Indian Sex Kahani डार्क नाइट
10-08-2020, 12:34 PM,
#61
RE: Indian Sex Kahani डार्क नाइट
चैप्टर 23

माया, प्रिया के घर पर खुश थी। प्रिया उसकी अच्छी देखभाल कर रही थी। प्रिया ने उसके लिए एक प्राइवेट नर्स भी रख दी थी। माया के शरीर के ज़ख्म धीरे-धीरे भर रहे थे, मगर मन का सारा बोझ उतर चुका था। कबीर नियमित रूप से मिलने आता। वह प्रिया से बचने की हर संभव कोशिश करता, मगर फिर भी उसका चंचल मन उसे प्रिया की ओर खींचता। इसी रस्साकशी में वह रूखा और चिड़चिड़ा सा होता जा रहा था।

‘‘कबीर! आजकल तुम बहुत बोर होते जा रहे हो।’’ माया ने शिकायत के लह़जे में कबीर से कहा।

‘‘हाँ, माया ठीक ही कह रही है; आप तो ऐसे न थे मिस्टर कबीर।’’ प्रिया ने कहा।
कबीर को समझ नहीं आया कि प्रिया म़जाक कर रही थी या व्यंग्य।

‘‘प्रिया, तुम्हें पता है कि कबीर गिटार बहुत अच्छी बजाता है?’’ माया ने कहा।

‘‘कबीर, तुमने मुझे कभी नहीं बताया; चुपके-चुपके माया को गिटार बजाकर सुनाते रहे।’’ प्रिया ने शिकायत की।

‘‘कभी मौका ही नहीं मिला।’’ कबीर ने सफाई दी।

‘‘मौके निकालने पड़ते हैं।’’ प्रिया ने कहा।

‘‘आज मौका है, आज सुना दो।’’ माया ने कबीर से अनुरोध किया।
‘‘मगर अभी यहाँ गिटार कहाँ है?’’

‘‘तुम्हारी गिटार मेरे घर पर ही रखी थी कबीर; मैंने मँगा ली है। प्रिया! प्ली़ज कबीर को इसकी गिटार दो... अब कोई और बहाना नहीं चलेगा।’’ माया ने कहा।

प्रिया कबीर की गिटार ले आई। कबीर ने गिटार ट्यून करते हुए माया से पूछा, ‘‘कौन सा गाना सुनोगी?’’

‘‘मुझे तो तुम कई बार सुना चुके हो, आज प्रिया की पसंद का गाना बजाओ; बोलो प्रिया, कौन सा गाना सुनोगी?’’ माया ने कहा।

‘‘हम्म..साँसों की ज़रूरत है जैसे..।’’ प्रिया ने कुछ सोचते हुए कहा।

कबीर ने थोड़ा चौंकते हुए प्रिया की ओर देखा।

‘‘क्यों कबीर, ये गाना अच्छा नहीं लगता तुम्हें?’’ प्रिया ने कबीर की ओर एक तिलिस्मी मुस्कान बिखेरी।

कबीर ने कोई जवाब नहीं दिया। उसने गिटार के तार छेड़ते हुए गाना, बजाना शुरू किया।

‘‘साँसों की ज़रूरत है जैसे, ज़िंदगी के लिए, बस इक सनम चाहिए आशिक़ी के लिए...।’’

मगर, गिटार बजाते हुए कबीर के मन में ये सवाल कौंधता रहा कि प्रिया ने यही गीत क्यों चुना; क्या उसके, प्रिया को छोड़ने के बाद, प्रिया वाकई तड़प रही है? क्या प्रिया की तड़प ऐसी है जैसी कि साँसों के घुटने पर होती है?

कबीर के गाना खत्म करने के बाद प्रिया ने चहकते हुए ताली बजाकर कहा, ‘‘वाओ कबीर! ये टैलेंट अब तक मुझसे क्यों छुपा रखा था? अच्छा एक बात बताओ; मुझे गिटार बजाना सिखाओगे?’’

कबीर फिर मौन रहा। माया ने कहा, ‘‘बोलो न कबीर, प्रिया को गिटार बजाना सिखाओगे?’’

‘‘अरे बाबा मुफ्त में नहीं सीखूँगी, अपनी फ़ीस ले लेना।’’ प्रिया ने म़जाक किया।

‘‘न तो मुझे किसी को गिटार सिखाना है, और न ही आज से किसी के लिए गिटार बजाना है, अंडरस्टैंड।’’ कबीर झुँझलाकर चीख उठा।

‘‘चिल्ला क्यों रहे हो कबीर?’’ माया ने कबीर को झिड़का।

‘‘माया, तुम अंधी हो? तुम्हें दिखता नहीं कि प्रिया क्या कर रही है? समझ नहीं आता तुम्हें? बेवकू़फ हो तुम?’’ कबीर की झुँझलाहट गुस्से में बदल गई।

‘‘क्या कर रही है प्रिया? एक तो वह हम पर अहसान कर रही है, और तुम उस पर चिल्ला रहे हो।’’ माया ने फिर से कबीर को झिड़का।

‘‘तुम दोनों फ्रेंड्स को जो ठीक लगता है वह करो, मगर मुझे बख़्शो, मैं जा रहा हूँ।’’ कहते हुए कबीर उठ खड़ा हुआ।

प्रिया की आँखों में आँसू भर आए। माया ने कबीर को रोकना चाहा, मगर प्रिया ने उसे इशारे से मना किया। कबीर, प्रिया के अपार्टमेंट से चला आया।
कबीर चला गया, मगर माया के कानों में उसके शब्द गूँजते रहे,‘माया तुम अंधी हो? तुम्हें दिखता नहीं कि प्रिया क्या कर रही है? समझ नहीं आता तुम्हें? बेवकू़फ हो तुम?’

क्या प्रिया के मन में अब भी कबीर के लिए चाहत बाकी है? क्या वह वाकई कबीर को उससे वापस लेना चाहती है? क्या प्रिया उस पर सारे अहसान इसलिए कर रही है, कि बदले में कबीर को उससे छीन सके? और कबीर? क्या अब भी उसके मन में प्रिया के लिए जगह है? यदि न होती तो कबीर इस तरह परेशान न होता... कुछ तो है।

कबीर घर लौटकर भी का़फी बेचैन रहा। साँसें कुछ ऐसे बेचैन रहीं, जैसे कि घुट रही हों। रह-रहकर प्रिया के ख़याल आते। उसने प्रिया के साथ न्याय नहीं किया। माया के पास तो फिर भी उसका करियर और उसकी एम्बिशन थे, मगर प्रिया ने तो प्रेम को ही सब कुछ समझा था। माया ने तो उसे कितना बदलना चाहा था; उसकी स्वच्छंदता, उसकी आवारगी पर लगाम कसी थी; उस पर हमेशा रोब और रुतबा जमाया था... मगर प्रिया की तो उससे कोई अपेक्षाएँ ही नहीं थीं। उसने तो उसे वैसा ही स्वीकार किया था, जैसा कि वह था।
Reply

10-08-2020, 12:34 PM,
#62
RE: Indian Sex Kahani डार्क नाइट
कबीर ने अलमारी खोलकर उसके लॉकर से प्रिया की दी हुई घड़ी निकाली। डायमंड और रो़ज गोल्ड की खूबसूरत घड़ी, जिसके डायल पर लिखा था ख्ख्, यानी कबीर खान। कबीर ने घड़ी अपनी कलाई पर बाँधी, और उसे एकटक निहारने लगा। घड़ी की सुइयों की टिक-टिक उसकी यादों में बहते समय को खींचकर उसके बचपन में ले गई।

कबीर के जीवन की समस्त विचित्रताओं की तरह ही उसके जन्म की कहानी भी विचित्र ही थी।

कबीर के माँ और पापा की पहली मुलाक़ात, एक स्टूडेंट रैली में हुई थी। माँ उन दिनों स्टूडेंट लीडर, और अपने कॉलेज की स्टूडेंट यूनियन की प्रेसिडेंट थी, और पापा एक जूनियर पत्रकार। कबीर के होने वाले पापा, कबीर की होने वाली माँ को देखते ही उन पर फ़िदा हो गए; और फ़िदा भी ऐसे, कि उसके बाद चाहे कोई रैली हो, कोई हड़ताल हो कॉलेज या यूनिवर्सिटी का कोई फंक्शन; वे माँ से मिलने का कोई मौका हाथ से जाने न देते। मुलाक़ातें दोस्ती में बदलीं, दोस्ती प्यार में; और प्यार खींचकर ले गया शादी की दहली़ज तक। मगर वहाँ एक मुश्किल थी। कबीर की माँ हिन्दू हैं और पापा मुस्लिम। उनके घरवालों को उनका सम्बन्ध गवारा न था। कहते हैं कि लगभग साढ़े चार सौ साल पहले, मुग़ल बादशाह अकबर ने एक हिन्दू राजकुमारी से शादी कर, हिन्दू-मुस्लिम रिश्तों की साझी तह़जीब की बुनियाद डाली थी; मगर शायद वो बुनियाद ही कुछ कच्ची थी, क्योंकि आज भी भारत में हिन्दू-मुस्लिम बड़ी आसानी से भाई-भाई तो कहला सकते हैं, मगर उसी आसानी से पति-पत्नी नहीं हो सकते। खैर, माँ ने तो किसी तरह अपने घर वालों को मना लिया, मगर पापा के घर वाले किसी भी कीमत पर रा़जी न हुए। फिर पापा ने की एक लव-जिहाद। अपने लव या प्यार को पाने के लिए, अपने परिवार और बिरादरी के खिला़फ जिहाद; और सबकी नारा़जगी मोल लेते हुए माँ से शादी की।

शादी के बाद पापा के सम्बन्ध अपने घर वालों से बिगड़े हुए ही रहे। कुछ औपचारिकताएँ हो जातीं; कुछ ख़ास मौकों पर मुलाकातें या बातचीत हो जाती, मगर इससे अधिक कुछ नहीं। फिर हुआ कबीर। कबीर का होना, उसके बाद यदि किसी और के लिए सबसे अधिक बदलाव लेकर आया तो वे उसके पापा के घर वाले ही थे। पूरा परिवार उसे देखने आया, मगर इस बार उनका आना मह़ज एक औपचारिकता नहीं था; उसमें एक गर्मजोशी थी, एक उत्साह था। कबीर के प्रति उमड़ता उनका प्रेम, उसके पापा पर भी छलकने लगा था, जिसमें भीगकर पापा, अपने आपसी रिश्तों में आई सारी कड़वाहट धो डालना चाहते थे। मगर कुछ देर बाद पापा को समझ आया कि उस प्रेम के पीछे एक डर था; वैसा ही डर, जो प्रेम और घृणा को एक दूसरे का पूरक बनाए रखता है। कभी अपने बेटे के गैरम़जहबी लड़की से शादी कर, उसके दूर हो जाने के डर ने उनके मन में एक घृणा पैदा की थी, और उस दिन अपने पोते के गैरम़जहबी हो जाने का डर उन्हें कबीर की ओर खींच लाया था। उन्हें डर था, कि उनसे दूरी की वजह से कबीर, मुस्लिम संस्कारों से वंचित होकर हिन्दू न हो जाए। वे उसे हिन्दू बनने से रोकना चाहते थे। उनका मानना था कि हर बच्चा मुस्लिम ही पैदा होता है, मगर उसके पालक उसे हिन्दू, सिख या ईसाई बना देते हैं। वे एक और मुस्लिम को का़फिर बनने से रोकना चाहते थे। उन्होंने तो कबीर के लिए नाम भी सोच रखा था... ‘ज़हीर।’ मगर कबीर के पापा उसे ऐसा नाम देना चाहते थे, जो अरबी न लगकर हिन्दुस्तानी लगे; जो बादशाह अकबर द्वारा डाली गई कच्ची नींव को कुछ पुख्ता कर सके; मगर साथ ही ये डर भी था, कि यदि नाम हिन्दू हुआ, तो परिवार के साथ मिटती दूरियाँ कहीं और न बढ़ जाएँ। कबीर का म़जहब तय करने से पहले ही उसके नाम का म़जहब तय किया जाने लगा था। पापा की इस कशमकश का हल निकाला माँ ने; और उन्होंने उसे नाम दिया, ‘कबीर’; यानी महान, ग्रेट। अल्लाह के निन्यानबे नामों में एक... एक अरबी शब्द, जो संत कबीर से जुड़कर, न सि़र्फ पूरी तरह हिन्दुस्तानी हो चुका है, बल्कि अपना म़जहबी कन्टेशन भी खो चुका है। कबीर को समझकर ही समझा जा सकता है कि शब्दों का कोई म़जहब नहीं होता, नामों का कोई म़जहब नहीं होता; म़जहब सि़र्फ इंसान का होता है... भगवान का कोई म़जहब नहीं होता।

बचपन में ही, जैसे ही कबीर को उसके नाम के रखे जाने का किस्सा पता चला, उसे यकीन हो चला कि वह पूरी कहानी बेवजह नहीं थी, और उसके पीछे कोई पुख्ता वजह ज़रूर थी। उसे यकीन हो चला था कि उसके नाम के अर्थ के मुताबिक ही उसका जन्म किसी महान मकसद के लिए हुआ था।
मगर आज कबीर कहाँ आ पहुँचा था? कहाँ रह गया था उसके महान बनने का मकसद? आज वह बस दो लड़कियों के बीच उलझा हुआ था। प्रिया, जो एक अरबपति पिता की बेटी थी; जिसके सामने उसका ख़ुद का कोई ख़ास वजूद नहीं था। दूसरी माया; जिसके अरबपति बनने के सपने थे; जिन सपनों के सामने वह ख़ुद को छोटा ही समझता था। क्या प्रेम में किसी लड़की को अपनी ओर आकर्षित कर लेना ही सब कुछ होता है? क्या उसे अपने प्रेमजाल में उलझाए रखना ही सब कुछ होता है? क्या उसके रूप और यौवन के प्रति समर्पित रहना ही सब कुछ होता है? आ़िखर रूप और यौवन की उम्र ही कितनी होती है? उस उम्र के बाद प्रेम का उद्देश्य क्या होता है? क्या प्रेम का अपना भी कोई महान उद्देश्य होता है? बस यही सब सोचते हुए कबीर की आँख लग गई।

अगली सुबह कबीर की आँख का़फी देर से खुली। अलसाई आँखों को मलते हुए कबीर ने टीवी का रिमोट उठाया और बीबीसी 24 न्यू़ज चैनल लगाया। मुख्य खबर थी – इन द मिडिल ऑ़फ डीप फाइनेंशियल क्राइसिस एनअदर प्राइवेट इन्वेस्टमेंट फ़र्म फ्रॉम सिटी ‘सिटी पार्टनर्स’ कलैप्स्ड। द फ़र्म इ़ज चाज्र्ड विद फ्रॉड्यूलन्ट एकाउंटिंग प्रैक्टिसेस एंड इट्स टॉप ऑफिशल्स आर अरेस्टेड, आल एम्प्लाइ़ज ऑ़फ द फ़र्म फियर जॉब लॉसेस।

कबीर को धक्का सा लगा। सिटी पार्टनर्स ही वह फ़र्म थी, जिसमें माया और कबीर काम करते थे। फ़र्म के डूब जाने का मतलब था, माया और कबीर की नौकरी जाना, माया का फ़र्म में इन्वेस्ट किया सारा पैसा डूबना। एक तो माया की ख़ुद की सेहत खराब थी, उस पर देश की अर्थव्यवस्था की सेहत भी बुरी तरह बिगड़ी हुई थी। एक के बाद एक डूबते बैंक और प्रॉपर्टी मार्केट के टूटने से अर्थव्यवस्था चरमराई हुई थी। ऐसे में माया के लिए नई नौकरी ढूँढ़ पाना लगभग असंभव था; ऊपर से माया पर उसके अपार्टमेंट के क़र्ज का बड़ा बोझ था। नौकरी न रहने का अर्थ था क़र्ज चुकाने में दिक्कत; और क़र्ज न चुका पाने का अर्थ था, अपार्टमेंट का हाथ से जाना। माया के तो जैसे सारे सपने ही बिखर जाएँगे। ऐसे में सि़र्फ एक ही सहारा थी... प्रिया। प्रिया ही मदद कर सकती थी। कबीर ने तय किया कि वह प्रिया से मिलेगा; उसके हाथ जोड़ेगा, ख़ुद का सौदा करेगा; मगर माया के सपने बिखरने नहीं देगा। माया ने सफलता और सम्पन्नता के जो सपने देखे हैं, वे पूरे होने ही चाहिएँ। शायद इसी त्याग में उसके जीवन का उद्देश्य पूर्ण होगा; उसका नाम ‘कबीर’ सार्थक होगा।
Reply
10-08-2020, 12:34 PM,
#63
RE: Indian Sex Kahani डार्क नाइट
कबीर ने प्रिया को फ़ोन किया, ‘‘प्रिया मैं तुमसे मिलना चाहता हूँ।’’

‘‘शाम को घर आ जाओ कबीर।’’ प्रिया ने कहा।

‘‘नहीं, वहाँ माया होगी; मैं तुमसे अकेले में मिलना चाहता हूँ।’’

‘‘ऐसी क्या बात है कबीर, जो माया की मौजूदगी में नहीं हो सकती?’’

‘‘मिलने पर बताऊँगा प्रिया; ऐसा करो तुम लंच करके माया के अपार्टमेंट पर पहुँचो।’’

प्रिया को थोड़ी बेचैनी हुई। पता नहीं कबीर क्या कहना चाहता था। कबीर के पिछली रात के मि़जाज को देखते हुए प्रिया की बेचैनी स्वाभाविक थी। उसी बेचैन सी हालत में वह माया के अपार्टमेंट पहुँची। कबीर वहाँ पहले से ही मौजूद था।

‘‘कहो कबीर।’’ प्रिया के दिल की धड़कनें बढ़ी हुई थीं।

‘‘प्रिया, शायद तुम्हें पता न हो; मगर जिस फ़र्म में माया और मैं काम करते हैं वह डूब गई है।’’

‘क्या?’ प्रिया ने चौंकते हुए कहा।

‘‘हाँ प्रिया, हम दोनों की जॉब भी गई समझो। माया का फ़र्म में इन्वेस्ट किया पैसा भी डूब गया, और उस पर, माया पर इस अपार्टमेंट का छह लाख पौंड का क़र्ज है।’’

‘‘क्या! छह लाख पौंड?’’ प्रिया एक बार फिर चौंकी।

‘‘तुम्हें तो पता है, कि अभी इकॉनमी और प्रॉपर्टी मार्केट की क्या हालत है; माया की सारी कमाई इस अपार्टमेंट में लगी है; उसकी जॉब तो जाएगी ही, और उस पर अगर वह इस अपार्टमेंट को भी न बचा पाई, तो वह टूट जाएगी, बिखर जाएगी।’’

‘‘मैं समझती हूँ कबीर।’’ प्रिया के चेहरे पर चिंता की गहरी लकीरें खिंच आर्इं।

‘‘प्रिया, इस वक्त सि़र्फ तुम्हीं माया की मदद कर सकती हो। तुम मुझे माया से वापस लेना चाहती हो न? मैं तैयार हूँ प्रिया; मगर प्ली़ज, माया के सपनों को बिखरने से बचा लो।’’ कबीर ने विनती की।

‘कबीर।’ प्रिया ने चौंकते हुए कहा।

‘‘क्यों क्या हुआ प्रिया; तुम्हें सौदा पसंद नहीं?’’

‘‘कबीर प्ली़ज शटअप!’’ प्रिया चीख उठी, ‘‘तुम्हें क्या लगता है कि मैं माया की मदद तुम्हें पाने के लिए कर रही हूँ? तुमने प्रेम को सौदा समझ रखा है?’’

‘‘तो किसलिए कर रही हो माया की मदद? किसलिए बन रही हो मसीहा? मुझे नीचा दिखाने के लिए?’’

‘‘कबीर शटअप! जस्ट शटअप!’’ प्रिया फिर से चीख उठी, ‘‘जानना चाहते हो, मैं क्यों माया की मदद कर रही हूँ? क्यों उदार बन रही हूँ? तो सुनो कबीर... जब तुम मुझे छोड़कर माया के पास चले गए थे, तो मेरे सारे भरोसे, सारे विश्वास टूट गए थे। मुझे लोगों पर आसानी से भरोसा करने की आदत थी। मुझे लगता था कि जो लोग मुझे अच्छे लगते हैं, वे अच्छे ही होते हैं, उनकी नीयत सा़फ होती है, उन पर मैं भरोसा कर सकती हूँ; मगर मेरा वह यकीन टूट गया। अच्छाई पर भरोसे का जो मेरा जीवन का फ़लस़फा था, वह बिखर गया; और उस बिखराव ने मुझे भी वहीं पहुँचा दिया, जिसे तुमने कहा था, ‘डार्क नाइट’। मैं डिप्रेशन में डूब गई। उस वक्त मुझे तुम्हारी बात याद आई। मैंने डिप्रेशन और डार्क नाइट पर सर्च किया, और मुझे तुम्हारे गुरु काम के बारे में पता चला।’’

‘‘इस तरह प्रिया से मेरी मुलाक़ात हुई।’’ मैंने, मुझे गौर से सुनती मीरा से कहा, ‘‘प्रिया जब मेरे पास आई, तो वह वैसे ही गहरे अवसाद में थी,जैसे कि कबीर था, जब वह मुझसे मिलने आया था।’’

‘‘कबीर पर मैंने भरोसा किया था; मगर कबीर से कहीं अधिक भरोसा मुझे माया पर था। कबीर से तो चार दिन की मुलाक़ात थी, मगर माया से तो बरसों की करीबी दोस्ती थी। कबीर से कहीं ज़्यादा मेरे भरोसे को माया ने तोड़ा है; कबीर से कहीं ज़्यादा गुस्सा और ऩफरत मेरे मन में माया के लिए है।’’ प्रिया ने अवसाद में डूबी आवा़ज में मुझसे कहा।

‘‘माया से मैं मिल चुका हूँ, वह अच्छी लड़की है।’’ मैंने प्रिया से कहा।

‘‘तो फिर उसने मेरे साथ ऐसा क्यों किया? मुझसे धोखा क्यों किया? मेरा भरोसा क्यों तोड़ा?’’ प्रिया बिफर उठी।

‘‘इंसान अच्छा हो या बुरा, कम़जोर ही होता है; कम़जोरी में ही गलतियाँ भी होती हैं और अपराध भी।’’

‘‘मैंने कौन सा अपराध किया है, जिसकी स़जा मुझे मिल रही है?’’

‘‘तुमने शायद कोई अपराध नहीं किया है, मगर अब अपने मन में क्रोध और घृणा पालकर तुम अपने प्रति अपराध कर रही हो।’’

‘‘आप कहना क्या चाहते हैं, कि मुझे बिना कोई अपराध किए ही स़जा मिल रही है? और जिसने मेरे साथ अपराध किया है, उससे मैं घृणा भी न करूँ? उस पर गुस्सा भी न करूँ? ये कैसा न्याय है?’’

‘‘प्रिया! ईश्वर की प्रकृति में स़जा या दंड जैसा कुछ भी नहीं होता। प्रकृति अवसर देती है, दंड नहीं। हम जिसे बुरा वक़्त कहते हैं, वह दरअसल अवसर होता है उन कम़जोरियों, उन बुराइयों और उन सीमाओं से बाहर निकलने का, जो उस बुरे वक़्त को पैदा करती हैं। जीवन, विकास और विस्तार चाहता है, और डार्क नाइट अवसर देती है, अपनी सीमाओं को तोड़कर विस्तार करने का। जीवन के जो संकट डार्क नाइट पैदा करते हैं, उन संकटों के समाधान भी डार्क नाइट में ही छुपे होते हैं। कबीर की तड़प ये थी, कि वह लड़कियों का प्रेम पाने में असमर्थ था। डार्क नाइट से गु़जरकर उसके व्यक्तित्व को वह विकास मिला, जिसमें उसने लड़कियों को अपनी ओर आकर्षित करना और उनका प्रेम पाना सीखा; मगर तुम इस अवसर में अपनी चेतना के विस्तार को दिव्यता तक ले जा सकती हो। अपनी कम़जोरियों और सीमाओं से मुक्ति ही असली मुक्ति है; स्वयं को घृणा और क्रोध की बुराइयों से मुक्त करो प्रिया। घृणा और क्रोध से तुम सि़र्फ ख़ुद को ही दंड दोगी, माया को नहीं। अपने हृदय को विशाल बनाओ... तुम्हारे डिप्रेशन का इला़ज भी उसी में है, और तुम्हारी डार्क नाइट का उद्देश्य भी वही है।’’
Reply
10-08-2020, 12:34 PM,
#64
RE: Indian Sex Kahani डार्क नाइट
चैप्टर 24

‘‘कबीर, मैं तुम्हें ख़ुद से बाँधना नहीं चाहती; तुम्हारे गुरु से मैंने मुक्त होना सीखा है। मैं ख़ुद को अपनी घृणा, और माया को उसके अपराध बोध से मुक्त कर रही हूँ।’’ प्रिया ने कबीर को, मुझसे हुई बाते बताते हुए कहा।

‘‘आई एम सॉरी प्रिया, मैं तुम्हें समझ नहीं पाया।’’ कबीर को ग्लानि महसूस हो रही थी।

‘‘समझ तो तुम माया को भी नहीं पाए कबीर; औरत को सि़र्फ अपनी ओर आकर्षित कर लेना ही बहुत नहीं होता; उस आकर्षण को बनाए रखना उससे भी बड़ी चुनौती होता है। औरत अपने प्रेमी को हमेशा अपने साथ खड़े देखना चाहती है; एक कवच बनकर, एक साया बनकर। उसके प्रेम की छाँव में वह कठिन से कठिन समय भी बिताने को तैयार रहती है। माया को कभी यह मत बताना कि उसकी भलाई के लिए तुम उसके प्रेम का सौदा करने चले थे; वह तुमसे ऩफरत करने लगेगी। कबीर, अच्छे और बुरे वक्त तो जीवन में आते रहते हैं, मगर औरत और आदमी के सम्बन्ध का असली अर्थ होता है कि वे इन अच्छे और बुरे वक्त में एक दूसरे का संबल और प्रेरणा बनें। मुझसे जितना हो सकेगा, मैं माया की मदद करूँगी; मगर उसे असली ज़रूरत तुम्हारी है कबीर; जाओ और जाकर माया को सहारा दो।’’

कबीर, बेसब्री से माया से मिलने के लिए दौड़ा। प्रिया की डार्क नाइट से उसने प्रेम का असली अर्थ सीखा था। उसने प्रेम में समर्पण का अर्थ, अपने प्रेमी की दासता करना समझा था, मगर प्रेम में समर्पण का अर्थ दासता नहीं होता... प्रेम में समर्पण का अर्थ, अपना सम्मान खोना नहीं, बल्कि अपने प्रेमी का संबल और सम्मान बनना होता है... प्रेम में समर्पण, बंधन नहीं, बल्कि मुक्ति होता है; मुक्ति, जो दिव्यता की ओर ले जाती है।

‘‘कबीर, अच्छा हुआ तुम आ गए, मैं तुम्हें फ़ोन करने ही वाली थी।’’ कबीर को देखते ही माया ने कहा। माया बेहद परेशान दिख रही थी।

‘‘माया, घबराओ मत, सब ठीक हो जाएगा।’’ कबीर ने माया के पास बैठते हुए उसके गले में हाथ डाला, और उसके बाएँ गाल को चूमा।

‘‘कैसे ठीक हो जाएगा कबीर? सब कुछ तो डूब गया; और फिर मैं अपना लोन कैसे चुकाऊँगी?’’ माया की आँखों से निकलकर आँसू, उसके गालों पर लुढ़कने लगे थे।

‘‘माया, सब्र करो, हम कोई रास्ता निकाल लेंगे।’’ कबीर ने एक बार फिर माया का हौसला सँभालना चाहा।

अचानक ही माया के मोबाइल फ़ोन पर एक टेक्स्ट आया। माया ने टेक्स्ट पढ़ते हुए चौंककर कहा,‘‘कबीर, मेरे बैंक से मैसेज आया है कि किसी ने मेरे अकाउंट में छह लाख पौंड ट्रान्सफर किए हैं; कौन हो सकता है?’’

कबीर के होंठों पर मुस्कान बिखर गई। वह प्रिया ही होगी।

‘‘और कौन, तुम्हारी सहेली प्रिया।’’ कबीर ने मुस्कुराकर कहा।

‘‘कबीर, तुमने कहा प्रिया से मुझे पैसे देने के लिए? मैं प्रिया से इतने पैसे कैसे ले सकती हूँ?’’ माया के चेहरे पर हैरत, ख़ुशी और नारा़जगी के मिले-जुले भाव थे।

‘‘उधार समझकर ले लो माया, चुका देना।’’

‘‘कबीर, उधार तो चुकाया जा सकता है, मगर अहसान... प्रिया के इतने अहसान कैसे चुकाऊँगी?’’

‘‘इमोशनल मत हो माया; तुम्हें इस वक्त इन पैसों की ज़रूरत है।’’

‘‘प्रिया से मैंने क्या-क्या नहीं लिया कबीर; उसका प्रेम छीन लिया, उसका विश्वास छीन लिया; और कितना कुछ लूँगी।’’

‘‘तो फिर क्या करोगी माया?’’ कबीर बेचैन हो उठा।

कुछ देर माया चुपचाप सोचती रही, फिर उसने प्रिया को फ़ोन लगाया।

‘‘प्रिया, कैन यू प्ली़ज कम हियर।’’

‘‘माया, मैं अभी बि़जी हूँ, शाम को तो मिलेंगे न।’’ प्रिया ने कहा।

‘‘नो प्रिया, आई वांट यू हियर राइट नाउ, प्ली़ज कम ओवर।’’

प्रिया को पहुँचने में लगभग बीस मिनट लग गए। इस बीच माया चुपचाप उसका इंत़जार करती रही। कबीर ने उससे बात करनी चाही, मगर माया खामोश रही।

‘‘कहो माया?’’ प्रिया ने पहुँचते ही कहा।

‘‘प्रिया, तुम्हें पता है कि कबीर अपनी ज़िन्दगी में क्या करना चाहता था?’'

‘‘माया तुमने इस वक्त मुझे यह पूछने के लिए बुलाया है?’’ प्रिया ने चौंकते हुए पूछा।

‘‘हाँ प्रिया, मुझे लगा कि यही सही वक्त है इस बात को करने का।’’

‘‘हूँ... तो कहो क्या करना चाहता था कबीर?’' प्रिया ने शरारत से मुस्कुराकर कबीर की ओर देखा।
Reply
10-08-2020, 12:35 PM,
#65
RE: Indian Sex Kahani डार्क नाइट
‘‘आसमान में उड़ना चाहता था।’' माया ने हँसते हुए कहा, ‘‘मुझे कबीर किसी बिगड़े हुए बच्चे सा लगता था, जिसे न तो अपनी राह ही मालूम थी और न ही मंज़िल। मुझे लगता था कि मैं कबीर को सही रास्ता दिखा सकती थी; मगर कबीर को मेरे बताए रास्ते पर चलकर मिला क्या? कबीर अपनी ज़िन्दगी में रोमांच चाहता था, मगर उसे मिली नौ से पाँच की नौकरी; कबीर खुले आसमान में उड़ना चाहता था, और वह बँध गया एक डेस्क और कम्प्यूटर से। कबीर किसी महान मकसद के लिए जीना चाहता था, और उसे मिला, माया का अपार्टमेंट सजाने के लिए। कबीर कोई खज़ाना खोज निकालना चाहता था, और उसे मिली बँधी-बँधाई सैलरी। कबीर की कल्पनाओं में थी, उसका हाथ थामकर उड़ने वाली एक परी, और उसे मिली उस पर लगाम कसने वाली माया। प्रिया, कबीर का भटकाव वह नहीं था, जो वह चाहता था... कबीर को तो मैं भटका रही थी... मैं ठगिनी माया, अपने साथ बाँधकर। कबीर की मंज़िल उसकी आवारगी में ही है, और इस आवारगी में उसकी हमस़फर तुम्हीं बन सकती हो प्रिया, मैं नहीं।’'

‘‘माया, ये क्या कह रही हो?’' कबीर ने चौंकते हुए कहा।

‘‘एंड यू कबीर; तुम नीचे अपने घुटनों पर बैठो।’’ माया ने आँखें तरेरते हुए कबीर से कहा।

‘माया?’ कबीर कुछ और चौंका।

‘‘कबीर आई सेड, गेट ऑन योर नीज़ नाउ।’' माया ने हुक्म किया।

कबीर घबराते हुए अपने घुटनों पर बैठ गया।

‘‘गुड बॉय।’’ माया ने मुस्कुराकर कहा, ‘‘अब प्रिया का हाथ अपने हाथों में लो, और उससे प्रॉमिस करो कि उसकी दहलीज़ के भीतर हो या बाहर; तुम्हारी आवारगी हमेशा उसके हाथों को थामे रहेगी।’’

कबीर ने मुस्कुराकर माया की ओर देखा। मोहिनी माया को वह त्याग रहा था, माया के ही आदेश से। प्रिया ने हाथ बढ़ाकर कबीर को ख़ुद में समेट लिया।

* * *

‘‘तो ये थी कबीर की कहानी।’’ मैंने कहानी खत्म करते हुए मीरा की आँखों में झाँककर देखा। उसकी आँखों में अब भी एक उलझन सी बाकी थी।

‘‘हूँ... वेरी इंटरेस्टिंग एंड इंस्पाइरिंग स्टोरी; पूरी रात कैसे बीत गई पता ही नहीं चला।’’ मीरा ने मुस्कुराकर कहा, ‘‘मगर एक बात समझ नहीं आई।’’

‘क्या?’ मैंने पूछा।

‘‘यही, कि माया के बदन में जो आग और जलन सी उठी थी, वह क्या थी? ऐसा क्यों और कैसे हुआ था?’’

‘‘उसे समझने के लिए परेशान न हो मीरा; हर ची़ज किसी कारण से ही होती है... कहानी में उसकी भी ज़रूरत थी।’’ मैंने समझाया।

‘‘अच्छा अब चलती हूँ, मेरी फ्लाइट का समय भी हो रहा है; आपके साथ बहुत अच्छा समय बीता... मैंने आपका फ़ोन नंबर नोट कर लिया है, वी विल कीप इन टच।’’

‘‘श्योर मीरा; टेक केयर एंड हैव ए हैप्पी जर्नी।’’ मैंने हैंडशेक के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया। मीरा ने मुझसे हाथ मिलाकर अपना हैंडबैग उठाया और वेटिंग लाउन्ज से बाहर निकल गयी।

थोड़ी ही देर में मेरा मोबाइल फ़ोन बजा। फ़ोन मीरा का था।

‘‘काम! मेरे बदन में जलन हो रही है... बॉटम से आग सी उठ रही है, प्ली़ज हेल्प मी।’’ मीरा फ़ोन पर चीखी।

मैंने फ़ोन को कान से हटाते हुए अपना हाथ झटका, ‘‘उ़फ, इन कमबख्त हाथों में वाकई कोई जादू है।’’ कहते हुए मैं लाउन्ज के बाहर मीरा की ओर दौड़ा।


समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Gandi Kahani सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री 45 3,699 11-23-2020, 02:10 PM
Last Post:
Exclamation Incest परिवार में हवस और कामना की कामशक्ति 145 19,144 11-23-2020, 01:51 PM
Last Post:
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ 154 73,243 11-20-2020, 01:08 PM
Last Post:
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी 4 65,978 11-20-2020, 04:00 AM
Last Post:
Thumbs Up Gandi Kahani (इंसान या भूखे भेड़िए ) 232 31,800 11-17-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Lockdown में सामने वाली की चुदाई 3 8,972 11-17-2020, 11:55 AM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान 114 111,001 11-11-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Antervasna मुझे लगी लगन लंड की 99 77,054 11-05-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Mastaram Stories हवस के गुलाम 169 148,865 11-03-2020, 01:27 PM
Last Post:
  Rishton mai Chudai - परिवार 12 53,880 11-02-2020, 04:58 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


new2019xxnxxXxx.bideo.लडकी।फोन।पे।बुर।देखाती।हैफेश बुक पर नगीँaah uncal pelo meri garam bur chudai storiwww sexbaba net Thread chudai story E0 A4 AE E0 A4 BE E0 A4 95 E0 A5 80 E0 A4 AE E0 A4 B8 E0 A5 8D Eanpadh chachi ko patane ke tarikeछोटी बहिन के दूध को रात में दबता थाSasur ke sath zavliMuh me lund desi sexxxxx hd videosAai ani baba sex kartana me pahileaunti ne mumniy ko ous ke bete se chodaiससुर बहू का सेक्स आरडीओMari barbadi family sexपापा ने मेरी कुवारी चुत फाडी मेरा नाम आशा झुक कर झाड़ूandhere me jeth ka land pakad liyaनँगी गँदी चटा चुची वाली कुछ अलग तरीके वाली तसवीरेxxxbfkarinakapurSex babaaकहानिचूत औरलंडrajsrmasexdesi52xnxx videohindi gujratiLuka choriy xxxxnx vedio jhadiXXNXX.COM. नींद में ऐसी हरक़त कर दी सेक्सी विडियों Dono ko ek hi bister par chodhunga meri jaan hindi sex storiesXxxxxxx ki khaaniiyyaPunjabi kudi chodte hue bataenपरिवार में हवस और कामना की कामशक्तिHindi viklang aurat ki choda chodiसेकसी बुर मे लोरा देता हुआ बहुत गंधा फोटोmooslim ladhke ka land ka supadha sex kahaniwww चाची blouse utarte रंग xnxx तस्वीरेंbahan watchman se chudwatiIndian actress boobs gallery fourmWww.Rasmika Madnna chut nagi photo.comAvika gor sexy bra panty photoxxxtjnwwww .barathasex .com सेक्सी हाँय स्टोरीladkiya yoni me kupi kaise lgati hai xxx video de sathज़ालिम पति कमसिन मासूम पत्नी की दर्दनाक चुदाईrimpi xxx video tharuinshivangi joshi fuked hard sex nudes fake on sex baba netHind xxxsexy story sexbaba.commoti janghe porn videohiba baji ki mast chudaiसलवार साड़ी खोलकर पेशाब टटी मुंह में भाभी मां बहेन बहु बुआ आन्टी की सेक्सी कहानियांडिक लेके चौदाईdeshi xnxx khet me pelate pakane gayeहलब्बी लन्ड से बुर का भोसडा बनवायाdesi thakuro ki sex stories in hindimere ghar me mtkti gandMai aur bete ke sath sex video chahie Hindi mein audio usko boliyenude saja chudaai videosहाट सेकसी कहानी बङे भयानक लंड से चूदीsasur ne penty me virya girayapryia prakash varrier nudexxx imagesपैसे के लिए भाभी ने देवर से भोसडी फडवा लीlan chukane sexy videosrajokri delhi desi nude hot girls photo & b.fसेक्सी पिचर हीदी मे प्यासXxxxnxxbahan , hindi oudio me chudaiचुचियों को दबाया कहानीmoushi ko naga karkai chuda prin videoबुढी बॉस मॅडम की चुदाई सेक्स स्टोरीpunjabiyon ki asali asali hot hot hot hot sexy sexy sexy video Punjab ki sexy sexy video Punjab ki Suhagratsixbaba tamanaबेबी पराए मर्द से चुदाती हुई बातें करते हुएमां बहेन बहु बुआ आन्टी दीदी भाभी ने सलवार साड़ी लेगा खोलकर परिवार में पेशाब पिलाने की सेक्सी कहानियांdono budiya aaps me chut chatne lagi nangi hokarkhetme anttyki gand cudai sex videobhaisex videoantravasnaचुदाईकोहनीbyaf sex asamol bibeanjane me. incest kahaniकाजल हिरोईन किxxx www फोटो चाहिएNachoda bolane para chodaiAbhintri Nhaha sarma sex videoantervasna fingir. bhabhiपरकर सेकसीकुंवारी लड़कियों की सेक्सी वीडियो चोदा चोदी बढ़ियाxxx saxi janwer kebr sa jaag utta video's horrersex baba.net thread pragya indian sthaga rati riala xnxx vidoasexbabastoriesएक लड़की बुर्का बिना कपड़ो माँ थी नंगी storidood.chukane.wali.ki.chudaai.sareeअसीम सुख प्रेमालाप सेक्स कथाएंChe kitna badbu failati ho sex storyUncle Maa ki chudai hweli me storiesतारक मेहता का एक्ट्रेस सेक्स फोटो बाबाकी चुची इमेज गिफXxxxxपडोसन फिलमwww antarvasnasexstories com latest stories page 364नानू ने चोदा हिंदी सेक्स स्टोरी