अंध्विश्वास नही करना चाहिए...सोते आपके साथ है और सपने किसी और के देखते हैं...'' अब तो अजय की झांटे सुलग उठी, पता नही पूजा को एकदम से ये क्या हो गया था , उसकी पोल पट्टी खोलने में क्यो लगी थी वो, बिना वजह क्यों प्राची को भड़का रही थी ... अब इससे पहले की वो सुबह वाली टॉपलेस होने वाली बात भी बता दे, अजय ने नींद मे सोते हुए ही धीरे से कहा : "उम्म्म्मम....माय डार्लिंग प्राची .....आई लव यू ...'' और अपने तकिये को चूमकर वो फिर से खर्राटे भरने लगा. प्राची और पूजा दोनो ने उसकी ये हरकत देखी और प्राची ने पूजा से कहा : "देख लिया...मेरा पति सोता भी मेरे साथ है और सपने भी मेरे ही लेता है...'' पूजा : "ओहो दीदी....मैने जीजू के बारे में तो ऐसा कहा ही नही...मैं तो बस जनरल बात कर रही थी...'' प्राची : "ओहो, कह तो ऐसे रही है जैसे सारी दुनिया के मर्दों पर पीएचडी कर ली है तूने...चल अब तू घर जाकर नाश्ता तैयार कर, मैं नहाने जा रही हूँ ..'' और अपनी बिना पेंटी की गांड मटकाती हुई प्राची बाथरूम की तरफ भाग गयी...शायद प्रेशर भी बन चुका था उसके अंदर.. पूजा भी जाने के लिए पलटी और फिर ना जाने क्या सोचकर वापिस बेड तक आई...और बेड के उपर चड़कर अजय के बिल्कुल पास आ गयी...और गोर से उसे सोता हुआ देखकर बुदबुदाई : "अपनी पत्नी के सामने तो बड़ी अच्छी इमेज बना रखी है जीजू आपने...पर आप हो कितने शैतान ये सिर्फ़ मैं जानती हूँ ..'' उसने इतना बोला ही था की अजय ने एक झटके से अपनी आँखे खोल दी...खर्राटे मारकर सो रहे अजय को ऐसे एकदम से उठा हुआ देखकर पूजा भोचक्की रह गयी...और उसे समझते देर नही लगी की वो सो नही रहा था...यानी उसने प्राची और उसके बीच की सारी बातें भी सुन ली है.. और इस बात का एहसास होते ही वो दौड़ती हुई घर से बाहर निकल गयी... एक घंटे बाद अजय और प्राची तैयार होकर उनके घर आ गये, सबने मिलकर नाश्ता किया..पर पूजा चुपचाप ही थी अब..ऐसे रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद अपने जीजू से आँखे मिलाने की भी हिम्मत नही हो रही थी उसकी.. अजय की कार में सभी पिक्निक के लिए निकल पड़े...इंडिया गेट के आस पास बने पार्क में जाने का प्रोग्राम था उनका..हल्की फुल्की धूप निकली थी आज 2 दिन की बारिश के बाद, इसलिए मौसम काफ़ी सुहाना लग रहा था. वहाँ जाकर सभी चादर पर अपना समान रखकर बैठ गये...कुछ स्नेक्स खाने के बाद बेडमिन्टन खेलने लगे...अजय ने सबके साथ खेला, पूजा के साथ भी...और सभी को हराया भी..वो काफ़ी फुर्तीला जो था... पर अपनी सास रजनी के साथ खेलते हुए तो उसका ध्यान काफ़ी भटका, उसकी नज़रें उनके उछल रहे बूब्स से हट ही नही रही थी...और अजय को ऐसे अपनी माँ की तरफ घूरते देखकर दूर बैठी पूजा जलभुन रही थी...शायद सोच रही होगी की इस ठरकी की नज़र उसकी माँ पर भी है क्या अब.. फिर अजय वापिस आकर बैठ गया, पूजा के साथ और प्राची और उसकी माँ खेलने लगे...उनके पापा रेफ़री बने हुए थे.


अब अजय ने बात शुरू करने की सोची अजय : "बड़ा भड़काया जा रहा था अपनी दीदी को मेरे बारे में ...'' पूजा : "तो आपने सब सुन लिया...'' अजय : "हाँ , मेरी नींद तो तभी से खुली हुई थी जब तुमने बेल बजाई...'' पूजा : "ऐसे लड़कियो की बातें सुनना अच्छी बात नही होती'' अजय : "और ऐसे अपने जीजू की शिकायत करना भी अच्छी बात नही होती..ख़ासकर तब जब मैने तुम्हारी मदद की थी कल'' उसने सोनी के सामने अपने बाय्फ्रेंड होने वाली बात याद दिलाई. पूजा : "वो तो मैं ऐसे ही कह रही थी...बस देखना चाहती थी की दीदी को आपके उपर कितना विश्वास है..'' अजय : "हर बीबी शक्की होती है, मेरी भी है, और तुम्हारी ऐसी बातों से हमारी पर्सनल लाइफ पर क्या फ़र्क पड़ेगा इसका अंदाज़ा है क्या तुम्हे...तलाक़ करवाना चाहती हो क्या तुम हमारा..'' ये बात अजय ने थोड़े कठोर स्वर मे बोली.. और ये बात सुनकर पूजा सहम सी गयी...और रुंआसी सी होकर बस इतना ही बोली : "सॉरी जीजू...वो बस...मेरे मुँह से निकल गयी वो बातें...अब से ऐसा नही करूँगी...प्रोमिस...'' अजय भी जानबूझकर उसे ये सब बोल रहा था ताकि फिर से वो ऐसी बात करके उसके लिए कोई मुसीबत ना पैदा कर दे.. अंधेरा सा हो चुका था और वो उस जगह से थोड़ा दूर ही बैठे थे, जहाँ वो लोग बेडमींटन खेल रहे थे...अजय को एक शरारत सूझी और वो तोड़ा आगे हुआ और उसने सिर झुका कर बैठी हुई पूजा के होंठों को चूम लिया. सुबकती हुई पूजा भोचक्की सी रह गयी...उसने शायद अजय से इस बात की उम्मीद भी नहीं की थी... वो गुस्से मे बोली : "ये क्या कर रहे हो जीजू...'' और फिर अपनी माँ और बहन की तरफ मुँह करके बोली : "अभी दीदी को बताती हू आपकी ये गंदी हरकत...'' अजय : "मैं तो बस चेक कर रहा था की तुमने जो अभी बोला वो सच में बोला या ऐसे ही...'' पूजा बेचारी अपने दाँत पीसकर रह गयी...वो समझ गयी की ये उसका जीजू बड़ी पहुँची हुई चीज़ है...वो उसकी बहन के साथ बने रिश्ते की आड़ मे उसके साथ कुछ भी कर सकता है...पर उसने भी मन में सोच लिया की अपने साथ कुछ ग़लत वो हरगिज़ नही होने देगी... पर उसके ऐसा सोचने का अजय के उपर कोई असर नही था...वो भी अब अपनी पर आ चुका था..और अब खुलकर हर खेल खेलना चाहता था.
-  - 
Reply
08-31-2018, 04:26 PM,
#9
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
कुछ ही देर मे सभी बेडमिंटन खेलकर वापिस आ गये, इसलिए अजय को कुछ और करने का मौका नही मिल सका..सभी खाने पीने में फिर से बिजी हो गये, पर पूजा का ध्यान कहीं और ही था, जब से अजय ने उसे वो किस्स किया था तब से उसका ध्यान कहीं और ही चला गया था, वैसे तो वो हॉस्टल रहकर आई थी, खुले में माहौल में रहने के बाद भी उसकी हिम्मत नही होती थी किसी लड़के के साथ बाहर जाने की या दोस्ती करने की, बड़ी डरपोक किस्म की लड़की थी वो..किस्स तो दूर की बात उसने किसी का हाथ भी पकड़ कर नही देखा था..पर हर लड़की की तरह वो भी चाहती थी की उसका भी बाय्फ्रेंड हो, इसलिए अपनी फ्रेंड को भी उसने झूट बोल दिया था की उसका भी बाय्फ्रेंड है, और अजय को अपना बाय्फ्रेंड बोलकर मिलवा भी दिया था. और उसकी सहेलियाँ अक्सर अपने प्यार की बातें और रंगीन किस्से उसे सुनाती रहती थी...और ये सुन-सुनकर उसका भी ऐसे मज़े लेने का मन करने लग गया था.. और अभी जब अजय ने उसे एकदम से किस्स किया तो कुछ देर के लिए तो वो समझ ही नही पाई की ये क्या हुआ..ये उसकी जिंदगी की पहली किस्स थी और करी भी किसने, उसके खुद के जीजाजी ने..उसका मन बड़ी दुविधा मे फँसा हुआ था, पर एक बात तो पक्की थी, उसे अपने जीजू की ये हरकत बिल्कुल भी अच्छी नही लगी थी, पर महसूस करके जो रोमांच महसूस हुआ वो अलग ही था. अजय भी दूर से पूजा को देखकर ये अंदाज़ा लगाने की कोशिश कर रहा था की वो क्या सोच रही है, इतना तो वो जानता ही था की उसने जो हरकत अभी उसके साथ की है, वो ज़रूर उसके बारे में ही सोच रही है...चलो जो भी है, उसने तो अपनी तरफ से शुरूवात कर ही दी थी. अगले कुछ दिनों तक कुछ ख़ास नही हुआ...बस अजय अपनी साली और सास के बारे में सोच-सोचकर अपनी बीबी की जमकर चुदाई करता रहा . एक दिन प्राची ने बताया की उनके घर उसकी मौसी-मौसा आ रहे हैं, वो मुंबई में रहते हैं और साल में 1-2 चक्कर लग ही जाते हैं उनके.. उनके बारे में सुनते ही अजय के कान खड़े हो गये, मौसा जी यानी उसकी सास के जीजाजी..उसे उस दिन की बात याद आ गयी जब उसने कहा था की वो तो पता नही क्या-2 कर लेती थी अपने जीजा के साथ.. बस, उसने सोच लिया की इस बार उन्हे कुछ ऐसा करते ज़रूर देखेगा जिसकी चर्चा उसकी सासू माँ कर रही थी. सॅटर्डे मॉर्निंग में वो आ गये, वीकेंड था इसलिए अजय और प्राची दोनो की छुट्टी थी..और इन दो दिनों तक ही रुकना था उन्हे भी. अजय ने उन्हे अपनी शादी पर ही देखा था बस, पर उस वक़्त के देखे रिश्तेदार ज़्यादा याद नही रहते, अब उन्हे सही से देखा उसने. दोनो की उम्र उसकी सास के आस पास ही थी, मौसाजी तो थोड़े जवान से लग रहे थे,शायद मुंबई में रहने की वजह से थोड़ा बहुत हीरो स्टाइल आ गया था उनमे..उनकी बेटी रिया भी साथ आई थी जो पूजा से भी छोटी थी...वैसे तो उसके ससुराल में काफ़ी कमरे थे पर प्राची ने ज़बरदस्ती करके उन्हे अपने घर पर रुकवा लिया..उसकी अपनी मौसी से बड़ी अच्छी बनती थी.. मौसी देखने में बिल्कुल विद्या बालन जैसी थी, भरी हुई सी, गोल मटोल नितंब और मुम्मे ...उनके कुल्हों की थिरकन देखकर अजय को बड़ा मज़ा आता था..शनिवार का पूरा दिन तो ऐसे ही निकल गया,अजय ने काफ़ी कोशिश की पर अपनी सास और उसके जीजा के बीच कुछ अलग देख ही नही पाया वो, बड़े ही नॉर्मल तरीके से दिख रहे थे वो दोनो पर अजय भी जानता था की ऐसे रिश्ते सभी के सामने खुलकर नही दिखाए जाते ...वो भी अपनी जासूसी नज़रें उनपर लगाए हुए था. रात का खाना खाने के बाद अजय और प्राची उन्हे लेकर अपने घर आ गये..दोनो घर एकदम साथ थे इसलिए रजनी भी साथ ही चली आई, ये कहते हुए की अभी तो उसने काफ़ी गप्पे मारनी है अपनी बहन के साथ..पूजा और उसके पापा नही आए, वो घर पर ही रुके रहे. अजय का घर भी काफ़ी बड़ा था, 3 बेडरूम थे, मेहमानों के लिए उसने बड़ा वाला रूम खुलवा दिया, और सभी वहीं बैठकर गप्पे मारने लगे..मौसाजी तो टीवी देखते रहे..और अजय की सास और उसकी बहन इधर-उधर की बातें करते रहे.. अजय अपने कमरे में आ गया और कुछ ही देर मे प्राची भी..प्राची को तो आते ही नींद आ गयी,क्योंकि सुबह से सबके लिए खाना बनाने में जो लगी हुई थी वो अपनी माँ के साथ.. अब दूसरे कमरे से सिर्फ़ उसकी सास और मौसी की आवाज़ें आ रही थी..और बीच-2 मे उसके मौसा की भी आती रहती थी...रात के 11 बज चुके थे, पर उसकी सास थी की वहीं जम कर बैठी थी...और अजय जानता था की उसके पीछे उनका क्या मकसद है और अगले आधे घंटे में मौसी की आवाज़ें आनी भी बंद हो गयी, यानी वो भी सो चुकी थी ...और सिर्फ़ अजय की सास और मौसा जी बातें करते सुनाई दे रहे थे और वो भी बड़ी धीरे-2 ... कुछ ही देर में अजय को उसकी सास के कदमों की आहट सुनाई दी जो उसके कमरे की तरफ ही आ रही थी...वो समझ गया की वो चैक करने आ रही है की वहाँ सब सो रहे है या नही...उसने झट से आँखे बंद कर ली और अपने ख़र्राटों की नकली आवाज़ें निकालने लगा...


उसकी सास ने कमरे मे झाँका और दोनो को गहरी नींद में सोता हुआ देखकर चुपचाप वापिस चली गयी...और उसके जाते ही अजय भी दबे पाँव अपने बिस्तर से उठा और बाहर की तरफ चल दिया...आज उसको पक्का यकीन था की वो अपनी सास की रंगरेलियां देखकर रहेगा..रजनी ने उस कमरे का दरवाजा बंद नही किया था, वो पर्दे की आड़ में खड़ा होकर अंदर का नज़ारा देखने लगा... अंदर का नज़ारा उसकी आशा के अनुरूप ही था...उसकी पूजनीय सास अपने जीजाजी के साथ लिपट कर खड़ी थी और दोनो एक गहरी स्मूच में डूबे हुए थे...और मौसाजी के हाथ सासुमाँ की गांड को ऐसे मसल रहे थे जैसे उसमे कोई खजाना ढूँढ रहे हो...और वो उनकी बाहों में कसमसा रही थी. रहनी : "ओहू....जीजाजी .....रूको तो....पहले वो निकालो , कहीं दीदी पिछली बार की तरह ना उठ जाए...'' इतना सुनकर मौसाजी ने उन्हे छोड़ दिया..अजय की समझ में भी नही आया की वो किस चीज़ की बात कर रहे हैं. मौसाजी ने अपनी जेब से एक दवाई की शीशी निकाली और उसका ढक्कन खोलकर अपनी सो रही बीबी यानी मौसीजी की नाक के पास घुमा दिया...अजय समझ गया की वो शायद बेहोशी की दवाई है. कुछ देर तक वो उसके चेहरे को गोर से देखते रहे और फिर जब इत्मीनान हो गया तो वो पलटा और अपनी साली को फिर से दबोच कर पहले से भी ज़्यादा ज़ोर से उसे चूमने लगा.. ''ओह रज्जो ............. कितना तडपा हूँ मैं तेरे लिए......सुबह से मौका ही नही मिला तुझसे अकेले में मिलने का.....आआआहह आई मिस्ड यू सो मच ...'' रजनी : "ओह्ह्ह्ह जीजाजी ,..मैं भी कितना तडपि हूँ आपके लिए....'' और इतना कहते-2 वो अपने कपड़े उतारती चली गयी...आज ये पहला मौका था अजय के लिए जब वो अपनी सेक्सी सासू माँ को नंगा होते हुए देख रहा था.. और सच मे कमाल थी वो. पूरी नंगी होने के बाद वो जब उसके दूधिया बदन को अजय ने देखा तो अपने लंड को सहलाने लग गया...गज़ब का शरीर था उसका...एक भी दाग नही...दूधिया...और इतने बड़े-2 मुम्मे , थोड़ा लटक ज़रूर गये थे पर उनको देखकर जो पानी अजय के मुँह में आ रहा था वो ये साबित करता था की उनमे रस बहुत ज़्यादा होगा... और अपनी साली को नंगा देखते ही मौसाजी ने उन्हें दबोच लिया और उसके पपीते जैसे मुम्मों को मुँह में भरकर ज़ोर-2 से चूसने लगा... ''आआआआआआआहह उम्म्म्मममममममममममम धीरे जीजाजी ................ काटो मत.....उन्हे शक हो जाएगा....'' उसके मुम्मे चूसते -2 मौसाजी ने उपर देखा और कहा : "तो क्या किशनलाल अभी तक तेरी चुदाई करता है....'' 


रजनी ने आँखे नचाते हुए कहा : "तो आप क्या समझते हैं, आप ही मर्द हो इस दुनिया में , किसी और का मन नही करता क्या...'' मौसाजी : "अरे नही, वो तो मैने इसलिए पूछा क्योंकि तुमने उस दिन फोन पर कहा था ना की वो आजकल सेक्स में इंटरस्ट नही लेता...'' रजनी : "वो तो बस आपको जल्दी बुलाने का बहाना था ....वैसे इंटरस्ट तो कम कर ही दिया है उन्होने...पर मुझे अपना भी तो देखना होता है ना...मेरी आग बुझाने के लिए आप मुंबई से रोज-2 तो आओगे नही...इसलिए उनसे हर दूसरे-तीसरे दिन ज़बरदस्ती करनी ही पड़ती है...'' मौसाजी : "संभल जा रज्जो, अब तू सास बन चुकी है....तेरी उम्र नही रही अब पहले जितनी चुदवाने की...'' रजनी : "अब ये बात आप क्या जानो जीजाजी...इस उम्र में ही सबसे ज़्यादा चुदासी चड़ती है...और प्राची की जब से शादी हुई है, तब से मुझे तो अपनी शादी के बाद वाले दिन याद आ जाते हैं...जब आपके सांढू साहब मुझे कपड़े पहनने की भी इजाज़त नही देते थे...बस दिन रात लगे रहते थे बेशर्मों की तरह..'' मौसाजी ने उसके मुम्मे दबाते हुए कहा : "और तू चुदती भी तो रहती थी हर टाइम...वो आदत तेरी अब तक नही गयी...'' तब तक मौसाजी ने भी अपने कपड़े उतार दिए थे...उनकी उम्र के हिसाब से उनका लंड ज़्यादा बुरा नही था...लेकिन अजय से छोटा ही था वो.. उसके लंड को देखते ही रजनी उसपर झपट पड़ी और लगी चूसने.. चपर -2 की आवाज़ों के साथ वो ऐसे चूस रही थी जैसे बरसों की प्यासी औरत को पानी का पाइप मिल गया हो जिसके अंदर छुपी बूंदे वो वो अपनी सांसो से खींचकर निकालना चाहती हो.. मौसाजी भी बड़े आराम से उसके सिर पर हाथ रखकर अपना लंड चुसवा रहे थे...और उनकी नज़रें बीच-2 में अपनी बीबी की तरफ भी जा रही थी की कहीं वो उठ ना जाए... कुछ देर तक चुसवाने के बाद रजनी उठी और बिस्तर पर लेट गयी...अपनी चूत चुसवाने के लिए...लेकिन मौसाजी को शायद कुछ ज़्यादा ही जल्दी थी... वो बोले : "अभी इसका टाइम नही है रज्जो....जल्दी से घोड़ी बन जा....'' अब उस वक़्त वो भला क्या बहस करती उनसे...पर उसके चेहरे पर आए मायूसी के भाव देखकर अजय समझ गया की उनका कितना मन था अपनी चूत चटवाने का.. अजय ने मन में सोचा...''फ़िक्र ना करो सासू माँ ..जल्द ही आपका दामाद करेगा आपकी सही से सेवा...'' फिर मौसा जी ने अपने लंड के उपर ढेर सारी थूक लगाई और टीका दिया सीधा अपनी साली की गांड पर.. सासू माँ चीख पड़ी : "नही जीजाजी .....पीछू से नही....पीछू से नही ....'' मौसजी : "अरी रुक ना...तुझे पता है ना मुझे कितना मज़ा आता है तेरी गांड मारकर...नाटक ना कर...'' रजनी : "नही जीजाजी...दर्द होगा....उन्होने तो कभी नही मारी पीछे से...आपने मारी थी, और वो भी पिछले साल....अब तक तो छेद फिर से बंद हो चुका होगा....दर्द होगा ना...पीछू से नही ...पीछू से नही ...'' मौसजी : "ये क्या पीछू से नही..पीछू से नही लगा रखा है....साली....ड्रामे ना कर...मुझे अपना काम करने दे...'' और इतना कहते-2 मौसाजी ने बड़ी ही बेरहमी से उनकी गांद में अपना लंड लगाकर जोरदार झटका मारा...और उनका आधे से ज़्यादा लंड अंदर घुस गया... सासू माँ दर्द और मज़े से हुंकार उठी : "आआआआआआवउुुुुुुुुुुुुुुुुउउ ....... उफफफफफफफफफफ्फ़ ....... म्*म्म्ममममममममममम'' अपने लंड को बाहर निकालकर मौसाजी ने फिर से अंदर झटका मारा....अजय ने देखा की सासुमाँ ने तकिये को मुँह मे डालकर बड़ी मुश्किल से अपनी आवाज़ दबाई...
-  - 
Reply

08-31-2018, 04:26 PM,
#10
RE: Incest Porn Kahani ठरकी दामाद
5


पर उन्हे अपनी गांड मरवाता देखकर अजय की आँखे फैल सी गयी.....उसने तो सोचा भी नहीं था की उसकी सास अपनी गांड भी मरवा चुकी होगी...वैसे उनकी फेली हुई गांड को देखकर वो हमेशा से उनका दीवाना था..पर वो फेली हुई गांड ऐसे चौड़ी हुई होगी, ये उसे आज ही पता चला...

अजय ने भी एक-दो बार प्राची को गांड मरवाने के लिए बोला था, पर उसने सॉफ माना कर दिया था...ऐसे में अपनी सास को गांड मरवाता हुआ देखकर वो यही सोच रहा था की काश ये थोड़ी बहुत शिक्षा अपनी बेटी को भी दे दे की गांड मरवाने में कितना मज़ा आता है...मारने वाले को भी और मरवाने वाले को भी...

और अब तक मौसाजी के झटके काफ़ी तेज हो चुके थे....और लंड बड़े ही प्यार से अंदर बाहर जा रहा था..

रजनी को भी उसी मस्ती का एहसास हो चुका था...वो अपनी चूत पर उंगलियाँ फेरती हुई बड़े ही मज़े से अपनी गांड मरवा रही थी..

''उम्म्म्ममममममममममम ओह जीजाजी .............. सच मे.............बड़ा मज़ा आ रहा है ............... और ज़ोर से करो ना....... मारो मेरी गांड ......ज़ोर से मारो .....''

अपनी साली की ऐसी बातें सुनकर मौसाजी को और जोश आ गया....और उन्होने अगले 10-12 झटके ज़ोर-2 से मारकर अपना सारा रस उनकी गांड में निकाल दिया...और बाकी से उनकी चूतड़ों पर पेंटिंग कर दी 


और अपने हाथ से अपनी फुददी रगड़ते हुए सासू माँ भी झड़ गयी....

पूरे कमरे में दोनो की गर्म साँसे और सेक्स से भरे पसीने की गंध फैल गयी....

अजय का लंड पूरा खड़ा हुआ था....पर अभी के लिए बेचारा कुछ भी नही कर सकता था...

उन दोनो ने कपड़े पहनने शुरू कर दिए...अजय भी अपने कमरे में वापिस आ गया...और कुछ ही देर में उसकी सास धीरे से दरवाजा खोलकर वापिस अपने घर चली गयी...12 बज चुके थे पर अजय को 2 बजे तक नींद ही नही आई...वो तो बस आने वाले दिनों के बारे में ही सोचता रहा...

जिस सास को देखकर वो हमेशा से उनके बारे में सोचता था वही आज अपने जीजा से गांड मरवा कर गयी थी उसके घर पर...अब तो उसकी मस्ती का दरवाजा खुल चुका था...बस उसे अपनी अकल का इस्तेमाल करते हुए इस मौके का सही से फायदा उठाना था...क्योंकि वो उसकी सास थी यानी उसकी पत्नी की माँ ....जो अपने दामाद से ऐसे नाजायज़ रिश्ते बनाकर वो कभी नही चाहेगी की उसकी बेटी का घर बर्बाद हो...और उपर से उसकी पत्नी भी काफ़ी शक्की किस्म की थी...किसी भी दूसरी लड़की के बारे में सुनकर वो अजय का क्या हाल करेगी ये तो वही जानता था.....ऐसे में अजय को हर कदम फूँक -2 कर रखना था.

पूरी रात वो सो नही पाया...सुबह प्राची ने उसे 9 बजे ही उठा दिया...घर पर मेहमान जो आए हुए थे, बेचारा मन मारकर उठ ही गया..और धीरे -2 चलता हुआ बाहर आया..वो लोग जिस बेडरूम में थे वहाँ का दरवाजा खुला हुआ था और बाहर से ही उसे मौसा जी सोते हुए दिख गये...उन्हे ऐसे घोड़े बेचकर सोता हुआ देखकर अजय सोचने लगा की ऐसे सोए भी क्यो नही आख़िर अपनी साली की गांड मारकर ऐसी ही नींद आएगी जनाब को..

प्राची किचन में सभी के लिए नाश्ता बनाने में लगी हुई थी और उसकी मौसी कहीं दिख नही रही थी..अचानक अजय को कुछ याद आया और वो दबे क़दमों से उस बेडरूम में आ गया,बेड की साइड ड्रॉयर को खोलकर देखा तो उसकी आँखे चमक उठी..उसे वो शीशी दिख गयी जो मौसाजी अपने साथ लाए थे,बेहोशी की दवाई थी वो जिसे सूँघाकार नीलम मौसी को गहरी नींद में सुला दिया गया था और उनकी बहन की गांड बजा दी गयी थी..अजय ने तुरंत वो शीशी अपनी जेब में रख ली.

तभी कमरे में बाथरूम से निकल कर मौसीजी आ गयी, वो नहा कर आई थी..उन्होने एक टावल अपने बदन पर और दूसरा अपने सिर पर लपेटा हुआ था..और पुर बदन पर पानी की बूंदे मोती की तरह चमक रही थी और उनके चिकने शरीर से फिसल कर नीचे गिर रही थी.अजय तो सेक्स की देवी को ऐसी हालत में देखकर दंग ही रह गया, वैसे देखने में वो भी बुरी नही थी...वैसे भी वो उसकी सास की छोटी बहन थी और दोनो में 2 साल का अंतर था..और नहाने के बाद तो ये उसकी सास से भी सेक्सी लग रही थी उसे, उनसे थोड़ी गोरी भी थी और इनका शरीर थोड़ा मांसल भी था..जैसा की अजय को पसंद था.

अजय उनके बेडरूम में होगा ये शायद उन्होने सोचा भी नही था....अजय को ऐसे अपनी छातियों की तरफ घूरता देखकर कुछ देर के लिए तो वो सकपका गयी पर अगले ही पल उनके चेहरे पर अजीब सी कातिलाना मुस्कान आ गयी...बेचारा अजय खुद ही झेंप गया उन्हे ऐसे मुस्कुराते हुए देखकर...वो समझ गया की उसकी चोरी पकड़ी गयी है.

अजय : "वो ...बस मैं .....देखने आया था की आप लोग उठे है की नही....''

नीलम मौसी उनके करीब आई और बोली : "मैं तो उठ कर नहा भी ली अजय...इन्हे देखिए ये तो ऐसे सो रहे है जैसे पूरी रात जागकर निकाली हो..''

अब अजय उन्हे कैसे बताता की उन्हे बेहोश करके उनके पति ने उनकी बहन की गांड मारी है,और ऐसी उम्र में इतनी मेहनत करके ऐसी ही नींद आती है..

अजय को उनके जिस्म से गुलाब के साबुन की खुश्बू आ रही थी, जो कुछ दिन पहले ही वो प्राची के लिए लाया था...वो भी जब नहा कर निकलती थी तो उसके बदन से भी ऐसी ही खुशबु निकलती है और अजय उसे अक्सर बाथरूम से निकलते ही दबोच लेता था और कुछ देर तक उसके जिस्म से लिपट कर मदहोशी के आलम में डूबा रहता था.उसे चूमता रहता था 

पर अभी तो ये नही कर सकता था ना वो मौसी के साथ...बस एक गहरी साँस लेकर रह गया..

मौसी को तो जैसे उसकी उपस्थिति से कोई फ़र्क ही नही पड़ रहा था...वो बड़ी ही बेफिक्री से अपने बेग की तरफ गयी और उसे खोलकर अपने कपड़े निकालने लगी जो उन्होने आज पहनने थे, और अंत मे उन्होने अपनी पेंटी और ब्रा भी निकाल कर बेड पर रख दी...दोनो मेचिंग कलर की थी और अजय की नज़रें उन्हे देखकर कामुक होने लगी...वो ठरकी वहीं खड़ा रहा ..और बेशार्मों की तरह उनकी ब्रा पेंटी को घूरता रहा..

नीलम ने उसे ऐसा करते हुए देखा और वही पहले वाली मुस्कान फिर से उनके चेहरे पर आ गयी..अजय को लगा की ऐसे में उनके साथ कुछ ट्राइ किया जाए तो शायद बात बन सकती है..

वो कुछ बोलने ही वाला था की मौसी जी खुद ही बोल पड़ी : "अजय...तुम ज़रा बाहर जाओगे...मुझे कपड़े पहनने है...''

अजय के कान लाल हो गये ये सुनकर...बेचारा अपना सिर झुका कर बाहर निकल आया..

और सीधा अपने कमरे में जाकर बैठ गया..उसके लंड का बुरा हाल था वो स्टील रोड की तरह खड़ा था..

वो सोच रहा था की उस बंद दरवाजे के पीछे इस वक़्त नीलम मौसी अपना टावल उतार कर नंगी खड़ी होगी और एक-एक करके अपने कपड़े पहन रही होगी...

अजय ने अपनी आँखे बंद कर ली और दरवाजे के पीछे खड़ी नीलम मौसी को इमेजीन करने लगा..और तकिये के नीचे अपना हाथ लेजाकर अपने खड़े हुए लंड को मसलने लगा.

तभी उसके कानों में एक सुरीली आवाज़ टकराई : "गुड मॉर्निंग जीजू....''

उसने तुरंत अपनी आँखे खोल दी...उसने सोचा की उसकी साली पूजा आई है..पर ये तो रिया थी,नीलम मौसी की बेटी..

अजय : "गुड मॉर्निंग रिया...कैसी नींद आई तुम्हे कल रात...''

रिया : "बड़ी मस्त आई जीजू...अभी-2 उठी हूँ बस..पूजा तो अभी तक सो रही है ''

और इतना कहते-2 वो उनके बेड पर ही औंधी होकर लेट गयी, अजय की तरफ मुँह करके..और अपनी कोहनियां बिस्तर पर टीकाकार अजय से बातें करने लगी..

और ये एक ऐसा पोज़ था की अजय को उसने पूरा हिला कर रख दिया..रिया ने एक जीन्स और टी शर्ट पहनी हुई थी..और टी शर्ट का गला गोल और गहरा था,और ऐसी पोज़िशन में लेटने की वजह से उसके अंदर का सीन अजय को सिर्फ़ 2 फीट की दूरी से साफ़ दिख रहा था.उसकी टी शर्ट भी शॉर्ट थी इसलिए उसकी कमर वाला हिस्सा भी पूरा नंगा था.

रिया की उम्र 19 के करीब थी और उसने अभी अपनी जवानी की दहलीज पर कदम रखा ही था...उसके बूब्स भले ही छोटे थे पर थे पूरी गोलाई लिए हुए..ये अजय ने अभी-2 जाना क्योंकि उसने अंदर कोई ब्रा नही पहनी हुई थी..वो उसके निप्पल्स के घेरे तक अच्छी तरह से देख पा रहा था यानी सिवाए निप्पल के उसकी दोनों गोलाइयाँ उसके परोसी पड़ी थी ,वो भले ही 19 की हो चुकी थी पर उसकी हरकतों से लग रहा था की उसका बचपना अभी तक नही गया है..किसी के सामने कैसे बैठना है और अपने ''अंगों'' को कैसे छुपा कर रखना है इसका तरीका उसे अभी तक नही था..

वो बड़ी ही बेबाकी से उसके बेड पर उल्टी लेटी हुई थी और बोले ही जा रही थी..अजय सिर्फ़ हाँ - हूँ करके उसकी बातों का उत्तर देता रहा ...उसकी नज़रें तो उसके बूब्स को भेदने में लगी थी...कुछ दिनों पहले तक वो अपनी सास का दीवाना था, फिर अपनी साली का हो गया...आज सुबह वो अपनी सास की बहन को देखकर उत्तेजित हुआ तो अब वो उनकी कमसिन बेटी को अपनी आँखो से चोदने में लगा हुआ था...सच मे अजय की ठरक दिन ब दिन बढ़ती ही चली जा रही थी...उसके सामने जो-2 आ रहा था वो उनपर अपनी गंदी नज़रें डाल कर अपने ठरकीपन से उनका चक्षुचोदन करने में लगा हुआ था..
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 20 141,436 2 hours ago
Last Post: Burchatu
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 668 4,134,986 Yesterday, 07:12 PM
Last Post: Prity123
Star Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ desiaks 129 7,739 Yesterday, 12:49 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 270 529,188 04-13-2021, 01:40 PM
Last Post: chirag fanat
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 469 347,003 04-12-2021, 02:22 PM
Last Post: ankitkothare
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 83 397,412 04-11-2021, 08:36 PM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 240 299,260 04-10-2021, 01:29 AM
Last Post: LAS
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 128 252,054 04-09-2021, 09:44 PM
Last Post: deeppreeti
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस desiaks 51 233,126 04-07-2021, 09:58 PM
Last Post: niksharon
Thumbs Up Desi Porn Stories नेहा और उसका शैतान दिमाग desiaks 87 194,591 04-07-2021, 09:55 PM
Last Post: niksharon



Users browsing this thread: 2 Guest(s)

Online porn video at mobile phone


मेरी मस्त बू र को पापा ने एक ओर कमिनाइनयत सेकशी फोटोचुत सखीriya deepsi sex babagadrayijawanixxxactres 39sex baba imagesBhabhi ki chut ke chithde kar diye esi chudai ki kahaniडॉक्टर राज शर्मा की लंबी चुदाई के ज्ञान की कहानीkajal aggarwal.2019.sexbaba.netxxx sex bahan ki bub me enjection lagayaXXX बूढे दादा ने माँ की चौड़ी गांड़ मारी की कहानीburmari didirailmpail chudai khani in hindixxx kahani रामलाल kiindian sex kahani maa beta niswarth premपयार मे बिसतर पर सोनाkatrina kaf ki nagi photo binakapadoमला दीदीने झवायला शीकवलेkaki ne chodva mate vedioChudkar to bare land se Tora Jeth ne meri chudai Kiya hindeXxnx Ek Baap Ne choti bachi ko Mulakatavneet kaur ki chut mari sex storiessasur na payas bushi antarvasnaसेँक्सी बोला बाली हिन्दी विडियोwww.xxxxwwwXNXX bp porn rajokri delhi new b.fअथिया shetty opps movement xnxxHindi BF Hindi BF ko chodega Damad bhabhi ko chodega bhejoantarvasna मेरी पसंदीदा चुदक्कड़ घोड़ीकाकू ची panty cha vasxxxwww xnxxwww sexy stetasकाकू काका सेक्स करताना बघितलेमै 14 साल की लङकी हूँ मेरी छाती मे बदलाव चूत मे बदलाव काँख मे बदलाव ये कया हो रहा हैChachi chudashi thiAntarvasna.com ठकुराइन की हवेलीbhai ka hallabi lund ghusa meri kamsin kunwari chut mainkamukta threadxxx video of mosalim inadiyanbeti ko car chalana sikhaya sexbababhabi nagi dhudh dabaty huyGuda dwar me dabba dalna porn sexsauth inadiyan girl all picKHANIXXXBOOAबेटी का पापा का माका सेकसी विडीयोఅక్కకు కారిందిबॉस की बिवी के साथ सेक्स व्हिडिओXxxBal.varthukis sex position me aadmi se pahle aurat thakegi upay batayeआटी.बटि.चुदाईkamapisachi bolywod heroin photo sexbaba.com page 37क्सक्सन्स कॉम वीडियो छोटी सी लड़की को छोटे से लड़के ने खूब छोडा मस्त मजाMotignd aantiSabata ganda daltiदेहाती खूबसूरत राजकुमारियां xxx bf मुठ मारनाPorn panoom xxin suhaag raatdidi ke bachedani me biry dala chudai ki khani didi ko pelafingar chout nikalnna sex moviehindi sex kahani risteme mummy ko kehene par pegment kiyaSexy parivar chudai stories maa bahn bua sexbaba.netWww xxx biviy0 c0m.Jawan didi chudi train mein with videoxxx indian deshi video momile rekardingmisthi chakraborty ki nagi chot ki phosaxy bf moti chunchi vali ladki chudaimaa husband nanu sallu pisikeduraat ko sote time mummy ki chut me lund chipkayaxxnx Joker Sarath Karti Hai Usi Ka BF chahiyevelamma k hindi comics free me kaha milengesexychudasi boor ki chuai kahaniXxnx दुध वडे वाली मुवी मोटीMinakshi Sheshadri chiranjeevi gif Sexbabamaa bani rakil newsexstory.comasmita video number 417 sxe dseixxx mc ke taim chut m ugliMuh me virya giranasex photojawan ladik chudai कमसिन कलियाँ परत २ सेक्सबाबDhvani bhanushali fuking imageXxx.com indian kalutiHD XXX बजे मूमे फूल सैकसी/search.php?action=finduserthreads&uid=3848Koduku foreskin tho ammaarcna samanvi Nude nagi boobs potos hot sexy