Kamukta Kahani जुआरी
10-06-2018, 01:06 PM,
#1
Kamukta Kahani जुआरी
जुआरी

ये कहानी है पायल की, जो शहर के जाने माने राज नेता के घर नौकरानी का काम करती है, उस राज नेता की गंदी नज़र उसपर है, वहीं दूसरी तरफ पायल के बदमाश पति की नज़र राज नेता की सुंदर बीबी पर है.
जुए का खेल दोनो को किस कदर पास ले आता है और उनकी इच्छा पूरी करने में हैल्प करता है, ये आप कहानी में देखेंगे.

घर का सारा काम निपटा कर जैसे ही पायल घर जाने लगी तो उसकी मालकिन कामिनी ने उसे रोक लिया...

''अरे पायल, बड़ी जल्दी हो रही है तुझे घर जाने की...बोला था ना तुझसे काम है, चल ज़रा उपर मेरे कमरे में...''

ये थी मिसेस कामिनी त्रिपाठी, शहर के जाने माने पॉलिटिशियन विजय त्रिपाठी की पत्नी..



उम्र होगी करीब 37 के आस पास... शादी तो उसकी 20 साल की उम्र में ही हो गयी थी...जबकि विजय की उम्र उस वक़्त 30 थी..
और कामिनी को देखकर पता ही नही चलता था की वो 30 की भी होगी..37 तो बहुत दूर की बात है...
एक बेटी है जो पुणे में एक कॉनवेंट में पढ़ रही थी.. अपना खुद का NGO चलाती है कामिनी.

पति के पोलिटिकल कैरियर और अपने काम की वजह से वो हमेशा हाइ सोसायटी में गिने जाते थे.
सरकार की तरफ से मिला काफ़ी बड़ा बंगला था...गाड़ियां थी...नौकर चाकर थे.
उन्ही में से नौकरानी थी पायल,26 साल की उम्र थी ,रंग सांवला सा था, पर देखने में काफ़ी आकर्षक थी...
घर का काम करने की वजह से उसका शरीर एकदम कसा हुआ था...
मोटे-2 मोम्मे और निकली हुई गांड उसके शरीर का स्पेशल एट्रेक्शन थे.



पर वो थी एक नंबर की बोड़म महिला... एकदम भोली भाली सी, दुनिया की चालाकी और ठगी से अंजान, कोई सामने बैठकर भी उसपर लाइन मारे तो उसे बात समझ ना आए... ऐसी थी वो.. (बिल्कुल भाभी जी घर पर है वाली अंगूरी भाभी की तरह)
वो करीब 1 साल से कामिनी के पास काम कर रही थी...
और उसकी विश्वासपात्र भी बन चुकी थी...
कारण था उसके काम करने का तरीका..
वो किसी भी काम के लिए माना नही करती थी..
और जो भी करती थी, पूरी लगान से करती थी..

पायल को लेकर कामिनी अपने बेडरूम में पहुँची और अंदर से दरवाजा बंद कर दिया.
फिर अपने सारे कपड़े वो एक-2 करके उतारने लगी...
और देखते ही देखते वो पूरी नंगी होकर खड़ी थी पायल के सामने.



ये पहली बार नही था की वो पायल के सामने इस तरह से नंगी खड़ी थी...पहले भी ये सब होता रहता था.

कामिनी अपने बेड पर लेट गयी और पायल ने तेल की शीशी लेकर उनके बदन की मालिश करनी शुरू कर दी...
ये एक स्पेशल तेल था, जो कामिनी ने हॉंगकॉंग से मँगवाया था, और शायद यही उसकी खूबसूरती का राज था, हफ्ते में 2 बार उस तेल की मालिश करवाने की वजह से उसके कूल्हे और मोम्मे एकदम तने हुए से थे...
उनमें वही कसाव आ चुका था, जो शादी के कुछ सालो बाद तक रहा था उसमें..
बेटी होने के बाद वो धीरे-2 ढीली पड़ती गयी ..
पर पिछले साल उसकी सहेली ने जब ऐसे तेल के बारे में बताया तो उसने वो तुरंत मंगवा लिया...
हालाँकि वो काफ़ी महँगा आया था, पर उनके लिए पैसे कोई वेल्यू ही नही रखते थे...
और तेल की मालिश उसने शुरू से ही कामिनी से करवानी शुरू कर दी थी, इसके लिए वो उसे अलग से कुछ पैसे भी देती थी...
और देखते ही देखते उसका असर भी दिखाई देने लगा था...
उसका बदन पहले से ज़्यादा आकर्षक, कसावट लिए हो गया था...
एक तो ये उम्र भी ऐसी होती है उपर से जवानी फिर से वापिस आ जाए,ऐसा शरीर प्राप्त हो जाए तो सोने पे सुहागा हो जाता है..
पायल के हाथों में जैसे जादू था....
उसने जब कामिनी के शरीर को मसलना शुरू किया तो वो अपनी आँखे बंद करके एक दूसरी ही दुनिया मे पहुँच गयी... और दूसरी तरफ पायल गुमसुम सी होकर कुछ सोचे जा रही थी.

उसे कुछ चिंता थी...
और वो थी उसका पति, जिसे शराब और जुए की लत्त ने बर्बाद करके रख दिया था..
आज सुबह आते हुए वो उसे मकान मलिक को देने के लिए पैसे तो दे आई थी, पर अंदर ही अंदर उसे डर सा लग रहा था की कहीं वो उन पैसों को भी अपनी अय्याशी में ना उड़ा दे.

दूसरी तरफ, बस्ती में बने एक शराब के ठेके के बाहर बैठा कुणाल, यानी पायल का पति, वही सब कर रहा था,जिसका उसकी पत्नी को डर था.

"ये आई मेरी 500 की चाल....''

राजू ने ये कहते हुए एक मटमेला सा 500 का नोट बीच में फेंक दिया...

सामने बैठे अरुण और हरिया तो उसके कॉन्फिडेंस को देखते ही पेक कर गये...
पर कुणाल डटा रहा.

उसने देसी शराब का भरा हुआ ग्लास एक ही बार में खाली किया और 500 का नोट बीच में फेंक कर चाल चल ही दी...

पर शराब नशे में वो ये भूल गया की उसे इस वक़्त शो माँगना चाहिए था..

इस वक़्त जो जुआ चल रहा था, उसमें करीब 8 हज़ार रुपय बीच में आ चुके थे.

और अपने आख़िरी 500 के नोट के बाद कुणाल के पास लगाने के लिए कुछ भी नही था...
हालाँकि उसे अपने पत्तो पर पूरा भरोसा था...इसलिए वो किसी भी कीमत पर , सब कुछ लगाकर ये गेम जीतना चाहता था.

पर पत्तो और नशे के चक्कर में उसका दाँव उल्टा ही पड़ गया, अब उसके पास शो माँगने के भी पैसे नही थे....
इसलिए जैसे ही राजू ने अगली चाल चली, कुणाल के पसीने छूट गये....
अपनी बीबी से लाए सारे पैसे वो हार चुका था, और ये वो पैसे थे जो उसे आज किसी भी कीमत पर अपने मकान मलिक को देने थे...
पर अब कुछ नही हो सकता था, उसे पता था की वहां बैठा कोई भी शख्स उसे पैसे नही देगा, ये रूल था वहां का.

इसलिए झक्क मारकर उसे पेक करना पड़ा... वो सारे पैसे जुए मे हार चुका था....
राजू ने जोरदार ठहाका लगाते हुए वो सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए.

कुणाल ने उसके पत्ते उठा कर देखे, उसके पास पान का कलर था, जबकि कुणाल के पास सीक़वेंस आया था....
इतने अच्छे पत्ते होने के बावजूद उसे ये भी ध्यान नही रहा की कब शो माँगना था...
अपनी बेवकूफी से वो अपने साथ लाए सारे पैसे हार चुका था.... उसने कसम खायी बाद जुए और नशे को कभी मिक्स नही करेगा

मुँह लटका कर वो घर पहुचा, उसकी बीबी दरवाजे पर ही खड़ी थी...और साथ में था खोली का मालिक रंगीला...

रंगीला ने पैसे माँगे और कुणाल ने मुँह लटका लिया... पायल ने अपना माथा पीट लिया.
फिर वही हुआ, जिसकी धमकी उन्हे पिछले 4 महीनो से मिल रही थी...
रंगीला ने 2-4 भद्दी सी गाली देते हुए उन्हे कल ही कल खोली खाली करने को कहा...

रंगीला के जाने के बाद पायल ने जब कुणाल को बोलना शुरू किया तो उसने एक उल्टे हाथ का रख दिया उसके चेहरे पर...बेचारी वहीं सुबकती रह गयी... उसे रोता हुआ छोड़कर वो फिर से दारू के अड्डे की तरफ चल दिया.

अब पायल के पास सिर छुपाने के लिए छत्त भी नही थी... इसलिए उसने गाँव जाने में ही भलाई समझी... उसने अपना सारा सामान बाँध लिया..
-  - 
Reply

10-06-2018, 01:06 PM,
#2
RE: Kamukta Kahani जुआरी
हाथ के खर्चे के लिए उसे कुछ पैसे चाहिए थे, अभी कामिनी मेडम की तरफ 10 दिन का हिसाब निकलता था, जो रास्ते के लिए बहुत थे... वो उनके पास गयी और उन्हे सारी गाथा सुनाई...

कामिनी चुपचाप अंदर गयी और उसके 10 दिन के पैसे लाकर उसके हाथ में रख दिए...
जब वो चलने को हुई तो मेडम ने पीछे से उसे पुकारा और बोली : "अब जल्दी से जा और सारा समान लेकर यही आ जा...पीछे जो सुर्वेंट क्वाटर है, उसमे रह लेना तुम दोनो...''

ये सुनते ही वो एक झटके से पलटी...
कामिनी ने मुस्कुराते हुए सिर हिला कर उसे वो करने को कहा...
बेचारी रोते-2 उसके कदमों में गिर गयी....
उसे बड़ी मुश्किल से चुप करा कर कामिनी ने उसे घर भेजा...
शाम तक वो एक ऑटो में ज़रूरत का सारा समान लेकर कुणाल के साथ वहां शिफ्ट हो गयी.

उनके आलीशान बंगले के ठीक पीछे एक छोटा सा लॉन था, और साइड में एक क्वाटर बना रखा था उन्होने, पहले वहां हरिया काका रहा करते थे, पर उनके मरने के बाद वो करीब 1 साल से ऐसे ही पड़ा था...
पूरे दिन की सफाई के बाद पायल ने उस 2 कमरे के क्वाटर को चमका डाला...
बस एक परेशानी थी वहां , अंदर बाथरूम नही था...
क्वाटर के साइड में एक नलका था, जिसके आगे एक छोटी सी दीवार थी, बस उसी की आड़ में बैठकर नहाया जा सकता था... टाय्लेट ठीक उसके पीछे था.

पायल को ना जाने देने और उसे वहां रखने के पीछे भी कामिनी का एक मकसद था...
वो इतनी मेहनती नौकरानी नही छोड़ना चाहती थी...
जब से वो आई थी, उसका घर हमेशा चमकता रहता था...
और साथ में जो वो उसकी मालिश वाला काम करती थी, उसकी वजह से तो उसे और भी ज़्यादा लगाव सा हो गया था पायल से...
एक अच्छा काम करने वाली नौकरानी जो अच्छी मालिश भी करती हो, कहाँ मिलती है आजकल...
अगर कामिनी किसी स्पा में जाकर बॉडी मसाज करवाए तो वो पायल की सैलेरी के बराबर की रकम होती थी...
हालाँकि कामिनी को पैसों की कोई कमी नही थी, पर घर में ही जब ऐसी सर्विस मिले तो बाहर क्यों जाना.

पर वो बेचारी ये नही जानती थी की उसका ये कदम उसकी जिंदगी पलट कर रख देगा.

कामिनी के पति विजय को जब पता चला तो उसने भी कुछ नही कहा अपनी बीबी से...
घर के मामलों में वो वैसे भी कोई दखल नही देता था...
और वैसे भी, उसकी काफ़ी दिनों से पायल पर नज़र थी...
अब वो उनके घर के पीछे ही रहेगी तो शायद काम बन सकता है...
उसकी बीबी तो वैसे ही अक्सर NGO के काम से बाहर रहती थी...ऐसे में वो पायल पर चांस मार सकता था...
पर मुसीबत ये थी की उसका पति भी साथ था...
पता नही उसे ऐसा मौका मिल पाएगा या नही जब उसकी बीबी कामिनी और पायल का पति कुणाल दोनो घर पर ना हो...
पहले भी उसने अपनी कई नौकरानियों की चूत बजाई थी...
पर पायल पर हाथ डालने की उसमें अभी तक हिम्मत नही हुई थी...
वो जानता था की उसकी बीबी की ख़ास है वो, ज़रा सी भी चूक का मतलब था, अपनी बीबी के सामने जॅलील होना, जो वो हरगिज़ नही चाहता था.

विजय जब अगली सुबह उठकर अपने जॉगिंग शूज़ पहन रहा था तो उसने अपने बेडरूम की खिड़की से पीछे की तरफ झाँका... इस वक़्त सुबा के 5 बाज रहे थे... और उसकी किस्मत तो देखो, पायल उसे नहाती हुई दिख गयी...
और वो भी खुल्ले में..
उसे तो अपनी आँखो पर विश्वास ही नही हुआ..
हालाँकि वो काफ़ी दूर थी, दीवार की आड़ में भी थी...
और हल्का फूलका अंधेरा भी था...
पर फिर भी उसके नंगे जिस्म का एहसास उसे सॉफ हो रहा था...
ज़िम जाना तो वो एकदम भूल सा गया और वहीं छुपकर वो उसे नहाते हुए देखने लगा..

पायल को तो अभी तक यही पता था की कोठी में इस वक़्त सभी सो रहे होंगे..
और वैसे भी उसे इस तरहा खुल्ले में नहाने की आदत थी...
गाँव में तो वो एक साड़ी लपेट कर नहा लेती थी कुँवे पर...
लेकिन यहाँ कौन देखेगा, यही सोचकर वो नंगी ही नहा रही थी.



साबुन को जब उसने अपने काले कबूतरों पर रगड़ा तो खिड़की पर खड़े विजय ने अपना लंड पकड़ लिया और जोरों से हिलाने लगा...
एक नौकरानी उसे इस कदर उत्तेजित कर सकती है, ये उसने सोचा भी नही था...
पर ये हो रहा था, शहर का जाना माना नेता, अपनी नौकरानी को नहाते देखकर अपना लंड मसल रहा था...
मसल क्या रहा था उसने तो अपने लंड को बाहर ही निकाल लिया...
और उसे देखकर मूठ मारने लगा...
ऐसी उम्र में आकर उसे ये सब शोभा नही देता था, वो चाहता तो किसी भी कॉल गर्ल के सामने पैसे फेंककर उसकी मार सकता था या उससे लंड चुसवा सकता था, अपनी खुद की बीबी कामिनी भी कम सैक्सी नही थी,पर अपनी नौकरानी को सिर्फ़ नहाते देखकर वो खुद अपना लंड रगड़ने पर मजबूर हो गया था, ये बहुत बड़ी बात थी.

उफफफफ्फ़..... क्या मोम्मे है साली कुतिया के...... एकदम कड़क माल है....''

और फिर नहा धोकर पायल बिना कपड़ों के, किसी हिरनी की तरह छलांगे मारती हुई अपने रूम में घुस गयी...
उसके हिलते चूतड़ देखकर विजय की उत्तेजना चरम पर पहुँच गयी और उसने अपना माल वहीं झाड़ दिया.

इतने सालो बाद खुद मुठ मारकर झड़ा था विजय...
अब किसी भी कीमत पर उसे पायल को भोगना था.

पर उससे पहले उसे पायल के पति का कुछ करना पड़ेगा...
वो साला हरामखोर बनकर पूरा दिन घर पर बैठेगा तो वो कुछ कर ही नही पाएगा.

उसके दिमाग़ में एक आइडिया आ गया, पर अभी के लिए उसे जिम के लिए निकलना ज़रूरी था, और वहां से उसे गोल्फ कोर्स जाना था, जहां एक जाने माने उद्योगपति ने एक बहुत बड़ी रकम पहुँचाने का वादा किया था आज..
बाद में उसे क्लब भी जाना था, जुए का चस्का था उसे भी.

वो तैयार होकर निकल गया.

कुणाल की जब नींद खुली तो पायल काम पर जा चुकी थी...
उसे तो हमेशा से ही देर तक सोने की आदत थी...
टाइम देखा तो 12 बजने वाले थे...
बाहर आकर देखा तो नहाने के लिए कोई अलग जगह उसे दिखाई ही नही दी...
वैसे भी जब तक वो अपनी चॉल में रह रहा था, वहां भी वो खुल्ले में ही नहाता था...
इसलिए अपने कपड़े उतार कर, सिर्फ़ अपना कच्छा पहने हुए वो नहाने पहुँच गया.
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#3
RE: Kamukta Kahani जुआरी
उसी वक़्त कामिनी अपने बेडरूम में किसी काम से आई, पर जैसे ही खिड़की से बाहर उसकी नज़र पड़ी तो उसके होश उड़ गये...
पिछले हिस्से में कुणाल बड़ी ही बेशर्मी से खड़ा होकर नहा रहा था...
वो तो शुक्र था की उस छोटी सी दीवार ने उसके ख़ास हिस्से को धक रखा था, वरना उसकी बेशर्मी पूरी उजागर हो जानी थी..

कामिनी को इस बात पर बहुत गुस्सा आया...
कैसे एक सभ्य समाज और घर में रहना है, इस बात का तरीका ही नही है उसमें ..
उसका तो मन किया की अभी के अभी पायल और उसके फूहड़ पति को निकाल बाहर करे...
पर फिर कुछ सोचकर उसने अपने गुस्से पर काबू किया और अलमारी से जो समान लेने आई थी, वो लेकर बाहर निकल गयी.

कुणाल के लिए पायल अंदर से ही खाना बना कर ले आई थी, खाना खाने के बाद रोजाना की तरह उसने पायल के बटुए से पैसे निकाले और बाहर निकल गया...
पायल जानती थी की अब वो देर रात तक ही लौटेगा.. आएगा भी तो दारू पीने के बाद.

पर जाने से पहले उसने समझा दिया था की यहां रहना है तो अपने चाल चलन, शोर शराबे और गंदी आदतों पर काबू रखना पड़ेगा, वरना उसकी गंदी आदतों की वजह से उन्हे वहां से निकाला भी जा सकता है.

कुणाल भी जानता था की ऐसे फ्री में रहने और खाने की जगह मिलना मुश्किल है, इसलिए वो उसकी बात मानकर बाहर निकल गया.

दोपहर को पायल सफाई में लगी रही और शाम को वो वापिस अपने फ्लैट में आई और नहा धोकर जैसे ही कपड़े निकाले, बाहर से विजय की आवाज़ आई..

इस वक़्त उसने सिर्फ़ एक गीली साड़ी लपेट रखी थी अपने जिस्म पर..

अब यहाँ पायल के बारे में एक बात बता देना ज़रूरी है की उसे दुनिया की गंदी नज़रों का कोई आभास ही नही हो पता था
एकदम बोडम महिला थी..(भाभीजी घर पर हैं की अंगूरी भाभी के जैसी)



कोई जितना भी सामने से द्विअर्थी बातें करता रहे, उसके भोले दिमाग़ में उनका ग़लत मतलब आता ही नही था..
जब तक वो बातें खुल कर ना की जाएँ..
गाँव में रहने वाली पायल अभी तक शहर के चालू लोगो से अंजान थी.

विजय भी जानता था इस वक़्त उसकी बीबी घर पर नही है, अंदर आने के बाद उसने चोकीदार से कुणाल के बारे में भी पूछ लिया था, वो भी नही था, इसलिए उसका रास्ता सॉफ था..
अंदर आने के बाद जब उसने दरवाजा खड़काया तो वो अपने आप ही खुल गया...
सामने गीली साड़ी में पायल अपने कपड़े निकाल रही थी..

उसके गीले जिस्म से आ रही भीनी खुश्बू ने उसे पागल सा बना दिया..
वो समझ गया की वो अभी नहा कर आई है, काश वो कुछ देर पहले आया होता वहां पर तो उसे सुबह की तरह नहाते हुए देख पाता.....

लेकिन अब उसे पायल को अपने जाल में फंसाना था, और एक प्लान उसके दिमाग में आलरेडी आ चुका था

पायल भी अपने मालिक को इस तरह अपने कमरे के बाहर खड़ा देखकर चोंक सी गयी..

पायल : "अरे ...सरजी आप..... मुझे बुला लिया होता.... मैं आ जाती...''

विजय तो उसके गीले बदन से झाँक रहे अंगो को देखने में बिजी था.. खासकर गीली साड़ी नीचे उभर रहे काले बेरों को

वो हड़बड़ाकार बोला : "वो दरअसल...मुझे...चाय पीनी थी...मैने आवाज़ भी दी..पर तुमने शायद सुनी नही...इसलिए देखने चला आया...''

पायल : "ओहो.... वो मैं नहा रही थी ना... इसलिए...''

विजय उसके बदन को घूरता हुआ बोला : "नहा रही थी... इस वक़्त भी... सुबह ही तो नहाई थी...''

और कोई होता तो झट्ट से बोल देता की आपने कब देखा मुझे सुबह नहाते हुए...
पर पायल थी एक नंबर की बोडम महिला...
वो बोली : "वो क्या है ना सरजी... मुझे दिन में दो बार नहाने की आदत है... एक बार तो सुबा 5 बजे उठकर नहाती हूँ ... और दूसरी बार शाम को 4 बजे ''
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#4
RE: Kamukta Kahani जुआरी
पायल ने बड़ी मासूमियत से अपने नहाने का टाइम टेबल विजय को दे डाला..

विजय फुसफुसाया : "और क्या -2 करती हो...''

पायल : "जी मालिक, कुछ कहा क्या आपने...?''

विजय : "अर्रे नही...वो मैं कह रहा था की चाय पीने का मन था...सो''

पायल : "ओह्ह ...मैं भूल ही गयी... आप चलिए अपने कमरे में ...मैं कपड़े पहन कर, चाय बनाकर लाती हूँ बस...''

विजय मन में बोला 'हाय , कपड़े पहनने की क्या जरूरत है मेरी जान, नंगी ही आ जा '

अब विजय का मन तो नही कर रहा था वहां से जाने का, पर फिर भी चल दिया वापिस. 

पायल ने फटाफट अपने कपड़े पहने और अपने मालिक के लिए चाय बनाकर ले आई.. विजय भी अपने कपड़े चेंज करके चेयर पर बैठा था..

हमेशा की तरह पायल ने एक कॉटन की साड़ी पहनी हुई थी इस वक़्त...
उसकी कमर का नंगा हिस्सा इस वक़्त विजय को काफ़ी उत्तेजित कर रहा था...

चाय देकर जैसे ही वो जाने लगी तो विजय बोला : "सुनो पायल...वो तुमसे एक ज़रूरी बात करनी थी...''

''जी मालिक''

विजय : "बैठ जाओ..''

उसने कुर्सी की तरफ इशारा किया पर वो ज़मीन पर पालती मारकर बैठ गयी..

विजय : "मैने सुना है की तुम्हारा पति कोई काम धंदा नही करता...''

अपने मालिक की बात सुनकर वो रुन्वासी सी हो गयी...
उसे लगा की शायद वो उन्हे घर से निकालने की बात करेंगे..

वो बोली : "नही मालिक...वो..उनकी समझ मे..कुछ आता ही नही...मैं तो समझाकर थक चुकी हूँ ''

विजय : "और सुना है वो दारू भी पीता है...जुआ भी खेलता है..''

अब तो सच में उसे डर लगने लगा था...
वो थोड़ा आगे खिसक आई और विजय के पैर पकड़ कर बोली : "मालिक...मैने आज ही उसे समझाया है...आप चिंता ना करो..वो अपनी आदतो को जल्दी ही बदल देगा..आप मेरा विश्वास कीजिए..''

विजय ने उसकी बाहे पकड़कर उसे उपर उठा लिया... और खुद भी खड़ा हो गया.. और उसे लगभग अपने बदन से सटा कर बोला : "अरे नही पायल... मेरा वो मतलब नही था.. मैं तो चाह रहा था की वो कोई काम करे..इन्फेक्ट मैं तो सोच रहा था की उसे तुम्हारी कामिनी मेडम का ड्राइवर रख लूं ... कुछ पैसे भी आएँगे तुम लोगो के पास और उसकी आदते भी सुधर जाएँगी...''

ये सुनते ही पायल की आँखो में आँसू आ गये...
पहले कामिनी मेडम ने उनपर ये उपकार किया था की उन्हे रहने की जगह दे दी और अब उनके पति कुणाल को भी नौकरी दे रहे है... एक दम से दुगनी खुशी के एहसास जैसा था ये सब..

इसी बीच विजय के हाथ उसकी कमर के उसी नंगे हिस्से पर थे जहां से उसके शरीर का कर्व शुरू होता था...
यानी पेट से नीचे की फेलावट...



वो उसपर अपने हाथो को लगभग धँसाता हुआ सा बोला : "और उसकी सेलेरी होगी 15000''

इतने पैसे सुनकर तो उसकी आँखे और भी ज़्यादा फेल गयी...
उसे खुद 10 हज़ार मिलते थे.. जिसमें वो अभी तक दोनो का खर्चा चला रही थी..
उपर से ये 15 हज़ार और मिलने लगे तो उनकी जिंदगी कितनी सुधर सकती है, ये सोचकर वो खुशी से मरी जा रही थी.

उसे इस बात का एहसास तक नही हो रहा था की विजय उसकी कमर के गुदाज हिस्से को मसल रहा है..
विजय तो तभी समझ गया की वो कितनी झल्ली किस्म की औरत है, इसे चोदने में कितना मज़ा आने वाला है, ये उसने सोचना शुरू कर दिया.

पर वो ये काम बड़े आराम और इत्मीनान से करना चाहता था...
पायल अब उसके लिए उस मछली की तरह थी जो बाहर के समुंदर से निकलकर उसके स्वीमिंग पूल में आ चुकी थी, जिसे वो जब चाहे, काँटा डालकर
पकड़ सकता था...
उसके साथ खेल सकता था...
उसका मज़ा ले सकता था.

इसलिए अभी के लिए उसने उसे जाने दिया...
वो पायल को पहले अपने एहसानो के नीचे दबा लेना चाहता था, उसके बाद ही अपनी चाल चलनी थी उसे ताकि पायल चाहकर भी उसकी बीबी से कुछ ना बोल सके.

दूसरी तरफ कुणाल फिर से अपनी चॉल में पहुँच चुका था, उसके सारे अय्याश दोस्त वहीं जो रहते थे...
आज कुणाल अपनी बीबी के पार्स में से 2000 रुपय लेकर आया था... और उसे किसी भी कीमत पर कल की हार का बदला लेना था राजू से.

एक बार फिर से बाजी लगनी शुरू हो गयी...
कुणाल ने ज़्यादा रिस्क नही लिया शुरू में, इसलिए बिना कोई ब्लाइंड चले ही वो पत्ते देख लेता, अच्छे आते तो चाल चलता वरना पैक कर देता..
और इसी समझदारी की वजह से उसने जल्द ही 2 के 10 हज़ार कर लिए...
और फिर वो मौका भी आ गया जिसके लिए वो आज वहां आया था, एक गेम फँस गयी, जिसमें दोनो चाल पे चाल चलते चले गये... अंत में आकर दोनो के पास 1-1 हज़ार रुपय बचे.. पर आज कुणाल कल वाली भूल नही करना चाहता था, इसलिए आख़िरी के 1 हज़ार बीच में फेंककर उसने शो माँग लिया.. कुणाल के पास आज कलर आया था, जबकि राजू के पास इक्के का पेयर था.
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#5
RE: Kamukta Kahani जुआरी
कुणाल ने जोरदार ठहाका लगाते हुए सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए...
कल का बदला अच्छे से ले लिया था उसने.. कुणाल की जेब में इस वक़्त 20 हज़ार रुपय थे...
उस खुशी में वो अपने चेले चपाटों को लेकर सीधा दारू के अड्डे पर गया और वहां सबने जी भरकर दारू पी.

ऑटो से जब वो वापिस कोठी पर पहुँचा तो उसे सुबह अपनी पत्नी की दी गयी नसीहात याद आ गयी...
इसलिए बिना कोई शोर शराबा और हरकत किए वो अंदर आ गया... अपनी बाल्कनी में बैठे विजय ने उसे लड़खड़ाते हुए अंदर आते देखा और मुस्कुरा दिया... उसने सोचा की ऐसी हालत में आकर वो भला क्या कर पाता होगा अपनी पत्नी के साथ..इसलिए शायद पायल प्यासी रह जाती होगी...
ऐसे में उसे चोदना कितना आसान होगा

उसने सोचा की चलकर देखना चाहिए की पीने के बाद कुणाल अपनी बीबी के साथ कैसा व्यवहार करता है, कामिनी गहरी नींद में थी, वो चुपचाप कोठी के पिछले हिस्से में पहुँच गया, और उनके क्वाटर के पीछे की तरफ जाकर वहां की खिड़की से अंदर झाँकने लगा..उन्होने भी खिड़की खुली छोड़ रखी थी, वहां से भला कौन देख पाएगा, शायद यही सोच थी... विजय एक बड़े से पौधे की आड़ में खड़ा होकर उन्हे देखने लगा.

कुणाल अपने कपड़े उतार रहा था और पायल बड़बड़ाते हुए उसके लिए खाना गर्म कर रही थी.

वो बोले जा रही थी 'पता नही कब समझोगे, मालिक और मालकिन कितने अच्छे है, हमे रहने को घर दिया, अच्छी तनख़्वा दे रहे है, तुम्हे भी साब ने ड्राइवर की नौकरी देने की बात की है, पर तुम अपनी इस शराब और जुए की आदत से सब डुबो दोगे...''

वो शराब के नशे में लड़खडाता हुआ पलटा, उसने सिर्फ़ एक कच्छा पहना हुआ था, उसके काले कलूटे शरीर को देखकर और उसकी निकली हुई तोंद को देखकर विजय को घिन्न सी आ रही थी, पायल कैसे झेलती होगी इस गँवार को..

वो बोला : "चुप कर साली... तेरे साब मेमसाब् की माँ की चूत , मुझे क्या नौकरी देंगे वो दोनो, ये देख, 20 हज़ार रूपए जीते है आज, कितने पैसे देंगे तेरे ये साब-मेमसाब्, 10 हज़ार, 15 हज़ार या 20 हज़ार... पूरे महीने उनके सामने सलाम ठोंको फिर मिलेंगे... ये देख, एक ही रात में जीते है ये सारे पैसे...मुझसे नही होती किसी की गांड-गुलामी, बोल दियो अपने साहब को जाकर की कोई दूसरा ड्राइवर रख ले..''

और कोई मौका होता तो विजय अपने बारे में गालियां सुनकर उसे जेल भिजवा देता, उसकी अच्छे से मरम्मत करवाता, पर इस वक़्त उसे पायल का लालच था, इसलिए खून का घूँट पीकर रह गया.

पायल भूनभूनाकर बोली : "हाँ हाँ , देखी है तेरी ये जुवे की कमाई, एक दिन जीतेगा तो दूसरे दिन दुगना हारकर आएगा, शराब और जुए ने तेरी मती भ्रष्ट कर रखी है...और वो नौकरी साब की गाड़ी चलाने की नही बल्कि मेमसाब् की गाड़ी चलाने की है''

''मेमसाब् यानी कामिनी...'' उसने चोंकते हुए कहा.

उसके तेवर एकदम से नर्म पड़ गये...
वो उसके करीब आया और बोला : "अरे, पहले बोलना था ना की मेमसाब् की गाड़ी चलानी है, मैने कब मना किया है..मैं बिल्कुल तैयार हूँ तेरी मेमसाब् की लेने के लिए, मेरा मतलब उनकी जॉब का ऑफर लेने के लिए...''

विजय तो उसके रवैय्ये को देखकर ही समझ गया की वो एक नंबर का ठरकी है और उसकी बीबी का नाम सुनकर उसकी लार टपक गयी है, एक बार फिर उसने अपने आप पर कंट्रोल किया,वरना अपनी बीबी बारे में ऐसे विचार रखने वाले को वो नौकरी पर तो क्या, अपने घर पर भी ना रखे
पर पायल अपने बोड़मपन की वजह से उसे समझ नही सकी, उसके लिए इतना बहुत था की उसका पति नौकरी के लिए इंटरस्ट दिखा रहा है.

वो खुश होती उही बोली : "क्या, सच में , आप तैयार हो...मैं कल ही साहब को बोलकर तुम्हारी ड्यूटी शुरू करवा देती हूँ ..पर मुझसे वादा करो की आप ये जुआ और शराब छोड़ दोगे, मैं नही चाहती की कोई इनकी वजह से आपको कुछ कहे..''

उसके चेहरे की खुशी देखते ही बनती थी...

कुणाल : "ठीक है मेरी जान, जैसा तू कहे, जुआ नही खेलूँगा, पर दारू नही छूटने वाली, एक काम करूँगा, तेरे सामने बैठकर पिया करूँगा..ड्यूटी ख़त्म होने के बाद, अब तो ठीक है ना..''

पायल ने खुशी से सिर हिला कर अपनी सहमति जताई...

खिड़की के पीछे खड़ा विजय देख और सोच रहा था की कितनी चालाकी से इस कामीने इंसान ने अपनी भोली भाली बीबी को उल्लू बना दिया है...
कामिनी मेडम का नाम सुनकर उसका लंड भी कच्छे में खड़ा हो चुका था, और शायद वो कुछ सोचते हुए उसे मसल भी रहा था.. फिर वो धीरे-2 पायल के करीब आया और उसके बदन को रगड़ने लगा.

पायल ने जब ये देखा तो वो कुणाल का इशारा समझ गयी,उसके चेहरे पर लालिमा छा गयी,वो बोली : "पहले खाना तो खा लेते, ये एकदम से क्या करने लगे हो...''

''खाना तो खा ही लेंगे, पहले मेरी ये भूख तो मिटा दे मेरी जान...कामिनी मेडम की गाड़ी चलाने की खुशी में तेरी गाड़ी को झटके मारना तो बनता ही है.''

पायल शरमा कर उससे लिपट गयी...
और फिर कुछ देर तक दोनो एक दूसरे को इधर-उधर चूमते रहे और कुणाल ने पायल की साडी खोल दी, उसका पेटीकोट खोल दिया और उसे नीचे बिछे गद्दे पर घोड़ी बनाया, उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा.
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#6
RE: Kamukta Kahani जुआरी
ये सब इतनी जल्दी हुआ की विजय ढंग से उसकी चूत भी नहीं देख पाया, कामिनी के चेहरे को देखकर सॉफ पता चल रहा था की वो अभी तैयार नही हुई थी, पर अपने पति को भला वो कैसे मना करे, बेचारी दर्द सहती हुई उसके लंड से मिल रहे झटको को महसूस करके कराहती रही...और कुछ ही देर में कुणाल के लंड से ढेर सारा रस निकल कर उसकी चूत में जा पहुँचा..और वो अपने लंड को धोने के लिए बाहर चला गया..

पायल ने एक कपड़े से अपनी चूत पोंछी, अपने हाथ धोए और फिर से खाना गर्म करने लगी.कुणाल अंदर आया और खाना खाने बैठ गया.

विजय भी चुपचाप वहां से निकलकर वापिस अपने रूम में आ गया, कामिनी अभी तक सो रही थी, बेड पर लेटकर उसके जहन में सारी बातें घूमने लगी, पायल को चोदने के लिए उसे क्या प्लानिंग करनी पड़ेगी ये अब उसके लिए और भी आसान काम हो गया था
पर कुणाल का उसकी बीबी कामिनी के प्रति आकर्षण उसे थोड़ा खटक रहा था, ऐसे में अगर कामिनी ने कुणाल को कुछ कह दिया और उन दोनो को घर से निकाल दिया तो उसका सारा प्लान धरा रह जाएगा..
वो बस यही प्रार्थना करने लगा की कामिनी हर परिस्थिति में उसकी प्लानिंग के अनुसार ही चले.

और अचानक उसके दिमाग़ में कुछ आया,
और वो ये की अगर कुणाल और कामिनी आपस में सेट्टिंग कर ले तो उसका काम बन सकता है...भले ही जो बात उसके दिमाग़ में आई थी, वो एक पति को शोभा नही देती पर पायल को पाने की चाह में उस मगरूर के दिमाग़ ने इस बात की भी मंज़ूरी दे दी की कुणाल उसकी बीबी को पटाने में और चोदने में कामयाब हो जाता है तो वो मना नही करेगा..
ऐसे में उसका पायल को चोदना बहुत आसान हो जाएगा.

अब सब कुछ क्लियर था उसके माइंड में , कैसे कब और क्या करना है,सब उसने सोच लिया था.

अगले दिन कुणाल तैयार होकर विजय के पास पहुँच गया, सुबह का वक़्त था, विजय अभी जिम से आया ही था, उसने कामिनी को बुलाकर कह दिया की आज से कुणाल उसका ड्राइवर है,
कामिनी को कुणाल बिल्कुल भी पसंद नही था, ख़ासकर कल जिस बेशर्मी से वो नहा रहा था, उसके बाद तो उसके काले कलूटे शरीर से उसे नफ़रत सी हो गयी थी..
पर अपने पति के सामने उसकी एक नही चलती थी, एक तो मंत्री लोगो का रुतबा अलग ही होता है, ऐसे में उनकी बात को उसने एक नौकर के सामने मानने से इनकार कर दिया तो उसे पता था की विजय कैसी-2 बातें सुनाएगा उसे.. इसलिए उसने बुझे मन से, मुस्कुराते हुए हाँ कर दी.

वो बोली : "ओक, आपने सोचा है तो ठीक ही होगा,...''

और फिर कुणाल की तरफ मुँह करके बोली : "तुम गाड़ी निकालो, मुझे अभी जिम जाना है...मैं बस अभी आई..''

कुणाल ओके मेमसाब् बोलता हुआ बाहर निकल गया, पर जाते-2 उसकी नज़रों ने कामिनी के गुदाज जिस्म को अच्छे से चोद डाला था.. नाइट सूट में, खासकर छोटी सी निक्कर में वो बड़ी ही सैक्सी लग रही थी.



ये सब विजय एक चेयर पर बैठा बड़ी बारीकी से देख रहा था, उसे पता था की इस वक़्त कुणाल के मन में क्या चल रहा होगा, पर फिर भी अपनी हीरोइन जैसी बीबी को उसने इस भेड़िए के साथ जाने को राज़ी कर लिया था..

और वैसे भी उनके जाने के बाद विजय के पास करीब 2 घंटे का टाइम था, जिसमे वो पायल के साथ कुछ मज़े ले सकता था, इसलिए वो उनके निकलने का इंतजार करने लगा.

कुछ ही देर में कामिनी तैयार होकर बाहर निकल गयी, विजय ने उसे बाय कहा और अंदर आकर बैठ गया.

कुणाल ने जब कामिनी को गाड़ी की तरफ आते हुए देखा तो वो एक पल के लिए तो पलकें झपकाना ही भूल गया, वो अपनी जिम वाली ड्रेस में, अपनी सैक्सी कमर मटकाती हुई उसकी तरफ ही आ रही थी.



एकदम टाइट ड्रेस होने की वजह से उसके शरीर का हर कट नज़र आ रहा था, खासकर कामिनी की निकली हुई गांड, उसके गुदाज और कर्वी बदन को देखकर कुणाल का लंड एकदम से खड़ा हो गया, वो झट्ट से पलटकर गाड़ी में आ बैठा ताकि वो उसके खड़े लंड को ना देख पाए.

कामिनी ( अंदर बैठती हुई) : "जब मैं आऊं तो गाड़ी का दरवाजा खोला करो मेरे लिए , समझे ''

"जी मैमसाहब ''

मन ही मन वो अपनी इस नयी नौकरी के लिए पायल और विजय साहब का धन्यवाद दे रहा था, जिसकी बदौलत उसे हर समय कामिनी मेडम के साथ रहने का मौका मिलेगा.

उसके मन में कई ख्याली पुलाव बनने शुरू हो गये थे, पर वो इस बात से अंजान था की उससे भी ज़्यादा पुलाव और प्लान तो विजय बना चुका है, उसकी बीबी को चोदने के लिए.

अब देखना ये था की किसके प्लान पहले कारगार सिद्ध होंगे और किसकी बीबी पहले चुदेगी.

कार चलाते हुए कुणाल बेक मिरर से बार-2 कामिनी मेडम को देख रहा था
वो जिस आडया से अपने बालो को बार-2 पीछे करके फोन पर बात कर रही थी, कुणाल तो उसका दीवाना हो गया, उसकी नज़र ख़ासतोर से उसके पिंक कलर के होंठों पर थी, जो इतने मोटे थे की उन्हे चबाने मे कितना मज़ा आएगा, यही सोचकर उसका लंड अकड़े जा रहा था, बड़ी मुश्किल से वो कार चला पा रहा था क्योंकि बार-2 उसका हाथ अपने लंड को एडजस्ट करने में बिज़ी था.

जिम पहुँचकर , कार से दूर जाते हुए कुणाल एक बार फिर से उसकी लचक रही गांड और कसी हुई जाँघे देखकर सम्मोहित सा हो गया...
उसने अपने लंड को मसलते हुए कसम खाई की अब कुछ भी हो जाए, वो उसकी गांड ज़रूर मारकर रहेगा.

गाड़ी को पार्किंग में लगाकर, अपनी कामिनी मेडम के बारे में सोचते-2 वो अपने लंड को रगड़ता रहा...
अचानक उसके मन में ना जाने क्या आया और वो उठकर पीछे वाली सीट पर जाकर बैठ गया...
ठीक उसी जगह जहाँ कामिनी बैठी थी...
उस जगह से निकल रही कामिनी की गांड की गर्मी को महसूस करके वो और उत्तेजित हो गया और उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया..
हालाँकि दोपहर का समय था पर गाड़ी VIP थी इसलिए उसके काले शीशो से अंदर का कुछ भी देख पाना संभव नही था...
वो कामिनी के बारे में सोचता हुआ, उसे गंदी-2 गालियाँ देता हुआ, अपना लंड मसलने लगा..
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#7
RE: Kamukta Kahani जुआरी
''भेंन की लौड़ी .....तेरी माँ चोदूगा साली....कुतिया ......कामिनी ........ तेरी मोटी गांड में अपना लंड पेलुँगा साली....... अहह....... तेरे मोटे मुममे चूस्कर उन्हे सूजा दूँगा.......उम्म्म्म.......तेरे होंठों को चूस्कर सारा रस पियूँगा साली......उसमें अपना काला लंड डालकर सारा माल तेरी हलक में निकालूँगा........''

और जो बाते वो बोल रहा था, उन्हे बंद आँखो से देख भी रहा था
और कुछ ही देर में वो भरभराकर झड़ने लगा...

कुणाल को तो ऐसा एहसास हुआ जैसे उसका सारा माल कामिनी के खुले हुए मुँह के अंदर जा रहा है



जबकि वो जा रहा था उसकी मखमली सीट पर

एक के बाद एक कई पिचकारियाँ मारकर उसने अपने लंड का पानी सीट पर बिखेर दिया...
और उसे जब होश आया तो कार की सीट की हालत देखकर उसके तोते उड़ गये...
उसने जल्दी से अपना रुमाल निकालकर सीट सॉफ की, पर उसका गीलापन जल्दी जाना संभव नही था...

वो वापिस अपनी सीट पर आकर बैठ गया.

कुछ ही देर में कामिनी आती हुई दिखाई दी, जिम के बाद उसने अपने कपड़े चेंज कर लिए थे, क्योंकि अब उसे किट्टी पार्टी में जाना था..

कुणाल तो उसके बदले हुए रूप को देखकर एक बार फिर से टकटकी लगाए उसे देखता रहा...
ऐसी सुंदरता की मूरत कम ही देखने को मिलती है.



कुणाल फ़ौरन गाड़ी से बाहर निकला और उसने कामिनी के लिए कार का दरवाजा खोला..
इस बार उसकी मुस्तेदी देखकर कामिनी को अच्छा लगा..
वो अंदर घुसी और सीट पर बैठ गयी...
पर बैठते हुए उसका हाथ जब सीट पर लगा तो वहां कुछ गीलापन महसूस करके उसने तुरंत अपना हाथ वापिस खींच लिया.... इतनी देर में कुणाल ने गाड़ी स्टार्ट की और चल दिया.

कामिनी ने गोर से उस जगह को देखा और सोचने लगी की शायद उसकी जिम वाली बॉटल से पानी गिरा होगा..
पर उसे ध्यान आया की आज तो वो बॉटल लाई ही नही थी...
फिर ये कैसा गीलापन है....
कार में आ रही हल्की महक से उसे कुछ शक सा हो रहा था...
उसने एक बार फिर अपना हाथ उस सीट पर रगड़ा और धीरे से उसे अपने नाक के पास लाकर सूँघा, और उसकी नाक में एक तेज महक आ टकराई...
और वो महक इतनी तेज थी की एक पल के लिए कामिनी का सिर ही घूम सा गया...
जैसे उसने कोई देसी दारू सूंघ ली हो...
एक नशा सा चढ़ गया उसके सिर और आँखो में.

और शादी के इतने सालो में वो ये बात तो समझ ही चुकी थी की ये महक किस चीज़ की है...
बस उसे इस बात का अंदाज़ा नही था की ये इतनी तेज भी हो सकती है....
उसके दिमाग ने उबलना शुरू कर दिया...
यानी ये कुणाल उसकी कार की पिछली सीट पर बैठकर ये काम कर रहा था.

उसने वहां बैठकर मास्टरबेट किया और अपना पानी वहीं गिरा दिया....इसकी इतनी हिम्मत....उसका सारा शरीर गुस्से से काँप सा रहा था...
पर उस गुस्से के साथ-2 उसमे उत्तेजना भी थी...
जो ना जाने कब उसमें बुरी तरह से भर सी गयी थी...
शायद उसी पल से जब से उसने वो महक सूँघी थी...
ना चाहते हुए भी उसकी उत्तेजना ने उसके गुस्से को ओवेरटेक कर लिया और अब वो शांत लेकिन उत्तेजना से भरकर वहीं बैठी रही...

कुणाल अपनी ही धुन में गाड़ी चला रहा था....हालाँकि वो बेक मिरर से कामिनी को भी ताड़ रहा था पर उसके अंदर चल रहे अंतर्द्वंद को वो नही देख पा रहा था.

और पिछली सीट पर बैठी कामिनी के हाथ एक बार फिर से उस गीली सीट की तरफ सरकने लगे...
और फिर ना जाने क्या आया उसके दिमाग़ में की उसने अपनी नर्म उंगलियों को उस जगह पर रगड़ना शुरू कर दिया...
जैसे वो उस सीट से सारा रस अपनी उंगलियों में समेट रही हो....
और फिर बाहर की तरफ देखते हुए उसने अपनी उन उंगलियों को अपने होंठो के पास रखा और फिर एकदम से उन्हे मुँह में डालकर चूस लिया....
एक अजीब सा तीखा स्वाद उसकी जीभ पर आ गया...
एक ऐसा स्वाद जो उसने पहली बार महसूस लिया था...
और वो शायद इसलिए की ऐसे बस्ती में रहने वाले का वीर्य उसने पहली बार टेस्ट किया था...
आज से पहले उसने सिर्फ़ अपने कॉलेज टाइम में अपने बाय्फ्रेंड का और उसके बाद शादी के बाद अपने पति का चूसा था...

पर अब ये टेस्ट करके उसे ऐसा फील हो र्हा था जैसे वो आज तक वो बिना मसाले की सब्जी खाती आ रही थी
असली तीखापन और महक तो इसमें थी...
कल भी उसने जब कुणाल को नहाते हुए अपना लंड रगड़ते देखा था तो उसकी चूत में एक गीलापन आया था, पर अब जो हो रहा था उसके बाद तो उसकी चूत ने जो पानी निकाला था उससे नीचे की सीट तक गीली हो चुकी थी...
वो तो शुक्र था की उसने जो कपड़े पहने हुए थे उनमे गीलापन दिखाई नही देना था वरना कोई भी पीछे से देखकर बता सकता था की इस औरत की चूत रिस रही है.

कुछ ही देर में वो उस क्लब हाउस में पहुँच गये जहाँ पर किट्टी पार्टी थी....
पर कामिनी अपनी ही दुनिया में खोई हुई अपनी एक उंगली को मुँह में डाले चूस रही थी.

कुणाल कार से उतरा और उसने दरवाजा खोलकर कहा : "मेडम...मेडम...हम पहुँच गये हैं....''

तब जाकर कामिनी को होश आया...
उसने अपना हुलिया ठीक किया और अंदर चल दी...
पर जाते -2 उसे ये एहसास भी हो गया था की वो जहाँ बैठी थी वो जघा गीली हो चुकी है...
और अगर कुणाल एक बार फिर से पिछली सीट पर जाकर बैठा तो उसे ये पता चलते देर नही लगेगी की वो सीट उसकी चूत के रस की वजह से गीली हुई है...
इसलिए वो चलते-2 वापिस पलटी और कुणाल से बोली : "सुनो....तुम भी मेरे साथ अंदर चलो..कुछ खा लेना''

अब भला कुणाल कैसे मना करता...
उसने गाड़ी पार्किंग में लगाई और कामिनी के साथ अंदर पहुँच गया.

आज कुणाल का दिल कह रहा था की उसके साथ कुछ अच्छा होने वाला है 

अंदर जाकर कामिनी ने कुणाल को एक कोने में टेबल पर बिठा दिया और खुद अपनी फ्रेंड्स के पास पहुँचकर उनके साथ बातें करने लगी.

कामिनी ने कुणाल की टेबल पर भी कुछ खाने का समान भिजवा दिया, और वो खुद अपनी फ्रेंड्स के साथ बैठकर खाने-पीने में बिजी हो गयी
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:07 PM,
#8
RE: Kamukta Kahani जुआरी
कुछ देर तक बाते करते हुए, स्नेक्स खाते हुए 1 घंटा ऐसे ही बीत गया...और फिर शुरू हुआ टेबल पर ताश के पत्तो का खेल... जो हर बार खेला जाता था.

कुणाल ने जब दूर बैठकर देखा की ताश की गड्डी निकल आई है तो उसकी आँखो की चमक बड़ गयी...
वो तो रोज का खेलने वाला था और ऐसे मे ताश की गड्डी का खेल चले तो अपने आप इंटेरेस्ट बड़ ही जाता है.

सभी लेडीज़ 4 - 4 के ग्रुप में ताश खेलने लगी....पर कुणाल का ध्यान तो कामिनी मेडम वाले ग्रुप पर था
शुरू में कामिनी ने रम्मी खेली....
फिर सीप का खेल खेला....जो अक्सर औरतें खेलती रहती है....
और हर गेम में पैसे भी लग रहे थे..यानी प्रॉपर जुआ चल रहा था टेबल पर...
कुणाल ने आजतक औरतों को जुआ खेलते हुए नही देखा था...
और वो भी इतनी हाइ सोसायटी की...इसलिए वो टकटकी लगाए उनका खेल देखता रहा...

कुछ देर में कामिनी और उसके ग्रुप वाले 3 पत्ती खेलने लगे..

ये देखकर कुणाल और भी खुश हुआ... क्योंकि इस खेल में तो वो उस्ताद था.

वो आराम बैठकर अपनी मेडम का खेल देखने लगा..
और पहली गेम में ही उसे पता चल गया की उनमे से कोई भी मंझा हुआ खिलाड़ी नही है.

हालाँकि वो बड़ी-2 ब्लाइंड और चालें चल रहे थे, पर दिमाग़ लगाकर कोई भी नही खेल रहा था...
एक बार में ही 10 हज़ार की टेबल हो रही थी...
जो कुणाल के लिए काफ़ी ज़्यादा थी...
पर उन अमीर औरतों के लिए शायद ये नॉर्मल था.

कामिनी इस वक़्त अपनी सबसे बड़ी प्रतिद्वंदी आरती चोपड़ा के साथ खेल रही थी, और सभी को पता था की दोनो में से कोई भी झुकने को तैयार नही होता..
आरती के पति पहले CM रह चुके थे और आज की डेट में कामिनी के पति मंत्री थे....
इसलिए दोनो में से कोई भी अपने आप को कम नही समझता था.

पर कामिनी के खेलने का तरीका ही ऐसा था की वो 10 मिनट में करीब 30 हज़ार रुपय हार गयी...
हालाँकि 2-3 गेम्स जीती भी थी उसने पर ज़्यादातर हार रही थी वो.

आरती अपनी सहेलियों से घिरी, अपने पत्तो के दम से हर बार जीत के बाद खुल कर हँसती...उसकी सहेलियाँ तालियाँ बजाती जो कामिनी के दिल पर करारे थप्पड़ की तरह पड़ती.

कामिनी के चेहरे से उसका गुस्सा सॉफ दिख रहा था...
उसे पैसे हारने का गम नही था, उसे गम था तो सिर्फ़ ये की वो गेम हार रही थी और वो भी अपनी सबसे बड़ी दुश्मन मिसेज चोपड़ा से...जो वो हरगिज़ नही चाहती थी.

अगली गेम जब शुरू हुई तो दोनो ने 1-1 हज़ार की ब्लाइंड चलने के बाद आरती ने अपने पत्ते उठाए और देखते के साथ ही चाल चल दी...उसके चेहरे पर फिर से एक मुस्कान आ गयी , यानी उसके पास अच्छे पत्ते आये थे

सामने से चाल आती देखकर जैसे ही कामिनी ने पत्ते उठाने चाहे, पीछे से कुणाल की आवाज़ आई : "मेडम...आप पत्ते मत देखो...ब्लाइंड चलो...''

आवाज़ सुनते ही कामिनी चोंक गयी...
पीछे मुड़कर देखा तो कुणाल उसके ठीक पीछे खड़ा था...
एक पल के लिए तो वो डर सी गयी...
पर फिर सामान्य होकर उसने आरती की तरफ देखा... वो बोली : "इट्स ओके .. तुम अपने ड्राइवर की हेल्प ले सकती हो.... क्या पता तुम कुछ पैसे जीत जाओ...''

ये उसने कामिनी को चोट पहुँचाने के इरादे से कही थी...और वो चोट लगी भी..पर कामिनी ने उसे उजागर नही होने दिया..

और कुणाल के कहे अनुसार उसने 1 हज़ार की ब्लाइंड चल दी. वो अच्छी तरह से जानती थी की कुणाल बहुत जुआ खेलता है, ऐसे में शायद उसकी मदद से कुछ करिश्मा हो जाए.

आरती अपने पत्ते देख चुकी थी, इसलिए उसने 2 हज़ार की चाल चली....
कुणाल के कहने पर एक बार फिर से उसने ब्लाइंड चल दी.. पर शायद मिसेस चोपड़ा ज़्यादा ही कॉन्फिडेंट थी, उन्होने चाल डबल करते हुए 4 हज़ार की कर दी...
सामने से कामिनी ने 2 हज़ार फेंके...
फिर से चाल डबल हुई और 8 हज़ार आए....
ऐसे करते-2 कुणाल ने कामिनी को ब्लाइंड में ही खिलाते हुए 20 हज़ार की ब्लाइंड तक पहुँचा दिया..
जबकि सामने से आ रही चाल 40 की हो चुकी थी...
आलम ये था की मिसेस चोपड़ा जो पैसे अभी तक जीती थी, उसके अलावा भी उनके सारे पैसे ख़त्म हो चुके थे...
ऐसे में शायद उसे डर सा लग रहा था की वो हार गयी तो सारा पैसा कामिनी ले जाएगी...उसकी इज्जत जाएगी वो अलग.

उसने अपने पैसे चेक किए और अगली बार जब कामिनी की ब्लाइंड आई तो बीच में 40 हज़ार डालते हुए उसने कामिनी से शो माँग लिया.

सभी के दिल की धड़कन बड़ी हुई थी..
कुणाल साथ वाली चेयर पर आकर बैठ चुका था...
कामिनी ने उसकी तरफ डरी हुई नज़रों से देखा....
और अपने पत्ते उसकी तरफ खिसका दिए...
वो नही चाहती थी की अपने पत्ते खुद देखे.

कुणाल ने पत्ते उठाए और सभी से बचा कर उन्हे देखा...
और फिर सभी के चेहरों की तरफ...
उसने पहला पत्ता नीचे फेंका.

वो हुक्म का 7 नंबर था.

आरती के चेहरे पर स्माइल सी आ गयी....
जैसे वो जीत गयी हो...
शायद अपने पास आए पत्तो पर उसे ज़्यादा यकीन था.
-  - 
Reply
10-06-2018, 01:08 PM,
#9
RE: Kamukta Kahani जुआरी
कुणाल ने दूसरा पत्ता फेंका...
वो ईंट का 9 नंबर था.

अब तो मिसेस आरती चोपड़ा की आँखे चमक उठी....
उसने एक जोरदार ठहाका लगाते हुए अपने तीनो पत्ते नीचे फेंक दिए

उसके पास K का पेयर आया था...और साथ में इक्का था.

कामिनी का दिल रो पड़ा वो देखकर...
ऐसी भरी महफ़िल में एक और हार वो बर्दाश्त नही कर सकती थी...
और वो भी तब जब सभी की नज़रें थी इस गेम पर..

पर जैसे ही आरती ने सारे पैसे अपनी तरफ खिसकाने चाहे,कुणाल के काले हाथों ने उसे रोक दिया.. और अपना तीसरा पत्ता बीच में फेंक दिया.

वो था चिड़ी का 8 नंबर.

यानी उसके पास 7,8,9 का सीक़वेंस आया था..

उसके पत्तो को देखकर आरती के साथ-2 उसकी सहेलियों के चेहरे का भी रंग उड़ गया...
इतने बड़िया पत्तों की उन्हे उम्मीद भी नही थी..

और वहीं दूसरी तरफ कामिनी को अपनी आँखो पर विश्वास ही नही हुआ..
आज से पहले उसके पास इतने अच्छे पत्ते नही आए थे....
और इस बार ठहाका लगाने की बारी कामिनी की थी...
उसने ज़ोर से हंसते हुए, आरती का मज़ाक सा उड़ाते हुए, सारे पैसे अपनी तरफ कर लिए...
और दोनो को पता था की इस गेम में पैसों से ज़्यादा उनकी इज़्ज़त दाँव पर लगी थी...
जो कामिनी की बच गयी थी और मिसेस चोपड़ा की लुट गयी थी.

वो जब बाहर आए तो जैसे ही गाड़ी का दरवाजा कुणाल ने खोला, कामिनी ने उसे मुस्कुराते हुए बंद किया और घूमकर आगे वाली सीट का दरवाजा खोला और वहाँ बैठ गयी...
कुणाल को विश्वास ही नही हुआ...पहले ही दिन वो उससे इतना इंप्रेस हो गयी थी की पिछली सीट से उठकर अगली पर आ चुकी थी...

इस वक़्त कामिनी गीली सीट वाला वाक़या बिल्कुल भूल चुकी थी....
उसे बस खुशी थी तो वो ये की उसने आज क्लब में एक बड़ी गेम जीती है और वो भी मिसेस चोपड़ा को हराकर...
आज उसकी नाक थोड़ी और उँची हो गयी थी...

इसलिए कुणाल को थेंक्स कहने के लिए वो उसके साथ आगे ही आकर बैठ गयी..

गाड़ी चलते ही वो बोली : "थॅंक्स कुणाल...तुम्हे पता नही है की आज तुमने कितना बड़ा काम किया है....ये लो इसका इनाम...''

इतना कहते हुए उसने अपने पर्स में से, जो इस वक़्त पैसो से बुरी तरह से भरा हुआ था, करीब 20 हज़ार निकाल कर कुणाल को दे दिए... कुणाल ने हंसते हुए उन्हे अपने पास रख लिया..

कामिनी : "पर एक बात का मुझे अभी तक विश्वास नही हो रहा है की इतने अच्छे पत्ते मेरे पास आए है,ये बात तुम्हे कैसे पता थी...वरना उसकी तरफ से आ रही चाल को देखकर मैं तो समझ ही गयी थी की उसके पास पत्ते अच्छे है, हो सकता था की मेरे पत्ते बेकार निकलते...''

कुणाल ने मुस्कुराते हुए कहा : "मेडम जी....आपके पत्ते बेकार ही निकले थे.... ये देखो...ये रहे आपके पत्ते...''

इतना कहते हुए उसने अपनी आस्तीन में से तीन पत्ते निकाल कर कामिनी को पकड़ा दिए...
कामिनी फटी आँखो से उन्हे देखने लगी...वो 4,7 और बादशाह थे और वो भी अलग-2 कलर के...

कामिनी : "पर...ये...कैसे....''

कुणाल : "हा ...हा...मेडम जी...मैने जब ब्लाइंड पे ब्लाइंड चलने के बाद पत्ते उठाए तो उन्हे मैने अपनी कलाई के अंदर छुपाए पत्तो से बदल दिया था... वैसी ही ताश की गड्डी मैने एक वेटर से पहले माँग ली थी...''

उसकी इस कलाकारी की बात सुनकर तो कामिनी उसकी और भी बड़ी वाली फेन हो गयी....
यानी वो खुद खेलती तो वो पक्का ही हार जाती....
उसने प्यार भरी नज़रों से कुणाल को थेंक्स कहा.

आज पहली बार उसे अपनी नौकरानी का पति कुणाल अच्छा लगा था...
वरना आज से पहले वो उसे दूसरी ही नजर से देखती थी..

पर वो बेचारी ये नही जानती थी की ये कुणाल की भी प्लानिंग है...
धीरे-2 वो कामिनी को अपने जाल मे फँसा रहा था....
आज उसके जुए का एक्सपीरियेन्स काफ़ी काम आया था...
और आने वाले टाइम में भी ये जुए का खेल उसके बहुत काम आने वाला था...क्योंकि दिवाली आने वाली थी.
और उसी जुए की हेल्प से वो कामिनी की चूत मारने के सपने देखने लगा.

कार में बैठा कुणाल बार-2 तिरछी नज़रों से कामिनी को देख रहा था.
वेस्टर्न ड्रेस में उसके मोम्मे पूरी तरह से उभरकर दिख रहे थे... कामिनी भी जानती थी की कुणाल की नज़रें उसी की तरफ है, पर आज वो खुश ही इतनी थी की उसे बिल्कुल भी बुरा नही लग रहा था..बल्कि कुणाल ने जो काम किया था, उसके बाद तो उसका इस तरह से देखना उसे अच्छा लग रहा था.

और ये निशानी होती है एक चुद्दक्कड़ औरत की...
अपनी क्लास के मर्दों को छोड़कर जब वो दूसरों की गंदी नज़रों का मज़ा लेने लग जाए तो समझ लेना चाहिए की उसने चुद्दक्कड़ बनने का एक और एग्साम पास कर लिया है.

और अपनी ही खुशी में डूबी कामिनी ने अपने पर्स में से एक छोटी सी वॉटर बॉटल निकाली और पी ली.
-  - 
Reply

10-06-2018, 01:08 PM,
#10
RE: Kamukta Kahani जुआरी
और ढक्कन खुलते ही कुणाल दिमाग की सारी नसें खुल सी गयी.

वो बोला : "मेडम....आप पीती भी है...?''

कुणाल के इतना कहने की देर थी की वो आश्चर्य से उसे देखने लगी...
उसे शायद विश्वास नही हो पा रहा था की कुणाल को पता चल गया है की वो वोड्का पी रही है..
ये तो इंपॉर्टेंट वोड्का थी, जिसमें स्मेल भी नही आती थी पीने के बाद
वो अक्सर पार्लर में या पार्टी में भी यही ब्रांड पिया करती थी, पर आज तक किसी को पता नही चल सका था की वो पानी नही वोड्का है...
पर कुणाल ने एक पल मे ही जान लिया...

और पहचानता भी क्यो नही, दारू में पी एच डी जो कर रखी थी उसने.

कामिनी भी समझ गयी की वो काफ़ी घाघ किस्म का आदमी है और इससे कुछ भी छुपाना बेकार है.

वो बोली : "हाँ ...अक्सर जब भी मैं खुश होती हूँ, तो ये पी लेती हूँ...''

और फिर कुणाल की ललचाई नज़रों की तरफ देखते हुए बोली : "ये लो...तुम भी पी के देखो..''

इतना कहकर उसने लगभग आधी बची हुई बॉटल उसकी तरफ लहरा दी...
कुणाल की तो आँखे चमक उठी, दारू देखकर नही बल्कि उसपर लगी कामिनी के होंठो की लाल लिपस्टिक देखकर...
उसने तुरंत वो बॉटल हाथ में ले ली और एक ही झटके से उसे अपने काले होंठों से लगाकर गटागट पीने लगा...
अंदर से आ रहे वोड्का से ज़्यादा वो उसके मुँह पर लगी कामिनी के नर्म होंठों की लाली का स्वाद ले रहा था...
और उसे पीते हुए ऐसा महसूस हो रहा था जैसे वो बॉटल को नही बल्कि कामिनी के होंठों को चूस रहा है.


कामिनी भी उसे इस उतावलेपन से बॉटल पीते देखकर हैरान थी...
पर वो समझ गयी थी की वो ऐसा क्यो कर रहा है...
और कुछ सोचकर वो मंद-2 मुस्कुराने लगी...
और एक बार फिर से उसकी नज़रें कुणाल के लंड के उभार की तरफ चली गयी.

कामिनी उसके उभार को देख रही थी और कुणाल उसके उभारों को..
गाड़ी चलाते हुए अब उसे हल्का-2 सुरूर सा हो रहा था...
ठीक वैसा ही जैसा कामिनी पर था इस वक़्त...
इसलिए दोनो ही बिना किसी शर्म के एक दूसरे को निहार रहे थे.

कुणाल ने नोट किया की कामिनी मेडम की टाइट ड्रेस में अचानक दो बिंदु उभर आए...
और वो और कुछ नही उसके निप्पल्स थे जो शायद कुणाल के लंड की तरफ देखते हुए उजागर हो गये थे.

अब तो कुणाल के लिए गाड़ी चलाना भी कठिन हो गया..

और जब उसने अपने लंड को एडजस्ट करने के लिए उसपर हाथ रखा तो कामिनी की नज़रें वहां चिपकी रह गयी...
उसे इस वक़्त शायद ये एहसास भी नहीं रह गया था की वो एक मंत्री की बीबी है और अपने ड्राइवर को इतनी गंदी नज़रों से देख रही है.

लंड के आकार का तो उसे बाहर से ही अंदाज़ा हो गया था...
कम से कम 8 इंच का तो था वो...
ऐसे नाग को पिटारे में बिठाये रखना अब कुणाल के लिए भी काफ़ी मुश्किल हो गया था.

वो तो शुक्र था की जल्द ही वो बंगले पर पहुँच गये...
दोनो की हालत खराब थी.

कुणाल ने गाड़ी अंदर खड़ी की तो कामिनी लड़खड़ाती हुई सी बाहर निकली, उसकी चाल को देखकर कोई भी बता सकता था की मेडम ने पी रखी है...
वो उसकी मटक रही गांड को देखकर अपने लंड को कार में बैठे -2 ही मसलने लगा और सोचने लगा की कब वो दिन आएगा जब इसे नंगा करके इसकी गांड में अपना लंड पेलेगा.

अपने बेडरूम में पहुँचकर कामिनी ने एक-2 करके अपने सारे कपड़े उतार दिए...
आज उसकी ब्रेस्ट पहले से ज़्यादा फूली हुई लग रही थी...
इनमे दौड़ रहा खून आज कुछ ज़्यादा ही गर्मी पैदा कर रहा था...
उसकी मांसपेशिया और निप्पल्स पूरी तरह से उभरकर बाहर निकले हुए थे.



वो अपने बदन को उपर से नीचे तक सहलाने लगी...
और फिर जैसे उसे कुछ याद आया और उसने पायल को आवाज़ दी..
वो किचन मे काम कर रही थी, अपनी मालकिन की आवाज़ सुनते ही दौड़ती हुई वो उनके बेडरूम में आ गयी...

और वहाँ पहुँचकर उसने देखा की कामिनी पूरी तरह से नंगी होकर अपने आप को शीशे में निहार रही है...
एक पल के लिए तो बेचारी सकपका सी गयी.

फिर डरते-2 बोली : "जी मालकिन, आपने बुलाया था क्या ?''

कामिनी ने मस्ती भरी नज़रों से उसे देखा और बोली : "हाँ ....बुलाया था...चल आजा ज़रा...बदन दुख सा रहा है आज...मालिश कर दे''

पायल भी उसके हाव भाव देखकर हैरान सी थी...
इतनी बेशर्मी से अपने नंगे जिस्म की नुमाइश उन्होने आज तक नही की थी...
और बात करते हुए वो अपनी ब्रेस्ट के निप्पल्स को जिस तरह से मसल रही थी, वो देखकर पायल के बदन में भी टीस सी उभरने लगी...
आज तक इतनी बेफिक्री से कपड़े उतारकर कामिनी मेडम नही खड़ी हुई थी..
पर अभी जैसा व्यवहार वो कर रही थी उसे देखकर लगता था जैसे कोई धंधे वाली अपने कस्टमर से बात कर रही है..
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up Thriller Sex Kahani - सीक्रेट एजेंट 33 123 Less than 1 minute ago
Last Post:
  Behen ki Chudai मेरी बहन-मेरी पत्नी 21 286,014 Yesterday, 02:17 PM
Last Post:
Thumbs Up Horror Sex Kahani अगिया बेताल 97 4,771 Yesterday, 12:58 PM
Last Post:
Lightbulb antarwasna आधा तीतर आधा बटेर 47 8,138 10-23-2020, 02:40 PM
Last Post:
Thumbs Up Desi Porn Stories अलफांसे की शादी 79 3,937 10-23-2020, 01:14 PM
Last Post:
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई 30 327,207 10-22-2020, 12:58 AM
Last Post:
Lightbulb Mastaram Kahani कत्ल की पहेली 98 12,749 10-18-2020, 06:48 PM
Last Post:
Star Desi Sex Kahani वारिस (थ्रिलर) 63 11,017 10-18-2020, 01:19 PM
Last Post:
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी 264 906,678 10-15-2020, 01:24 PM
Last Post:
Tongue Hindi Antarvasna - आशा (सामाजिक उपन्यास) 48 18,756 10-12-2020, 01:33 PM
Last Post:



Users browsing this thread:
This forum uses MyBB addons.


suhag rat chodai antiAnushka sharma teen fucked hard sexbaba videosxxx भाभी की चोत मारी उस मे से धडा हुअ गीर गया की photossexkhanigaralकीर्ति सनोन की चूत मारी स्टोरीजRadwap xxx full HD video download biwi ke samne soti Hui Se Alag Kisi Aur ki chudai Karta bedbhabhi tumhare nandoi chudakker roj chadh k choddte hainlokal boudir batrum sankora vidiokutton se gadhon Se chudati Hui ghodo se ladkiyan Hindi BF sex.comबिबि को नोकरी पर लेजाकर रंडी बनाया हिन्दी सेक्स चुदाई कहानीnahtixxxJajbati maa ko betene choda kahaniANTERVSNA 2 GANDE GANDE GALLIE SA BHORPURxxx video mast ma jabardastai wolaचुत को तडपाने वाली काहानी Hd desi mast bhu ko jath ji ne dhkapel choda with audio porn fillmmastram.netsex chudiमम्मी को मै पापा के सामने चोद लेता चुत चटातीwww.indian.fuck.pic.laraj.sizekrni.hai.manmani.to.boor.se.paani.nikalo.sexstory.with.imagePregnet beti.sexbabachut me ghus jao janu aaaaaaGand ki tatti khilae chudai kahanisex baba net honey rose xphoto/showthread.php?mode=linear&tid=5431&pid=130520shipchut mmsतारक मेहता दया के हाँट फोटोkahan kahan se guzar gia 315 yumstoriesTv acatares xxx nude sexBaba.netHd dalti xxxwwwhawas boy ಹುಡಿಗಿ Maa daru pirhi thi beta sex khaniananya pandey sexbaba.comraveena ke chut chati rat meबाबाजीरोसेकसीविडीयोvajeena ka virya kaisa hota haiXxxxx rajokri ki new b.f & porn photos desi sexi bhabhi ka सुनाकसी काxxxthulu kiyadu sex videos Nangi bhootni hd desi 52. comChudvakar chuat ko bhosadi banvana ki stoaryబట్టలు లేకుండా పడుకోవడం amma sexkathalu telugu55ki kamini devi hawas ki gandi kahaniwww sexbaba net Thread bahu ki chudai E0 A4 AC E0 A4 A1 E0 A4 BC E0 A5 87 E0 A4 98 E0 A4 B0 E0 A4 95Mouni Roy fake bf pic.sexy aadami ladisswwww xxxcokajaMa Bete ka sex krte birya muh me playa bdios bibi.ki.bhosdi.khalu.ka.lend.hindi.sx.storiखेत घर में सलवार खोलकर मां बहने भाभी आन्टी बुआ बहु दीदी मोसी ने पेशाब टटी मुंह में करने की सेक्सी कहानियांanju kurian sexbaba.net Sunira pursty south actress xxx photo nude .comXxx फूदी का विरय निकालनाJacqueline Fernández xxx HD video niyu BFComxxxxxxxxxxxxxxxamrita nude xossip babarihsto mai gand ki chudai hindi sex storybdmas,bibie,pti,se,piyas,nhi,bhuji,to,pd I sie,ka,land,lieya,sex,vidieyosoteli maa or chachi ne meri chut m ungli ghumai.sex storyxxxxxxcxxxewwwGuruji ke ashram me rashmi ke jalweकाजोल की चूत बूब्स गाँङ चुदाई की फोटोgundon se zabardasti gande trike se sex story in hindiगाड सेकसी कहानीबुआ को पापा ने छोड़ा सेक्स बाबा थ्रेडprem guru incest madak nitamb gaand sharmchoti bachi ko chut me ugliya Karte dekhne ki kahaniXxx photos jijaji chhat per hain.sexbabanitambme land xxx imegaslabada chusaimishti nuked image xxx भीड़भाड़ में गांड़ टच विडियोantarvasna fati salwar chachi kiबड़ी गाँड ष्ष्वीindian house wife woman bataroom me nahani ka photuTRAIN ME AMIRO KA SEX STORIS MARATHIbister pa chudaye khaneyvahini che boobs chokle marathi hotsexy hd videowww,paljhaat.xxxxwww.sexbaba.net/threadwww silpha sotixxx photos 2019 comदश बारह वर्ष के युवा लडका युवा लडका लंड को मूठ मारना लडको लडको काCashmiei.saxi.comबरलैंड इ चुड़ैsex ki traning vidiowww sexbaba net Thread sex kahani E0 A4 86 E0 A4 82 E0 A4 9F E0 A5 80 E0 A4 94 E0 A4 B0 E0 A4 89 E0pati sax aunte call bov vedoचूतो का समुंदर full part