MmsBee कोई तो रोक लो
09-09-2020, 12:05 PM,
#1
Thumbs Up  MmsBee कोई तो रोक लो
कोई तो रोक लो
______________
दोस्तो आज से एक और नई कहानी शुरू कर रहा हूँ ये कहानी प्रीतम ने लिखी है मैं इसे हिन्दी फ़ॉन्ट में आपके लिए प्रस्तुत कर रहा हूँ . उम्मीद है कि ये कहानी आपको पसंद आएगी .

मेरा नाम पुनीत है. मैं 24 साल का हूँ और मेरी हाइट 5'7" फुट है. देखने मे किसी हीरो की तरह हॅंडसम तो नही हूँ. लेकिन फिर भी इतना ज़रूर है कि, यदि कोई लड़की मुझे देखे तो, एक बार अपने दिल मे, ये बात ज़रूर सोचेगी कि, काश ये लड़का मेरा बाय्फ्रेंड होता.

ये तो मेरा परिचय हो गया. अब मैं अपने परिवार के बाकी सदस्यों का परिचय भी आप से करवा देता हूँ. जिनके इर्द गिर्द ये कहानी घूमना है.

सबसे पहले मैं आपका परिचय मेरे घर के मुखिया से करता हूँ. मेरे घर के सबसे पहले सदस्य मेरे पापा अमरनाथ है. उनकी उमर 48 साल है. लेकिन इस उमर मे भी वो अपने आपको बहुत मेनटेन करके रखते है. इसलिए 48 के होने के बाद भी वो बिल्कुल चुस्त दुरुस्त दिखते है.

उनकी इस चुस्ती का राज भी मुझे बहुत बाद मे पता चला. जो आपको भी आगे चलकर स्टोरी मे पता चल जाएगा. पापा एक बिज़्नेसमॅन है और उनका बिज़्नेस दूसरे सहरों मे भी फैला हुआ है. जिस वजह से हमारे यहाँ पैसो की कोई कमी नही है और हमारा परिवार आमिर परिवारों की गिनती मे आता है.

मेरे परिवार की दूसरी सदस्या मेरी माँ सुनीता है. उनकी उमर 36 साल है. देखने मे वो बिल्कुल शिल्पा सेठी की तरह दिखती है और 2 बेटियों की माँ होने के बाद भी बड़ी ही स्मार्ट पर्सनॅलिटी की मालकिन है.

अब मेरी माँ की उमर 36 साल और मेरी उमर 24 साल देख कर, आपके मन मे ये सवाल ज़रूर आएगा कि ऐसा कैसे हो सकता है. तो मैं आपको बता दूं की, सुनीता मेरी सग़ी माँ नही है. मेरी सग़ी माँ का देहांत तो, तभी हो गया था, जब मैं बहुत छोटा था. सुनीता मेरी सौतेली माँ है और मैं उन्हे छोटी माँ कह कर बुलाता हूँ.

छोटी माँ के बाद मेरे परिवार की तीसरी सदस्या मेरी सौतेली बहन अमिता है. अमिता अभी 12थ मे पढ़ रही है. वो बचपन से ही शांत स्वाभाव की और समझदार लड़की है. अमिता देखने मे दुबली पतली है और पूरी तरह से छोटी माँ पर गयी है. वो मुझसे 7 साल छोटी है. सब उसे प्यार से अमि बुलाते है और मैं उसे अमि के साथ साथ बेटू भी बुलाता हूँ.

अमिता के बाद मेरे परिवार की चौथी सदस्या मेरी सौतेली बहन नामिता है. नामिता अभी 10थ मे पढ़ रही है. वो बचपन से ही चंचल और नटखट स्वाभाव की लड़की है. गुस्सा तो उसकी नाक पर ही बैठा रहता है. नामिता देखने मे भरे बदन की लड़की है. मगर मोटी बिल्कुल नही है. वो मुझसे 9 साल छोटी है. सब उसे प्यार से निमी बुलाते है और मैं निमी के साथ साथ छोटी भी बुलाता हूँ.

मेरे परिवार का पाँचवा सदस्या मैं खुद हूँ. मेरी पढ़ाई पूरी हो चुकी है और अब मैं अपने पापा के साथ उनका बिज़्नेस संभालता हूँ. मुझे सब प्यार से पुन्नू बुलाते है. ये मेरे छोटे से परिवार का परिचय था. अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ.

ये कहानी तब सुरू होती है. जब मैं पहली क्लास मे पढ़ता था और मेरी माँ का देहांत हुए कुछ ही समय हुआ था. मेरी देख भाल मेरे पापा, और मेरे घर मे काम करने वाली चंदा मौसी किया करती थी.

पापा की उमर उस समय 30 साल रही होगी. एक दिन उनके ऑफीस मे एक लड़की सुनीता जॉब के लिए आई. उसकी उमर उस समय 18 साल रही होगी. पापा सुनीता को देखते ही उसके रूप पर मोहित हो गये और पहली ही मुलाकात मे उसके सामने जॉब की जगह शादी का प्रस्ताव रख दिया.

अचानक से पापा की तरफ से ये शादी का प्रस्ताव पाकर, सुनीता के कुछ समझ मे नही आया. वो एक मध्यम परिवार की लड़की थी और पापा एक रहीश खानदान के इकलौते लड़के होने के साथ साथ एक कंपनी के मालिक थे.

इसलिए सुनीता ने थोड़ा बहुत सोचने के बाद पापा के शादी के प्रस्ताव मंजूर कर लिया. कुछ ही दिनो मे पापा की शादी सुनीता के साथ हो गयी और सुनीता मेरी सौतेली माँ बनकर मेरे घर आ गयी. उनकी शादी के 1 साल बाद मेरी सौतेली बहन अमिता और 3 साल बाद नामिता का जनम हुआ.

लेकिन ये कहानी अमिता और नामिता के जनम से पहले, पापा की शादी की पहली रात से सुरू होती है. उस समय पापा की एज 30 साल और सुनीता की आगे 18 साल थी. मेरी सौतेली माँ का पति मतलब की पापा उनसे 12 साल बड़े थे, और उनके पति का बेटा मतलब कि मैं उनसे 12 साल छोटा था.

मुझे अच्छे से याद है कि उस समय मैं पापा के साथ ही सोया करता था. मगर जब पापा ने मुझे शादी की पहली रात मेरी सौतेली माँ से मिलवाया तो कहा कि “ये तुम्हारी नयी माँ है और आज से तुम इनको ही मम्मी कहोगे और आज से तुम दूसरे कमरे सोया करोगे.”

इसके बाद मेरे सोने की व्यवस्था एक दूसरे कमरे मे कर दी गयी. उस समय मुझे इतनी समझ तो थी नही जो पापा और छोटी माँ के एक साथ सोने का कुछ मतलब समझ पता. मुझे उस रात अकेले ज़रा भी नींद नही आई.

मुझे कुछ समझ मे नही आ रहा था. ऐसा लग रहा था कि मेरी माँ की मौत के साथ ही मेरी खुशिया भी ख़तम हो गयी हो. मैं सारी रत अपनी मरी हुई माँ को याद करके, रोता रहा और मुझे पहले दिन ही अपनी नयी माँ से नफ़रत हो गयी.
Reply

09-09-2020, 12:05 PM,
#2
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
[color=#4000BF]{अपडेट-2}

रात को रोते रोते कब मेरी नींद लग गयी, मुझे पता ही नही चला. सुबह सुबह मेरी नींद पापा की आवाज़ से खुली. पापा मुझे नींद से जगा रहे थे. मेरी नींद खुली तो पापा कहने लगे.

पापा बोले "पुन्नू जल्दी से उठ जाओ, नही तो स्कूल के लिए देर हो जाएगी."

मैने आँख खोल कर देखा तो नयी माँ भी पापा के साथ खड़ी मुस्कुरा रही थी. उन्हे हंसता देख कर मैं मन ही मन जल रहा था.

मैं बिना कुछ बोले फ्रेश होने चला गया. नहाने के बाद मुझे रोज की तरह मेरे घर मे काम करने वाली चंदा मौसी ने तैयार किया और फिर मैं स्कूल चला गया.

स्कूल मे भी मैं सारे समय उदास रहा. मुझे उदास देख कर मेरे दोस्त मेहुल ने कहा.

मेहुल बोला "सुना है तेरे पापा तेरे लिए नयी माँ लाए है."

मैं बोला "हाँ यार लाए तो है, पर नयी माँ अच्छी नही है. आते ही उसने मुझे पापा के कमरे से बाहर निकाल दिया. कल पहली बार मैं अकेले सोया."

ये कहते कहते मैं रो पड़ा. मेहुल मुझे चुप करता रहा और फिर कहने लगा.

मेहुल बोला “देख पुन्नू सौतेली माँ बहुत गंदी होती है.”

मैं बोला “ये सौतेली माँ क्या होता है.”

मेहुल बोला “जब किसी की माँ मर जाती है और उसके पापा जो नयी माँ लाते है, उसे सौतेली माँ कहते है.”

मेहुल की बात सुनकर मेरे मन की उत्सुकता बढ़ गयी. मैने उस से कहा.

मैं बोला “तुझे कैसे पता की सौतेली माँ गंदी होती है.

मेहुल बोला “मेरे पड़ोस मे एक लड़का रामू रहता है उसकी भी सौतेली माँ है. उसकी सौतेली माँ ने उसका स्कूल छुड़वा दिया है और उस से घर का सारा काम करवाती है. अपने बच्चों को तो खूब अच्छा अच्छा खाना देती है पर रामू को बचा हुआ खाना देती है और कभी कभी तो उसे भूका भी रखती है.”

मैं बोला “क्या रामू के पापा सौतेली माँ को ऐसा करने से नही रोकते.”

मेहुल बोला “पहले तो रोकते थे पर जब से सौतेली माँ के बच्चे हुए तब से वो उन बच्चों को प्यार करने लगे और रामू को अपनी माँ और भाई बहनो के साथ मिल कर ना रहने के लिए गुस्सा करने लगे. बेचारा रामू बिल्कुल अकेला हो गया. तब उसके नाना रामू को अपने साथ ले गये. अब रामू अपने नाना के साथ ही रहता है.”

रामू के उसके नाना के साथ जाने की बात सुनकर ना जाने क्यो मुझे खुशी हुई.

मैं बोला “क्या अब रामू अपने नाना के यहाँ खुश है.”

मेहुल बोला "नही यार वो बेचारा तो वहाँ भी खुश नही है. वहाँ उसके नाना नानी के साथ उसके 3 मामा और मामी भी रहते है. उसकी ममिया भी उसे परेशान करती है. बस फ़र्क इतना है कि उसके नाना नानी उसे बहुत प्यार करते है. इसलिए वो वहाँ से वापस आना नही चाहता.”

मेहुल की बात सुनकर मुझे बहुत निराशा हुई.

मैने बोला “यार अब मैं क्या करूँ. मेरी छोटी माँ भी तो सौतेली माँ है. क्या वो भी मुझे रामू की तरह दुख देगी.”

मुझे परेशान देख कर मेहुल ने मुझे दिलासा देते हुए कहा.

मेहुल बोला “यार तू दुखी मत हो. मैं कुछ ना कुछ रास्ता ढूँढ निकालुगा.”

मेहुल की बातों से मुझे कुछ सुकून महसूस हुआ और फिर हम लोग अपने अपने घर के लिए निकल लिए.
Reply
09-09-2020, 12:10 PM,
#3
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
मैं घर पहुचा तो नयी माँ हॉल मे बैठी टीवी देख रही थी. मुझे स्कूल से आया देख कर नयी माँ ने मुझे अपने पास बुला कर पूछा.

नयी माँ बोली “तुम्हारी स्कूल कितने बजे छूटी है.”

उनके इस सवाल से मैं सहम गया. मुझे लगा मेरी चोरी पकड़ी गयी है. मैने धीमी आवाज़ मे कहा.

मैं बोला “जी 1 बजे छूटी है.”

उन्होने मुझे गुस्से मे घूरते हुए कहा.

नयी माँ बोली “तब फिर तुम 2:30 बजे घर क्यो आ रहे हो. इतनी देर कहाँ थे और क्या कर रहे थे.”

मैने उनको अपनी सफाई देते हुए कहा.

मैं बोला “स्कूल तो 1 बजे छूट गया था पर मैं अपने दोस्त मेहुल से बात करने लगा था, इसलिए मुझे आने मे देर हो गयी.”

नयी माँ बोली “ठीक है आज मेरे सामने तुमने पहली बार ऐसा किया है. इसलिए मैं तुम पर कोई गुस्सा नही कर रही हूँ. मगर कल से ऐसा नही चलेगा. कल से समय पर घर आना. अब जाओ और जाकर कपड़े बदल कर खाना खा लो.”

मैं बोला “जी नयी माँ.”

इतना कहकर मैं सरपट अपने कमरे की तरफ भाग गया. जिसे कल रात ही मेरे लिए तैयार किया गया था.

रात को डिन्नर पर नयी माँ ने पापा को, मेरे स्कूल से देर से आने की बात बता दी. पापा ने मुझे बहुत गुस्सा किया. जिस वजह से मेरी नयी माँ के लिए नफ़रत और गहरी हो गयी. उस रात भी मैं अपनी नयी माँ को कोसते हुए सोया.

अगले दिन मैने मेहुल को सारी बात बताई. तब उसने कहा.

मेहुल बोला “देखा तेरी सौतेली माँ अब धीरे धीरे अपना रंग दिखाने लगी है. तू उस से डरना बंद कर और उसको सबक सिखा नही तो एक दिन तुझे भी रामू की तरह दुख सहने पड़ेँगे.”

मेहुल की बात मुझे जम गयी मैने उस से पूछा.

मैं बोला “मैं नयी माँ को सबक सिखाने के लिए क्या करू.”

तब मेहुल ने मुझे समझाते हुए कहा.

मेहुल बोला “सबसे पहले तू उस से डरना बंद कर और उसको हर बात का जबाब देना सुरू कर. आख़िर घर तो तेरा ही है. फिर वो तेरी सग़ी माँ तो है नही. जो तुझ पर इस तरह से हुकुम चलाए. जैसे वो तेरी शिकायत तेरे पापा से करती है. तू भी उसकी शिकायत पापा से कर.”

आख़िर छोटे बच्चों की सोच भी तो छोटी ही होती है. मुझे मेहुल की बात बहुत पसंद आई. मैने उस पर अमल करना भी शुरू कर दिया. जिसका नतीजा ये निकला कि, एक हफ्ते के अंदर मेरे और मेरी नयी माँ के बीच तनाव और भी ज़्यादा बढ़ गया. फिर एक दिन वो हो गया जो मेरे छोटे से दिमाग़ ने सोचा भी नही था.
Reply
09-09-2020, 12:10 PM,
#4
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
हुआ ये कि पापा ने नयी माँ के जनमदिन की पार्टी रखी थी. पापा ने कभी मेरे जनम दिन की पार्टी नही रखी थी और आज नयी माँ के जनमदिन की पार्टी कर रहे थे. जो मुझे ज़रा भी अच्छा नही लगा. मैं पार्टी मे नही गया और अपने कमरे मे ही बुक खोल कर बैठ गया. ताकि कोई आए तो उसे लगे कि, मैं पढ़ाई कर रहा हूँ.

मेरा सोचना ठीक ही निकला. क्योकि कुछ ही देर बाद किसी ने मेरा दरवाजा खटखटाया. मैने दरवाजा खोला तो सामने नयी माँ खड़ी थी. उन्हे दरवाजे पर खड़ा देख कर मैने कहा.

मैं बोला “जी नयी माँ.”

नयी माँ बोली “नीचे इतनी बड़ी पार्टी चल रही है. तुम यहाँ कमरे मे बैठे बैठे क्या कर रहे हो. चलो जल्दी से कपड़े बदलो और पार्टी मे आ जाओ.”

मैं बोला “नयी माँ, मुझे पार्टी पसंद नही है. मैं पार्टी मे नही आउन्गा और मुझे पढ़ाई भी करनी है.”

नयी माँ बोली “देखो पार्टी हम लोगो ने दी है, इसलिए पार्टी मे हमारे परिवार के सभी लोगो का होना ज़रूरी है. तुम चाहो तो थोड़ी देर बाद वापस आ जाना और अपनी पढ़ाई कर लेना. अब देर मत करो और तैयार होकर जल्दी से आ जाओ.”

ये कहकर नयी माँ चली गयी, पर मैं पार्टी मे नही गया. काफ़ी देर तक मैं पार्टी मे नही गया तो, नयी माँ फिर मुझे बुलाने आई मगर मैने आने से साफ मना कर दिया. तब नयी माँ ने मुझे समझाते हुए कहा.

नयी माँ बोली “देखो, पार्टी मे सभी रिश्तेदार आए है. यदि तुम नही आओगे तो वो तरह तरह की बाते करेगे. जो तुम्हारे पापा को अच्छी नही लगेगी और हो सकता है तुम्हारे पापा अपना सारा गुस्सा तुम पर उतार दे. इसलिए बेहतर यही होगा कि तुम कुछ देर के लिए पार्टी मे आ जाओ.”

इतना कह कर नयी माँ चली गयी. मगर मुझे तो नयी माँ की बात ना मानने और उनको नीचा दिखाने का जुनून सवार था. इसलिए मैने इस बार भी उनकी बात पर कोई ध्यान नही दिया और मैं पार्टी मे नही गया.

देर रत को पार्टी ख़तम हुई. तब पापा और नयी माँ मेरे कमरे मे आए. मैं अपने बिस्तर पर लेटा हुआ, सोने का नाटक कर रहा था. पापा ने 2 बार मुझे आवाज़ दी, पर मैं चुपचाप लेटा रहा.

तब नयी माँ बोली “देखो पढ़ाई करते करते सो गया है. मैं तो पहले ही कह रही थी कि, वो पढ़ाई करते करते सो गया होगा. लेकिन आप मेरी बात मान ही रहे थे.”

मगर पापा मेरी वजह से बहुत गुस्से मे लग रहे थे. वो नयी माँ की इस बात के जबाब मे कहने लगे.

पापा बोले “ये लड़का बहुत ही बिगड़ गया है. इसे सुधारने का अब एक ही रास्ता है कि, इसे बोर्डिंग स्कूल मे डाल दिया जाए. वरना एक दिन ये लड़का हमारे हाथ से निकल जाएगा.”

पापा की बात सुनकर नयी माँ ने उन्हे समझाते हुए कहा.

नयी माँ बोली “अभी ये बहुत छोटा है. इतनी सी उमर मे इसे बोर्डिंग स्कूल मे डालना, ठीक नही रहेगा. वो थोड़ा बड़ा हो जाएगा तो, खुद ही हर बात को समझने लगेगा.”

पापा बोले “नही ये बहुत ढीठ हो गया है और यदि हमने इसे अपने साथ रखा तो, इसका ढीठपन और भी बढ़ता जाएगा. इसके लिए यही ठीक होगा कि, ये बोर्डिंग मे रहे.”

इतना कहकर पापा और नयी माँ चले गये. लेकिन उनकी ये बात सुनकर तो, मेरी सिट्टी पिटी गुम हो गयी थी. अब मैं उस घड़ी को कोस रहा था, जब मैने नयी माँ की बात ना मान कर, पार्टी मे ना जाने का फ़ैसला था.

मैने खुद ही अपने लिए एक परेशानी खड़ी कर ली थी. लेकिन अब हो भी क्या सकता था. मेरे दिमाग़ मे तो कुछ आ ही नही रहा था, इसलिए मैने सोचा कि, अब जो भी कर पाएगा, मेहुल ही कर पाएगा और फिर ये सब सोचते सोचते मैं सो गया.

दूसरे दिन मैं पापा का सामना किए बिना ही स्कूल निकल गया और फिर लंच मे मैने मेहुल को सारी बात बताई. तब मेहुल ने कहा.

मेहुल बोला “यार ये तो बहुत बड़ी मुसीबत हो गयी है. इसके लिए तो अब हमे मम्मी ही कोई रास्ता बता सकती है.”

मैं बोला “तो फिर चल, घर चलते है और आंटी से ही रास्ता पूछते है”

इसके बाद हम ने लंच से ही स्कूल से छुट्टी मार दी और हम दोनो, मेहुल के घर के लिए निकल पड़े.

मेहुल की मम्मी, रिचा आंटी 26 साल की अत्यंत सुंदर महिला थी. जब से मेरी मम्मी की डेत हुई थी, तब से वो मुझे बहुत ही ज़्यादा प्यार करती थी और जब भी मैं उनके घर जाता था. वो मुझे बिना खाना खाए नही जाने देती थी और हमेशा मेहुल के हाथ से भी मेरे लिए, कुछ ना कुछ भेजती रहती थी. इसलिए मैं उन्हे बहुत पसंद करता था और अपनी मम्मी की तरह ही उन्हे प्यार करता था.

मेहुल के घर पहुचने पर जब रिचा आंटी ने दरवाजा खोला तो, हमे देख कर चौुक्ते हुए पुछा.

रिचा आंटी बोली “तुम लोग इतनी जल्दी घर कैसे आ गये.”

तब मेहुल बोला “मम्मी पुन्नू परेशान है और उसी परेशानी का हल आप से जानने आया है.”

रिचा आंटी बोली “ठीक है, पहले तुम दोनो कुछ खा लो. उसके बाद मैं पुन्नू की परेशानी भी सुनूँगी और उसे हल करने का रास्ता भी बताउन्गी.”

ये कह कर आंटी हम दोनो को घर के अंदर ले गयी. उन ने हम दोनो को बैठने को कहा और खुद हमारे लिए खाना लेने रसोई मे चली गयी.
Reply
09-09-2020, 12:10 PM,
#5
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
आंटी ने हम लोगों को आलू के पराठे बनाकर खिलाए और जब हम लोगों ने पराठे खा लिए तो फिर उन्हो ने मुझसे पूछा.

आंटी बोली “हाँ बेटा, अब बताओ तुम्हे क्या परेशानी है, जिसको हल करने का रास्ता तुम मुझसे जानना चाहते हो.”

मैने आंटी को, अपने रात को नयी माँ की बर्थ’डे पार्टी मे ना जाने और पापा की मुझे बोर्डिंग भेजने वाली बात बता दी. जिसे सुनने के बाद आंटी ने कहा.

आंटी बोली “बेटा जब तुम्हारी नयी माँ ने तुम्हे पार्टी मे आने को बोला तो, तुम पार्टी मे क्यों नही गये. ये तो तुम्हारी ही ग़लती है और इस बात पर तुम्हारे पापा का गुस्सा करना ज़रा भी ग़लत नही है.”

मुझे आंटी की ये बात सुनकर बहुत ज़्यादा निराशा हुई और मैं उदास हो गया. मुझे उदास देख कर, आंटी मेरे पास आकर बैठ गयी और मेरे सर पर प्यार से हाथ फेरते हुए कहने लगी.

आंटी बोली “बेटा मेरी बात का बुरा मत मानो. मैं जो भी कहुगी, तुम्हारे भले के लिए ही कहुगी. अब मैं तुमसे जो भी पूछती हूँ, तुम उसका सही सही जबाब दो. तभी तो मैं तुम्हारी परेसानी को दूर करने का कोई रास्ता बता सकुगी.”

मुझे आंटी का यूँ प्यार से हाथ फेरना और उनकी बात दोनो बहुत अच्छे लगे. मैने खुश होते हुए आंटी से कहा.

मैं बोला “आप पूछिए आंटी, मैं आपकी हर बात का सही सही जबाब दूँगा.”

आंटी बोली “अच्छा ये बताओ, कल रात को अपनी नयी माँ के बार बार कहने पर भी, तुम पार्टी मे क्यो नही गये थे.”

मैं बोला “मुझे नयी माँ बिल्कुल भी पसंद नही है. इसलिए कल मैने उनकी बात नही मानी.”

आंटी बोली “क्यो, तुम्हे नयी माँ क्यो पसंद नही है.”

आंटी की इस बात पर मैं मेहुल की तरफ देखने लगा तो, मेहुल समझ गया कि, अब आगे की बात बताने की बारी उसकी है और फिर उसने पहले दिन से लेकर अभी तक हुई सारी बात आंटी को बता दी. जिसे सुनने के बाद आंटी ने कहा.

आंटी बोली “तुम लोगो को ये कैसे लगा कि, जो रामू की माँ ने रामू के साथ किया है. वही पुन्नू की नयी माँ पुन्नू के साथ करेगी. रामू की माँ तो एक अच्छी औरत नही है. इसलिए वो रामू को परेशान किया करती थी. लेकिन पुन्नू की नयी माँ बहुत अच्छी औरत है, इसलिए वो पुन्नू को कभी परेशान नही करेगी.”

आंटी के मूह से नयी माँ की तारीफ सुनकर भी, मुझे आंटी की बात पर विस्वास नही आ रहा था. मैने आंटी से कहा.

मैं बोला “आंटी आपने तो नयी माँ को देखा ही नही और जब आप उन्हे जानती ही नही है तो, फिर आप ये कैसे कह सकती है कि नयी माँ एक अच्छी औरत है और वो मुझे कभी परेशान नही करेगी.”

मेरी बात सुनकर आंटी हँसने लगी और फिर मुझे समझाते हुए कहा.

आंटी बोली “बेटा ये तुमसे किसने कह दिया कि, मैं तुम्हारी नही माँ को नही जानती. मैने तुम्हारी नयी माँ को देखा भी है और मैं उन्हे अच्छे से जानती भी हूँ. वो मेरी सहेली की छोटी बहन है. इसलिए मुझे मालूम है कि, वो बहुत अच्छी है.”

आंटी की ये बात सुनने के बाद भी मैं नयी माँ को अच्छा मानने को तैयार नही था. मैने आंटी से कहा.

मैं बोला “आंटी यदि नयी माँ अच्छी है तो, फिर उन ने मुझे पापा के कमरे से बाहर क्यो निकलवाया.”

आंटी बोली “देखो अभी तुम छोटे हो इसलिए इस बात को नही समझ सकते हो. फिर भी मैं इक दूसरे तरीके से तुमको ये बात समझाती हूँ. देखो तुम और मेहुल एक बराबर के हो. मेहुल भी पहले मेरे और अपने पापा के साथ, हमारे कमरे मे सोता था. मगर फिर ये स्कूल जाने लगा तो, हम ने इसके सोने और पढ़ाई के लिए इसे एक अलग कमरा दे दिया. अब तुम्हारी माँ तो थी नही. फिर तुम्हारे लिए ये सब कौन करता. मगर जब तुम्हारी नयी माँ आई तो, उन ने तुम्हारे लिए वही किया, जो मैने मेहुल के लिए किया था. अब यदि तुम्हारे लिए ऐसा करने से तुम्हारी नयी माँ अच्छी नही है तो, फिर मैने भी तो मेहुल के लिए ऐसा ही किया है. क्या तब मैं भी अच्छी नही हू.”

ये कह कर आंटी मेरी तरफ देखने लगी. मुझे उनकी बात समझ मे आ रही थी. फिर भी मैं नयी माँ को अच्छा मानने को तैयार नही था. मैने फिर से आंटी से सवाल किया.

मैं बोला “यदि ऐसा ही बात है तो, फिर नयी माँ ने मुझे उस दिन, मेहुल के साथ देर तक स्कूल मे रहने पर, गुस्सा क्यो किया था.”

आंटी बोली “देखो बेटा, उस दिन उनका तुम्हारे घर मे पहला ही दिन था और तुम उस दिन समय पर घर नही पहुचे तो, उन्हे तुम्हारी चिंता हो रही होगी. इसलिए उन्हो ने तुम्हे देर से आने के उपर से गुस्सा किया. उस दिन तो मैने भी मेहुल को गुस्सा किया था. तुम चाहो तो मेहुल से पूछ सकते हो.”

आंटी की बात सुनकर मैं मेहुल की तरफ देखने लगा. तब मेहुल ने कहा.

मेहुल बोला “हाँ, उस दिन मम्मी ने भी मुझ पर गुस्सा किया था.”

मेहुल के मूह से ये सच्चाई जानने के बाद भी मैने अपनी बात आंटी के सामने रखते हुए कहा.

मैं बोला “चलो मैं आपकी ये बात भी मान लेता हूँ कि, नयी माँ ने उस दिन मुझे, मेरी चिंता होने की वजह से गुस्सा किया था. लेकिन इसके बाद उन्हो ने, मेरी शिकायत पापा से क्यो की. पापा ने उनकी शिकायत सुनकर मुझ पर बहुत गुस्सा किया था. जब वो खुद मुझ पर इस बात के लिए गुस्सा कर चुकी थी. तब उन्हे पापा से मेरी शिकायत करने की क्या ज़रूरत थी.”

आंटी बोली “देखो बेटा, अभी वो तुम्हारे घर मे नयी है. उस ने सोचा होगा कि, यदि उसने तुम्हारे स्कूल से देर से आने की बात तुम्हारे पापा से ना बताई और कल को तुम्हे कुछ हो गया तो, सब यही कहेगे कि सौतेली माँ थी, इसलिए लड़के का ख़याल नही रखा. अब वो नयी है तो, उसे तुम लोगों को समझने मे कुछ समय तो लगेगा ही है.”

मैं बोला “चलिए आंटी, मैं आपकी ये बात भी मान लेता हूँ. लेकिन मुझे इतनी सी बात के लिए बोर्डिंग क्यो भेजा जा रहा है. ये तो बिल्कुल रामू की तरह ही हो गया है. उसे उसकी नयी माँ के आने पर उसके नाना के घर जाना पड़ा था और मुझे मेरी नयी माँ के आने पर बोर्डिंग जाना पड़ रहा है.”

ये कह कर मैं आंटी की तरफ देखने लगा. आंटी ने मुझसे पुछा.

आंटी बोली “तुम्हे बोर्डिंग भेजने की बात क्या तुम्हारी नयी माँ ने की थी.”

मैं बोला “नही पापा ने की थी.”

आंटी बोली “तब तुम्हारी नयी माँ ने क्या कहा.”

मैं बोला “उन्हो ने कहा कि ये बोर्डिंग के लिए अभी बहुत छोटा है. इसे बोर्डिंग मे नही डालना चाहिए.”

आंटी बोली “देखो बेटा जिस बात से तुम परेशान हो. उस बात के लिए तुम्हारी नयी माँ ने तुम्हारी तरफ़दारी ली. मैं मानती हूँ कि तुम मे अभी अच्छे बुरे की पहचान नही है. लेकिन तुम इतना तो समझ ही सकते हो कि, जो तुम्हारे भले की सोचे वो बुरा नही हो सकता.”

मैं बोला “आंटी आपकी सब बात सही पर आप मुझे बोर्डिंग जाने से रोक लो. मैं बोर्डिंग नही जाना चाहता.”

आंटी बोली “तुम चिंता मत करो. मैं तुम्हे बोर्डिंग नही जाने दूँगी. मगर इसके लिए पहले तुम खुद कोशिश करो. यदि तुम से कुछ नही हुआ तो, फिर मैं तुम्हारी नयी माँ से बात करके, तुम्हारा बोर्डिंग जाना रुकवा दूँगी.”

आंटी की बात सुनकर मैं सोच मे पड़ गया. जब मेरे कुछ समझ मे नही आया तो मैने आंटी से पुछा.

मैं बोला “आंटी मैं भला क्या कर सकता हूँ. मेरी बात भला कौन मानेगा.”

आंटी बोली “सब से पहले तुम अपनी नयी माँ को बुरा मानना बंद करो और जैसे मेरी हर बात को मानते हो, वैसे ही अपनी नयी माँ की बात भी मानना सुरू कर दो. फिर देखो वो खुद तुम्हे बोर्डिंग नही जाने देगी.”

मैं बोला “आंटी वो मुझ से हमेशा गुस्से मे बात करती है. इसलिए मुझे भी उन पर गुस्सा आ जाता है.”

आंटी बोली “बेटा वो शुरू से ही गुस्से वाली है और यदि कोई उसकी बात नही मानता तो, उसे और भी गुस्सा आ जाता है. मगर जब तुम उसकी बात मनोगे तो, वो तुम पर ज़रा भी गुस्सा नही करेगी.”

मैं बोला “लेकिन आंटी, नयी माँ तो मुझसे कल की बात को लेकर नाराज़ होगी. वो भला मुझसे कोई बात क्यो करेगी. जब वो मुझसे कोई बात नही करेगी तो, फिर मैं उनकी बात कैसे मानूँगा.”

आंटी बोली “सबसे पहले तुम उसे नयी माँ की जगह छोटी माँ बोलना सुरू करो. आज घर जाते ही सब से पहले उसे कल की ग़लती के लिए सॉरी कहना और बर्तडे विश करना. उसकी सारी नाराज़गी खुद ही ख़तम हो जाएगी.”

मई बोला “ठीक है आंटी, अब मेरे घर जाने का टाइम भी हो रहा है. मई घर जाता हू.”

फिर मैने आंटी और मेहुल को बाइ बोला और घर के लिए निकल पड़ा मगर अब मेरे मान से बोर्डिंग जाने का दर निकल गया था. आंटी ने मेरे दिमाग़ मे नयी मा की जो तस्वीर बनाई थी, वो मुझे अची लगने लगी थी. मई बस इसी बारे मे सोचते सोचते अपने घर की तरफ चला जा रहा था.
Reply
09-09-2020, 12:10 PM,
#6
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
तभी रास्ते मे मुझे एक चूड़ियों की दुकान दिखाई दी. जिसे देख कर मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट आ गयी. मैने बड़े प्यार से नयी माँ के लिए लाल रंग की चूड़ीयाँ खरीदी. उधर ही एक ग्रीटिंग्स की दुकान भी मिल गयी तो मैने एक सॉरी और एक बर्तडे विश की ग्रीटिंग भी ले ली. मैने उसमे लिखवा दिया पुन्नू की छोटी माँ को पुन्नू की तरफ से.

सब समान अपने बेग मे अच्छे से रखने के बाद, मैं आने वाले पल की कल्पना करते हुए खुशी खुशी अपने घर के लिए चल पड़ा.

घर पहुचते ही मुझे नयी माँ दिख गयी. वो हॉल मे ही सोफे पर बैठी थी और उनकी नज़र दरवाजे की ही तरफ ही थी. मैने उनको देख कर मुस्कुराया मगर उन्हो ने अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमा दिया.

उन्हो ने जिस तरफ अपना चेहरा घुमाया था मैने उस तरफ देखा तो मेरे पैरो से ज़मीन ही खिसक गयी. वहाँ पापा खड़े थे और गुस्से से मुझे ही घूर रहे थे. मैं धीरे धीरे कदम बढ़ते हुए टेबल के पास आया और अपना बेग टेबल पर रखा तब तक पापा मेरे पास आ चुके थे.

पापा बोले "कहाँ से आ रहा है तू"

मुझे उनका ये सवाल करना अजीब लगा, क्योकि मैं तो रोज के टाइम पर ही घर आया था. मैं समझ गया कि, लगता है किसी ने पापा को बता दिया है कि, मई लंच टाइम पर स्कूल से निकल आया था, पर अब मैं इसका क्या जबाब दूं, ये मुझे समझ मे नही आ रहा था, इसलिए मैं सर झुकाए चुप चाप खड़ा रहा.

मेरी खामोशी से पापा का गुस्सा और भी बढ़ गया था. उनने मेरे बाल पकड़ कर मेरा चेहरा अपनी तरफ घुमाया और फिर पूछा.

पापा बोले "कहाँ से आ रहा है तू. जबाब क्यो नही देता."

मगर मेरे पास देने के लिए कोई जबाब होता तो, मैं देता. मैं चुप ही खड़ा रहा और रोने लगा. मेरे जबाब ना देने और रोने से गुस्सा होकर पापा ने खीच कर एक थप्पड़ मेरे गाल पर मारा. वो मुझे और मार पाते, उस से पहले ही नयी माँ बीच मे आ गयी और कहने लगी.

नयी माँ बोली "इतने छोटे बच्चे को क्या इतनी बेरहमी से मारा जाता है."

पापा गुस्से मे बोले "ये तुम्हे बच्चा लगता है. ज़रा इसका शैतानी दिमाग़ तो देखो. स्कूल का टाइम मिलाकर घर आ रहा है. अगर इसके प्रिन्सिपल ने ना बताया होता तो, हमें पता ही नही चलता कि, ये लंच मे ही स्कूल से भाग आया है.”

इतना बोल कर पापा ने मेरा हाथ पकड़ कर, मुझे छोटी माँ के पीछे से अपने पास खिचा और फिर मेरे बाल पकड़ कर पूछा.

पापा बोले "बता कहाँ था अभी तक, स्कूल से क्यो भागा था."

लेकिन मैं कुछ नही बोला तो, पापा ने मुझे मारने के लिए फिर से हाथ उठाया मगर तब तक फिर छोटी माँ ने बीच मे आकर मुझे अपने पीछे छुपा लिया. इस पर पापा ने कहा.

पापा बोले "ये साला ऐसे नही सुधरेगा. इसके सुधारने का एक ही रास्ता है कि, इसे बोर्डिंग भेज दिया जाए."

पापा के मूह से बोर्डिंग का नाम सुनते ही मुझे भी गुस्सा आ गया और मैने वो बोल दिया जो ना तो मैने कभी सोचा था और ना ही कभी मेरे दिमाग़ ने सोचा था.
मैने रोते हुए कहा "हाँ हाँ भेज दो मुझे बोर्डिंग. ताकि जैसे दूसरी बीबी ले आए हो, वैसे ही दूसरा बच्चा भी ले आओ."

मेरी इस बात ने दो बॉम्ब का काम किया था. एक बॉम्ब मैने अपनी नयी माँ पर गिराया था. जो मेरी बात को सुनकर सन्न रह गयी थी, तो दूसरा बॉम्ब मैने मेरे पापा पर गिराया था, जिसने उन्हे मानव से दानव बना दिया था.

वो मुझे पीटने के लिए अपनी तरफ गुस्से से खीच रहे थे. लेकिन नयी माँ मुझे उनसे बचाने की कोशिस कर रही थी. मगर पापा तो गुस्से मे पूरे दानव बन चुके थे और ऐसा लग रहा था कि ये दानव मेरा वध करके ही शांत होगा.

जब नयी माँ ने पापा को, मुझे पीटने से रोके रखा तो, पापा ने अपना गुस्सा उन पर उतारते हुए, उनके दोनो हाथ पकड़कर इतनी ज़ोर से दूसरी तरफ धकेला कि, नयी माँ टेबल के पास जाकर गिरी और टेबल का किनारा बड़ी ज़ोर से उन्हे लगा. एक पल के लिए वो अपनी सुध बुध खो बैठी. उनके माथे से खून आने लगा और वो अचेत सी हो गयी.

नयी माँ के हमारे बीच से हट जाने के बाद, पापा ने मेरी रूई का तरह धुनाई करना सुरू कर दिया.

चंदा मौसी और ड्राइवर भी वही खड़े थे. मेरी पिटाई देख कर उनकी आँखों से आँसू बह रह थे. मगर पापा को रोकने की किसी की हिम्मत नही पड़ रही थी और मैं मुझे पड़ रही मार से, मैं ज़ोर ज़ोर से चिल्ला रहा था "अरे कोई तो बचा लो मुझे. कोई तो रोक लो पापा को."

"अरे कोई तो बचा लो मुझे. कोई तो रोक लो पापा को"

मेरी चीख पुकार सुनकर नयी माँ की चेतना जागी और वो फिर से भागती हुई मेरे पास आ गयी. वो मुझे पापा से छुड़ाने की कोशिश करने लगी, पर जब पापा ने मुझे नही छोड़ा तो उनने मुझे पकड़ कर ज़ोर से खिचा और मैं पापा की पकड़ से छूट गया.

मैं जाकर नयी माँ से लिपट गया और उन्हे बड़ी ज़ोर से पकड़ लिया. पापा ने दोबारा मुझे पकड़ने की कोशिश की मगर नयी माँ ने उनका हाथ गुस्से से झटक दिया और बोली "बस बहुत हो गया. इतने छोटे से बच्चे को कोई इतनी बेरहमी से मारता है क्या."

"लोग तो यही कहेगे ना कि सौतेली माँ ने आते ही अपना रंग दिखाना सुरू कर दिया. ये कोई नही देखेगा कि बाप ने बेटे को जानवरों की तरह पीटा है."

पापा का भी गुस्सा शांत नही हुआ था. वो बोले "इसे समझा दो. मेरे घर मे रहना है तो मेरे तरीके से रहे, नही तो इसके बोर्डिंग जाने का रास्ता खुला है." इतना कहकर पापा वापस ऑफीस चले गये.

पापा के जाने के बाद नयी माँ मुझे अपने से अलग करती हुई बोली "जाओ अपने कमरे मे जाकर आराम करो." ये कहकर वो सोफे पर अपना सर पकड़ कर बैठ गयी. उनके सर पर खून लगा हुआ था.

मैं रोते हुए अंदर कमरे मे गया और दवाई का बॉक्स लेकर आया और नयी माँ से बोला "छोटी माँ आपके सर से खून निकल रहा है. दवा लगा लीजिए.

ये पहला मौका था, जब मैने अपनी नयी माँ को छोटी मा कह कर पुकारा था. लेकिन उनके उपर मेरी इस बात का कोई असर नही पड़ा. वो अपना सर पकड़ कर बैठी रही और उनकी आँखों से आँसू बहते रहे.

शायद मेरी दूसरी शादी और दूसरे बच्चे की बात से उन्हे बहुत ज़्यादा दुख पहुचा था. इसलिए वो मुझसे गुस्से मे बोली "मुझे कोई दवाई नही लगाना. तुम अपने कमरे मे जाओ और मुझे मेरे हाल पर छोड़ दो."

छोटी माँ की बात सुनकर मुझे ओर भी ज़्यादा रोना आ गया. मैं वहाँ एक पल ना रुक सका और सीधे अपने कमरे मे आकर तकिये मे अपना मूह छुपा कर रोने लगा. मैं रोते रोते ये सोचने लगा कि, कोई मुझसे प्यार नही करता. यही सब सोचते सोचते मेरा रोना और भी तेज होता चला गया.
Reply
09-09-2020, 12:11 PM,
#7
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
इधर मैं रो रहा था और उधर छोटी माँ के सर मे चोट लगी थी. लेकिन उन्हे चोट से ज़्यादा दर्द मेरी वो बात पहुचा रही थी, जो मैने पापा से बोली थी. उनके माथे से खून बह रहा था और आँखों से आँसू बह रहे थे.

मगर उन्हे इस सब की ज़रा भी परवाह नही थी. उनने गुस्से मे दवा का वो बॉक्स जो मैं उनके पास रख कर आया था, उसे उठा कर फेक दिया और चंदा मौसी से बोली “मौसी आप ने देखा ना दोनो बाप बेटे कैसे लड़ रहे थे. क्या आपको भी पुन्नू की तरह यही लगता है कि, इस सब के पीछे मेरा कोई हाथ है.”

मौसी ने छोटी माँ का फेका दवा का बॉक्स उठाते हुए कहा “नही बहूरानी. आज जो कुछ भी हुआ है, उस मे पूरी ग़लती साहब जी की है. यदि पुन्नू बाबा स्कूल से भाग भी आए थे तो, उन्हे इतना गुस्सा और पुन्नू बाबा के साथ ये मार पीट नही करना चाहिए था. बल्कि प्यार से उनसे इसकी वजह पूछना और उनको समझाना चाहिए था”

ये कहते हुए चंदा मौसी ने दवा का बॉक्स छोटी माँ के पास रख दिया और कहा “बहूरानी ये दवा लगा लीजिए. खून अभी भी बह रहा है.”

छोटी मा बोली “मौसी आप मेरी फिकर मत कीजिए. आप पहले जाकर पुन्नू को देखिए. बेचारे को जानवरों की तरह पीटा गया है. वो लंच मे स्कूल से निकला था, पता नही, उसने कुछ खाया भी है की नही. आप जाकर उसे कुछ खिला दीजिए.”

छोटी माँ की बात सुनकर मौसी ने किचन से खाना लिया और मेरे कमरे मे आने लगी. मौसी के पीछे पीछे छोटी माँ भी आई, पर वो मुझे अभी भी रोता देख कर मेरे कमरे के बाहर ही रुक गयी.

मौसी मेरे पास आकर बैठ गयी और मेरे सर को अपनी गोद मे रखते हुए बोली “चुप हो जाओ पुन्नू बाबा. नही तो आपकी तबीयत खराब हो जाएगी.”

मौसी के प्यार से हाथ फेरने से मुझे थोड़ा सुकून मिला. मेरा रोना कुछ कम हुआ तो, मौसी ने कहा “पुन्नू बाबा अब खाना खा लीजिए.”

मैं बोला “मौसी मैं खाना खा चुका हूँ.”

मौसी बोली “झूठ मत बोलो बाबा. मैं अच्छे से जानती हूँ कि, आपने खाना नही खाया. अब गुस्सा शांत करो और चुपचाप खाना खा लो.”

मैं बोला “मौसी आपकी कसम मैने खाना खा लिया है.”

मौसी की गोद मे मैने होश संभाला था. वो अच्छे से जानती थी कि, मैं झूठी कसम नही ख़ाता. इसलिए फिर उन ने मुझसे खाने के लिए ज़िद नही की और प्यार से मेरे सर पर हाथ फेरने लगी.

मैने मौसी के पास बैठते हुए पूछा “मौसी छोटी माँ ने दवा लगा ली.”

मेरे मूह से छोटी मा सुनकर, मौसी के चेहरे पर मुस्कान आ गयी. वो फिर प्यार से मेरे सर पर हाथ फेरते हुए बोली “नही बाबा. वो दवा नही लगा रही है.”

मौसी की बात सुनकर मैं फिर रोने लगा. मुझे रोते देख कर मौसी बोली “क्या हुआ बाबा. अब क्यो रो रहे हो.”

मैने रोते हुए कहा “मौसी वो दूसरी शादी और दूसरे बच्चे वाली बात मैने छोटी माँ को नही बोली थी. वो बात ना जाने कैसे मेरे मूह से निकल गयी और छोटी माँ मुझसे नाराज़ हो गयी. इसलिए वो दवा नही लगा रही. उनको खून बह रहा है. मौसी आप उनको जाकर दवा लगा दीजिए.”

मौसी बोली “मैने उनसे बोला था बाबा, पर वो नही मान रही है.”

मौसी की बात सुनकर, मेरा रोना और भी तेज हो गया. मैने रोते हुए मौसी से कहा “मौसी आपको मेरी कसम, चाहे जैसे भी आप उनको दवा लगा दीजिए. नही तो उनका सारा खून बह जाएगा और मेरी मम्मी की तरह वो भी मर जाएगी.”

इतना कह कर मैने आँसुओं की झड़ी लगा दी और मौसी मुझे चुप कराने की कोशिस करने लगी. ये देख कर छोटी माँ वापस सोफे पर आकर बैठ गयी. मैने रोते रोते मौसी को छोटी माँ को दवा लगाने के लिए भेज दिया.

मौसी छोटी माँ के पास आई तो छोटी माँ ने पुछा “पुन्नू ने खाना खा लिया.”

मौसी बोली “नही वो कह रहे है कि, वो खाना खा चुके है.”

छोटी माँ बोली “मौसी उसने कहा कि, मैने खाना खा लिया और आपने उसकी बात का यकीन भी कर लिया. वो गुस्से मे झूठ भी तो बोल सकता है.”

मौसी बोली “नही बहूरानी, मैं पुन्नू बाबा को अच्छे से जानती हूँ. वो कसम खाकर कभी झूठ नही बोलते.”

चंदा मौसी की बात सुनकर, छोटी माँ कुछ सोच मे पड़ गयी. तभी उनकी नज़र मेरे बॅग पर पड़ती है और वो कहती है.

छोटी माँ बोली “मौसी ज़रा उसका बॅग उठाइए. अभी पता चल जाएगा कि उसने खाना खाया है कि नही.”

मौसी बॅग उठा कर देती है और छोटी माँ टिफिन निकाल कर देखती है. जो भरा हुआ रहता है. वो टिफिन मौसी को दिखाने लगती है. तभी उनकी नज़र मेरे बॅग मे रखे बॉक्स और दो लिफाफो पर पड़ती है.

छोटी माँ उन दोनो चीज़ों को बाहर निकालती है. सबसे पहले वो बॉक्स को खोलती है तो, उसमे चूड़ीयाँ देख कर दोनो चौक जाती है.

मौसी पूछती है “ये किसकी चूड़ीयाँ है बहूरानी और ये बाबा के बॅग मे क्यो है.”

छोटी माँ कहती है “लगता है ये पुन्नू ने किसी के लिए खरीदी है. इन लिफाफो मे शायद कोई ग्रीटिंग्स हो.”

ये कहकर छोटी माँ पहले सॉरी वाला लिफ़ाफ़ा खोलती है और उसमे नाम पड़ती है. फिर वो दूसरा वाला भी लिफ़ाफ़ा खोलती है तो उसमे भी उनका ही नाम होता है. जिसे देख कर फिर से उनकी आँखो मे आँसू आ जाते है.

मौसी पूछती है “क्या हुआ बहूरानी. इसमे ऐसा क्या लिखा है. जिसको पढ़कर आप रोने लगी और ये सब किसके लिए है.”

छोटी मा बोली “मौसी ये सब मेरे लिए है. इस ग्रीटिंग मे लिखा है कि, छोटी माँ को पुन्नू की तरफ से कल की ग़लती के लिए सॉरी, ऐसा फिर नही होगा और इस दूसरी ग्रीटिंग मे लिखा है कि, छोटी माँ को पुन्नू की तरफ से जनमदिन की बहुत बहुत बहुत बधाई.”

छोटी माँ की बात सुनकर, मौसी की आँखों मे भी आँसू आ जाते है और वो छोटी माँ से कहती है “बहूरानी पुन्नू बाबा तो कल के लिए आपको सॉरी बोलने और जनमदिन की बधाई देने आ रहा था. लेकिन उस बेचारे को इस सब के बाद मिला क्या, जनवरो की तरह पिटाई.”

ये बोल कर मौसी अपने आँसू बहने से नही रोक सकी और फफक कर रो पड़ी. लेकिन छोटी माँ अपने आँसू पोछते हुए बोली “आप चिंता मत कीजिए मौसी. आज इस घर मे जो कुछ भी हुआ है. वो अब दोबारा नही होगा.”

तब मौसी बोली “बहूरानी दवा ना लगा कर, उस बिन माँ के बच्चे को दुख तो आप भी दे रही है.”

मौसी की बात सुनकर, छोटी माँ ने उनकी तरफ देखा और फिर मौसी से बोली “मौसी वो बिन माँ का नही है. मैं उसकी माँ हूँ और अब कोई उसे दुख नही दे सकेगा. आप दवा और ये सारा समान लेकर पुन्नू के कमरे मे आ जाइए.”

ये कह कर छोटी माँ मेरे कमरे की तरफ बढ़ चली और चंदा मौसी वो सारा समान मेरे कमरे मे लाने के लिए समेटने लगी.
Reply
09-09-2020, 12:12 PM,
#8
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
8
मेरे कमरे मे आकर, छोटी माँ मेरे पास आकर बैठ गयी. छोटी माँ को आया देख कर मैं भी उठकर बैठ गया. मैं खुश भी था और मन ही मन डर भी रहा था. तभी चंदा मौसी भी मेरा बॅग और बाकी का समान लेकर मेरे कमरे मे आ गयी.

छोटी माँ ने टिफिन मुझे दिखाते हुए कहा “ये क्या है.? तुमने खाना नही खाया और चंदा मौसी से कहते हो खाना खा लिया.”

मैं बोला “मैं मेहुल के यहाँ से खाना खा कर आया हूँ छोटी माँ.”

छोटी माँ गुस्से मे बोली “क्या हम लोग तुम्हे खाना नही देते, जो तुम अपने दोस्तो के घर खाना खाने जाते हो. आज से तुम्हारा खाना पीना सब बंद. मौसी आज से इसे कोई खाना नही देगा.”

छोटी माँ की बात सुनकर मैं डर गया और मेरा चेहरा रुआंसा हो गया. मेरी ऐसी हालत देख कर मौसी हँसने लगी. मुझे कुछ समझ मे नही आया पर मौसी की हँसी देखकर छोटी माँ बोली “क्या मौसी आप ज़रा देर चुप नही रह सकती थी.”

फिर छोटी माँ ने मुझे अपने गले से लगा लिया. छोटी माँ के सीने से लगकर, मुझे बहुत सुकून मिला. मैं बहुत देर उनके गले से लगा रहा. फिर छोटी माँ मुझे ग्रीटिंग और चूड़िया दिखाकर बोली “ये सब तुझे लाने को किसने कहा था और तेरे पास इतने पैसे कहाँ से आए.”

मैं बोला “किसी ने नही छोटी माँ. मुझे चूड़ियों की दुकान दिखी तो, लगा कि ये चूड़ियाँ आप पर अच्छी लगेगी, इसीलिए मैने ले ली और जब बाहर निकला तो ग्रीटिंग की दुकान भी दिखाई दी. मैने कल आपको बर्तडे विश भी नही किया था और पार्टी मे ना आकर आपको दुख भी पहुचाया था, इसलिए ये कार्ड भी ले लिए. ये सब मैने अपने जेब खर्च के पैसे से खरीदे है.”

ये बोल कर मैने मौसी से दवा का बॉक्स लिया और उसमे से डेटोल निकाल कर छोटी माँ के सर मे लगे जख्म मे लगाने के बाद उसमे दवा लगाई और फिर छोटी माँ को देखने लगा. उनने हंसते हुए मुझे अपने सीने से लगा लिया. अब हम सब खुश थे.

रात को पापा घर आए तो मैं खाना खाकर अपने कमरे मे पढ़ाई कर रहा था. छोटी माँ ने उन्हे दिन मे हुई सारी बाते बताई. इससे पापा को अपनी ग़लती का अहसास हुआ और वो मेरे कमरे मे आए. उनने मुझसे बड़े प्यार से बात की और मुझे सॉरी भी बोला, मगर ना जाने क्यो अब पापा मुझे अच्छे नही लग रहे थे.

मैने उनकी हर बात का जबाब हाँ या ना मे दिया. क्योकि मैं उनसे कोई बात करना नही चाहता था और चाहता था कि, वो जल्द से जल्द मेरे पास से चले जाए. कुछ देर मेरे पास रुकने के बाद पापा चले गये और मैं फिर से पढ़ने लगा.

कुछ देर बाद छोटी माँ मेरे कमरे मे आई और मेरे पास बैठते हुए कहने लगी.

छोटी माँ बोली “तुमने अपने पापा से अच्छे से बात क्यो नही की. क्या तुम उन से दिन की बात को लेकर अभी तक नाराज़ हो.”

मैं बोला “मैं उन से नाराज़ नही हूँ छोटी माँ.”

छोटी माँ बोली “तो फिर उनसे अच्छे से बात क्यो नही की.”

मैं बोला “मेरा मन ही नही किया बात करने का.”

छोटी माँ बोली “उन्हो ने दिन मे तुम्हारी पिटाई की थी. क्या इसलिए तुम्हारा मन नही किया.”

मैं बोला “वो बात तो मैं कब की भूल चुका हूँ. मुझे इसके लिए उनसे कोई शिकायत नही है.”

छोटी माँ बोली “क्या अपनी छोटी माँ को भी नही बताओगे, कि तुम्हारा पापा से बात करने को मन क्यो नही किया.”

मैं थोड़ी देर सर झुकाए बैठा रहा फिर बोला “पापा बहुत गंदे है, इसलिए मेरा मन नही किया उनसे बात करने का.”

छोटी माँ बोली “ऐसा नही कहते. वो तुम्हारे पापा है. उन्हे तुम्हारी भलाई की चिंता है और इसलिए उन्हे गुस्सा आ गया और उन ने तुम्हे मारा था.”

मैं बोला “मैने कब कहा कि उन्हो ने मुझे ग़लत मारा. मैं तो उनके मारने वाली बात को दिन को ही भुला चुका हूँ.”

छोटी माँ बोली “तो फिर तुम क्यो कहते हो कि, तुम्हारे पापा गंदे है.”

मैं कुछ नही बोला सर झुकाए चुपचाप बैठा रहा.

तब छोटी माँ बोली “सच सच बताओ, तुमको मेरी कसम है.”

मैं थोड़ी देर चुप रहा फिर बोला “क्योकि उन्होने आपको इतनी बुरी तरह से धकेला की आपको खून निकल आया और वो इसे देखते हुए भी ऑफीस चले गये. उनको आपकी ज़रा भी चिंता नही हुई. कही आपका सारा खून बह जाता तो, मेरी मम्मी की तरह आप भी मर जाती ना.”

ये कहकर मैं रोने लगा और छोटी माँ ने मुझे अपने सीने से चिपका लिया.
मैने थोड़ी देर बाद छ्होटी मा की तरफ देखा तो, उनकी आँखो मे भी आँसू थे. मई तुरंत उठा और उनकी आँखो से आनु को पोछने लगा तो, उन ने मुझे फिर अपने सीने से लगा लिया. उनके गले लगने से मुझे इतना सुकून मिला कि मैं उनसे गले लगे लगे ही सो गया.
Reply
09-09-2020, 12:12 PM,
#9
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
सुबह जब मेरी नींद खुली तो मेरी खुशी का कोई ठिकाना नही रहा. क्योकि छोटी माँ मेरे पास ही सो रही थी. मैं फिर उनके सीने से चिपक गया. मगर फिर मेरी नज़र उनके जख्म पर पड़ी तो, मेरा मन फिर पापा को लेकर कड़वाहट से भर गया. लेकिन छोटी माँ का चेहरा देखकर सब कुछ भूल गया और छोटी माँ से लिपट कर आँख बंद कर के लेट गया.

थोड़ी देर बाद छोटी माँ की नींद खुलती है. वो मेरे माथे को चूमती है और मुझे नींद से जगाती है. मैं आँख खोलता हूँ और फिर छोटी माँ के गले लग जाता हूँ.

छोटी माँ कहती है “चलो अब बहुत लाड हो गया. जल्दी से फ्रेश हो जाओ, नही तो स्कूल को देर हो जाएगी.”

मैं खुशी खुशी फ्रेश होने चला जाता हूँ. फ्रेश होने के बाद छोटी माँ मुझे नाश्ता कराती है और फिर मैं स्कूल चला जाता हूँ.

स्कूल मे मैं सारी बात मेहुल को बताता हूँ. वो भी मेरी बात सुनकर खुश हो जाता है. इस तरह मेरी जिंदगी एक नया मोड़ ले लेती है और अब मैं अपनी छोटी माँ के साथ खुशी खुशी रहने लगता हूँ. मगर कही ना कही मेरे दिल मे पापा के लिए कड़वाहट भी भरी हुई थी.

यूँ ही दिन बीतते बीतते, एक साल बीत गया और फिर मेरी छोटी बहन अमिता का जनम हुआ. अमिता के आने से मुझे एक जीटा जागता खिलौना मिल गया. मैं सारे समय उसके आस पास ही मंढराता रहता.

लेकिन वो अभी बहुत छोटी थी, इसलिए कोई मुझे उसको अपनी गोद मे लेने नही देता था. फिर भी स्कूल से आने के बाद मैं सारे समय अमिता के पास ही रहता और बहाने बहाने से उसे छुता रहता. छोटी माँ मेरी इस हरकत को देख मुस्कुरा देती और कुछ देर के लिए अमिता को मेरी गोद मे देती.

कभी कभी छोटी माँ अमिता को दूध पिला रही होती तो, मैं भी दूध पीने की ज़िद करने लगता. तब वो मुझसे कहती “पुन्नू बेटा, तुम जैसे भूख लगने पर खाना खाते हो, ऐसे ही ये अमिता का खाना है. अब यदि तुम इसे खा लोगे तो, अमिता भूखी रह जाएगी.”

कभी कभी तो मैं उनकी बात को समझ जाता और जब कभी नही समझता तो, वो अपने एक स्तन से अमिता को और दूसरे से स्तन से मुझे लगाकर साथ साथ दूध पिलाती. शायद उन्हे भी मेरा ऐसा करना अच्छा लगता था और वो बस मुझे देख कर मुस्कुराती रहती थी.

ऐसे ही बहुत से पल आए, जिन्हो ने मेरे मन से इस बात को हमेशा हमेशा के लिए निकाल दिया कि, छोटी माँ मेरी सौतेली माँ है. उन्हो ने भी मुझे इस बात का कभी अहसास नही होने दिया.

दिन बीतते जा रहे थे. मेरी दुनिया स्कूल मे मेहुल और घर मे मेरी छोटी माँ और मेरी छोटी बहन अमिता के बीच ही सिमट कर रह गयी थी. मगर मैं इसी सब मे बहुत खुश था.

यूँ ही 3 साल बीत गये और फिर मेरी दूसरी छोटी बहन नामिता का जनम भी हो गया. अब मेरी खुशी दुगनी हो चुकी थी. नामिता के जनम होने तक मैं ज़्यादा तो नही मगर थोड़ा बहुत समझदार ज़रूर हो चुका था और अपनी दोनो बहनों का बहुत ख़याल रखता था.

नामिता तो अभी छोटी थी. वो सारे समय या तो झूले मे या फिर छोटी माँ की गोद मे ही रहती थी. मगर अमिता अब थोड़ी बहुत चलने लगी थी. इसलिए मैं उसकी उंगली पकड़ कर उसे सारे घर मे घुमाया करता था. जिसे देख कर छोटी माँ मुस्कुराती रहती थी.

एक दिन मैने छोटी माँ से कहा “छोटी माँ हमारे घर मे बहुत समय से कोई पार्टी नही हुई. मैं चाहता हूँ कि नामिता के पहले बर्तडे पर हम पार्टी करे और अपने सारे रिश्तेदारो को बुलाए.”

छोटी माँ बोली “पार्टी तुझे पसंद नही है, इसलिए तो मैने अमिता के बर्तडे तक की कोई पार्टी नही की थी. आज अचानक तुझे ये पार्टी करने का ख़याल कैसे आ गया.”

मैं बोला “आप ठीक कहती हो छोटी माँ, मगर कल जब ये बड़ी होगी और इन्हे पता चलेगा कि इनके जनमदिन मे कभी पार्टी सिर्फ़ इसलिए नही दी गयी, क्योकि ये मुझे पसंद नही था. तब क्या मैं या आप इन्हे कोई जबाब दे पाएगे.”

छोटी माँ बोली “बात तो तुम्हारी ठीक है पर क्या तुम पार्टी मे शामिल होना पसंद करोगे.”

मैं बोला “क्यो नही छोटी माँ. मैं अपनी बहनो की खुशी के लिए कुछ भी कर सकता हूँ. फिर तो ये सिर्फ़ एक पार्टी मे शामिल होने की बात है. मैं पार्टी मे ज़रूर शामिल होउँगा.”

छोटी माँ बोली “तब हम नामिता के जनमदिन पर ज़रूर पार्टी देगे. नामिता के ही नही बल्कि अब हम अमिता के जनमदिन की भी पार्टी देगे. अब तो खुश.”

मैं बोला “जी छोटी माँ.”

फिर मैं अपनी छ्होटी बहनो के साथ खेलने लगा और छ्होटी माँ नामिता के जनमदिन की पार्टी देने की तैयारी मे लग गयी.
Reply

09-09-2020, 12:12 PM,
#10
RE: MmsBee कोई तो रोक लो
10

कुछ दिन बाद नामिता के जनमदिन की पार्टी हुई. पार्टी मे हमारे सभी रिश्तेदार आए थे. छ्होटी माँ के मयके से उनकी बड़ी बहन अनुराधा और उनके पति दिनेश के साथ उनका बेटा कमल और बेटी कीर्ति पार्टी मे आए थे. रिचा आंटी, मेहुल के पापा और मेहुल भी पार्टी मे आए थे.

मैं भी अपनी दोनो बहनो के साथ पार्टी मे शामिल हुआ और कॅक कटा गया. कॅक काटे जाने के बाद छ्होटी माँ ने मुझे मौसी और मौसा जी से मिलवाया. मगर मौसी जी मुझसे मिलकर कुछ खास खुश नज़र नही आई.

लेकिन मैने इस बात पर कोई विशेष ध्यान नही दिया और अमिता की उंगली पकड़ कर उसे सारे महमानो के बीच घूमता रहा. जिसे देख कर छ्होटी माँ और रिचा आंटी दोनो मुस्कुराती रही.

रिचा आंटी ने देखा कि अनुराधा मौसी मुझसे मिलकर खुश नज़र नही आ रही थी. इसलिए आंटी,मौसी के पास गयी और पूछा “क्या बात है अनु. तुझे पुन्नू से मिलकर खुशी नही हुई क्या.?”

मौसी बोली “नही ऐसी कोई बात नही.”

आंटी बोली “तो फिर क्या बात है. ऐसा मूह क्यो बना कर रखा है.”

मौसी बोली “मैं सोच रही थी कि, सुनीता की दोनो ही लड़कियाँ ही है. कोई लड़का नही है. लड़कियों की एक ना एक दिन शादी हो जाएगी. यदि कोई लड़का होता तो, वो कम से कम बुढ़ापे मे उसका ख़याल तो रखता.”

आंटी बोली “तू ऐसा क्यो सोचती. पुन्नू तो है ना. तूने देखा नही, वो अपनी छ्होटी माँ और बहनो को कितना प्यार करता है.”

मौसी बोली “लेकिन पुन्नू है तो, उसका सौतेला बेटा ही ना. अभी वो छ्होटा है और इस सगे सौतेले की बात को नही समझता. मगर एक ना एक दिन तो उसे बड़ा होना ही है और तब वो इस सगे सौतेले के भेद को भी अच्छी तरह से समझ जाएगा. क्या तब वो अपनी सौतेली माँ और बहनों से इस तरह प्यार कर पाएगा जैसे आज करता है.”

अभी आंटी कुछ बोलने वाली थी कि, तभी मौसा जी बोले “अनु तुम ठीक कहती हो कि, पुन्नू अभी बच्चा है. मगर तुम इस बात को क्यो भूलती हो कि, एक बच्चा वैसा ही बनता है, जैसे उसके माता पिता उसे संस्कार देते है. इसलिए बेहतर यही होगा कि, हम इस सगे सौतेले की बात को ज़्यादा तूल ना दे और ना ही इन बच्चों मे इस बात को लेकर कोई भेद आने दे.”

मौसी बोली “मैं तो बस वो ही बोल रही हूँ, जो आगे चलकर होना है.”

तभी छ्होटी माँ वहाँ आ जाती है. उन ने शायद अनुराधा मौसी की बातों को सुन लिया था. वो मौसी की बात के जबाब मे बोलती है.

छ्होटी माँ बोली “देखो दीदी. मुझे मालूम है कि, मैं उसकी सग़ी माँ नही हूँ और पुन्नू भी इस बात को जानता है. लेकिन अब हम सब एक परिवार है और हमारे बीच सगे सौतेले की कोई बात नही है.”

मौसी बोली “मैं आज की बात नही कर रही. मैं तो उस आने वाले कल की बात कर रही हूँ, जब तुम्हारा ये पुन्नू बड़ा हो जाएगा और शादी कर के अपनी दुल्हन लाएगा. तब इसे यही माँ बहन सौतेली नज़र आएगी.”

छ्होटी माँ बोली "दीदी शादी के बाद तो अपना सगा बेटा भी बदल जाता है. कमल तो आपका सगा बेटा है. क्या आप ये कह सकती है कि, शादी के बाद वो नही बदलेगा.”

छ्होटी माँ के मूह से अपने बेटे के बारे मे ऐसी बात सुनकर मौसी को अच्छा नही लगा.

मौसी बोली “तुम को आज भले ही मेरी बात बुरी लगे. मगर एक दिन मेरी बात ज़रूर सच होगी. तब तुझे मेरी कही बात का अहसास होगा.”

छ्होटी माँ बोली “दीदी ऐसा कभी नही होगा. पुन्नू मुझे और अपनी बहनों को बहुत प्यार करता है और मुझे विस्वास है कि आपकी कही बात कभी सच नही होगी. वो देखिए पुन्नू को कैसे अपनी बहन को सारी पार्टी मे घुमा रहा है. जबकि वो खुद पार्टी और भीड़ भाड़ से दूर रहता है. ये पार्टी भी उसने अपनी बहनों की खुशी के लिए रखवाई है. नही तो हम लोगों के मन मे तो, पार्टी रखने का कोई ख़याल ही नही था.”

छ्होटी माँ की बात सुनकर, उनके साथ साथ मौसी और आंटी भी मेरी तरफ देखने लगे. मैं अमिता को पूरी पार्टी मे घुमा रहा था और तरह तरह के नाटक कर उसे हंसा रहा था.

फिर पार्टी ख़तम होने के और महमानो के जाने के बाद सभी लोग घर मे बैठे थे. तभी आंटी मेरे पास आकर बोली “पुन्नू तेरी छ्होटी माँ अमिता और नामिता को लेकर तुम्हारी मौसी के साथ कुछ दिनो के लिए उनके घर जा रही है.”

मैं बोला “मैं भी छ्होटी माँ के साथ जाउन्गा.”

मौसी बोली “लेकिन पुन्नू मैं तुम्हे नही ले जा सकती. क्योकि तुम्हारे पापा ने तुम्हे ले जाने से मना किया है.”

मैं बोला “यदि मैं नही जाउन्गा तो, छ्होटी माँ को भी नही जाने डुगा.”

मेरी बात सुनकर सभी हँसने लगे और मुझे परेशान देख कर छ्होटी माँ बोली “मैं कही नही जा रही. तेरी मौसी और आंटी तुझे चिड़ा रही है.”

और फिर उन ने मुझ से कहा जाओ अंदर अमिता और नामिता सो रही है उनके पास जाकर बैठो मैं तुम्हारी मौसी और आंटी को बाहर तक छोड़ कर आती हूँ.

छ्होटी मा की बात सुनकर मैं अंदर चला गया और छ्होटी माँ मौसी और आंटी को छोड़ने बाहर चली गयी.

उस दिन के बाद से मेरे मौसी के परिवार से भी रिस्ते बनने लगे. खास कर मौसा जी मुझे बहुत पसंद आए थे. क्योकि वो मुझसे बड़े ही प्यार से और किसी दोस्त की तरह ही पेश आते थे.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  पारिवारिक चुदाई की कहानी 21 223,542 09-08-2020, 06:25 AM
Last Post:
Exclamation Vasna Story पापी परिवार की पापी वासना 198 98,497 09-07-2020, 08:12 PM
Last Post:
Lightbulb Antarvasnax Incest खूनी रिश्तों में चुदाई का नशा 190 53,041 09-05-2020, 02:13 PM
Last Post:
Thumbs Up Antarvasna कामूकता की इंतेहा 50 36,840 09-04-2020, 02:10 PM
Last Post:
Thumbs Up Sex kahani मासूमियत का अंत 13 22,112 09-04-2020, 01:45 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani नजर का खोट 121 547,955 08-26-2020, 04:55 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 103 408,763 08-25-2020, 07:50 AM
Last Post:
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई 28 274,255 08-25-2020, 03:22 AM
Last Post:
Star Antervasna कविता भार्गव की अजीब दास्ताँ 18 17,972 08-21-2020, 02:18 PM
Last Post:
Star Bahan Sex Story प्यारी बहना की चुदास 26 32,750 08-21-2020, 01:37 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 17 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


Hind sxe story सलवार शूट निरोध का ऊपायहिंदी चुदाई काहानिया हाथो मै न सामाने बडे बडे बूबsextamilwiefwww.bangla priyanka sarkar sexbaba photo.Desi gay teji se pelana sexcy५५ साल की छीनाल सास की गंदी गाड मारने की कहानीयाKajal ka dood viedoXxx antarvasna full hd cillip hindixxxx deshi bhabi kaviry ungali se nikalanaघरमे च लगाया जुगाड़ सेक्स स्टोरीhindisexbaba storiessexi video hd badichati valiXX गानेवाली सौतवहिनीला मागून झवलोघर बना दिया दोस्तों के साथ रंडीखाना हिंदी हिस्टरीदहकती चूत की रगड के चुदाया की कहानीचूदवाकर फीर पैरफैलाकर दीदी दिखायी बुरनंद और भाभी दोनो एक साथ चुदवाति हैं..nxxxsex.hdindianमाँ की बाजरे के खेत मे गंदी गालीया दे दे कर गंदी चुदाई की कहानीयाWww moti gril jyapuri ki chudai raj sexy bathrum puche videvoचुदक्कड़ अम्मी, रंडी खाला और नानी घर के सभी मरद से चुदवाती हैheroine disha nangi xxx peehotobehan fati slwar sex storyहेबह पटेल चोट की नागि फोटोdisha patani ki gori gand 60 xxx picgirlxxx sixy bur .page30Antarvasna qb nahi jhel paungi nikaloxxx sex photo kagnna ranut sexbaba[email protected]Randhawa ki photo antarvasnaमाँ की बड़ी चूत झाट मूत पीchut me kela jaisa tedha land ghusa hindi kahaniSex wali bhabhi bikani utarkar chodachodi photos jawan ladik chudai कमसिन कलियाँ परत २ सेक्सबाबkarwa chauth waale din chudaaiसबसे बढिया योनी कोनसी हैsexbaba.com/katrina kaif page 26Avneet kaur sexbabaसुनील पेरमी का गाना xxxLaachar old women ke chudai kahneyaदेसी वस्य रण्डी क्सक्सक्स डाऊनलोडsaleko chuda jiju hinde pron vediopahle baby ko sulaya fir xxx chuday97 sex baba photosघर में बहन,मां,भाभी,मौसी,बुआ,बहु ने सलवार खोलकर पेशाब पिलाने की कहानियांHari Teja big doods naked sex baba photoespriyanka giving blowjob sexbabaहीरोनी छोटे छोटे कपङे पहनाती तेरि लुगाई कि शेकशि केशे चौदाई कि दिखायेनातिन बाबाxxnxTV actor Toral Rasputra ki nangi photoलडके ने लडकि के चुत मेसे मुत ऊगली डालकर मुत निकाला ओर मुसे पिया सेक्स करते करतेxxx odia maa bada dhudha giha guhi video xxx sexaunty guddalusex video ssAntravsna video shbita Bhabhi Gandi Gali chodaiananya panday hard chudai xxx khoon fuck all imagesBF sexy umardaraj auratbollywood actresses sex stories-sexbaba.netराज शर्मा माँ बेटा मस्त जवानी की आग सेक्स कहानियांपी आई सी एस साउथ ईडिया की झटका मे झटके पर भाभी चेची की हाँट वोपन सेक्सी फोटोKareena Kapoor sexbaba.com new pageBhabhi sexy nitambo porn videoचुत गनने मेँ यारो से चुदबायीjooth bolkar girls ke sat saxxxxladkiyon ki body ki malishखेत में सलवार खोलकर पेशाब टटी करने की सेक्सी कहानियांभाभी पेटीकोट उठाकर पेशाब करने लगी Hindi sexstoriesBehna o behna teri gand me maro ga Porn storyमाँ के चोदाते देखाsex hendhe vedao bhabhe devar xxx. MERE. GAON. KI. NADI. RAJSHARMAgharelu chudai samaroh desi beeschachi ke liye sexi bra penty kharidkar chodaGaand ki darar me lun fasa k khara raha shadi meyami gutan xxx hot sixey faker photosHindi sex stories galti गलती से डल गयाsexkibataadsi six khaniyn net