Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
10-17-2018, 12:55 PM,
#81
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
फिर उसके वापस अपने रूम में जाने और जाते हुए दरवाजा बंद कर देने पे मैंने मोम की ड्रेस का हेम पकड़कर ऊपर किया, पैंटी के गीलेपि ने बता दिया की मोम भाई की नजर से कैसा महसूस कर रही थी।

मोम- “मोना, मुझे खाना बनाने दे, आऽ हट ना…” लेकिन मैंने अपना हाथ नहीं निकाला।

मैं मोम के पीछे गई और एक नजर भाई के बेडरूम के बंद दरवाजे पे डाली। हेम ऊपर करके दोनों हाथों से पैंटी को नीचे खींचकर नीचे किया। मोम ने मज़ा किया पर मेरे नीचे करने पे उन्होंने पैर उठाकर अपनी पैंटी को उतरवा लिया। फिर मैं खड़ी होकर मोम के पीछे से उनको परेशान करने वाली ही थी की भाई अपने रूम से निकलकर बाहर आ गया।

भाई- “दीदी, आपके लैपटाप में आइज़ो है क्या? ये ओफिस-13 की? मैं ओफिस-16 वाला अनस्टॉल कर रहा हूँ …” ये बोलते हुए वो किचेन में चला आया।

मैं मोम की पैंटी अपने पीछे छुपाकर भाई के सामने मुड़ गई- “हाँ… पड़ी होगी, जाकर ‘डी’ ड्राइव में देख ले…”

लेकिन भाई गया नहीं और बताने लगा की ओफिस-16 से उसको क्या परेशानी है।

मोम ने मुझे चम्मच पकड़ाकर- “मैं अभी आती हूँ …” बोलकर अपने रूम में चली गई।

मोम के जाने के बाद भाई ने देखा की मैं अपना हाथ पीछे किए हुए हूँ , तो पूछा - “क्या छुपा रही हो?” और फिर उसने मेरे हाथ से मोम की पैंटी ले ली।

भाई ने हैरानी से मोम के रूम की दीवाल की तरफ देखा जैसे वो दीवाल के उस पार देख सकता हो। भाई ने मेरे नीचे हाथ डालकर मेरी पैंटी चेक की, कि कहीं ये मेरी तो नहीं। पर उसका मुँह खुल गया जब उसको पता चला की मैंने थोंग पहनी हुई है। वो सब समझ गया, तब मैंने हाँ में सिर हिलाया। फिर उसने मेरी चूत को थोंग के ऊपर से मसल दिया।

मैं- “मोम अभी वापस आ जाएँगी…”

भाई- “आने दो…”

मैं- “पागल है क्या?”

भाई- “पागल तुम दोनों हो, और हाट भी। क्यों? सही कहा ना?”

तभी फ्लश की हल्की आवाज़ आई, हमने गलत सोच लिया था, मोम तो पेशाब करने गई थी। भाई ने जल्दी से मेरी थोंग को उतार दिया, मेरे पैरों से वो अलग होते ही उसने दोनों पैंटीस को अपनी जेब में डालकर मेरे रूम की तरफ चला गया।

कुछ सेकेंड बाद मोम आई और भाई को मेरे पास ना देखकर भौंहें उठाकर पूछा - “वो कहां गया?”

मैंने इशारे से बता दिया। मैंने मोम की स्कर्ट ऊपर करके देखा की उन्होंने वापस कुछ पहना कि नहीं? मुझे मोम की सफाचट चूत दिखी तो मोम ने हाथ झटक के ड्रेस सही कर दी।
फिर मोम ने कहा- “अब मुझे परेशान मत कर और खाना बनाने दे…” वैसे सब तैयार हो चुका था फिर भी मैं साइड में हो गई।

थोड़ी देर में भाई वापस नीचे आया और हमारी तरफ देखते हुए अपने रूम में जाने लगा, तो मोम ने उसको कहा की वो अपना काम खत्म करके हाथ धोकर आ जाए।

भाई बुदबुदाया “हाँ… वो तो है…” डबल मीनिंग जवाब देकर वो अपने रूम में चला गया।

मुझे पता नहीं कि इस सबके बाद मोम को नोटिस करने पर उसको कुछ फ़ायदा हुआ या नहीं? लेकिन उसकी नजर पूरे टाइम हम दोनों के नीचे ही ट्रैक होती रही। शायद इसीलिए मोम ने उसको कोई चान्स नहीं दिया कुछ ‘देखने’ का।

लंच के बाद मैं और भाई ऑनलाइन ग्लासेस पर्चेज़ करने पे डिस्कस करते हुए उसके रूम में चले गये। फिर मोम भी आ गई ग्लासेस पसंद करने। उसके बाद भाई तो पीसी पे कुछ-कुछ करता रहा और मैं और मोम बेड पे लेटे बातें कर रही थी। मोम बोलते-बोलते रुक गई और फिर मैंने वहां देखा, जहाँ मोम देख रही थी। भाई की ब्लैक ट्राउजर के दायें पाकेट से पिंक कलर का कपड़ा झाँक रहा था।

मोम ने मुझे इशारे से पूछा लेकिन मेरे जवाब देने से पहले ही भाई ने कहा- “मोम, अरे ये देखना…”

और मोम बड़े ध्यान से उठी और उसके पास जाकर स्क्रीन को देखने लगी, जो भाई दिखाना चाह रहा था। फिर मोम भाई को हटने का बोलकर खुद भाई की जगह बैठकर नेट पे खो गई।

भाई ने मेरी तरफ देखा और मैंने अपनी जाँघो को खोल दिया। फिर वो मोम का ध्यान वेब पेज या जो भी था उसमें लगाकर मेरी शरारती हरकतें देखने लगा। कुछ ही सेकेंड में वो तैयार हो गया पर बेचारे को अभी अंदर ही रहना पड़ेगा।

मोम जब कुछ कहती या फिर हिलती तो मैं सही से बैठ जाती। लेकिन ये टीजिंग ज्यादा देर नहीं चली, मुझे ऊपर रूम से अपने फ़ोन की रिंग सुनाई दी और मैं उठकर चली गई।

मेरे क्लासमेट का काल था, वो उस सब्जेक्ट के बारे में सवाल पूछना चाहता था जिसमें मैं बेस्ट थी। लेकिन मैं उसकी किसी भी प्राब्लम का जवाब नहीं दे पाई। उसके काल के बाद मुझे एहसास हुआ की आजकल मेरा ध्यान कहीं और रहने पे मैं स्टडी में पीछड़ती जा रही हूँ । अबे यार ऐसे तो फेल हो जाउन्गी, इसलिए मैं वापस सन्डे का मज़ा लेने नहीं गई और लैपटाप खोल करके शुरू हो गई। 10 मिनट बाद भाई मेरे रूम में आया तो मैंने उसको भगा दिया।

फिर मैं ईअरफ़ोन लगाकर ऑनलाइन पेजस से नोट्स बनाने लगी और कुछ वीडियोस भी देखे लेक्चर्स के। एक घंटे के बाद मेरे क्लासमेट के उन सवाल और टापिक्स को मैंने कवर कर लिया, तब जान में जान आई। लेकिन इस सब में मैं थक भी गई थी। लैपटाप शटडाउन किया और अब एक ही प्राब्लम साल्व करनी बाकी थी- भाई की।

मोम लौंड्री कर रही थी, क्योंकी मेरे नीचे जाते टाइम वाशिंग मशीन की आवाज़ आ रही थी। भाई के अपने बेडरूम का दरवाजा अंदर से बंद था।

फिर जब भाई ने दरवाजा खोला- “दीदी आप हो क्या?”

मैंने देखा की उसने उल्टा ट्राउजर पहना हुआ था। मैं रूम में घुसी तो मुझे स्मेल आ रही थी, सेक्स की। मैंने पूछा - “तू क्या कर रहा था?”

भाई- “काम कर रहा हूँ …”

फिर मैंने उसके ट्राउजर की तरफ इशारा किया- “और ये क्या है?”

भाई ने दरवाजा बंद करके कहा- “खुद ही देख लो…”

मैंने ट्राउजर नीचे खींचा।

भाई ने कहा- “सारी यू वेस्टेड योर चान्स…”

मैं खड़ी हुई, वो मेरे चेहरे को देखकर स्माइल कर रहा था। मैं उसको धक्का देकर उसके रूम से चली गई।

पीछे से भाई ने आवाज़ दी- “15-20 मिनट बाद…”

मैं- “कोई ज़रूरत नहीं…” कहकर मैं अपने रूम में चली गई।

रात को मैंने और भाई ने ही साथ में डिनर किया क्योंकी मोम शाम में ही अपनी दोस्त के यहां चली गई थी, नॉप। उस चीज़ के लिए नहीं। डिनर के बाद भाई ने कपड़े पहने और वो भी अपने दोस्तों के साथ वीकेंड मनाने चला गया।
-  - 
Reply

10-17-2018, 12:55 PM,
#82
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
वीर्य पीने और खाने खाने के बाद मैं आलस से काउच पे लेट गई, मेरी ड्रेस शायद भाई ने मेरे रूम में उतार के फेंक दी थी, सही से याद नहीं। फिर मैं अपना फोन लेकर चैट करने के मूड में थी। पर मेरी सभी दोस्त आफलाइन थीं। फिर एक स्टुपिड लड़के ने फालतू की बातें कर-करके मुझे इतना बोर कर दिया की मुझे नींद आ गई।

मोम- “कल तू मार्निंग में मेरे साथ चलना, क्योंकी तूने वो आर्डर लिया है, इसलिए तुझे कल ही काम शुरू कर देना चाहिए…” 

भाई- “लेकिन बाइक को मार्निंग में दे आऊँ तो वो ठीक रहेगा ना कोई और होगा भी नहीं…” भाई मोम की बात नकारते हुए बोला।

मोम- “बाइक को तो बाद में भी मेकैनिक को दे सकता है…” कहकर मोम रुक गई और हैरानी भरी साँस खींची।

भाई और मोम ने मुझे काउच पे लेटी हुई देखकर वहीं अपनी जगह पे जम गये। मैं अभी-अभी आवाजें सुनकर, नंगे बदन, नींद से जाग गई थी, पर होश गुम था। मैंने काउच पे बैठे हुए देखा की भाई अपनी जगह पे खड़े-खड़े मुझे देख रहा था। 

मोम जल्दी से मेरे पास आई, कहा- “ये लड़की भी ना… मोना तू ऐसे क्यों बैठी है? और कपड़े कहां है तेरे?”

भाई ने हैरानी से कहा- “ये आज हो क्या रहा है, पहले मोम और अब दीदी?”

मोम ने भाई से कहा- “तू जा अपने रूम में…”

भाई- “अरे मैं क्यों जाऊँ? खुद तो नंगे होकर घूमते हैं और ऊपर से मुझपे चिल्लाते हैं। हद है?”

मोम- “एक काम कर तू भी नंगा हो जा, एक तू ही रह गया है…”

वो दोनों झगड़ने लगे और मैं किसी ज़ॉंबी की तरह चलते हुए जाने लगी, तो मोम ने मुझपे चिल्लाते हुए कहा- “मोना जल्दी कर…”

मैं भी नींद की वजह से झल्ला पड़ी- “जा तो रही हूँ ना, वैसे भी सबने देख तो लिया है ना?”

मोम- “क्या कहा?” मेरे जवाब से मोम को और गुस्सा आ गया- “क्या मतलब? मतलब क्या है तेरा?”

मैं- “भाई ने पहली बार थोड़े ही ना मुझे नंगा देखा है?”

मोम बालों को लहराते हुए भाई की तरफ मुड़कर बोली- “ये लड़की तो पागल हो गई है, तुझे तो शर्म है ना, जाता क्यों नहीं यहां से?”

भाई भी टेश में बोला- “हाँ… मैं ही चला जाता हूँ, फिर जो करना है, वो करते रहना आप दोनों मिलकर। प्राब्लम तो आप दोनों को है मुझसे, जब मैं नहीं होता तो सबको कपड़ों से आलर्जी हो जाती है। और मेरे आते ही छुपते फिरते हैं, फिर शर्म आने लगती है, धूम-धड़ाका होने लगता है…”

मोम- “मैं मार्निंग में हाट योगा कर रही थी…”

भाई- “बड़ी अच्छी बात है…” उसने ताना मारते हुए कहा- “और फिर उसके बाद क्या करने का प्लान था, कृपा करके वो भी बता दीजिए?” 

उसकी बात सुनकर मुझे हँसी आ जाती है, पर मोम हम दोनों को थप्पड़ ना मार दें। इससे की पहले मोम दुर्गा माता का रूप धारण कर लें, मैं मुड़कर अपने रूम में जाने लगी।

फिर भाई ने आगे कहा- “एक बात बताओ, आप दोनों को मैं पहली बार तो नंगी नहीं देख रहा हूँ, फिर भी आप हर बार मुझ पे ही क्यों चिल्ला पड़ती हो?” 

ये सुनकर मैं अपने रूम की तरफ जाते-जाते रुक गई।

भाई और मैंने मोम को बचपन में एक बार मोम के नहाने के बाद नंगी ही कपड़े धोते देखा था, जब हम दूसरे स्टेट में रहते थे और वो घर भी एक बेडरूम का था। लेकिन अभी भाई ने ‘हर बार’ कहा, इसका क्या मतलब है? 

भाई आगे बोलता रहा- “दीदी ने कपड़े नहीं पहने हैं, तो दीदी को भगाओ, आपने नहीं पहने तो खुद चली जाओ, लेकिन आपका काम तो हर बार मुझे ही पकड़ना है बस…”

मोम ने कहा- “क्योंकी तू लड़का है…” उनका चेहरा एकदम लाल हो गया था।

भाई- “हाँ… तो इसमें भी मेरी गलती है?”

मोम- “नहीं, पर?”

भाई- “तो आप ऐसा क्यों करती हो फिर?” उसने मोम की बात काटते हुए कहा- “ये सब जान बूझ के तो कोई नहीं कर रहा है, तुम फीमेल्स के साथ रहूँगा तो, आक्सिडेंटली तो ऐसा होगा ही, इसलिए आप हर बार सब पे चिल्लाना बंद करो…” ये कहकर वो अपने रूम का दरवाजा जोर से बंद करता हुआ चला गया।

मोम तेज सांसें लेती हुई उसके रूम की तरफ देखती रही, फिर उन्होंने मुझे देखा। मैंने ना में सिर हिला दिया, क्योंकी भाई की बात सही थी। फिर मोम पैर पटकती हुई अपने रूम में गई और उन्होंने भी दरवाजा जोर से बंद किया।

एक पल मैं वहीं खड़ी रही, मुझे कोई आइडिया नहीं था की मोम नग्नता को लेकर इतना बड़ा हंगामा कर देंगी? जबकी लास्ट टाइम मैं शगुफ्ता के साथ नंगी आई थी तब मोम एकदम कूल थी। शायद मैंने हद पार कर दी थी? मैं भी कितनी बड़ी स्टुपिड हूँ, ये सब मेरी वजह से हुआ है। ऐसा सोचते हुए अपने रूम में चली गई।
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:55 PM,
#83
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
अगली सुबह मेरा मूड खराब था कल की वजह से। इसीलिए, जब कालेज जाने का टाइम हुआ तब ही अपने रूम से निकली। लेकिन भाई और मोम घर पे थे ही नहीं। मुझे लगा की मोम ने खाना भी नहीं बनाया होगा। लेकिन टेबल पे ‘ब्रेकफ़ास्ट करके जाना’ का नॉट मिला।

मोम ने मुझे भीड़ में भी नंगा देख लिया होता तो कुछ भी ना कहती, मोम ऐसी फ्रीडम मुझे दे सकती हैं पर ये मामला मोम के प्यारे बेटे आदी का था, इसलिए ये सबसे बुरी बात बन गई थी और मोम बहुत गुस्से में थी।

मोम को हमारे घर के माहौल को नॉर्मल परिवार जैसे रखने में बहुत मेहनत करनी पड़ती थी, वो भी तब जब हम सब सेक्सुअली एक्टिव टाइप के लोग हैं, और कल मोम की मेहनत से बनाए हुए सिस्टम को तोड़ने वाली बात हो गई थी।

मॉर्निंग में खुद उनपे हुए अटैक को वो झेल गई थीं, और रात वाला भी जल्दी ही काबू किया जा सकता था। पर जिस आदी के लिए ही मोम कर रही थी और उसी ने मोम से पंगा कर लिया था। मुझे मोम को सामना करने का डर नहीं था, लेकिन मुझे ये डर सताता रहा की अगर अकरम ने काल कर दिया तो क्या होगा? और अगर उसने मुझे और मोम को साथ में बुला लिया तो? मोम तो उसका खून ही कर डालेंगी।

अकरम के मामले में उसकी चलती है, वो हमें आदी तो क्या, पूरी सिटी में बदनाम कर सकता है। फिर हम कपड़ों में भी लोगों को नंगे ही नजर आएंगे। फिर मुझे पता था की मोम अकरम से लड़ने की बेवकूफी नहीं करेंगी।

कालेज क्लास के बाद मैं पूरे टाइम कामया के साथ उसकी मोम के ओफिस में ही रही। फोटोशूट चल रहा था और कामया भी बिजी हो गई। वहां फोटोशूट के टाइम मैं एक लड़के से मिली, डीसेंट और क्यूट सा था, उस विजुअल स्टाइलिस्ट का नाम तिलक था। वो मुझमें काफ़ी इंटेरेस्ट ले रहा था और हमने बातें करने के बाद नंबर एक्सचेंज किए।

ऐसा बहुत टाइम बाद हुआ जब घर जाने से मुझे प्राब्लम थी। 9:00 बजे मैंने अपनी एक्टिवा भाई की बाइक के पीछे पार्क करने के बाद, घर के अंदर चली गई। मोम फ़ोन पे कुछ टाइप कर रही थी और मैंने सोचा की भाई अपने रूम में ही होगा।

मैं मोम की तरफ बिना देखे जल्दी से अपने रूम चली गई। भाई मेरे रूम में ही था और लैपटाप से अपनी हार्ड ड्राइव में वो मूवी डाल रहा था जो मैंने पहले ही देख ली थी। बेड पे लेटी मैं आराम कर रही थी तब उसने दोस्ताना टोन में मुझसे लेट आने की वजह पूछी।

मैंने उससे पूछा - “तेरे और मोम के बीच ओफिस में ठीक था?”

भाई- “ठीक ही था, ज्यादा बात नहीं की हमने…” उसने बताया की मोम अब भी मुझसे गुस्सा हैं, और वो चाहता था की मैं मोम से बात करूं।

मैं- “अच्छा रायता फैलाओ तुम दोनों, और सॉफ करूं मैं?”

भाई- “रायता आप ही ने बनाया था और आपको ही उसको सही से रखना था…”

मैं- “या या…” कहते हुए मैं बेड से उठी और चेंज करने लगी- “एक बात बता तुझे मोम से इतना बोलने की क्या ज़रूरत थी?”

भाई- “मैंने मोम से कुछ गलत कहा क्या?”
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:56 PM,
#84
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
उसकी फाइल ट्रांसफर हो रही थी और उस टाइम वो फोटोस देख रहा था। मैं अपनी और मोम की पिक्स और वीडियो हाइड नहीं करती लेकिन ऐसी जगह रखती हूँ जहाँ पे कोई इमेजिज और वीडियोस नहीं खोलता, इसलिए कोई टेन्षन नहीं थी। वो लास्ट टाइम की मेरी अपने दोस्तों के साथ जयपुर ट्रिप की पिक्स देख रहा था जिसमें मैं और शगुफ्ता बाइक पे बैठी थीं।
मैं- “बात तो तेरी सही थी, अगर तू वो सब नहीं बोलता ना तो कुछ भी नहीं होता, तुम दोनों क्या पहले से फाइट करते हुए आ रहे थे?” अगले फोटो में मोम, भाई और मैं भीगे हुए थे और हँस रहे थे। मुझे याद आया की ये लास्ट कान की फर्स्ट बारिश में भीगने वाले दिन की है।
भाई ने उस फोटो से नजर हटाकर कहा- “नहीं, मुझे लगता है… …” कहकर वो रुक गया।
मैंने कहा- “क्या?”
भाई ने कहा- “आई थिंक मोम नोज अबाउट अस…”
मैं टीशर्ट पहन कर रुक गई- “मतलब?” फिर मैंने दराज से पैंटी निकालकर पहनी।
तब भाई बोला- “मोम को देखकर कभी-कभी ऐसा लगता है की वो जानती हैं, और कल मोम आपको देखकर समझ गई की हमने सेक्स किया था…”
मैं शॉर्ट्स पहन के भाई के पास बैठी- “ऐसा नहीं है, तूने कल मुझे नंगी देखा तो मोम…”
भाई बोला- “फिर मोम इतना हंगामा कैसे कर रही थी? आई थिंक वी शुड स्टाप दिस…”
मैं- “य-युवर राइट, मोम टोटली अनप्रिडिक्टीबल हैं…”
भाई- “ह्हम्म… कुछ करता हूँ इस बारे में…”
बात और ना बढ़े इसलिए हमने साथ बैठकर डिनर किया, पर किसी ने भी एक दूसरे से बात नहीं की। भाई मोम से गुस्सा था, लेकिन मोम ने भी उसको सॉरी नहीं बोला। डिनर के बाद मैं मोम से बात करने गई, पर मोम मेरी बात समझने को तैयार नहीं थी, और तो और मोम ने मुझे ही डाँट दिया। हमें धीमी आवाज़ में बात करनी पड़ रही थी लेकिन मन तो चिल्ला-चिल्ला के बोलने का था।
उनको मैंने कहा- “डिनर के बाद मुझे नींद आ गई थी, जानबूझ के तो नहीं किया मैंने, मुझे ये तो बताओ इसमें बड़ी बात क्या है?”
मोम- “तुझे मैं बता चुकी हूँ पर तु समझती कहां है, तुम दोनों ने फ्रीडम का ज्यादा ही फ़ायदा उठा लिया है…”
मैं- “लेकिन मोम इस सब में भाई की क्या गलती है? आपको उसपे चिल्लाना नहीं चाहिए था…”

मोम- “हम तो ओफिस में भी एक दूसरे पे खूब चिल्लाते हैं, तो क्या हर टाइम सारी बोलती फिरू…”
मैं- “मुझे पता नहीं की ओफिस में आप कैसे रहते हो? और ये मामला ओफिस का है भी नहीं। हर बार आप ही बखेड़ा करती हो और ये वाला भी आप ही ने खड़ा किया है…”
मोम- “अच्छा? वो कैसे? ज़रा मैं भी तो सुनूँ?”
मैं- “आपको नहीं पता? मुझे ना, कुछ समझ में नहीं आता। एक तो इतनी सी बात के लिए आप झगड़ बैठी, जबकि दिन को खुद भाई से चुदाने की बात कर रही थी। फिर उसका हमें नंगी देखना तो बहुत ही छोटी बात नहीं लगती आपको?”
फिर मोम ने कहा- “सिर्फ़ बात की थी, और उससे कुछ नहीं होता…”
मैं- “पर आपने उसको ब्लो-जोब तो दिया था ना? और कई बार उसका वीर्य भी आप पी चुकी हो, अब ये बड़ी बातें नहीं क्या आपके लिए?”
मोम के पास अब जवाब नहीं था।
फिर मैंने कहा- “अगर नग्नता से इतनी प्राब्लम है तो ये बाकी चीज़ें भी करना छोड़ दो, क्योंकी आपका गुस्सा भी ढोंग लग रहा है…”
मोम ने मुझे ऐसे देखा की वो अभी एक रखकर देंगी, पर मुझे भी डर नहीं था। मोम अपना सिर पकड़कर बेड पे बैठ गई और कुछ सोचने लगी, शायद वो कुछ बताना चाह रही हों, और शब्द ना मिलने पे बताना कैंसल कर दिया। फिर उन्होंने कहा- “मोना, मैं अब इस बारे में बात नहीं करना चाहती, तू अब जा यहां से…”
फिर मैं भी रुकी नहीं और अपने रूम में चली गई।
मोम की वजह से मेरा मन बाहर जाने को होने लगा, और मैं कामया को काल करके उसके वहां जाने के लिए तैयार होकर घर से निकल गई। रास्ते में मेरी रिंग बजी, तो मुझे लगा की भाई ने काल किया होगा। लेकिन वो काल तिलक का था जिससे में आज ही मिली थी। उसने मुझे कल मिलने के लिए काल किया था लेकिन , 15 मिनट बाद मैं तिलक के प्लेस पे पहुँच गई।
मैं और तिलक कुछ देर बातें करने लगे और फिर रहा नहीं गया। उसने मेरी तरह पैशनेट और अग्रेलसवली किस करते हुए मुझे नंगी कर दिया और खुद को भी। उसकी सेक्सी रिप्ड़ बाडी मेरी हाट कर्वी बाडी से लिपटी हुई थी। हम एक दूसरे को इस तरह किस कर रहे थे जैसे नन्मों बाद मिले हों, और इसके बाद फिर हम मर जाएँगे।
उसने मेरे टिट्स को काटा और जोर से चुचियों को हथेलियों में भर के दबोचा। मैं उसकी बैक को खरोंच रही थी, फिर मैं उसके कड़क लण्ड को पकड़कर जोश में चूसने लगी। तिलक का होश उड़ा हुआ था, और मुझे हैरानी से और अपने भाग्य पे बिलीव ना करते हुए मुझे उसके लण्ड को पूरा मुँह में लेते हुए देख रहा था।

उसने मेरा चेहरा अपने हाथों में लिया और मस्ताने अंदाज में जी भर के चूम लिया, चूमते -चूमते वो सही जगह पहुँच गया और मेरी चूत जिसे बस लण्ड चाहिए था, उसमें अपनी जीभ डालने लगा। मैं शानदार चुदाई का इंतजार कर रही थी, पर मैंने उसको मेरी चूत को फाड़ने से पहले चेक कर लेने दिया। उसके बाद वो मुझे उठाकर बेडरूम में ले गया। आँखों में देखते हुए मैंने अपनी खुली चूत में उसका मोटा लण्ड महसूस किया, ओह्हह गोड… मैंने उसके बाल पकड़ लिए और उसने मेरे।
मैं- “आह्हह… आह्हह… आह्हह… आह्हह… एसस्स…” कहते हुये मैं पलट गई।
और उसने मेरी गाण्ड पकड़कर डागी पोज़ में मेरी चूत फाड़ने लगा। वो तूफ़ानी चुदाई कर रहा था और मैं भी लहरों के जैसे हिल रही थी। चूत में बिजलियाँ धमाके कर रही थी।
मैं- “ओह्हह… फक…” मैं चिल्ला पड़ी और मेरी चूत से समुंदर उमड़ के बाहर आ गया। उसका लण्ड पलक झपकते ही मेरे अंदर वो कमाल की गर्मी बढ़ाने लगा जिसकी वजह से मैं यहाँ आई थी।
तिलक मुझपे झुका हुआ- “आऽ आऽ आऽ…” वो पूरी ताकत से मेरी चूत मारते हुए- “आऽ आह्हह… आह्हह…” मुझे देख रहा था, लेकिन उसकी आँखों में देखते हुए भी मैं सिर्फ़ उस बदन को याद कर रही थी जिसने मुझे अपने जैसा बनाया।
जिसने मुझे बनाया- “आह्हह… फक मी…” हाँ वो भी यही कहती- “एस एस हार्डर…” उसको भी ये पसंद है, क्या सच में उसको ये पसंद है? अंजान लोगों से चुदा लेना, जो बस उससे यही चाहते हैं, और उनका क्या जो उसको सच में चाहते हैं? मेरा क्या? आदी का क्या? तुम हमसे छुपती क्यों हो? प्लीज़्ज़… कम आंड शो यौरसेल्फ़, फ़ॉर अस प्लीज़… मैं और आदी, वी बोथ लव यू …”
“आई लव यू , हाँ हाँ आई लव यू मोनिका…” एक मर्द की आवाज़ दरवाजा से कहीं सुनाई दी।
मेरी पलक झपकी, और देखा कि वो जाना पहचाना चेहरा मुझे देख रहा था, फिर मेरे बदन में गर्मी बहती हुई बाहर निकल गई।
“ओह्हह… फक…” तिलक ने कहते हुए अपना मोटा लण्ड मेरी भीगी चूत से निकाल लिया।
तिलक से विदा लेकर मैंने कामया को काल करके मना कर दिया की मैं नहीं आ रही, क्योंकी अब मैं वहीं रहना चाहती थी जहाँ मोम थी। नो वॅन्स मी। कल तो सब नॉर्मल हो जाएगा, ये सोचकर मैं अपने बेडरूम में सो गई।
भाई तो चलो मोम के साथ काम भी करता था इसलिए उनके बीच नॉर्मल जैसा ही था। लेकिन अगले कुछ दिनों तक भी मोम का मुझ पर से गुस्सा कम नहीं हुआ। बस एक दूसरे को चीज़ें देने, ज़रूरी काम करने को कहने के अलावा हमने बात नहीं की। मैं एक्सरसाइज़ रूम गई नहीं लेकिन भाई ने मुझसे कहा की वो अकेला ही एक्सरसाइज़ कर रहा है और हम नहीं। मैंने घर पे भी आउटडोर आउटकिट पहन, ताकी मोम को कोई बात कहने का मौका ना मिले।
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:56 PM,
#85
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
लेकिन मोम ने अपने इनडोर लुक में चेन्जिज नहीं किए, जिसमें वो सेक्सी लगती थी और गुस्से में तो सुपर-हाट, पर इस सबका हम पे असर नहीं हुआ। दिन को मोम ओफिस नहीं गई थी, और लंच से पहले ही मोम तैयार होकर, वन सडर टाप और जींस में, एक हाट आइटम बनकर चली गई।
जब वो थकी हुई शाम में आई। पहले तो मुझे गुस्सा आया, पर मेरा गुस्सा बाद में शांत हो गया क्योंकी, मोम अकरम के काम की वजह से गई थीं, जिसको स्किप करना मुश्किल होता था। मोम ने मुझसे कहा नहीं, पर मैंने उनको काफ़ी बनाकर दी और अपने रूम में चली आई।
अगले दिन डिसाइड करके मैं एक्सरसाइज़ रूम गई। मेरे रूम में आने के 10 मिनट बाद मोम आई, लेकिन मुझे देखकर वापस चली गई। मैं बस रुक सी गई, फिर मैं खड़ी होकर अपने रूम में तेज़ी से चली गई और योगा पैंट और स्पोर्ट ब्रा उतार के फेंक दिया और सिर पकड़कर बेड पे धड़ाम से लेट गई।
10 मिनट बाद दरवाजे पे नाक हुआ- “मोना?” जबकि दरवाजा खुला था।
मैंने जवाब नहीं दिया, फिर मोम रूम में आई तो मैं बाथरूम में चली गई और दरवाजा बंद कर लिया।
बाहर से मोम ने कहा- “तू वापस क्यों आ गई? चल कपड़े पहन और आ जा एक्सरसाइज़ करने…”
मैंने फिर रुक के कहा- “नहीं, मेरे पैर में दर्द हो रहा है…”
मोम- “अच्छा बहाना है, चल आ ना बाहर…” उनकी आवाज़ में गुस्सा नहीं था, वो मनाने की कोशिस कर रही थी।
मैं अपना चेहरा धोकर बाहर आई। मोम ने मेरी आँखों को देखकर कुछ नहीं कहा और मेरे वापस योगा आउटकिट पहनने तक मेरा इंतजार करती रही। फिर मुझे लेकर एक्सरसाइज़ रूम में ले गई। भाई वहां पे पहले से ही था और पुस-अप कर रहा था। तब मुझे समझ में आया कि मोम मुझे देखकर चली नहीं गई थी, वो तो भाई के ना होने पे उसको लेने गई थी।
फिर हमने खूब पशीना बहाया। एक्सरसाइज़ के बाद एक फ़ायदा ये भी हुआ की दिमाग से कचरा निकल गया था। मोम कुछ ना कुछ पूछकर हमसे बात कर रही थीं। हमको पता था की मोम वापस आपस में नॉर्मल करना चाह रही थीं। इसलिए हमने भी पुरानी बात भुला दी।
शाम में कामया के मेशन के बैकयार्ड में बने पूल में हम लड़कियां स्वीमिंग करने के बाद हम सब क्लब गये। नेहा और कामया के बायफ्रेंड अभी भी उनसे उस पार्टी की वजह से नाराज़ थे। कामया अपने बायफ्रेंड को क्लब में एक लड़की के साथ देखकर वापस बाहर अपनी कार में बैठ गई।
मैं और नेहा भी वापस कार में बैठकर स्मोकिंग करते हुए बातें करने लगी, मुझे मोम का काल आया की वो और भाई ओफिस में ओवरटाइम की वजह से लेट हो जाएँगे। काल कट होने के बाद पायल और आकांक्षा खी-खी करती हुई आई- “तुम लोग यहां बैठे हो?”

नेहा ने पूछा - “शगुफ्ता कहां है?”
पायल ने जवाब दिया- “उसको कोई मिल गया है…”
15 मिनट बाद शगुफ्ता आई पर उसके साथ एक लड़का भी था। शगुफ्ता अंदर बैठी और बताने लगी, जब तक पायल और वो लड़का बाहर खड़े रहे। उसने बताया की वो सौरव है, उसकी छोटी बहन का क्लासमेट था और अभी साल भर के बाद मिला है।
कामया ने पूछा - “तो मैं क्या करूं?”
शगुफ्ता ने कहा की उसका प्लान उसके साथ मजे करने का है। लेकिन सौरव अपने दोस्त के साथ आया है, इसलिए वो चाहती थी की हम, शगुफ्ता और सौरव दोनों को उसके प्लेस पे ड्रॉप कर दें। कामया मान गई फिर शगुफ्ता और उसका दोस्त फ्रंट सीट पे बैठ गये और वो ड्राइव करने लगी।
सौरव के डायरेक्षण बताने पे हम सब उसके घर पहुँच गये। आकांक्षा ने शगुफ्ता से पूछा - “फिर तुम वापस अपने घर कैसे जाओगी?
शगुफ्ता ने कहा- “सौरव मुझको छोड़ देगा…”
तभी सौरव बोला- “मुझको बाइक नहीं चलानी आती…”
पायल बोली- “क्या? फिर तुम्हारी उम्र कितनी है?”
और जब सौरव ने बताया की वो 18 साल का है तो हम सब उसको छोड़कर शगुफ्ता को देखने लगे। सौरव दिखने में मासूम और क्यूट लुक में भी 19-20 साल का लग रहा था। हमने उसकी 5’ फुट की हाइट को अनदेखा कर दिया था। चलो उसकी नॉर्मल बाडी को अनदेखा कर भी दें, लेकिन 18 साल की उम्र के लड़के को शगुफ्ता क्यों उठाकर लाई है? कामया ने शगुफ्ता को वापस कार में बैठने को कहा।
शगुफ्ता सौरव को- “5 मिनट में आती हूँ , तुम चलो…” कहा और हमारे पास आई।
पायल ने कहा- “पागल है क्या तू ?”
नेहा बोली- “तेरा तो ब्रेकप नहीं हुआ है ना, फिर क्यों उस बच्चे को फँसा रही है?”
मैंने कहा- “उसको मज़ा करके आ, फिर चलते हैं यहां से…”
शगुफ्ता ने बताया- “मैं सौरव को पहले से जानती थी और फिर बातों-बातों में वो शर्त लगाने लगे, धीरे-धीरे ड्रिंक्स से पैसों पे हो गई, सौरव से उसकी 3 शर्त लगी थी, पहली दो शर्त पैसों वाली शर्त वो जीत गई थी, पर थीसरी शर्त में सौरव ने उसको सेक्सुअल शर्त लगाई जिसमें वो हार गई।

सौरव भी कार में था तो उसके सामने वो हमको बताना नहीं चाहती थी, इसलिए उसने हमें जाने को कहा।
कामया बोली- “तुम फिर क्या कल आटो से आओगी?
नेहा ने कहा- “वो लड़का कुछ मिनट में ही ढेर हो जाएगा, तू जा हम यही इंतजार करते हैं…”
शगुफ्ता बोली- “मुझे भी यही लगता है, तो तुम लोग मेरा इंतजार करोगे?”
उसी टाइम सौरव आया और हमको अंदर आने को बोला। हमने डिसाइड किया की शगुफ्ता का “काम” पूरा होने तक रुक जाते हैं।
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:56 PM,
#86
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
शगुफ्ता उसको एक बेडरूम में लेकर गई और हम 5 लड़कियां हाल में बैठे स्नैक्स के साथ टीवी देख रही थीं, जो शगुफ्ता ऑन करके गई थी।

20 मिनट बाद भी शगुफ्ता वापस नहीं आई और हम सब इस वजह से थोड़ी बहुत सेक्सुअली अराउज हो गई थीं। पायल और आकांक्षा को सबसे ज्यादा मस्ती स झ रही थी और उन दोनों ने नेहा और कामया को भी शामिल कर लिया।

फिर हमें किसी के आने नी आवाज़ आई, अंदर से नहीं बाहर से। हमने जल्दी से अपने कपड़े और बाल ठीक किए। वो बाहर से आने वाली आवाज़ें दो आदमियों की थी। उन्होंने दरवाजा खोला और अंदर आ गये।

पायल डर के बोली- “कौन है?”

तो वो दोनों चुप हो गये फिर वो हाल में आए, वो दोनों भी हैरान थे। वो दोनों करीब 26-28 साल के होंगे, दोनों की मस्क्युलर बाडी और हल्की दाढ़ी थी।

उनमें से एक ने पूछा - “आप लोग कौन हैं, और यहां क्या कर रही हो?”

दूसरे वाले ने दाँत दिखाते हुए कहा- “आप लोग कोई गैंग-वैंग तो नहीं हो?”

फिर हमें राहत मिली ये जानकर की वो सौरव के बड़े भाई थे। लेकिन उनके होश उड़ गये जब उनको पता चला की हम सौरव के साथ आए हैं, और हमारी एक दोस्त उसके साथ बेडरूम में है। उन दोनों को बिलीव नहीं हुआ और एक दूसरे को देखकर बोले- “ऐसा हो ही नहीं सकता…”

फिर वो हमसे बातें करने लगे। गैंग वाली बात करने वाला विष्णु था और एल्डर ब्रदर था, दूसरे का नाम था नवीन। नवीन थोड़ा कम बोलता था पर विष्णु फ्लर्टी था और पायल तो ज्यादा ही खी-खी करने लगी। विष्णु, कामया में ज्यादा इंटेरेस्ट ले रहा था।

कामया का भी मूड अब सही लग रहा था। आकांक्षा ने उसको आँख मारी, तो कामया उठी और विष्णु का हाथ पकड़कर दूसरे बेडरूम में ले गई। हम लड़कियां अपनी हँसी रोके हुए थे, और कामया नुदकती हुई उसको ले गई।

अब नवीन थोड़ा घबरा रहा था, क्या उसको भी कोई लड़की ले जाएगी, या फिर उसको भी फ्लर्ट करना पड़ेगा? अगर कहे भी तो क्या कहे और किससे कहे? यहां तो 4-4 हाट और सेक्सी लड़कियां उसके सामने बैठी थीं।

नेहा ने सीधा उससे पूछ डाला- “चलो तुम्हारे बेडरूम में चलते हैं”

नवीन बोला- “हमारे दो ही बेडरूम है…”

पायल, जो उसके पास ही बैठी थी, ने कहा- “डोन्ट वरी, नेहा को बेडरूम की ज़रूरत नहीं पड़ती, चल नेहा, कम ऑन…”

नेहा ने उसकी शर्ट खोलते हुए किस किया, फिर बेल्ट को। नवीन बार-बार हम सबको देख रहा था जैसे उसका बलात्कार होने वाला हो। नेहा ने अपनी चुचियाँ खोल दी और नवीन उनको ऐसे देख रहा था की अब इनका क्या करना है?

नाउ रियली, अब हमें लगने लगा की भले ही उसने मस्क्युलर बाडी बना ली हो, मे बी उसको पता हो की सेक्स कैसे करते हैं? लेकिन वो नेचुरल नहीं था और कभी किसी लड़की की बाडी टच नहीं किया था।

नेहा रुक गई और पीछे होकर अपनी चुचियाँ हाथों से ढक कर उसने कहा- “सारी, इफ़ यू डोन्ट वांट टु डू दिस, इट्स ओके…”

नवीन जल्दी से बोला- “नो नो, उम्म… आई वांट टु डू दिस, रियली…” और उसने खुद को नंगा कर लिया और जींस साइड में फेंक दी।

अभी दो मिनट भी नहीं हुए थे नेहा को उसका लण्ड चुसते की वो नेहा के मुँह में और चेहरे पे झड़ गया। नवीन अब पुराना हो गया था।

उसी टाइम शगुफ्ता और सौरव आए और उन्होंने हैरानी से नंगे हुए नवीन को हमें पूरे कपड़ों में लड़कियों के सामने देखा। नवीन ने जल्दी से अपना लण्ड छुपा लिया, हमसे नहीं, अपने छोटे भाई सौरव की वजह से।

सौरव नवीन को हँसते हुए देख रहा था और नवीन उसको गुस्से से।

उसी टाइम कामया भी वापस चली आई और उसके पीछे विष्णु उसको मनाता हुआ आया।

हम समझ गये। फिर हम सभी वहां से चल के कार में बैठ गईं। शगुफ्ता का मूड नेहा और कामया से अच्छा था। सौरव अपने भाई से बिल्कुल अपोजिट निकला। शगुफ्ता ने कामया और नेहा से कहा- “अगर मूड है तो सौरव को भी अपने साथ ले चलते हैं?”

दोनों ने मना कर दिया और कामया ने कार स्टार्ट कर दी।

शगुफ्ता बोली- “रुक, मैं उसको तेरे लिए बुला रही हूँ ” ये बोलकर वो कार से उतर गई।

वो सौरव को ले तो आई थी पर प्राब्लम ये थी की करेंगे कहां? हम लड़कियां अपनी पार्टी कामया के गेस्ट हाउस में करते हैं, और अगर एक लड़का हो तो उसके घर पे, लेकिन अभी ना तो उसके पास गेस्टहाउस की चाभियाँ थीं और अभी कामया की मोम भी ओफिस से आ गई होंगी, सिर्फ़ उसके ही नहीं बाकी लड़कियां के भी पैरेंटस घर पे होंगे।

हमने एक डार्क लेकिन सेफ लगने वाली गली में कार साइड में लगा दी थी। हम 4 लड़कियां कार के बाहर स्मोकिंग कर रहे थे और कार में चुदाई चल रही थी, कामया नेहा मिलकर सौरव की इज़्ज़त लूट रही थीं। सौरव ने कभी अपनी लाइफ में नहीं सोचा होगा की एक दिन ऐसा भी आएगा। सौरव किसी सीट की तरह था, कामया उसके लण्ड पे और नेहा उसके मुँह पे बैठी थी। अंदर ज्यादा हीट होने की वजह से प्राब्लम हो रही थी।

कामया हट के अगली सीट पे आ गई और सौरव नेहा को लिटाकर उसकी चूत मारने लगा।

कामया ने कहा- “यार यहां सफ़ोकेसन हो रहा है, किसी के भी यहां नहीं चल सकते क्या?”

मैं- “मोम से फाइट नहीं हुई होती तो मेरे यहां चल सकते थे…”

कामया ने धीरे से कहा ताकी मैं ही सुन पाऊूँ- “पर तूने बोला था ना की आज सब ठीक हो गया है?”

मेरा मूड लास्ट डे अच्छा नहीं था तो कामया के पूछने पे मैंने उसको थोड़ा झूठ बोला था की भाई और मोम ने मुझे मास्टरबेशन के बाद नंगी देख लिया था।

मैं- “हाँ… मॉर्निंग में मोम का मूड ठीक था, पर अगर वो फिर से मेरे साथ-साथ तुम सबको देख लेंगे तो? फालतू में टेन्षन कौन ले यार इस लड़के के लिए?”

कामया- “तेरे बेडरूम में कर लेंगे…”

मैंने अपनी सिगरेट फेंकते हुए कहा- “और इस चूतिए को छोड़ने कौन जाएगा?”

ये सुनकर सौरव रुक गया।

नेहा बोली- “रुक क्यों गया, चोद ना साले…”

सौरव हमको अनदेखा करके वापस काम पे लग गया।

कामया ने नेहा को कहा- “अब हट ना बहुत चुदा लिया…”

नेहा हट गई और सौरव कामया की मारने लगा।

नेहा कार से नंगी बाहर निकलकर स्ट्रेचिग करने लगी- “आ बाडी पूरी अकड़ गई…” फिर वो जींस और टाप पहन कर पायल और आकांक्षा को पूछने लगी- “तुम लोग किस बात पे हँस रही हो?”

आकांक्षा बोली- “नेहा तेरी हाइट हम सबसे कम है और तू वहाँ अकड़ गई?”

नेहा ने हम सबसे लम्बी आकांक्षा को चेलेंज किया- “की वो कार में सेक्स कर ही नहीं सकती, जगह ही नहीं बचेगी…”

आकांक्षा ने कहा- “मुझको इतनी गर्मी में, वो भी कार के अंदर घुटकर नहीं मरना…” फिर वो दोनों हाइट को लेकर बातें करने लग गई।
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:56 PM,
#87
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
कामया भी झड़ जाने के बाद चुदना बंद करके कपड़े पहन कर बाहर आ गई।

सौरव का अभी भी खड़ा था। आकांक्षा और पायल ने मज़ा कर दिया और शगुफ्ता तो पहले ही उसके साथ ही थी। सौरव ने मुझसे ‘प्लीज़्ज़’ कहा।

मैं भी कार की घुटन में नहीं करना चाहती थी। फिर मैंने सभी लड़कियां को कार में बैठ जाने को कहा और सौरव को बाहर निकलने को। फिर दरवाजा खोलकर रखने को कहा और अपनी जींस और पैंटी घुटने तक उतार दी। सौरव पूरा नंगा था और मैं कार पे झुक के अपनी चूत चुदाने लगी।

पायल और नेहा नजर रखे थी की कोई आ ना जाए। पर सभी मेरी खुले में चुदाई का मज़ा ले रहे थे। असल में सौरव ने नेहा और कामया को ज्यादा देर नहीं चोदा था और इसका फ़ायदा मुझे मिला।

वो 18 साल का पतला पर चूत फाड़ चुदक्कड़ मशीन था। तभी शगुफ्ता उससे चुदा लेने के बाद भी अपनी दोस्तों के लिए उसे बुला लाई थी। मैं एक बार झड़ जाने के बाद मेनरोड पे ही उसका लण्ड चूसने लगी। वो हाट और डेलीशियस था, जिसपे मेरी चूत का भी स्वाद आ रहा था। फिर मैं खड़ी हुई।

आकांक्षा ने कहा- “चाभी…”

पर मुझे सही सुनाई नहीं दिया फिर वो मुझे किस करने लगी। फिर शगुफ्ता भी बाहर आ गई और मेरी क्लिट को मसल्ने लगी। मैं अब और हाट होने लगी थी की मेरे कहने पे शगुफ्ता ने मुझे नंगा कर दिया।

अब एक लड़का और एक लड़की पूरी तरह नंगी उस अंधेरी गली में कार के पास सेक्स कर रहे थे, और तीन और लड़कियां लेकिन पूरे कपड़े पहन, चुदने वाली लड़की के पास आ गई थीं। मेरी एक टांग को ऊपर अपने हाथ से पकड़कर उसने मेरी चूत मारी और पायल मेरी चूत में जाते लण्ड पे जीभ घिसने लगी।

मैंने तड़पते हुए पायल को कहा- “तू भी अपनी चूत में ले ले…”

पर पायल ने कहा- “मुझको रोड पे नहीं करना है…”

सौरव और मैं हँस पड़े, क्योंकी खुले में बहुत ही मज़ा आ रहा था। नेहा ने मेरी चीख निकाल दी जब उसने मेरी क्लिट को जम के रगड़ा और चूत से बारिश करवा दी।

तभी अगुफ्ता ने कहा- “अरे ऊपर देखो…”

हम सबने देखा की 3 स्कूल उम्र की लड़कियां एक बालकोनी से हमें देख रही थीं। हमारे हालात को देखते ही दो अंदर भाग गईं, और एक हमें देखती रही। लेकिन जब उसको पता चला की उसकी सिस्टर डरके भाग गई थी वो भी धीमी चीख निकालकर अंदर चली गई।

पायल- “चलो चलते हैं यहां से, वो अपने पैरेंटस को बुला लेंगी…”

तभी सौरव बोला की वो झड़ने वाला है तो मैंने कहा- “जो भी ड्राइवर सीट पे है वो अब तैयार हो जाए…”

कार स्टार्ट कर दी गई। और फिर सौरव मोनिंग करने लगा। मैं झड़ने वाली थी और तड़पती हुई बोली- “डोन्ट स्टाप, डोन्ट स्टाप…” और फिर मेरे पैर काँप गये।

सौरव ने पूछा - “वीर्य चूत में डालूं या मुँह में?”

पायल मेरी चूत के पास ही थी और उसने अपना मुँह खोल दिया। इस सबके बाद सौरव फ्रंट सीट पे बैठा और शगुफ्ता ने मुझे बैक सीट पे खींचकर अंदर ले लिया।

कार में बैठते ही वो लड़कियां अपनी मम्मी को बालकोनी में ले आई- “मम्मी देखो यहीं पे, आओ, अरे डान्स बंद हो गया, मम्मी…” पर उनकी मम्मी चुप ही रही।

कार उस अंधेरी गली से निकलकर मेनरोड की रोशनी में, बाकी कारों में गुम हो गई। हमने सौरव को उसकी गली में ड्रॉप कर दिया। उसको बिना कपड़ों के भेजने में हमने खूब मजे लिए। फिर बेचारे को उसके कपड़े दे दिए ताकी वो घर ना सके।

फिर पायल-आकांक्षा को उनके यहां ड्रॉप किया, फिर नेहा, उसके बाद शगुफ्ता और आखीर में कामया ने मेरे घर के बाहर कार रोकी। 12:00 बजने वाले थे पर मोम की कार नहीं थी। मैंने कामया को कहा की वो मेरे यहां ही रात रुक जाए।

हम बाथटब में बैठकर नहा रही थी। कामया ने नहीं सुना था की हमारे उस अंधेरी गली से निकलते टाइम उन लड़कियां ने क्या कहा था? जब मैंने उसको बताया तो वो हँसते हुए बोली- “उन्होंने हमें स्ट्रीट डांसर्स कैसे समझ लिया?”

मैं- “डोन्ट नो …”

कामया- “हाँ… बच्चे…”

मैं- “पर ऐसा नहीं होना चाहिए था, पायल को बोला था की नजर रखे…”

कामया- “लेकिन ऊपर का नहीं बोला था…”

फिर कामया ने कहा- “तू फालतू में नाटक कर रही थी, यहां आ जाते तो मैं भी पूरे मजे ले पाती और ऐसा होता भी नहीं…”

मैंने कहा- “मेरी तरह ही बाहर खुले में चुदा लेती ना फिर? फिर तू उन लड़कियों को अपना ऑटोग्राफ भी दे सकती थी…”

कामया बोली- “हाहाहा… वेरी फन्नी, तू तो एक पड़ोसी की होर है, तू तो 100 लोगों के सामने भी चुदाने में शरम नहीं करेगी…”

मैं उसको नहीं बता सकती थी की मैं ऐसा कर भी चुकी हूँ । हाँ, पर वो 100 तो नहीं थे। कामया ने सही कहा था, मैं दिन-बा-दिन बेशरम होती जा रही हूँ । बाथ लेने के बाद हम बेड पे नंगी लेट गये और गाने चला दिए। डोरबेल बजी और हमें पता चला की मोम और भाई आ गये हैं, और भाई ने मुझे आवाज़ लगाई।

मैं उठकर शॉर्ट्स और टीशर्ट पहन के उन्हें देखने गई। मोम अपने रूम में चली गई थी और भाई को बहुत भूख लगी हुई थी, और मैंने खाना लगाकर दिया। जब वो शावर लेने गया, फिर मैं कामया से डिनर का पूछने चली गई, क्योंकी मुझे भी भूख लग गई थी।

कामया मेरी क्रोप्ड टीशर्ट और लेगिन्ग्स पहन कर मेरे साथ आ गई। डिनर टेबल पे कामया ने भाई का सीना देखकर पूछा - “क्या वो अब पहले से ज्यादा एक्सरसाइज़ कर रहा है आजकल?”

भाई ने हाँ में जवाब दिया। कामया की कर्वी सेक्सी बाडी की भी तारीफ़ की। और फिर वो बातें करने लगे फिटनेस के बारे में, जॉब के बारे में, फिर लास्ट में एक दूसरे से रिलेशन स्टेटस के बारे में जाना। भाई जल्दी से खाना खत्म कर चुका था। फिर गुडनाइट बोलकर अपने रूम में सोफे चला गया।

अगर मेरी दूसरी दोस्त होती तो वो भाई से फ्लर्ट करने बैठ जाती। हम भी डिनर करके मेरे रूम में गये। तब कामया बोली- “यार अगर मैं आदी के साथ एक्सरसाइज़ करती तो मेरी तो हालत ही खराब हो जाती…”

मैंने अपना टीशर्ट उतार के कहा- “वो तो है…”

कामया ने पूछा - “उसकी सच में कोई गर्लफ्रेंड है क्या?”

मैं- “हाँ… पर वो सीरियस नहीं है, क्यों तुझे भाई को पटाना है?” मैंने उसको छेड़ते हुए कहा।

कामया बेड पे लेटी मुझे नंगी होते देखने लगी- “नहीं, बेस्ट दोस्त के भाई से रिलेशन और फिर ब्रेकप टेन्षन का काम है…” उसकी बात भी सही है। कामया कपड़े पहनी थी और मैं नंगी, और हम बातें करती-करती सो गईं, कामया मुझे किसी बायफ्रेंड के जैसे अपनी बाहों भरे हुए थी।

रात को कामया के फ़ोन की बैटरी लो होने के नॉटीफिकेशन साउंड से मेरी आँख खुली, जब बेड पे कामया नहीं थी, तो मैंने सोचा की वो पानी पीने चली गई होगी या फिर बाथरूम। मैंने करवट ली, मुझे वापस नींद आ गई।

अगली सुबह मैं उठी और मेरी गाण्ड पे पैर पड़ा हुआ था। मैंने मुड़कर देखा, कामया नंगी मेरे पास सो रही थी, जबकि कल डिनर के बाद उसने कपड़े नहीं उतारे थे। मैंने कामया को हटाया और आँख मलते मैं खड़ी हुई और बाथरूम में चली गई। ब्रश करते हुए मुझे उसकी कल वाली बात पे हँसी आ गई- “बेस्ट दोस्त के भाई से रिलेशन और फिर ब्रेकप टेन्षन का काम है…”
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:56 PM,
#88
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
मैंने उसको सोने दिया और एक्सरसाइज़ के लिए तैयार हो गई। भाई थोड़ा लेट रूम में आया और रूम में नज़रें घुमाकर मुझे और मोम को गुड मॉर्निंग विश किया।

आज भाई का छुटकू जल्दी ही बड़ा हो गया, लेकिन मोम और मैं हमेशा की तरह उसको अनदेखा कर दिये। पर प्राब्लम तब हुई जब एरेक्सि जाने के बाद प्री-कम से उसके वहां गीला हो गया। और फिर जब उसको पता चला तो वो रूम से चुपचाप चला गया और वापस आया ही नहीं।

एक्सरसाइज़ के बाद मैंने कामया की नंगी गाण्ड पकड़कर हिलाते हुए जगाया। हमने बस एक दूसरे को स्माइल पास की पर कहा कुछ नहीं। लेकिन जब हम साथ में नहाए, तो पहले उसने मुझे उंगली की उसके बाद हम बैठ गईं और उसने मेरी चूत खानी शुरू कर दी। उसके बाद वो खड़ी होकर अपनी चूत मेरे चेहरे के पास ले आई, मैंने अंगूठे से क्लिट को दबाया और कामया को देखा, तो मुझे उसका बिना बताए रात में चले जाना याद आया और शायद उसे भी। इसीलिए वो मेरे सामने बैठ गई ताकी हम एक दूसरे की चूत आपस में रगड़ सके। झड़ जाने के बाद उसने मेरे किस का उसने पेशेंटली रेस्पान्स दिया।

बाथ या कहूँ तो लेस्बियन सेक्स के बाद मैंने जींस और टाप पहना और देखा की कामया कल वाले ही अपने कपड़े पहन रही थी।

मैं- “क्लास में ये पहन के जाएगी क्या?”

कामया- “नहीं, मुझे मोम के साथ काम है, कालेज नहीं जाउन्गी आज…”

ब्रेकफ़ास्ट टेबल पे मोम कामया से बात करती रही, और पूरे टाइम कामया और भाई नॉर्मल ही रहे। मोम को कामया की मोम से किसी काम से मिलना था तो मोम कामया के साथ चली गई। मोम एक बजे वापस आ गई। मोम ने कहा की वो फ्री हो गई थी, क्योंकी आदी ही न्यू प्रोजेक्ट को हैंडल कर रहा था।

मैंने मोम से कहा- “चलो शॉपिंग चलते है…”

मोम ने कहा- “अभी धूप है, पहले मूवी देखने चलेंगे फिर उसके बाद कोई प्लान बना लेंगे…”

मैंने ओके बोल दिया। मैं प्रिंटेड रैम्पर पहनती हूँ और मोम लोंग मिडी और स्लीवलेश टाप। इंटवनल के टाइम मैं और मोम लाइन में लगे हुए थे की किसी ने पीछे से आवाज़ दी। 

वो कल रात वाला सौरव था और उसके पीछे उसके भाई भी खड़े थे। वो हाय हेलो कहने हमारे पास आया, वो मेरा नाम भूल चुका था।

मोम ने कहा- “मोना, अपने दोस्त से मिलवाओगी नहीं?” और अब तो मोम मेरे सभी सेक्स पार्टनर के लिए मेरी कजिन बन गई थी।

सौरव- “मोना, क्या मैं दो मिनट बात कर सकता हूँ …”

मैं- “हाँ श्योर…”

वो मुझे साइड में ले गया, उसने कल के लिए थैंक्स कहा, उसके भाई हमें ही देख रहे थे तो सौरव बोला- “वो लोग कल ज्यादा ही उत्तेजित हो गये थे…”

मैंने कहा- “कोई बात नहीं, तुमको उन्हें कुछ सिखाना चाहिए…”

सौरव हँसते हुए बोला- “सही है, कल जैसा मौका लाइफ में कम ही मिलता है। हाँ अभी मूवी के बाद क्या प्लान है?”

मैं बोली- “पता नहीं…”

फिर मोम हमारे पास आई- “चलो टाइम होने वाला है…”

सौरव- “तो फिर हमारे साथ चलो, हम कॉन्सर्ट में जा रहे हैं…” मेरे चेहरा को पढ़ते हुए वो बोला- “असल में मेरे पास 3 टिकेट्स हैं और तुम दोनों मेरे साथ चल सकती हो…”

मोम बोली- “टिकेट्स?”

सौरव ने मोम को बताया तो मोम ने हाँ कर दी।

मैंने कहा- “और तुम्हारे भाई का क्या?”

सौरव बोला- “पहले बताओ, तुम लोगों को मूवी कैसी लगी?”

मैं- “ट्रेलर जैसी उत्तेनना नहीं है, क्यों?”

हम तीनों इंटवनल के बाद वापस मूवी देखने नहीं गये। मैंने सौरव से पूछा - “तुम्हारे भाई तुमको पीट डालेंगे…”

सौरव- “असल में मैंने अपने भाइयों को कॉन्सर्ट के बारे बताया नहीं अब तक…”

राखी ने कहा- “लेकिन वहां हमें बहुत टाइम बाद जाना था, तब तक हम करेंगे क्या?” हम पार्किंग लाट में अपनी कार में बैठे थे और अभी कोई भी नहीं था वहां पे।

सौरव बोला- “आई थिंक मुझे फ्यूचर में बड़े घर की बजाय बड़ी गाड़ी ले लेनी चाहिए…”

मोम ने पूछा - “क्यों?”

सौरव बोला- “आई लॉस्ट माई वेर्जिनिटी इन माई फ़ादर’स कार, असल में, आई हैव लाट्स आज सेक्स इन कोर्स रादर दैन इन द हाउस आर बेड…”

कल रात मैं सौरव से इंप्रेस हुई थी। लेकिन उसने कल रात की सारी बात बतानी शुरू कर दी, मोम मेरे और मेरी दोस्तों की अड्वेंचरस नाइट के बारे में और पूछने लगी की और क्या-क्या हुआ? तो बताते हुए सौरव ने खुद ही अपनी जिप खोलकर लण्ड बाहर निकाल लिया और सहलाने लगा।

मोम ने पूछा - “ये क्या कर रहे हो?”

सौरव- “तुमको कल की स्टोरी सुननी है?”

मोम- “तो क्या इसके बिना बता नहीं सकते?”

मोम की बात सुनकर उसको एहसास हुआ की उसने ज्यादा ही होशयारी दिखा दी थी। फिर वो वापस अंदर डालने लगा।

तब मोम ने कहा- “क्या हुआ?”

सौरव ने मुझे देखा, जैसे उसके लज्जित होने पे मेरा क्या रियेक्शन है?

मैं- “छोड़ो भी राखी, क्यों तंग कर रही हो?” ये कहकर मैंने अपना रैम्पर उतार दिया। मोम आराम से बैठी हमें देखती रही, मेरे नंगी होने पे मैंने सौरव को मुझे ओरल देने को कहा।

उससे अपनी चूत चटवाने के बाद मैंने प्यार से उसको कहा- “अब राखी को भी ओरल दो…”

मोम उसके बाल पकड़कर अपनी चूत में उसका सिर धंसा रही थी। फिर इसके बाद उसको लगा की अब हम उसको ब्लो-जोब देंगे पर ऐसा हुआ नहीं, क्योंकी मेरा मूड नहीं था उसको मुँह में लेने का, और मोम को सौरव ज्यादा पसंद भी नहीं आया था।

शुरू में मोम उससे सेक्स नहीं करना चाहती थी। पर मैंने कहा- “आपका टाइम पास अच्छे से हो जाएगा…”

सौरव ने भी मेरी कजिन राखी को अकेले-अकेले बैठने से मज़ा किया। मैंने बैकसीट पे सौरव की गोदी में उछल के चुदवा लिया।

मोम भी पीछे की और आ गई, और पहले उसने मोम के टिट्स को भर-भर के चूसा और मोम ने मिडी ऊपर कर दी। फिर उसके आमने सामने बैठ गई और उससे चुदवाने लगी। 

सौरव और मैं किस करते और मोम अपनी चुचियाँ उछालती अपनी चूत मरवाती।
-  - 
Reply
10-17-2018, 12:57 PM,
#89
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
मोम झड़ के हटी और सौरव खिसक के मेरी सीट पे आ गया और मैं उसके ऊपर बैठ गई। मोम और मैं किस करने लगी। कार अब मेरी मोनिंग से भरी हुई थी और सौरव ने हमको होर स्लट और ना जाने क्या-क्या बोला था, उससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था, हमें तो बस चुदने से मतलब था और तो मेहनत भी हम माँ बेटी ने ही की थी। अब सौरव झड़ने को था तो मोम उसके ऊपर से उठी और अब वो हम दोनों के बीच बैठा था। हम दोनों उसका लण्ड हाथ में लेकर हिलाने लगी और फिर वो हमारे हाथ में झड़ गया।

मैं अपना हाथ उसके होंठों के पास लाकर बोली- “चाटो इसे…”

मोम भी अपने हाथ में लगे वीर्य को लेकर बोली- “प्लीज़्ज़… प्लीज़…” हम दोनों ने उसको उसी का वीर्य खिला दिया। लेकिन अभी भी बहुत टाइम बाकी था मूवी खतम होने में।
फिर 15 मिनट बाद मोम सौरव का लण्ड चुसते हुए फिर से खड़ा करने लगी। फिर दरवाजा खोलकर सौरव मोम की चूत मारने लगा। अब जाकर मोम सौरव को पसंद करने लगी थी। फिर हमें रुकना पड़ा। जब पार्किंग लाट में बाइक के हॉर्न की आवाज़ आई, हमने अपने कपड़े पहने और वहाँ से निकल गये।

उसके बाद हम एक माल में गये, वहां मैंने और मोम ने शॉपिंग की और चुपके से चेंजिंग रूम में हम तीनों घुस गये। धड़कते सीने और तेज सांसों से मोम चुदूर ही थी। ये बहुत ही रोमांचक था, पास ही और औरतें की आवाज़ें आ रही थीं, और हम बिना आवाज़ किए सेक्स कर रही थीं। वैसे मोस्टली सौरव ने मोम को चोदा क्योंकी वो अपना टैलेंट दिखा देना चाहता था।

मोम की चूत में वीर्य भर जाने के बाद मैं बाहर निकली और उस जगह से दो औरतों के जाने का इंतजार करने लगी। उनके जाते ही मैंने इशारा किया और सौरव निकलकर वहाँ से चला गया। थोड़ी देर बाद हम दोनों उस शाप के बाहर हमारा इंतजार करते सौरव से मिली। फिर हम एक रेस्टोरेंट में लंच करते हुए ये सोच रहे थे की अगले कौन सी जगह पे हम डेयरिंग सिचुएशन में सेक्स कर सकते हैं?

फिर सौरव ने एक आइडिया दिया- “इस माल के छत पे चलते हैं…”

मैंने कहा- “वहां पे जा सकते हैं?”

सौरव- “वो जाकर देखना पड़ेगा…”

मोम ने कहा- “सौरव एक बार छत पे जाओ, अगर वहां का गेट खुला हो, फिर वहां पे कोई अच्छी सी जगह मिले तो काल कर दो…”

फिर सौरव चला गया। 15 मिनट बाद उसने काल किया और कहा- “दरवाजे पे लाक लगा हुआ है पर यहां तक की सीढ़ियों बिल्कुल खाली हैं…”

मोम ने मना कर दिया और उसको वापस आने को कहा। कार में बैठते टाइम सौरव बोला की वहां पे कर सकते थे। मोम ने कार स्टार्ट करते हुए कहा की उनको एक आइडिया आया है। मोम हमें एक बिल्डिंग में ले गई जिसमें स्माल बिज्निस के ओफिस हर फ्लोर पे बने थे सिर्फ़ चौथे फ्लोर को छोड़कर।

मोम ने बताया की लास्ट हफ्ता ही यहां आई थी, वो पांचवें फ्लोर पे जाना चाहती थीं पर चौथे पे आ गई थी। वहां पे कोई भी नहीं था और बाकी बिल्डिंग के जैसे सॉफ सुथरा भी नहीं था, लगता था की कभी भी इस फ्लोर को रेंट पे लिया नहीं गया था।

मोम हमें लेफ्ट साइड में ले गई। आगे तक जाने तक कोई ऐसी जगह नहीं मिली जहाँ पे कपड़े रखे जा सकें। इसलिए किसी एक को कपड़े पकड़कर हाथ में लेकर इंतजार करना पड़ेगा। इसलिए मैंने रैम्पर और सौरव ने अपनी जींस मोम को पकड़ा दी। फिर मैं दीवाल के सहारे झुक गई और सौरव ने लण्ड गीला करके मेरी चूत में डाल दिया। उस खाली जगह पे हमारी आवाज़ गूँजरही थी।

10 मिनट बाद मैंने मोम से कहा, पर उन्होंने कहा की हम ही कर लें। फिर मैं थोड़ी डेयरिंग करती हुई खिड़की के पास गई और एक टांग उसपे रख दिया और सौरव सूरज की रोशनी में मुझे चोदने लगा। खिड़की से किसी का बंगलो दिख रहा था। किसी को हमें देखने का चान्स मिलता अगर हम खिड़की के ज्यादा पास जाते। एक बार मेरे झड़ जाने के बाद मैंने देखा की मोम अपनी मिडी ऊपर करके खड़ी-खड़ी अपनी चूत मसल रही थी।

मैंने उनको पास बुलाया। सौरव ने मोम की मिडी कमर से भी ऊपर कर दी फिर वो पंजों के बल बैठ गया और मोम की जाँघ अपने कंधे पे रखकर मोम की क्लिट चूसने लगा।

मैं भी पास आ गई और फिर हम दोनों मिलकर मोम की चूत चाटने लगे। फिर मैंने मोम से कपड़े ले लिए और मोम की चूत में लण्ड डाल दिया गया। शाम हो चुकी थी और दोपहर से अब तक सौरव दूसरी बार मोम को चोद चुका था।

रात को हम कॉन्सर्ट में मस्ती से उछल रहे थे, इतनी भीड़ में मोम सौरव का पूरा फ़ायदा उठा रही थी, और मैं सोच रही थी काश मैं भी मिडी या स्कर्ट पहन के आती।

मैंने कहा- “हम कहीं पे चलते हैं…”,

पर मोम ने कहा- “भीड़ में सेक्स का और ही मज़ा है…”

कुछ देर बाद मोम के फेशियल एक्स प्रेशन देखकर पास ही खड़े दो लड़के मोम से चिपकने लगे। मोम ने उनको धक्का दिया लेकिन वो मोम के टाप के ऊपर से ही चुचियाँ दबाने लगे। हद तो तब हो गई जब उनमें से एक मोम के आगे खड़ा हो गया, और एक बंदे ने सौरव को साइड में करके मोम को पकड़ लिया। ओह्हह… माई गोड अब वो दोनों मोम का सैंडबिच बनाकर उछलने लगे, मोम के चेहरे पे दिन दिख रहा था।

मुझे डर था की कहीं वो मोम को यहीं पे नंगा ना कर दें? मैंने जैसे तैसे भीड़ में से निकलते हुए एक बंदे को उसकी शर्ट पकड़कर हटाया और मोम का हाथ कस के पकड़कर खींचकर ले गई- “चलो यहां से…”

मोम- “आह्हह… मोना…”

लड़के- “आईए किधर जा रही हैं…” सौरव के पीछे वो दो लड़के भी आने लगे।

लोग मोम की नंगी गाण्ड देखने लगे तो मोम एक हाथ से मिडी को सही करते हुए मेरे पीछे भागने लगी। मैंने मोम को कार में बैठने को कहा।

सौरव- “हे मेरे लिए भी रुको…” लेकिन वो लड़के उससे आगे थे और हमारे ही पास आ रहे थे।

मोम ने कहा- “चल चल… भगा भगा भगा रुकना मत…”

हम उनसे बच गये थे, लेकिन सौरव वहीं रह गया था, मैंने उसको काल किया।

सौरव ने कहा- “मैं ठीक हूँ और आप लोग कहां हैं?”

मैंने कहा- “हम अपने घर जा रहे हैं, और तुम भी अपने घर चले जाओ…”

मैंने ड्राइव करते हुए मोम से पूछा - “आर यू ओके?”

मोम ने हाँ में सिर हिलाया पर उनको बैठने में परेशानी हो रही थी।

मैं- “दर्द हो रहा है?”

मोम- “आइ एम फाइन …” फिर खिड़की की तरफ देखकर खुद पे गुस्साते हुए ‘ना’ में सिर हिलने लगी। मोम ने खुद ही ऐसा रिस्क लिया और अब गाण्ड के दर्द से पछता रही थी।
मैंने मोम को कहा- “चेक कर लो, फाड़ तो नहीं दी…”

मोम ने मुझे चिढ़कर देखा- “हरामज़ादों में इतना दम नहीं था की मेरी फाड़ सकें…”

मैंने मोम की तरफ देखा फिर मुझे इतनी जोर से हँसी आई की मेरे पेट में दर्द होने लगा।

मोम- “तुझे हँसी आ रही है…” मोम भी अपनी स्टुपिड बात पे हँसने लगी।

मैंने कहा- “कौन बोल रहा था भीड़ में सेक्स का मज़ा ही अलग है? अभी बलात्कार हो जाता तो? स्टुपिड…”

मोम मिडी ऊपर खिसका के देखने लगी, तो मोम की पैंटी गायब थी।

मैंने पूछा - सब ठीक है?

मोम ने मिडी नीचे करके बताया की गाण्ड दर्द कर रही थी। हमारे अड्वेंचरस और डेयरिंग दिन का अंत इस तरह होगा ऐसा सोचा नहीं था, पर आइडिया था की ऐसा हो सकता है।
-  - 
Reply

10-17-2018, 12:57 PM,
#90
RE: Maa Sex Kahani माँ का और सेक्स एडवेंचर
घर पहुँचने पे भाई अपने रूम में था। इसलिए उसने मोम के लड़खड़ाते कदम नहीं देखे। लेकिन डिनर के टाइम, डिनर बाहर से मंगवा लिया था, उसने मोम को आइस पैक उनके हाथों में देखकर पूछा ज़रूर।

मोम ने बहाना बना दिया।

फिर भाई ने कोई सवाल नहीं किया। लेकिन उसके चेहरा को देखकर लगा की उसने मोम की बात पे विश्वास नहीं किया था। दिन की वजह से मोम बाथ लेने के बाद से ही बाथरोब पहन थी और टीवी देखते हुए ही मोम को सोफे पे ही नींद आ गई और करवट लेते टाइम वो खुल गया।

भाई मोम को देखता रह गया। जब मैंने उसको सही करके गाँठ लगा दी तब भाई ने मुझसे कहा की मैं मोम को जगा के बेडरूम में ले जाऊं। ये कह के वो अपने रूम में चला गया।
मोम नींद में- “हाँ… उठती हूँ …” और “हाँ… हाँ…” कहती रही और वापस सो जाती।

कुछ देर बाद अपने रूम से वापस आकर भाई ने मोम को सोते देखा तो उसने कहा- “मोम यहां सही से सो नहीं पाएंगी…”

मैंने कहा- “तू मोम को उठाकर बेड पे लिटा दे…”

इसके बाद उसने मोम को उठाया। मोम ने आँख खोली पर नींद में थी तो उन्होंने भाई को उठाने दिया। उठा लेने के बाद मोम के घुटनों से बाथरोब सरक गया और कमर पे बँधी गाँठ से नीचे का सारा अंग खुल गया।

मैंने वापस उसको सही करके मोम के पैरों को कवर कर दिया और देखा की भाई का लण्ड ट्राउजर फाड़कर बाहर आना चाहता है। मोम को उनके बेड पे सुलाकर हम दोनों अपने-अपने रूम में चले गये। भाई कुछ गुस्से में लग रहा था।

अगले दिन मैंने मोम को जगाया लेकिन वो आज रिलेक्स करना चाहती थीं। वैसे भी दर्द गया नहीं था और करवट लेते टाइम आऽ निकल गई थी। इसीलिए वो वापस सो गई।
एक्सरसाइज़ के टाइम भाई ने मुझसे पूछा - हम कहां “पे गई थीं?”

मैंने कहा- “हम मूवी देखने गये थे…”

लेकिन भाई मुझे घूरता रहा, जैसे मैं झूठ बोल रही हूँ ।

मैंने पूछा - “क्या?”

फिर वो नजर घुमा के बोला- “कुछ नहीं…”

क्या भाई ने सही अंदाज़ा लगा लिया था? मेरे खयाल से यही लगता था, वो कोई बच्चा तो है नहीं। मैंने भाई से पूछा - “तू सच में जानना चाहता है की कल हम कहां गये थे?”

लेकिन भाई गुस्से में कुछ नहीं बोला।

मैं- “मैं देख रही हूँ , कल रात से तू मोम को लेकर अलग बिहेव कर रहा है, बोल ना क्या बात है?”

उसने मुझे गुस्से से देखा और धीरे से बोला- “अच्छा ठीक है, बता देता हूँ । जब कोई एनल सेक्स करता है तब उसकी जो हालत होती है ना वैसे ही हालत मोम की थी, अब आप मुझे बताओ की मोम किसके साथ थी?”

मैंने शांत रहते हुए जवाब दिया- “स्ट्रैप-ऑन पता है क्या चीज़ होती है?” मैंने पहले से ही सोच लिया था की भाई यही सवाल पूछेगा, इसलिए, लास्ट टाइम की तरह इस बार भी हम माँ बेटी के लेस्बियन होने का बहाना बेस्ट रहेगा।

भाई बोला- “क्या?”

मैं- “स्ट्रैप ओँ…”

भाई- “आप ना, सीधे बोलो ही मत, ठीक अब मैं सीधा मोम से ही पूछता हूँ …”

मैं- “चल मेरे साथ…” मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसको अपने रूम में ले गई। फिर कपबोर्ड के निचले दराज से एक बाक्स निकालकर मैं भाई के पास गई और उसको दे दिया- “खोल इसे…”

भाई ने उस बाक्स को खोला और देखता ही रह गया, फिर थोड़ी देर बाद बोला- “फक, ए तो…” उसने उससे नज़रें हटाकर मुझे देखा- “इसको तो मैंने पॉर्न वीडियोस में देखा है, ये आपके पास कहां से आया?”

मैंने कहा- “अब पता चला की कल मोम किसके साथ थी?”

भाई बाक्स में से हार्ड नेस, लेदर वाला भाग, को निकालकर देखने लगा। फिर उसने बाक्स में रखे डिल्डो को देखा तो उसकी तबीयत खराब होने लगी, उसको दो सेकंड के लिए भी नहीं देख पा रहा था, हाथ लगाना तो दूर की बात थी। मुझे तो खूब हँसी आ रही थी पर खुद को कंट्रोल किए हुए थी।

मैंने सिंपली कहा- “अब समझा?”
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Gandi Kahani सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री 45 5,400 11-23-2020, 02:10 PM
Last Post:
Exclamation Incest परिवार में हवस और कामना की कामशक्ति 145 28,867 11-23-2020, 01:51 PM
Last Post:
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ 154 81,234 11-20-2020, 01:08 PM
Last Post:
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी 4 66,942 11-20-2020, 04:00 AM
Last Post:
Thumbs Up Gandi Kahani (इंसान या भूखे भेड़िए ) 232 33,677 11-17-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Lockdown में सामने वाली की चुदाई 3 9,892 11-17-2020, 11:55 AM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान 114 115,442 11-11-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Antervasna मुझे लगी लगन लंड की 99 78,561 11-05-2020, 12:35 PM
Last Post:
Star Mastaram Stories हवस के गुलाम 169 152,715 11-03-2020, 01:27 PM
Last Post:
  Rishton mai Chudai - परिवार 12 55,052 11-02-2020, 04:58 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


suhag rat chodai antiwali buds xsifilamLamni.ki.nangi.six.imajaanti ki mst chudaiWww.nitbfxxxgadhe jase land se chudikonsi porn dekhna layak h batao वंदना भाभी और बिल्लू Sexbabaचल सेक्सबाबाMARODA BHABHI KI GORI LADKI KI GAND PIC DIKAIbara boobs wali aur bara gand aunti sex storieswww.bideomaza.in.comxxx mobile desi52xnxx-netकरवा चौथ वाली बीएफwww xxx con 2019Khandar antrawasna mom sex videosSaxe arut ne bus me chudai karvai kand pakd kar antarvasna चाट सेक्सबाब site:mupsaharovo.rusavita bhatti in Telugu comice KamaSexy bhan ki janto ko saf kiya sex storyxxx gumethu dehati orisnalmaa ne bete ko chudai ke liye uksaya sex storiesलडकि का फोदा पुची तसवीरबेटेका का माका सेकसी विडीयोअजू क बुर पेलाई क कहानिया फोटो के साथ मेरुकि Xxxincesr apni burkha to utaro bore behen urdu sex storiesRajsarma zavazavi marathi sex kattaअतंर.सिहंxxxचूत तो बहुत कसी हुई होगी तेरी बहन कजरी की !Sauteli maa ne kothe par becha Hindi kahanimisthi ki chot chodae ki photowww.com avneet kaur ki nangi cudai photos nude bollywoods pics part 2 imageलड चुसना मारवाडि फोटुsexikahaniyaantravasnabipasha xxx story hindi maबाबा आणि सून porn hdदीदी शिवी देऊन जवलेxxx garls photo shool kapaqa utarteचावट बुला चोकलाहुमाकुरैशी।के हिन्दी मे xxxविडीओसगी बहन की नहाते हुए चूचि पहली बार देखने की कहानी इन हिंदीgaandchudai.rajsharma.commarathi saxi katha 2019meera deosthale xxxmere bgai ne mujhe khub cjodaबच्चों को सोने के बाद भाभी की चूदाई कहानीhindesexkhanibur se mut nikalta sxcy videorndi ka chuchi msla gali dkr suhagrt manaya with sexy photoKhetarma mast desi sodainonvejHindisex storyसास बहू की लडXxxchut.mutna.xxx babasexchudaikahaniभं दे टाँग पाजामी सस्य कहानीMiss mera gade jesa lund dekh k darr gai or bhagne lagi ki kahani Gori chut mai makhan lagakarchudai photojabradsi pdos xxx dasinandoi lund hilate bole bhabhi chudwaogisex story Padosan bhabhi ke bade boobs dikahke. chudwaya blouse me seAishwaryaraisexbaba.com/Thread-maa-ki-chudai-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%81-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BE?page=2sexsi fake photo of kriti in'chadi and tshirtActers sexbabanudu photoIncest देशी चुदाई कहानी गाँङ का छल्लाbacchon ko padhaate bhi madam ki sexy videoNafrat sexbaba xxx kahani.netall sex hindi of dhanaxxx vidiojhato wali pussiy picsXxx sex story pariwarik chudaie karnamenew larkiy chudaei waliy videoमौको चोदा xxx mmsIndian Bhabhi office campany çhudai gangbangAntervsna hindi /माँ की चीखें निकलीchupky se baji ki razai main gus ke chodaTara subarea xxx nudo photo sex baba bhabhi ki chudai karbachauth pe hindi adeo me purmpanjabi gandme bfxx videoNurshat brusha sex photo xxx sexbabanet.kothe par randiyo ko mara kyu jata hai bedardi seMamta Mohandas nuked image xxxghar mein Baitha sexypornvideochuchi dudha pelate xxx video dawnlod Ma ne बेटी को randi Sexbaba. Net