Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
11-11-2020, 12:53 PM,
#1
Star  Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
दोस्तो मैं आपका अपना सतीश एक और नई कहानी शरू कर रहा हु यह एक इनसेस्ट कहानी है एक ऐसे बेटे की जो अपनी बेहद हसीन माँ और खूबसूरत बहन का दीवाना है पर अब उसकी बहन शादी करके चली गई है मैं भी क्या आपको बोर करने लगा मैं अपनी बकवाणी बंद करता हु और कहानी शुरू करता हु जो आपको जरूर पसंद आयेगी ……सतीश
----------------------------------------
सतीश" 19 साल का हैंडसम स्मार्ट और मस्क्युलर लड़का है. उसका लंड नौ इंच का है. जवानी का जोश उसके ऊपर हर वक़्त सवार रहता है. ये उन दिनों की बात है... जब छुट्टी चल रही थी और सतीश अपनी बेहद सेक्सी और हसीन मा"सानिया" के साथ घर पे अपनी छुट्टियाँ गुज़ार रहा है.
"सानिया" अपने पति विशाल की मैन्युफैक्चरिंग कंपनी में एक एग्जीक्यूटिव है. ३७ साल की उम्र में भी उसका जिस्म एक २० साल की कुंवारी लड़की की तरहा बेहद सेक्सी और वेल शेप्ड है. वो ज़्यादा तर बॉडीफिट वाइट ब्लाउज और शार्ट स्कर्ट और छोटी सी नायलॉन की पेन्टी और पेन्टी होस पहनती है जिस में उसके बेहद हसीं सेक्सी और गड्ढेदार गोल गोल चुत्तड़ बड़ी मुश्किल से समाते हैं उसकी पावरोटी जैसी फुली हुई चिकनी चुत भी पूरी तरहा से उसमे नहीं समां पाती उसकी रसीली चुत का सेक्सी शेप साफ़ नज़र आता है.
सानिया बेहद खूबसूरत और सेक्सी है. गोरा रंग, काली ज़ुल्फे, बेहद खूबसूरत गुलाबी ठोस चुची... चिकना सपाट पेट.. पतली कमर... २ बड़े बड़े उभरे हुए बेहद हसीन चुतड़... सेक्सी रसीली चुत.. मदमस्त फ़िगर... "३६D-३०-३८"
जो देखे उसका लंड खड़ा हो जाए... सानिया का सबसे बड़ा दीवाना कोई और नहीं उसका अपना बेटा सतीश है.
सतीश के दिमाग में हमेशा एक ही बात घूमति रहती है की... माँ को चोदने में कितना मज़ा आयेगा... माँ के हसीन पैरों को अपने कंधे पे रख के अपना नौ इंच का लंड उनकी रसीली चुत में डालने में कितना मज़ा आयेगा...
मा की चुत को अपने वीर्य से भर के उन्हें माँ बनाने में बड़ा मज़ा आयेगा...
सानिया ये जानती है की उसका बेटा उसे चोदना चाहता है...
ये बाद उस से छुपी नहीं है... उसका बेटा हर वक़्त उसे भूखी नज़रों से देखता है... वो इस बात से बेहद खुश है की ३७ साल की उम्र में भी कोई है जो उसका दीवाना है... ये सोचते ही उसकी चुत वीर्य छोड़ने लगती है.. लेकिन ये और कोई नहीं बल्कि उसका अपना बेटा है.. भले ही वो कितना भी हैंडसम और स्मार्ट है लेकिन है तो उसका अपना सगा बेटा. माँ और बेटे को एक दूसरे के लिए ऐसी सोच रखना गलत है. ये क़ानून और समाज के खिलाफ है. वो ये सोचती है की इस उम्र में हर लड़के के साथ ऐसा ही होता है और वक़्त के साथ साथ उसकी और उसके बेटे की सोच बदल जाएगी..

एक वक़्त था जब सतीश अपनी बेहद हसीन और सेक्सी बहन मोना का दीवाना था मगर मोना की शादी के बाद सतीश अपनी माँ के सेक्सी जिस्म की तरफ आकर्षित हो गया...
सतीश सुबह सो के उठता है और फ्रेश होने के बाद सिर्फ हाफ पैंट पहने घर के बाहर गार्डन में चला जाता है... गार्डन में सानिया रोज़ की तरहा एक छोटी सी नाईट गाउन पहने नंगे पैर घास पे टहल रही है...
ओ वहीँ खड़े खड़े माँ की सेक्सी नंगी मटकती गांड को घुरने लगा.

सानिया ने जैसे ही अपने बेटे को अपने जिस्म को घुरते देखा उसके जिस्म में एक सनसनी दौड़ गयी. उसने प्यारी आवाज़ में अपने बेटे से कहा.
सानिया : "गुड मोर्निंग, बेटा."
सतीश : "मोर्निंग, मा."
ओ आगे बढा और अपनी माँ के पास जाकर उसने अपनी माँ को पीछे से गले लगा लिया.
सतीश : आई लव यु मा...
सानिया ने पलट के अपने बेटे को स्माइल दी और कहा “आई लव यु टू मेरे लाल”.
ओ अपने बेटे के कड़क लंड को अपनी गांड के बीच में चुभते हुए मेहसुस कर रही है. उसे ये एहसास हो गया है की उसके बेटे का लंड उसके पति के लंड से काफी बड़ा है.
सानिया : कल रात कैसी गुज़री...? तुम ठीक से सोये की नही...?
सतीश : हाँ मा... मैं ठीक से सोया... क्या डैड कोलकता चले गये...?
सानिया : हाँ अभी कुछ देर पहले ही गए है...
Reply

11-11-2020, 12:53 PM,
#2
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सानिया ये जानती है की उसका बेटा ये क्यों पूछ रहा है...? उसके पति के सामने उसके साथ उसके बेटे का बर्ताव कुछ और होता है... और उसके पति के जाते ही उसके बेटे का बर्ताव बदल जाता है... उसका बेटा उसके साथ काफी चिपकने लगता है...
सानिया बुरा नहीं मानति. वो ये जानती है की उसका जवान बेटा इस वक़्त उम्र के बेहद कामुक दौर से गुज़ार रहा है और वो अपनी माँ की मर्ज़ी के बगैर कुछ नहीं करेगा... और.
सतीश अपनी माँ को अपनी बाँहों में कस लेता है. उसका खड़ा लंड उसकी माँ की सेक्सी गांड में घूसने लगता है.
ओ अपना हाथ माँ के पेट् से ऊपर की तरफ सरकाने लगता है जब तक उसके हाथ अपनी माँ के स्तन के नीचले हिस्से तक नहीं पहुँच जाते.
सतीश : ओह्ह मा... "आई लव यु."
सानिया अपना हाथ पीछे ले जा के अपने बेटे के बालों में प्यार से घुमाने लगती है और अपनी गर्दन घुमा के अपने बेटे को देखति है.
सानिया : मुझे पता है मेरे लाल, में भी तुम्हे बहुत प्यार करती हु. तुम्हारी सोच से भी कहीं ज़्यादा.
सतीश : नहीं मा... तुम समझि नही... में.. मैं तुमसे बेहद प्यार करता हु. "आई लव यू मां"
सानिया अपने बेटे की तरफ घूम जाती है और अपने बेटे के हांथों पे अपनी ऊँगली रख देती है.
सानिया : "शश!!! मुझे पता है की तुम मुझे कितना चाहते हो. तुम्हे मुझे ये बात समझाने की कोई ज़रूरत नहीं है.
मुझे पता है की तुम्हारे दिल में इस वक़्त क्या चल रहा है...
सतीश : क्या सच मे...?
सानिया : हा... और ये पर्फेक्ट्ली नेचुरल है... तुम्हारी उम्र के लड़के अपनी माँ को इसी तरहा से चाहते हैं और देखते है. मुझे बताओ की तुम कैसा मेहसुस कर रहे हो...?
सतीश : मेरे ख...या...ल से... जलन.....
सोनिअ : जलन....!!! किस से...?
सतीश : द... द... डैड से...
सोनिअ : तुम्हे अपने डैड से जलन हो रही है... क्यूँ की में उनकी हूं....?
सतीश : हा... और श्... शायद... मैं ये जानता हूँ की वो तुम्हे वो सुख वो प्यार नहीं दे सकते जिसकी तुम हक़दार हो.... मुझे पता तुम्हे उस चीज़ (सेक्स) की कितनी चाहत है... उसके बिना तुम अधुरी हो... और....
सानिया : और....?
सतीश : और न जाने तुम कितने साल से तड़प रही हो उस के लिये... मुझसे तुम्हारी ये तड़प नहीं देखि जाती... तुम्हे इस अधुरी हालत में देख के मेरा दिल रो पडता है... मुझे बड़ी तकलीफ होती है तुम्हारे इस अधुरेपन को देख के... है काश डैड की जगह में होता...
सानिया : तुम होते तो.....?
सतीश : अगर डैड की जगह में होता तो में तुम्हे वो हर सुख देता जिसके लिए तुम न जाने कब से तड़प रही हो... मैं तुम्हारे अधुरेपन को पूरा कर देता... और तुम्हे इतना प्यार करता इतना प्यार करता की अगले ७ जनम के लिए काफी होता...
सतीश की बाते सुन के सानिया की आँखें नम हो गयी और उसने सतीश को अपने सीने से लगा लिया... माँ की आँखों में आँसु देख के सतीश ने कहा...
सतीश : "आई' एम सोर्री, मा... मुझे पता है की मेरा ऐसा सोचना बेवकूफ़ी है..." मगर में तुम्हे यूँ तड़पते हुए भी तो नहीं देख सकता...
सानिया : "नही मेरे लाल... ये बेवकूफ़ी नहीं है, स्वीटी. तुम्हारी फीलिंग्स एक दम रियल है... जब कोई किसी से इतना प्यार करता है... की उसकी हर तकलीफ आपको अपनी लगती है... आप उसके हर दर्द पे तड़प उठ ते हो... वही हाल इस वक़्त तुम्हारा है... तुम मुझसे इतना प्यार करते हो की मेरे बिना कुछ कहे भी तुम्हे ये पता चल गया की में किस तकलीफ में हु...
सतीश : तो माँ जो मैंने अभी कहा क्या वो सच है...?
Reply
11-11-2020, 12:53 PM,
#3
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सानिया : हा... ये सच है की में और तुम्हारे डैड १४ साल से साथ रह के भी एक दूसरे के साथ नहीं है...
सतीश : "१४ साल" से...? क्या कहा १४ साल से तुम तड़प रही हो...?
सानिया : हा... और में कर ही क्या सकती हु... जब मेरी किस्मत में तडपना ही लिखा है तो में क्या कर सकती हु... और वैसे भी किस्मत के लिखे को कौन बदल सका है...
अपणी माँ की बात सुन के सतीश की आँखें चमक उठि.
सतीश : अगर ऐसी बात है तो... तुम्.... तुम मुझे क्यों नहीं ट्राय करने देती...? मुझे पता है.... नहीं मुझे यकीन है की में तुम्हारे अधुरेपन को दूर कर लुंगा... सही में में तुम्हे शीकायत का कोई मौका नहीं दूँगा... मैं तुम्हे वो हर सुख दूंगा जिसके लिए तुम १४ साल से तड़प रही हो...
अपने बेटे की बात सुन के सानिया हंसने लगी. वो दोनों एक दूसरे के बहुत पास एक दूसरे के चेहरे के सामने खड़े है. सानिया के हाथ अपने बेटे के कंधे पे है...
सानिया : "होल्ड इट, मिस्टर. तुम्हे ये पता है की में और तुम वो नहीं कर सकते... जो तुम कह रहे हो और जो तुम चाह रहे हो वो नहीं हो सकता...
सतीश : क्यों मा...? हम वो क्यों नहीं कर सकते...? और डैड को ये कभी पता नहीं चलेगा... तुम्हे उन से इस बारे में कुछ कहने की ज़रुरत ही क्या है... ये हमारा सीक्रेट रहेगा...
अपने बेटे की बात सुन के सानिया ज़ोर ज़ोर से हंसने लागी....
सानिया : "सतीश, तुम्हे पता भी है की तुम मुझसे क्या करने को कह रहे हो...?
सतीश : "मा में जो कह रहा हूँ उस बात में पॉइंट है... क्यों नहीं है क्या...? मेरी बात सही है... तुम डैड को धोका दिए बिना... फिर से वो सुख पा सकती हो...
सानिया : सतीश... लेकिन इस तरहा भी तो में आपने पति को धोका ही दे रही हू...
सतीश : "हा.... लेकिन फिर भी अगर कुछ गलत करने से आपको सुख मिलता है तो उस में बुराई क्या है... जो सुख तुम्हे डैड नहीं दे सकते वो सुख तुम्हे में दे सकता हु...मैं, मैं प्रॉमिस करता हूँ की हमारे बारे
मे किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा....
प्लीज माँ प्लीज.....
सानिया : "स्वीटी, तुम जो कह रहे हो हम वो नहीं कर सकते..."
सतीश : "क्यूं? माँ हम वो क्यों नहीं कर सकते...? तुम्हे जो सुख चाहिए वो तुम्हे में दे रहा हूँ फिर क्यों नहि...?
सानिया : "सतीश, ये बात मेरे सुख पाने की नहीं है ये बात है मेरी तुम्हारे साथ... अपने बेटे के साथ सेक्स करने की है..
सानिया : अपनी शादी के इन 20 सालों में एक बार भी मैंने उन्हें धोका नहीं दिया है... और अब भी में उनको धोखा दे के उनका विश्वाश नहीं तोडना चाहती...
अपनी माँ की बात सुन के सतीश अपना सर झुका लेता है... लेकिन फिर एक पल के बाद वो अपनी माँ को देखता है..
सतीश समझ जाता है कि थोड़ी ट्राय की तो माँ को चोदा जा सकता है उसके लिए माँ को बहोत सिड्यूस करना होगा ताकि वह खुद चोदने को तैयार हो जाये यही एक रास्ता है बहोत सालो से माँ चुदी नही है उसे सिर्फ सिड्यूस करना है बाकी अपने आप हो जायेगा.
आज जिस तरह दोनो माँ बेटे के बिच खुला पन है कुछ समय पहले नही था इसकी शुरुवात सतीश ने की थी
सतीश पिछले साल में खूब बदल गया था, मगर लम्बाई में नहीं बल्कि सतीश का जिस्म खूब भर गया था. उसकी छाती, कन्धे, जांघे अब वयस्क मर्द की तरह चौड़ी हो गयी थी मगर वह अब भी अपने डैड जैसा लंबा, चौढा मर्द नहीं बन सका था इसीलिए तब उसे जबरदस्त झटका लगा था जब सतिशने देखा था के उनके इतने लम्बे-चौड़े शरीर के बावजूद उनका लंड कितना छोटा सा था. एक बार डैड और उनके दोस्तोँ ने एक पार्टी रखी थी जहा डैड उसे भी साथ लेकर गए थे. डैड उस समय बाथरूम में खड़े पेशाब कर रहे थे जब वह बाथरूम में गया था. वो पेशाब करने के बाद अपना लंड हिलाकर उसे झाढ़ रहे थे और सतीश उनके अगले यूरीनल पर खड़ा हो गया क्योंके बाकि सब पहले से बिजी थे.
जब सतिशने कनखियों से देखा तो वो पेशाब कर अपना लंड हिला रहे थे. सतिशने बचपन के बाद आज पहली बार उनका लंड देखा था. बचपन में सतिशने तब उनका लंड देखा था जब उन्होनो उसे अपना लंड दिखाते हुए समझाया था के कुदरति तौर पर मर्द पेशाब कैसे करते है. उस समय उसे उनका लंड बहुत बढा लगा था. डैड के लंड को देखने पर लगा वो झटका उसके गर्व के एहसास में बदलता जा रहा था और फिर वो गर्व का एहसास अभिमान में बदलने लगा. सतीश अपने लंड को बाहर निकालने वाला था मगर फिर वह डैड को शर्मिंदा नहीं करना चाहता था इस्लिये वापस जिपर बंद करने लगा.
विशाल:-"शरमाओ मत्त"
डैड हंस पढ़े थे.
विशाल:- "मुझे पूरा यकीन हैं तुम्हे इस मामले में शर्मिंदा होने की जरूरत नहीं है" वो सिंक की और मूडते हुये मेरी पीठ थपथपा कर बोले. सतीश अब भी अपनी जिपर से उलझा हुआ था जब वो हाथ सुखाने के बाद हँसते हुए बाहर चले गये. अगर वह उसे भूल जाता तो शायद बात वहीँ ख़तम हो जाती और सबकुच ठीक ठाक हो जाता. मगर वह चाहकार भी उसे भुला न पाया. डैड की हँसी जैसे उसके दिमाग में घर कर गयी थी और बार बार उसे उसके कानो में वो अपमानजनक हँसी गूँजती सुनायी देती. डैड की वो अपमानजनक हँसी बार बार उसके दिल में किसी शूल की तरह चुभती थी. 'मुझे उस समय उन्हें अपना लंड दीखाना चाहिए था' वह सोचता. 'उसके लंड पर नज़र पढते ही उनका मुंह बंद हो जाता. उन्हें मालूम चल जाता के असली मर्द का लंड कैसा होता है, कम से कम उनके मुकाबले में. अगर उनका लंड ऊँगली के समान था तो सतीश का कलायी के समान'

दोस्तो कहानी के बारे में अपनी राय जरूर दे

कहानी जारी रहेगी
Reply
11-11-2020, 12:54 PM,
#4
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
उन्होनो उसकी मम्मी जैसी सुन्दर, निहायत खूबसूरत और बेहद सेक्सी औरत को उस बच्चे जैसे छोटे से लंड के बावजूद किस तरह अपने पास सम्भाला हुआ था, पूरी तरह उसकी समज से बाहर था. और इस तरह इस सब की शुरुवात हुयी.पहले वह अपनी बहन मोना का दीवाना था पर अब वह अपनी मम्मी का भी दीवाना हो गया अब
उसने अपनी मम्मी को एक औरत की नज़र से देखना शुरू कर दिया न के एक मम्मी की तरह. वो बहुत ही खूबसूरत थी और उम्र के हिसाब से उसका जिस्म बेहद आकर्षक था. डैड बहुत ही हैंडसम थे, तगड़े जिस्म के मालिक, अच्छे स्वभाव के और पढ़े लिखे मगर इन सब के बावजूद मम्मी को जरूर उनकी टांगों के बिच की कमी खलती होगी और वो जरूर इच्छा करती होगी की काश डैड का वो अंग भी उनके बाकि अंगों की तरह लम्बा तगड़ा होता! शायद मम्मी को शादी हो जाने तक इस बारे में पता नहीं चला था और जब पता चला तब तक बहुत देर हो चुकी थी. तो इसका मतलब शादी से पहले उन्होनो कभी चुदाई नहीं की थी .
जितना वह इस बारे में सोचता उतनी ही उसकी ख्वाहिश बढ़ती जाती के मम्मी को अपना दिखाऊ. सतीश हर बार खुद को चेताता था. कितना ऊटपटाँग और मूर्खतापूर्ण विचार था. सतीश अपनी काल्पनिक दुनिया में अपने खयाली पुलाव पका रहा था. मगर घंभीरता से सोचने पर उसे लगता के मेरी किसी ऐसी हरकत की प्रतिक्रिया में वो बेहद्द क्रोधित हो सकती थी. 'खुद पर क़ाबू रखो' वह अपने आप से दोहराता. घर का ख़ुशनुमा माहोल, मम्मी का लाड़-दुलार पाकर वह अपनी उद्ण्डता के लिए खुद को धिक्कारना बंद कर देता और उसकी इच्छा फिर से बलवति होने लगती. हर बार इस ख्याल मात्र से के वह अपनी मम्मी को अपना नंगा लंड दिखा रहा है, सतीश का लंड खड़ा हो जाता था.

सतीश अपने दिमाग में कई परिदृश्यों की कल्पना करता जिनमे कुछ वास्तविक हो सकते थे मगर ज्यादातर असलियत से कोसो दूर था. कुछ संजोगिक होते तो कुछ जानबूझकर.
सतिशने आखिर आगे बढ्ने का फैसला किया. सुरुआत में सतिशने लापरवाही की कुछ घटनाओ का सहारा लिया. सतीश जानबूझकर ऐसे जाहिर करता के पयजामे के अंदर अर्ध कठोर लंड के बारे में उसे कोई होश ही नहीं है या फिर उसके बॉक्सर्स के किनारे से झाँकते सुपाडे की उसे कोई जानकारी नहीं है. मगर जल्द ही अपनी इस लापरवाही के दिखावे से आगे बढ़ गया और ऐसे तरीके अपनाने लगा के उसे साफ़ साफ़ पता चल जाये के वह यह सब जानबूझकर कर रहा है कोई भी ऐसी हरकत करने के बाद सतीश को टॉयलेट भागना पडता ताकि वह जल्द से जल्द मुठ मार सके और खुद को लंड की दर्दभरी अकडन से छुटकारा दिला सके. सतीश मुट्ठ मारते हुये ऑंखे बंद कर लेता ताकी वह उस अनिच्छुक आनंद को महसूस कर सके जो मम्मी यक़ीनी तौर पर उसके असलि, मर्दो वाले लंड को देखने से हासिल करती थी.

सतिशने कभी भी मुट्ठ मारते हुये मम्मी द्वारा अपना लंड छुये जाने की कल्पना नहीं की थी, क्योंके असल में उसके पास इतना समय ही नहीं होता था. सतीश उसी समय झड जाता था जब कल्पना में मम्मी के चेहरे पर हैरत के भाव बदल कर कमोत्तेजना का रूप ले लेते और वो सतीश का लंड पकडने के लिए हाथ आगे बढाती थी.......
ओर ऐसे इसका धीरे धीरे अंत हो जाता? मगर नहि. अंत-तहा होना तो एहि चाहिए था के वह अपनी मम्मी को लेकर अपनी फैंटसी से आखिरकार थक जाता और मुट्ठ मारने के लिए नयी कल्पनायों का सहारा लेता. मगर नहि, उसके साथ ऐसा नहीं हुआ. सतीश इतना 'समझदार' नहीं था. डैड की तीखी सोच विचार क्षमता उस में नहीं थी. सतिशने अपनी कल्पना को वास्तविकता में बदलने दिया. सतीश स्कूल से घर जाते ही एक छोटा सा बॉक्सर पहन कर घर में घूमता फिरता ताकि मम्मी का ध्यान उसकी जांघों के बिच झूलते उसके तगड़े लंड की और जाये.वह हालांकि, टीवी पर किसी प्रोग्राम देखने को लेकर या किसी किताब को पढ़ने को लेकर जबरदस्त दिलचस्पी का दिखावा करता मगर सतीश का पूरा ध्यान उसकी सारी इन्द्रियां इसी पर केन्द्रीत होती के वह मम्मी की और से किसी इशारे या संकेत को पढ़ सके के उसका ध्यान उसके लंड की और जा रहा है के नही.
Reply
11-11-2020, 12:54 PM,
#5
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सतिशने खुद को भरोसा दिलाया के उनका ध्यान उसके लंड की तरफ जा रहा है. जिस तरह वो निचे की और देखने से कतरा रही थी, उससे वह निश्चित था. और फिर एक बार, जब वो उससे बात करते करते उसकी और घूमि और उसकी नज़र उसके पाजामे के उभार पर पढ़ी तो वो बोलते बोलते रुक गयी और ऐसे ही दो और मौक़ों पर वो किस तरह शर्मा गयी थी. मम्मी को उसके तगड़े लंड का पूरा एहसास था!**
सतीश अपना पायजामा ऊपर चढता है जब तक्क के वो उसके अंडकोषों तक्क नहीं पहुँच जाता. उसके अण्डकोष उसके सख्त हो रहे लंड के निचे टाइट होते जा रहे थे उसके बारे में सोचना बंद कर' वह जैसे खुद को हुक्म दे रहा था. मगर उस कम्बखत ने उसकी एक न सुनि और ऊपर को झटका मार कर खड़ा हो गया जिससे उसके अंदरवियर में सर्कस का एक मिनी टेंट बन गया.सतीशने पाजामा उतारकर बॉक्ससर्स पहन लिया और एक मैगज़ीन अपनी जांघो के जोड़ पर रख कर निचे जाता है जब वह सीढियाँ उतर रहा था तो खुश्किस्मती से न उसकी मम्मी और न उसके डैड उसकी तरफ देखते है. डैड अख़बार में डुबे हुये थे और बिच बिच में नज़र उठाकर टीवी पर चल रहे प्रोग्राम को देख लेते थे. मम्मी कोई मैगज़ीन पढ़ रही थी और उस मैगज़ीन को उन्होनो अपनी दायि जांघ पर रखा हुआ था जिसे उन्होनो बायीं जांघ पर क्रॉस करके चढ़ाया हुआ था. उनका पांव किसी ट्यून की ताल से ताल मिलाते हिल रहा था जो उनके दिमाग में बज रही थी. सतीश चुपके से आ रहा था ताकि वह अपने माता पिता को डिस्टर्ब न कर दे, बड़े सोफ़े के दूसरे कोने पर बैठ जाता है और अपनी पीठ उसकी साइड से टीका कर अपने पांव उठाकर सोफ़े के ऊपर रख लेता है सानिया सोफ़े के दूसरे सिरे पर बैठि थी और उसका रुख सामने की और था जबकि वह सिरे पर इस प्रकार बैठा था के उसका रुख मम्मी की तरफ था. सतीश अब मैगज़ीन के ऊपर से नज़र उठाकर अपनी मम्मी को देख सकता था. उसका एक हाथ अपने स्याह काले बालों की एक लट से खेल रहा था, यह उसकी ऐसेही आदत थी जो में जब से होश सम्भाला था, देखता आ रहा था. वो तभी अपने बालों की लट से इस प्रकार खेलति थी जब वो किसी चीज़ पर अपना ध्यान केन्द्रीत करने की कोशिश कर रही होती थी. सतीश की नज़र उसके सुन्दर मुखड़े से हटकर उसके उभरे हुए सीने पर जाती है जो उसके फूलों के प्रिंट वाले ब्लाउज के अंदर उसकी पांव की ताल से ताल मिलाते हिल रहे थे. शूकर था उसने अपनी बाँह पीछे सोफ़े की पुश्त पर रखी हुयी थी जिससे उसके मम्मे बिलकुल उसकी नज़र के सामने थे, बिना किसी रूकावट के.
सतिशने एक ढीला सा बॉक्सर्स पहना हुआ था जिसे सतिशने खास कर इसी मौके के लिए चुना था ताकि अगर मम्मी की नज़र उसकी और जाये तो वो लेग से झाँकते उसके मुन्ने के दर्शन जरूर कर ले. मगर उसने उसकी और नहीं देखा. लेकिन इससे सतीश को कोई फरक नहीं पडा. सतिशने अपनी मैगज़ीन मम्मी की और करते हुए उसे पुकारा और एक पिक्चर की और इशारा किया. वो साधारण सी पिक्चर थी मगर असलियत में सतिशने वो मैगज़ीन इतनी निची करके पकड़ी हुयी थी के वो पिक्चर उसके बॉक्सर से झाँकते उसके लंड के सुपडे के बिलकुल करीब थी. ऐसा सम्भव नहीं था के वो पिक्चर देखे मगर उसका ध्यान उसके लंड के सुपाडे की और न जाये.
मम्मी अपने हाव-भाव छुपा नहीं सकी. यकीनन उसका ध्यान लंड पर गया था. उसने बॉक्सर्स से झाँकता सतीश का लंड जरूर देखा था. इससे भी बढ़कर जब उसने उसके लंड से नज़र हटाकर फिर से ऊपर पिक्चर को देखा तो वो कुछ उद्दिग्न जान पड़ती थी, उसकी आवाज़ में कुछ कम्पन था जब वो अपना ध्यान उस पिक्चर पर केन्द्रीत करने की कोशिह कर रही थी जिसे सतीश अपनी ऊँगली से मार्किंग करते हुए उसे दिखा रहा था. और फिर उसने दोबारा पिक्चर से नज़र हटाकर उसके लंड को देखा. इसके बाद उसने झट्ट से अपना चेहरा अपनी मैगज़ीन पर झुका लिया.

Reply
11-11-2020, 12:54 PM,
#6
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
कुछ समय बाद सतिशने उसे एक और पिक्चर दिखाने की कोशिश की मगर सानिया ने देखने से इंकार कर दिया. और उससे इतना कहकर पीछा छुडा लिया, सानिया:-"मुझे एक जरूरी आर्टिकल पढना है"
वो तीखे स्वर में बोली थी. वैसे भी, उस समय सतीश को अपने तगड़े लंड को छुपाने के लिए अपने बॉक्सर पर अपनी मैगज़ीन रखणी पढ़ रही थी जिसने उसके बॉक्सर में तूफ़ान खड़ा किया हुआ था. कुछ मिनट्स के बाद सतीश मुंह घुमाकर सीधा अपने रूम में गया और बाथरूम में जाकर अपने लंड को बेरहमी से तब तक पीटता रहा जब तक के उसने बाल्टी भर वीर्य से पूरे बाथरूम को गन्दा न कर दिया.
दूसरे दिन नाश्ते के समय सानिया का मूड उखडा हुआ था. सतीश नाश्ता करने में जनबुजकर देर लगा रहा था और सतिशने अपनी कुरसी घुमाकर उसका रुख टेबल की बजाये किचन के सेंटर की और कर दिया. सतीश कुरसी पर थोड़ा सा पीछे को झुक गया और अपनी टांगे चौड़ी कर लि, कुछ इस तरह के सतीश का पायजामा उसके लंड और अंडकोषों पर बेहद टाइट हो गया और निचे अंदरवियर न पहने होने के कारन वहां से काफी कुछ देखा जा सकता था. जब डैड ने न्यूज़पेपर का पन्ना पलटा और उसे उठाकर अपने चेहरे के नज़्दीक कर लिया ताकि वो उसे आराम से पढ़ सके तब सानिया ने सतीश की जांघो के बिच कई बार नज़र डाली वो अपनी तरफ से बेहद्द तेज़ी से चोरी-चोरी नज़र डालती थी मगर सतीश की तेज़ नज़रों से वो बच नहि सकी और इस बात को जानते हुये की उसकी चोरी पकड़ी गयी है वो गुस्सा हो रही थी. मगर इस सब के बावजूद वो खुद को उसके लंड की और कई बार नज़रें उठाने से रोक न पायी.
कुछ समय बाद वो घर के पिछवाड़े में चलि गयी जहा वो कपडे धोती थी. सतीश भी कुछ देर बाद उसके पीछे वहा चला गया. वो अभी वाशिंग मशीन में कपडे डाल रही थी और बास्केट को खाली कर रही थी जब सतीश वहा पहुँच गया. उसका स्कर्ट उसके गोल मटोल उभरे नितम्बो के कारन उसकी गांड पर कसा हुआ था और उसमे से उसकी पेन्टी के बाहरी सिरे आराम से देखे जा सकते थे. वो सीधी खड़ी हो गयी और अपने कुल्हों पर हाथ रखकर सीधे अपने बेटे से बोलि,
सानिया:- "क्या चाहिए तुम्हे?"
इतना कुछ होने के बाद उनके इतने कढ़े स्वर से सतीश थोड़ा हैरत में पड़ गया.
सतीश:-"कुछ नहीं मम्मी, में आपको अपना पायजामा धोने के लिए देणे आया था."
सतिशने ठन्डे स्वर में बोलते हुए निचे अपनी जांघो के जोड की और इशारा किया जहा ऑरेंज जूस गिरा हुआ था. मम्मी की नज़र बेटे की नज़र का पीछा करती निचे आई जहा उसके सख्त लंड के उभार के ऊपर ऑरेंज जूस का धब्बा पड़ा हुआ था. वो जितना जरूरी था उसके कहीं अधिक समय तक पाजामे में उसके उभार को देखति रही और इससे सतीश की उत्तेजना और भी बढ़ गयी थी. उसके लंड ने पाजामे में झटके मारने सुरु कर दिए थे. सतीश उनके चेहरे से देख सकता था के उन्हे एहसास था के वो जरूरत से ज्यादा समय तक देखति रही थी और उसे इसका पता था. वो झुक कर ड्रायर में सुखाने के लिए ताज़ा धुले हुये कपडे ड़ालने लगी. सतीश की नज़र फिर से उसकी उभरि हुई गोल मटोल गांड पर चलि गयी.
सानिया:-"अपना पायजामा उतार कर यहाँ दाल दो"
सानिया तीखे स्वर में फर्श पर गंदे कपडों के ढेर की और इशारा करते हुये बोली. तब सतिशने वो किया जिसके बारे में सानिया ने कभी सोचा तक नहीं होगा, उसने क्या खुद सतिशने कभी ऐसी हिमाक़त करने के बारे में नहीं सोचा था. सतिशने अपना पायजामा पकड़ा और उसे उतार कर फर्श पर कपड़ों के ढेर में फेंक दिया. जैसे ही सतीश का पायजामा उस ढेर में गिरा ऐसा लगा जैसे समय की रफ़्तार बहुत धीमि हो गयी है. सतीश एक टी-शर्ट पहने खड़ा था और कमर से निचे पूरा नंगा था. सतीश का सख्त लंड हवा में झटके खा रहा था और मम्मी ड्रायर में कपडे ड़ालना रोक कर फर्श पर कपड़ों के ढेर की और सर घुमाति है, सानिया वहां पड़े सतीश के पयजामे की मोजुदगी को समझने की कोशिह कर रही थी. धीरे बहुत धीरे, उसकी ऑंखे और सर ऊपर की और उठने लगता है, उसके पांव से बेटे की टांगे और फिर अंत में उसकी नज़र अपने बेटे के पूरी तरह कठोर लंड पर जाकार अटक जाती है. वो उसके लंड की और इस तरह घूर रही थी जैसे वो उस बात को निश्चित करना चाहती थी जो बात उसका दिमाग उसे बता रहा था के सतिशने अपना पायजामा उतार दिया है. उसके लंड की अकडन और भी बढ़ गयी जब सतिशने उसकी ऑंखे फ़ैलती देखि. तब वह दोनों उस स्वप्न से जाग गये और समय वापस अपनी रफ़्तार से चलने लगा. वाशिंग मशीन का वॉशर भर चुका था और उसने कपडे ढ़ोने के लिए पहला चक्कर लगाना सुरु कर दिया. मम्मी झटके से सीधी खड़ी हो गयी.
Reply
11-11-2020, 12:54 PM,
#7
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सानिया:-"येह तुम क्या कर रहे हो? होश में तो हो?" वो फुसफुसा कर बोली.
सतीश:-"तुमने खुद ही तो कहा था उतार कर गंदे कपड़ों में दाल दुं."
सतिशने ऐसे जबरदस्त तनावपूर्ण माहोल के बावजूद अत्यंत शांत स्वर में उसे जवाब दिया जैसे वहां कुछ भी ऐसा वैसा नहीं हुआ था और सब नार्मल था.
सानिया:-"मेरे कहने का मतलब अभी से नहीं था. मैंने यह नहीं कहा था के अभी अपना पायजामा उतार कर मेरे सामने नंगे हो जाओ"
सानिया ऊँचे स्वर में बोलती है. सतीश उसकी तरफ मासुमियत से देखता है जैसे के उसे कुछ मालूम ही नहीं था के कोलाहल किस बात के लिए मचा हुआ है. सानिया का चेहरा कठोर रुख धरण कर जाता है जैसे उसने कोई सख्त फैसला लिया हो.
सानिया:-"ठीक है अगर तुम मेरे मुंह से कहलवाना चाहते हो तो ऐसे ही सही. तुम्हे अपनी यह घटिया हरकतें बंद करनी होंगी!" वो उसके अंदेशे को सच करती हुयी बोली.
सानिया:-"तुम चाहते हो के में तुम्हारे डैड को यहाँ बुलाऊ?"
सतिशने उसके दिखावे से न डरते हुये लापरवाही से अपने कंधे झटक दिये.
सानिया:-"अपना पायजामा इसी समय वापस पहनो वर्ना में इसी समय तुम्हारे डैड को बुला रही हु"
सानिया ने अपनी बात पर ज़ोर डालने के लिए अपना हाथ फर्श पर पढ़े उसके पाजामे की और झटका मगर जल्दबाज़ी में उसकी हथेली का पिछला भाग उसके कठोर लंड से टकरा गया. सानिया उस स्पर्श से कांप उठि और उसने फ़ौरन अपना हाथ झटक दिया. वो उसके एक तरफ से घूम कर घर के अंदर को जाने लगी मगर सतीश एक दम से पीछे होकर उसके रस्ते में और दरवाजे के बिच खड़ा हो गया.
सतीश:-"मगर उसे कैसे पह्नु, वो गन्दा है" सतिशने उससे कहा.
सानिया:-"तो कोई साफ़ कपड़ा पहन लो"
सतीश ने धुले कपड़ों की बास्केट को इस तरह देखा के उसे एहसास हो जाये के यह काम उसके बस से बाहर का था. हताश होकर सानिया खुद धुले कपड़ों की बास्केट में से उसके पेहनने के लिए कुछ ढूंडने लगी और आखिरकार उसने एक धुला हुआ पायजामा निकाल कर अपने बेटे की और बढा दिया. सतिशने मम्मी के हाथ से पायजामा लिया और झुक कर उसमे एक एक कर अपने दोनों पांव डालने लगा. और फिर धीरे धीरे खड़ा होते हुये पायजामा भी अपने साथ ऊपर चढाने लगा. सतीश उस समय रुका जब पयजामे का वेस्टबैंड उसके अंडकोषों से रगड खता हुआ उसके लंड के नीचले हिस्से को दबाने लगा जिस कारन सतीश का लंड हलके हलके आगे पीछे झुलने लगा. सानिया की नज़र सीधे उसके लंड पर टिकी हुयी थी और वो उसकी हर उछाल को धयानपूर्वक देख रही थी.
सतीश:-"मुझे बिलकुल भी बुरा नहीं लगेगा अगर तुम इसे देखोगी"
सतीश नरम स्वर में बोला.
सतीश:-"मुझे मालूम है यह डैड वाले से कहीं ज्यादा अच्छा है"
सानिया ने धीरे से सहमति के अंदाज़ में सर हिलाया जैसे वो अपने दिमाग में किसी बात का जवाब दे रही थी न के जो सतिशने कहा था उसके बारे में. फिर वो नज़र उठकर अपने बेटे को देखति है.
सानिया:-"येह तुम क्या कर रहे हो बेटा? आखिर तुम्हारा ईरादा क्या है?"
सतीश:-"मैं बस चाहता हु के तुम इसे देखो"
सानिया:-"मगर क्यों?"
सतीश:-"मुझे नहीं मालुम्. मैं बस चाहता हु"
सतिशने कहा. सानिया ने सर हिलाया जैसे वो सतीश का मतलब समझ गयी हो.
Reply
11-11-2020, 12:54 PM,
#8
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सानिया:-"अब इसे ढको और यहाँ से जाओ. मुझे अपना का काम करने दो." वो बोली.
सतीश:-"मैं चला जाऊंगा अगर तुम इसे अपने हाथों से मेरे पायजामे में दाल दो" अपनी पिछली हरकतों से उत्साहित होकर सतिशने जवाबी वार किया. सानिया ने ठण्डी आह भरी और उसके पायजामे में उँगलियाँ फँसकर उसे ऊपर खीँचा. वेस्टबैंड के दवाब के कारन सतीश का लंड उसके पेट् से चिपक गया था, सानिया ने अपने हाथ सतीश की त्वचा से स्पर्श नहीं होने दिए थे. सानिया दो कदम पीछे हट गयी और सतीश के रस्ते से हट जाने का इंतज़ार करने लगी. सतिशने निचे देखा. उसके लंड का पूरा सुपाडा बाहर था.
सतीश:-"तुम बस इतना ही कर सकती हो?" सतिशने पुछा.
सानिया निचे देखने लगी.
सानिया:-"हूं"
उसने धीरे से कहा.
सतीश:-"ठीक है"
कहकर सतीश वहा से चला आया.
इसके बाद जैसे उसे मौन आज्ञा मिल गयी थी के जब भी डैड आसपास न हो या उनके साथ कमरे में न हो वह अपने लंड का प्रदर्शन कर सकता था. सानिया ने भी देख कर न देखने का अपना स्वभाव बदल कर उसे पूरी तरह नज़रअंदाज़ करना सुरु कर दिया.
अगर वो कभी देखति थी तो ऐसे दिखावा करती थी जैसे यह कोई बड़ी बात नहीं थी और उसे अपनी इस बचकाना हरकत से पीछा छुड़ा लेना चाहिए था.
कयी दिनों के लंड प्रदर्शन के बाद अगले शनिवार को नाश्ते पर सतिशने डैड के किचन से चले जाने तक का इंतज़ार किया. जैसे ही वो किचन से बाहर निकले और सतिशने सीढ़ियों पर उनके कदमो की आवाज़ सुनि, सतिशने अपना पायजामा निचे किया और अपना लंड बाहर निकाल लिया और सानिया को देखकर मुस्कराने लगा. सतीश से इंतज़र नहीं हो रहा था के वो पलट कर उसके लंड को देखे. अखिरकार उसने कुछ समय के बाद देखा, हालांकि असलियत में वह अच्छी तरह से जानता था के उसे उसके लंड के नंगे होने का उसी सेकंड पता चल गया था जिस सेकंड सतिशने अपना पायजामा निचे खिसकाय था.
सानिया:-"भगवान के लिये, आखिर तुम कब इस हरकत से बाज आओगे?"
सतीश:-"किस हरकत से?"
सतिशने हँसते हुये कहा. सतिशने कुरसी पर अपने कुल्हे हिलाते हुये कहा जिससे सतीश का लंड गोलाई में चक्कर काटने लगा. उसके अस्चर्य की सीमा न रही जब सानिया भी हंस पड़ी, वो सच में हँसी थी.
सानिया:-"ईस हरकत से"
वो उसके झूलते हुए लंड की और इशारा करके बोली.
सतीश:-"कभी नही."
सतिशने उसे जवाब दिया.
सतीश:-"मेरी हमेशा से ख़्वाहिश रही है के आप एक बड़े वाले को देख सके."
उसकी बात से सानिया का चेहरा सुर्ख लाल हो गया.
सानिया:-"तुम्हारे लिए यही अच्छा होगा के अपने डैड के आने से पहले इसे धक् लो"
सतीश:-"क्यों?" सतिशने उससे पुछा.
सतीश:-"मुझे परवाह नहीं अगर वो देख ले" सतिशने हवा बनाते हुए कहा जबकि वह अच्छी तरह से जानता था के डैड उसकी क्या दुर्गति कर सकते थे.
सानिया:-"तुम बस इसे धक् लो"
सानिया ने जोर देकर कहा तो सतिशने इंकार में सर हिलाया.
सानिया:-"मैं इसे नहीं ढकने वालि"
सानिया ने ज़ोर देकर कहा. उसका इशारा लांड्री रूम के उस दिन के वाकये की और था.
सतीश:-"मैं इसे खुद धक् लूँगा अगर तुम मुझे अपनी टांगे दिखाओगी तोह्....." सतिशने समझौता करते हुए कहा.
Reply
11-11-2020, 12:55 PM,
#9
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
सानिया:-"तुम्हेँ अपनी टांगे दिखाउंगी तो?
मगर तुम मेरी टांगे देख सकते हो"
सानिया अपनी घुटनो तक लम्बी ड्रेस की स्कर्ट को अपने दाएँ हाथ से पकडती है और उसे अपनी जांघो के ऊपर हिलाती डुलाती है.

सतीश:-"कहने का मतलब है ऊपर से." सतीश कामुक अति उत्तेजित आवाज़ में फुसफुसा कर बोला.
सतीश:-"उपर! इसे अपने घुटनो से ऊपर उठाओ"

सानिया सतीश को घूर रही थी. अब तक यह सब सतीश की तरफ से हो रहा था. उस समय किचन में बिलकुल वैसे ही हालात थे जैसे उस दिन लांड्री रूम में थे जब सतिशने अपना पायजामा उतार कर फेंक दिया था और वो सर घुमा कर उसे देख रही थी. फिर समय थम सा गया था. सानिया बिलकुल बूत बनी खड़ी थी और उसने अपने दाएँ हाथ में अपनी स्कर्ट को पकड़ा हुआ था. सतिशने उसकी नज़र से नज़र मिलायी. सतीश भी उसी की तरह बूत बना हुआ था. पायजामे में सतीश का लंड झटका मारता तन कर बिलकुल सीधा खड़ा हो गया था. सानिया की नज़र उसके चेहरे से हटकर निचे उसके लंड पर चलि जाती है मगर इसके अलावा उसका पूरा जिस्म पूरी तरह स्थिर था.
तब उसका हाथ हिला. उसका दाया हाथ नही जिसमे उसने अपनी स्कर्ट पकड़ी हुयी थी वो नहीं बल्कि दूसरा हाथ. उसका बाया हाथ उसकी साइड में निचे गिर जाता है और उसकी स्कर्ट को इकठ्ठा करने लगता है.
सतीश:-“प्लीज डैड निचे नहीं आना, प्लीज”
सतिशने भगवन से प्रार्थना की. सतीश इतनी मुश्किल से हाथ आये इस सुनहरे मौके को हाथ से निकलने नहीं देना चाहता था.
सानिया का हाथ स्कर्ट के कपडे से भर जाता है और वो उसे ऊपर की और लेजाने लगती है और साथ ही सानिया की दूधिया जांघे नुमाया होने लगती है. उसका हाथ अब वहां रुकता है जहासे उसकी जांघे मोटी होने लगती है. इतनी दूर से भी सतीश उसकी दूधिया त्वचा पर हलके रोयें तैरते देख सकता था.
सतीश:-"और उपर....."
उसके गले से घरघराती आवाज़ में शब्द निकल रहे थे.
आश्चर्य था सानिया ने सतीश की इच्छा अनुसार अपनी स्कर्ट को ऊपर उठाना जारी रखा. एक इंच और ऊपर जाते ही सतीश का हाथ उसके लंड पर कस गया था. एक.इंच और ऊपर उठाते ही सतीश अपने लंड को हिलाने लगता है. उसकी आंख उसकी नग्न जांघो पर टिकी हुयी थी. उसकी स्कर्ट का नीचला सिरा अब लगभग वहां तक्क ऊपर उठ चुका था जहा से थोड़ी ऊपर उसकी पेन्टी सुरु होती थी.
सतीश:-"पूरी ऊपर मम्मी..........पूरी तरह ऊपर कर दो"
सतीश कांपते स्वर में बोला. सतीश का हाथ उसके लंड पर ऊपर निचे हो रहा था और उसकी ऑंखे उसके हाथ के साथ साथ ऊपर निचे घूम रही थी.
सानिया की पेन्टी नज़र आने लगती है. उसकी पेन्टी सामने से थोड़ी उभरि हुयी थी और उस उभार के अंदर बिच में एक सिलवट थी जिसमे उसकी पेन्टी हलकी सी अंदर को घुसी हुयी थी बिलकुल वहां जहा से पेन्टी उसकी टांगो के बिच घूम हो जाती थी. उस उभरि जगह पर सतीश की नज़र टिक जाती है. वो उभरि जगह उसकी मम्मी की चुत थी.
सतीश का हाथ उसके लंड पर और भी तेज़ी से चलने लगता है और मम्मी का सर उसके हाथ का पीछा करते हुए ऊपर निचे होने लगता है.
सतीश:-“है भगवान!' मैं इतनी जल्दी चुट्ने वाला हु”.
सतीश कुरसी से लडख़ड़ाते हुए उठ खड़ा हुआ और अपना लौडा मसलते हुये सानिया की तरफ बढा. सतीश सिंक के पास पहुँचना चाहता था मगर वह सिंक तक्क न पहुंह सका. उसके लंड ने वीर्य की तेज़ और भारी पिचकारी मारी जो सीधी मम्मी की जांघो पर जाकर गिरि और उसने अपनी स्कर्ट को छोड़ दिया. उसके लंड ने फिर से पिचकारी मारी मगर वो उसके एप्रन पर जाकर गिरि जो वो खाना बनाते समय पहनती थी. उसके घुटने मूढ़ने लगे और सतिशने अपनी दूसरी बाँह सानिया की कमर में दाल दी और उसके एप्रन से लंड रगडते हुए बाकि वीर्य निकालने लगा. सानिया ने एप्रन उठाकर उसके झटके मार रहे लौडे के गिर्द लपेट दिया ताकि सतीश का वीर्य आसपास न गिर सके. सतीश वीर्य की अखिरी धार निकलने तक बुरी तरह कराह रहा था
सतीश:-"ओह गोद! मम्मी मुझे माफ़ करदो." सतीश अभी भी उत्तेजना से कांप रहा था. "मुझे माफ़ करदो मम्मी"
सानिया:-"इट्स ओके. इट्स ओके." सानिया एप्रन उठाकर उसके लंड को साफ़ करने लगी.
सतीश:-"मम्मी आप इतनी सुन्दर हो के........... के मुझसे रहा नहीं गया." सतीश सिसकते हुये बोला.
सानिया:-"स्स्स्सह्ह्ह्हह्हह्ह्.....इट्स ओके बेटा. मैं तुमसे गुस्सा नहीं हु." सानिया बड़े प्यार से ममतामयी स्वर में बोली. वो एप्रन को उसके लंड पर आगे पीछे करते हुए रगड रही थी. तभी सतिशने सीढ़ियों पर कदमो की आहट सुनी. सानिया एक दम झटके से पीछे को हट कर सीधी खड़ी हो गयी, फिर वो बला की तेज़ी से घूम कर किचन के बाहर की और खुलने वाले दरवाजे से निकल घर के पिछवाड़े की और चलि गयी जहा लॉन्ड्री रुम, स्टोर रूम और एक छोटा सा लॉन था. सतिशने भी जितनी तेज़ी से सम्भव हो सकता था अपना पायजामा ऊपर चढ़ाया और चेयर पर बैठकर उसे घुमाकर टेबल के अंदर की और कर दिया. अभी वह चेयर हिलाकर ही हटा था के किचन के डोर पर डैड खडे थे
Reply

11-11-2020, 12:55 PM,
#10
RE: Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान
विशाल:-"अभी तक नाश्ता खत्म नहीं हुआ तुम्हारा?"
डैड किचन में घुसते ही बोले. सतिशने ना में सर हिलाया और नज़र निची कर ली. उसमे इतनी हिम्मत नहीं थी की वह उनकी आंख में आंख दाल कर उनसे बात कर लेता.
विशाल:-"तुम अभी तक तैयार भी नहीं हुए हो?"
सतिशने ना में सर हिलाया. सतीश शुक्रगुजार था के वो उसकी और नहीं देख रहे थे. वो अपने मग में कॉफ़ी दाल रहे थे.
विशाल:-"बड़ी शर्म की बात है इतना बढिया दिन ऐसे ही बेकार कर देणा" वो बोले. सतिशने कोई जवाब ना दिया.
तभी मम्मी बाहर वाले दरवाजे से अंदर आई और उनके पास लांड्री की बास्केट थी. मुझे वाशिंग मशीन चल्ने की आवाज़ सुनायी दे रही थी
सानिया:-"आप अपनी कॉफ़ी बाहर लॉन में बैठकर पिएंगे?"
वो डैड की तरफ बढ़ते हुए उनसे पूछती है. डैड के पास पहुंचकर वो अपना चेहरा उनकी तरफ कर लेती है. उस समय वो उसके और डैड के बिच में खड़ी थी और उन्होनो बास्केट अपने पेट् पर दबायी हुयी थी.
डैड चेहरा घुमकार मम्मी को देखते हुए अपना मग उठाकर कॉफी का घूंठ भरते है. सानिया उस समय टेबल से टेक लगाये खड़ी थी.
विशाल:-"हूं....... तुम भी कॉफ़ी लेकर आ जाओ. आज मौसम बढ़िया है"
सानिया:-"हा, में अभी आती हु. मुझे ऊपर अपने कमरे से बस बास्केट में गंदे कपडे ड़ालने हैं ढ़ोने के लिये. फिर में आती हु" सानिया बास्केट की और इशारा करती बोली. बास्केट के कारन सानिया की स्कर्ट पीछे से उसके घुटनो से ऊपर उठ गयी थी. उसकी दायि जांघ पर सतीश के वीर्य की एक गाढ़ी धारा बह्ते हुए उसके घुटनो तक पहुँच गयी थी. सानिया घूमकर उसके पास से निकलर घर के अंदर चलि गयी थी अबतक डर के कारन सतीश का जिस्म कांप रहा था. डैड कॉफी के घूंठ भरते हुए मम्मी को जाते हुए देखते रहे. उसे समझ नहीं आ रहा था वो मम्मी के घुटने पर उस वीर्य की धार को क्यों नहीं देख पाए थे जबके सतीश को सिर्फ वो धारा ही दिखाई दे रही थी जब सानिया वहां से जा रही थी.
फिर इसके बाद दोनों माँ बेटा काफी खुल गये पर पुरी तरह अब भी नही

सतीश सुबह बेड से उठा और उसने शावर लिया. पिछला हफ्ता बड़ा मुश्किल गुज़रा, एक्साम्स फिर नॉनस्टॉप पार्टी जहाँ शराब की नदी बह रही थी. लेकिन ये हफ्ता कुछ अलग है. ठण्डी हवा के झोंके के साथ शुरू हुआ है. सतीश तैयार होकर हॉल में आया... वो आज बेहद खुश है... वो खुश क्यों न हो... जलद ही उसके जीवन का सबसे हसीन और दिलक़श सपना "अपनी बेहद हसीन और सेक्सी मम्मी को चोदने का सपना पूरा जो होने वाला है..." अब वो दिन दूर नहीं जब वो अपनी मम्मी चोदेगा...

वो ये जानता है की वो अपनी मम्मी के पैरों को अपने कंधे पे रख के अपना 9 इंच का लंड..
अपनी मम्मी की चुत में दाल के उसे जम के चोदेगा और उसे पूरी तरहा से तृप्त करेंगा...
उसे इस बात का यकीन है की ऐसा ज़रूर होगा..
उसकी मम्मी किचन में सिंक के पास खड़ी बर्तन धो रही है.
सतीश अपनी मम्मी के पीछे जा के खड़ा हो गया और मम्मी की तरफ झुक के ऊपर कपबोर्ड से कॉर्नफ़्लेक्स का डब्बा निकालने लगा. एक हाथ से उसने कपबोर्ड का दरवाज़ा खोला और दूसरे हाथ से डिब्बे को निकालने की कोशिश करने लगा, इस हालत में उसका बैलेंस बिगड गया और वो अपनी मम्मी के ऊपर गिर गया. जब सतीश अपनी मम्मी पे गिरा उसका सुबह सवेरे का खड़ा लंड उसकी मम्मी के सेक्सी चुत्तड़ में घुस गया.
दोनो मम्मी बेटा इस लंड और चुत्तड़ के अचानक मिलन से चोंक गये.. दोनों ही सेक्स को ले कर बहुत ही संवेदनशील और कामुक है.
सानिया : सतीश...? क्या कर रहा है.?
सतीश खुद को बड़ी मुश्किल से सम्भालता है और सीधा खड़ा होता है..
ईस कोशिश में उसका आधा खड़ा लंड मम्मी के सेक्सी चुत्तड़ पे घिसता है और धीरे धीरे पूरी तरहा खड़ा हो जाता है बिलकुल एक लोहे की रोड की तरह.
सतीश : "सॉरी, मम्मी वो क्या है की जब में नाश्ता करने आया तो मैंने देखा की तुम बर्तन धोने में बिजी हो इस लिए मैंने सोचा क्यों न में खुद नास्ता ले लू. इस लिए में घूसा और कॉर्नफ़्लेक्स का डिब्बा ले रहा था.
सतीश डरते हुए मासूम चेहरा बना के अपनी मम्मी को जवाब देता है.
सानिया : "पर तुम गलत जगह घुस रहे हो. घूसने के लिए ये जगह सही नहीं है. अगली बार थोड़ा ख़याल रखना और सही जगह घुसना गलत जगह नही."
फिर सानिया पीछे मुड़ी और धीरे से मुस्कुराई.
सानिया : मेरे लाल को भूक लगी है? तो मुझे कहता में तुझे नाश्ता नहीं खाना खिला देती. ये ज़रा से नाश्ते में क्या रखा है? खाना ज़्यादा मज़ेदार है. एक बार खायेगा तो रोज़ खाने को मम्मीगेंगा”
सतीश : पर मम्मी मुझे तो तुम्हारा नाश्ता ज़्यादा पसंद है.
सानिया : मेरे लाल नाश्ता तो मजबुरी में किया जाता है जब कई दिनों तक खाना ना मिले तब्.
सतीश : पर मम्मी मुझे तो तुम्हारा नाश्ता बड़ा प्यारा और टेस्टी लगता है.
सानिया : तु ने मेरा स्पेशल खाना टेस्ट नहीं किया इस लिए कह रहा है. एक बार करके के तो देख.
सतीश : ठीक है मम्मी तुम कहती हो तो में वो ज़रूर टेस्ट करुन्गा. प्लीज मुझे दो ना.
सानिया : अभी नही, अभी कुछ दिन तुझे इंतज़ार करना पड़ेगा उस टेस्टी खाने को को चखने के लिये.
सतीश : ऐसा मत कहो मम्मी, ऐसे तो में भूखा रह जाऊंगा. मम्मी प्लीज जब तक मुझे वो टेस्टी खाना नहीं मिलता, तब तक प्लीज तुम मुझे मेरा फेव नाश्ता करने दो.
सानिया : चल ठीक है खा लेना तेरा फेव नाष्टा, तु भी क्या याद करेगा की तेरी मम्मी कितनी दिलदार है.
अपनी मम्मी की बात सुन के सतीश बेहद खुश हो गया और ख़ुशी में उस ने अपने होश खो दिये. और अपनी मम्मी के होठो को चूम लिया. सतीश की इस अचानक हरकत पे सानिया चोंक गयी.

Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 20 141,134 13 minutes ago
Last Post: Burchatu
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 668 4,133,163 Yesterday, 07:12 PM
Last Post: Prity123
Star Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ desiaks 129 7,075 Yesterday, 12:49 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 270 528,779 04-13-2021, 01:40 PM
Last Post: chirag fanat
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 469 346,624 04-12-2021, 02:22 PM
Last Post: ankitkothare
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 83 397,046 04-11-2021, 08:36 PM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 240 298,670 04-10-2021, 01:29 AM
Last Post: LAS
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 128 251,863 04-09-2021, 09:44 PM
Last Post: deeppreeti
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस desiaks 51 232,935 04-07-2021, 09:58 PM
Last Post: niksharon
Thumbs Up Desi Porn Stories नेहा और उसका शैतान दिमाग desiaks 87 194,438 04-07-2021, 09:55 PM
Last Post: niksharon



Users browsing this thread: 2 Guest(s)

Online porn video at mobile phone


कामिनी को चंद्रा साहब ने चूम लियाmarried saali khoob gaali dekat chudwati hai kahaniBhosh fat gai zoom photo xxxsexbaba net papabeti hindi cudai kxxx cuud ki divana videoindian मोटी गरल dasie xxx hd 2019thec hawas wafe xxxxHindi sex story maa bete ki kamleelaGher ki chet shipej kare to in hindisexy pic sexy picture boor Mein Chuha walibina ke behkate kadam kamuktabengali bhabhi ki gehri nabhi sex storynaligeli com potohijadon ko jabardasti choda Kamre Meinxxxbf karna Badha ke boor chudai videodasevideoxnxxbahan sex story in sexbaba.comबुड्ढे नाना ने गांड मरवाया दूसरे बुड्ढे से हिंदी कहानीactress kiran sexbaba imagessapna chaadhri fucking hot photobesham betiya yum storyभाभी बोट डालके हिलाती sex videoMaine apni kaam wali bai ke sath sex kiya uski gaand chati aur Chut chat kar uska Paani piya phir sex kiya xxx porn oral sex with kalpna anty nangi sexy zhawazhavi imageनौकरानी सेक्सबाब राजशर्माSotaly maa ki pyas bhujainipplepilanaXxxrasili bhabhinewsexstory com hindi sex stories E0 A4 85 E0 A4 82 E0 A4 A7 E0 A5 87 E0 A4 B0 E0 A5 87 E0 A4 95 E0Saxxxsi videos dehati karnatkababsanush xxxmypamm.ru maa betaसेक्स स्टोरी सेक्स बाबा.नेटSavita Bhabhi xxx photos babarajalaskmi singer sex babamosi ka moot piya storyshadishuda bhabhi ne gand marbhai saree meichodiantravasna .comkadapa.rukmani.motiauntywww sexbaba net Thread bahu ki chudai E0 A4 AC E0 A4 A1 E0 A4 BC E0 A5 87 E0 A4 98 E0 A4 B0 E0 A4 95mera pyar meri souteli maa aur behangaun ka mannu ka chudai kahani ka pura bhagbollywod star ananya pandye pussy fuking chut chudai xxx sexy imeg.comदेसी ऑन्टी की नंगी झांटो वाली बड़ी घोसला पोर्नrumku aunty ki sex story kahanirashi khanna 100sex bobs photoचूदासी परिवार राज शर्माभीइ ना बहन को पैलो सेकसीaunty ke andhe Ne Aam Chus le sexyYoni Mein land jakar Girte Girte dikhaiyegaon ki sex kahani sexbabaantarvasna gaw ki bhabhi bholi bhaliIndan acters xossip fake nudu photoएवलिन शर्मा fucking image sex babaBadi.amaa.ki.and.meri.ghamaasan.chudai.ki.stori.hindi.maiantarvasna kahani khandani beti ki chudai haveli parkahani piyasi bhabhi hoo patni nhi aa aammm ooh sex.comAnguri bhabhi ki ngi pic xxx bhabhi ji ghar pr haचांदनी ने मेरा लंड चुसकर मुझे जननत का और बूरLatest Nude boobs fakes showthread 1118kavya singh ki boobs ki photo sex.baba.netChudasa parivaar/sexbaba.netगुरु घन्टा घंटाल की sexi कहानियांhindi desi bf video daniodaदीदी शिवी देऊन जवलेमराठिसकसjuhi jhawala naagi sax babaMahila ke bur se mahina nikalate hue chodane par kiya hoga video me download.comnonvej.com incast marati story89xxx। marathi aatiActers sexbabanudu photohina khan xxx pic sex baba.com